सुशासन की सरकार में टेंट वालों के भरोसे चल रही स्नातक की परीक्षा, दरी पर बैठ कर जवाब लिख रहे छात्र

0

पटना : बिहार में शिक्षा में सुधार को लेकर राज्य सरकार बड़े – बड़े दावे करती है।लेकिन, इस बीच राज्य के वैशाली जिले की शिक्षा व्यवस्था से जुड़ी एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा। इस वीडियो में बताया जा रहा है किस तरह जिले में स्नातक की परीक्षाएं दरी पर बैठा कर ली जा रही है।

कॉलेज के बरामदे में दरी बिछाकर परीक्षा दे रहे छात्र

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी द्वारा राज की शिक्षा व्यवस्था को लेकर हर रोज नए-नए दावे किए जाते हैं साथ ही साथ उनके द्वारा यह कहा जाता है कि अन्य राज्यों को भी बिहार की शिक्षा व्यवस्था से सीख लेनी चाहिए कि किस तरह समय से यहां रिजल्ट प्रकाशित किया जाता है, लेकिन आए दिन उनकी यह बातों का कहीं ना कहीं से पोल खुल ही जाता है इस बार राजधानी पटना से सटे इलाके वैशाली से एक वीडियो सामने आ रहा है इस वीडियो में दिखाया गया है कि स्नातक पार्ट वन के विद्यार्थी कॉलेज के बरामदे में दरी बिछाकर परीक्षा दे रहे हैं। इस वीडियो में दिख रहा है कि छात्र अपने मनमाने तरीके से परीक्षाएं दे रहे हैं। कोई दरी पर लेट कर परीक्षा दे रहे हैं तो कोई दूसरे लोगों से बातचीत कर सवालों का जवाब पूछते हुए नजर आ रहे हैं।

swatva

11 मई से 29 मई तक पार्ट वन की परीक्षा

बताया जा रहा है कि, यह वीडियो वैशाली जिले के जंदाहा थाना क्षेत्र के समता कॉलेज का है। यहां 11 मई से 29 मई तक बीए पार्ट वन के कॉमर्स, साइंस, आर्ट्स का परीक्षा हो रहा है। इसके लिए समता कॉलेज में 4 कॉलेज के विद्यार्थियों का सेंटर बनाया गया है।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा वीडियो

बताया जा रहा है कि, परीक्षा देने गए किसी विद्यार्थी ने इस पूरे प्रकरण का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल किया है। इस वीडियो में एक छात्र का बयान भी है जो कर्मियों के बारे में सारी बातें बता रहा है। हालंकि, इस विडियो में सच्चाई है या नहीं इसकी पुष्टि स्वत्व समाचार नहीं करता है। लेकिन, फिर भी इस तरह का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होना सरकार और कॉलेज प्रशासन दोनों के लिए शर्म की बात है।

बिहार लोक सेवा आयोग का प्रश्न पत्र हुआ था वायरल

बता दें कि, कुछ दिन पूर्व है बिहार में बिहार लोक सेवा आयोग का प्रश्न पत्र परीक्षा से कुछ देर पहले ही सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था जिसको लेकर सरकार द्वारा काफी सख्ती से कार्रवाई की जा रही है। इस प्रकरण से जुड़े लोगों को ढूंढ ढूंढ कर लाखों के पीछे डाला जा रहा है, लेकिन इसके बावजूद छोटे से बड़े स्तर तक के परीक्षाओं के प्रश्न पत्र वायरल हो ना या परीक्षा की व्यवस्था में कमी रह जाने वाली विडियो सामने आती रहती है।

बहरहाल अब देखना यह है कि इस वीडियो में कितनी सच्चाई है और यदि यह वीडियो में दिखाई गई चीज़ें सच है तो फिर स्थानीय पुलिस प्रशासन और राज्य सरकार द्वारा किस प्रकार की कार्रवाई की जाती है।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Leave a Reply