पटना कॉलेज की नैक ग्रेडिंग से छात्र नाखुश

0

पटना : पिछले माह नैक की टीम ने बिहार का आक्सफोर्ड कहे जाने वाले पटना कॉलेज का दौरा किया था। अब नैक ने अपनी ग्रेडिंग जारी की है। ताजा ग्रेडिंग में अपनी पोजिशन देखकर बिहार का यह 156 वर्ष पुराना कालेज अपनी दुर्दशा पर आंसू बहा रहा है। नैक ने 156 साल पुराने पटना कॉलेज को सी ग्रेड दिया है। इसे लेकर पटना कॉलेज के शिक्षकों, छात्रों और यहां तक कि गौरवशाली अतीत के साक्षी रहे एलुमिनि भी मायूस हैं। चारों तरफ पटना कॉलेज की मौजूदा शैक्षणिक व्यवस्था को लेकर सवाल भी उठने लगे हैं।

विभिन्न विभाग के छात्रों से बात-चीत में उनका कहना है कि दिखावे की चीज ज्यादा दिन तक नहीं चलती है। पटना कॉलेज में नैक की टीम को दिखाने के लिए जो मेहनत की गई वो बेकार गई। नैक की टीम के आने से पहले पटना कॉलेज की दीवारों की रंगाई-पुताई की गई जंगल की तरह दिखने वाले इस कॉलेज में जहां घास ही घास थे वहां कैंटीन खोली गई। लाइब्रेरी को ठीक किया गया जहां अभी भी किताबें उस मात्रा में नहीं है जितनी मात्रा में रहनी चाहिए। और भी बहुत सारी व्यवस्था है जिनको दुरुस्त किया गया।

जनसंचार विभाग में जहां लड़कियों के लिए शौचालय नहीं थे, पीने के लिए पानी की व्यवस्था नहीं थी उनको तैयार किया गया। लैब बनवाए गए AC लगवाए गए स्मार्ट क्लास बनाने की तैयारी की गई और सब नैक की टीम को दिखाने के लिए।

राजनीति विभाग के लड़के कहते हैं हॉस्टल रहने लायक नहीं है जर्जर है और जो मध्यम वर्ग के बच्चे आते हैं उनके लिए हॉस्टल में पढ़ने की व्यवस्था नहीं है। बस दबंगई है। विश्वविद्यालय के कुलपति और प्राचार्य छात्रों के प्रति थोड़ी सी भी गंभीरता नहीं दिखाते हैं। कॉलेज में प्रोग्रेस की काफी आवश्यकताएं हैं।

निशा भारती

Leave a Reply