मैं उस भारत से आता हूं जहां दिन में औरतों की पूजा करते हैं और रात में उनका गैंगरेप हो जाता है, बयान पर बवाल

0

पटना : आज कल जहां कंगना रानौत देश की आजादी को लेकर दिए गए बयानों पर विवादी घेरों में होने पर भी अपने बयान पर मुखर व अडिग है। वहीं मशहूर स्टैंडअप कॉमेडियन और बॉलीवुड अभिनेता वीर दास ने अमेरिका में एक कॉमेडी शो किया। जिसमें उन्होंने भारत की महिलाओं और देश की प्रतिष्ठा को लेकर विवादित बयान दे कर मुश्किलों के घेरों में आ गए हैं। अभिनेता के खिलाफ मुंबई में शिकायत दर्ज हुई है।

6 मिनट का वीडियो, मैं दो भारत से आता हूँ

आपको बता दें कि वीर दास ने सोमवार को अपने यूट्यूब चैनल पर 6 मिनट का एक वीडियो शेयर किया। जो अमेरिका में वॉशिंगटन डीसी के जॉन एफ़ कैनेडी सेंटर में हुए उनके एक शो का है। इसमें वीर दास ने एक मोनोलॉग पढ़ा, जिसका शीर्षक है – ‘आई कम फ्रॉम टू इंडियाज़’ यानी मैं दो भारत से आता हूँ।

दो भारत पर, दो धड़े में भारत :

वीडियो के सामने आते ही महज़ चंद घंटों में ये सोशल मीडिया पर वायरल हो गया और इसे लेकर आने वाली प्रतिक्रियाएं दो धड़ों में बँट गई हैं। लोग अपनी विरोधाभास को जाहिर कर के आरोप लगा रहे हैं कि वीर दास भारत की छवि को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर धूमिल करने का आरोप लगाकर खूब आलोचना कर रहे हैं। तो कुछ लोग ये बात खुलकर रखने के लिए वीर दास की सराहना भी कर रहे हैं।

क्या कहा गया है इस वीडियो में?

मैं एक उस भारत से आता हूँ, जहाँ बच्चे एक दूसरे का हाथ भी मास्क पहन कर पकड़ते हैं, लेकिन नेता बिना मास्क एक-दूसरे को गले लगाते हैं।

मैं उस भारत से आता हूँ, जहाँ एक्यूआई 9000 है लेकिन हम फिर भी अपनी छतों पर लेटकर रात में तारे देखते हैं।

मैं उस भारत से आता हूँ, जहाँ हम दिन में औरतों की पूजा करते हैं और रात में उनका गैंगरेप हो जाता है।

मैं उस भारत से आता हूँ, जहाँ हम ट्विटर पर बॉलीवुड को लेकर बँट जाते हैं, लेकिन थियेटर के अंधेरों में बॉलीवुड के कारण एक होते हैं।

मैं एक ऐसे भारत से आता हूँ, जहाँ पत्रकारिता ख़त्म हो चुकी है, मर्द पत्रकार एक दूसरे की वाहवाही कर रहे हैं और महिला पत्रकार सड़कों पर लैपटॉप लिए बैठी हैं, सच्चाई बता रही हैं।

मैं उस भारत से आता हूँ, जहाँ हमारी हँसी की खिलखिलाहट हमारे घर की दीवारों के बाहर तक आप सुन सकते हैं।

और मैं उस भारत से भी आता हूँ, जहाँ कॉमेडी क्लब की दीवारें तोड़ दी जाती हैं, जब उसके अंदर से हंसी की आवाज़ आती है।

मैं उस भारत से आता हूँ, जहाँ बड़ी आबादी 30 साल से कम उम्र की है लेकिन हम 75 साल के नेताओं के 150 साल पुराने आइडिया सुनना बंद नहीं करते।

मैं ऐसे भारत से आता हूँ, जहाँ हमें पीएम से जुड़ी हर सूचना दी जाती है लेकिन हमें पीएमकेयर्स की कोई सूचना नहीं मिलती।

मैं ऐसे भारत से आता हूँ, जहाँ औरतें साड़ी और स्नीकर पहनती हैं और इसके बाद भी उन्हें एक बुज़ुर्ग से सलाह लेनी पड़ती है, जिसने जीवन भर साड़ी नहीं पहनी।

मैं उस भारत से आता हूँ, जहाँ हम शाकाहारी होने में गर्व महसूस करते हैं लेकिन उन्हीं किसानों को कुचल देते हैं, जो ये सब्ज़ियां उगाते हैं।

मैं उस भारत से आता हूँ, जहाँ सैनिकों को हम पूरा समर्थन देते हैं तब तक, जब तक उनकी पेंशन पर बात ना की जाए।

मैं उस भारत से आता हूँ, जो चुप नहीं बैठेगा

मैं उस भारत से आता हूँ, जो बोलेगा भी नहीं

मैं उस भारत से आता हूँ जो मुझे हमारी बुराइयों पर बात करने के लिए कोसेगा

मैं उस भारत से आता हूँ, जो लोग अपनी कमियों पर खुल कर बात करते हैं।

मैं उस भारत से आता हूँ, जो ये देखेगा और कहेगा ‘ये कॉमेडी नहीं है.. जोक कहाँ है?’

और मैं उस भारत से भी आता हूँ।

दो भारत पर दो खेमें में कांग्रेस :

कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने वीर दास का समर्थन करते हुए लिखा है, ”वीर दास इसमें कोई शक नहीं है कि दो भारत है। हम नहीं चाहते हैं कि एक भारतीय दुनिया को इस बारे में बताए क्योंकि हम असहिष्णु और पाखंडी हैं।”

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने वीर दास की आलोचना करते हुए ट्वीट किया है। अपने ट्वीट में लिखा है, ”कुछ लोगों की बुराइयों को पूरे देश के संदर्भ में सामान्य बना कर पेश करना और देश को दुनिया के सामने बदनाम करना ठीक नहीं है। औपनिवेशिक शासन के दौरान जिन लोगों ने भारत को पश्चिमी दुनिया के सामने सपेरों और लुटेरों के देश के रूप में चित्रित किया, उनका अस्तित्व अभी भी ख़त्म नहीं हुआ है।”

कांग्रेस नेता और तिरूवनंतपुरम से लोकसभा सांसद शशि थरूर ने ट्विट किया, ”एक स्टैंडअप कॉमेडियन जिसे सही मायने में ‘स्टैंड-अप’ होने का मतलब पता है, शारीरिक नहीं बल्कि नैतिकता के आधार पर खड़े होने का अर्थ जानता है। वीर दास ने लाखों लोगों की तरफ़ से बोला है। अपने 6 मिनट के वीडियो में उन्होंने दो तरह के भारत की बात की है और बताया है कि वह किस भारत के लिए खड़े हैं। ये जोक तो है लेकिन मज़ाकिया बिल्कुल नहीं है।”

पत्रकार ने भी दी अपनी प्रतिक्रिया :

इस वीडियों की एक पंक्ति को लिखते हुए पत्रकार बरखा दत्त ने वीर दास को शुक्रिया कहा है।

स्वराज इंडिया के संयोजक योगेंद्र यादव लिखते हैं, ”जरूर सुनें, वीर दास बता रहे हैं, उन दो भारत के बारे में जहाँ के वह रहने वाले हैं, दुख की बात है कि हम एक ऐसे मुकाम पर पहुँच गए हैं, जहाँ जैसा है, वैसा कहना भी साहस का काम बन चुका है।”

देश का अपमान कर रहा वीर दास :

बीजेपी नेता प्रीति गांधी लिखती हैं, ”वीर दास ऐसे आप भारत से आते हैं, जहाँ आप अपने ही देश का अपमान करके अपनी जीविका चला रहे हैं। आप एक ऐसे भारत से आते हैं, जो आपकी घिनौनी, अपमानजनक बकवास को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के रूप में पेश करने की अनुमति देता है। आप एक ऐसे भारत से आते हैं, जिसने आपकी झूठी निंदा को लंबे समय तक सहन किया है।”

चौतरफा आलोचना के बाद मांगी माफी :

चौतरफा आलोचना होने के बाद वीर दास को अपने वीडियो के लिए माफी मांगनी पड़ी है। उन्होंने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर एक बयान जारी कर अमेरिका में भारत को लेकर दिए अपमानजनक बयान को लेकर माफी मांगी है। वीर दास ने अपने बयान में लिखा है, ‘वीडियो में एक ही विषय के बारे में दो अलग विचार रखने वाले लोगों के बारे में बात हो रही है और यह किसी तरह का कोई रहस्य नहीं है, जिसे लोग जानते नहीं है। मेरा वीडियो पर विरोध दर्ज किया जा रहा है, जो गलत है। मुझे अपने देश पर गर्व है और उस गर्व को अन्य देश में ले जाता हूं। मेरा इरादा देश का अपमान करने का नहीं था बल्कि यह याद दिलाने का रहा है कि देश अपने तमाम मुद्दों के बाद भी महान है।’

 

swatva

Leave a Reply