एलएनएमयू: नए साल में होगा अंतरराष्ट्रीय वेबिनार

0

दरभंगा : ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय में नए साल के स्वागत एक राष्ट्रीय एवं एक अंतरराष्ट्रीय वेबनार आयोजित किया जाएगा। यह वेबिनार सभी विभाग के विभागाध्यक्ष द्वारा किया जाएगा। इसके साथ ही विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति प्रो डॉली सिन्हा को एक बड़ी जिम्मेवारी सौंपी गई। इनको विश्वविद्यालय के नैक एवं शैक्षिक उन्नयन की जिम्मेवारी सौंपी गई। जिसके बाद प्रतिकुलपति ने इस पर संकाय वार संकायाध्यक्षों की उपस्थिति में विभागाध्यक्षों की बैठक की बुलाई।

इस बैठक में सबसे पहले वाणिज्य संकाय, ललित कला संकाय एवं शिक्षा संकाय के संकायाध्यक्षों एवं विभागाध्यक्षों की बैठक प्रतिकुलपति की अध्यक्षता में विश्वविद्यालय सभागार में हुई थी।

इसके उपरांत मानविकी संकाय, विज्ञान संकाय एवं सामाजिक विज्ञान संकाय के संकायाध्यक्षों के साथ अधीनस्थ विभागों के विभागाध्यक्षों की बैठक आयोजित की गई।

इस बैठक को संबोधित करते हुए प्रतिकुलपति ने कहा कि सभी विभागों को शैक्षिक कैलेंडर एवं वार्षिक प्रतिवेदन बनाना चाहिए। उन्होंने शैक्षिक कैलेंडर के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि शैक्षिक कैलेंडर तीन प्रकार के होते हैं। इनमें से पहला नामांकन से संबंधित, दूसरा परीक्षा से संबंधित और तीसरा शैक्षिक गतिविधियों से संबंधित कैलेंडर होते हैं।

इसके बारे में विस्तारित रूप से जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि शैक्षिक गतिविधियों से संबंधित कैलेंडर शैक्षिक सत्र के आरंभ में ही विभागों को बनाना चाहिए।

बीस हजार रुपए प्रति विभाग देगी विश्वविद्यालय

वहीं कुलसचिव डॉ मुश्ताक अहमद ने कहा कि वार्षिक प्रतिवेदन विश्वविद्यालय कार्यालयों एवं महाविद्यालयों से भी मंगाया जा रहा है। सभी विभागों से कहा गया है कि दिनांक 23 दिसंबर 2020 तक अपने-अपने विभागों से एक राष्ट्रीय एवं एक अंतर्राष्ट्रीय वेबनार, ऑनलाईन वर्कशॉप, कॉन्फ्रेंस अथवा सिम्पोजियम का प्रस्ताव, शीर्षक और संसाधन- पुरुषों के नाम, आयोजन की तिथि सहित तमाम जानकारी सम्बन्धित संकायाध्यक्षों के माध्यम से विश्वविद्यालय को दें। विश्वविद्यालय प्रस्ताव आने के उपरांत बीस हजार रुपए प्रति विभाग देगी।

विभागों के भवन एवं परिसर होंगे स्वच्छ

इसके अलावा जनवरी 2021 में सभी विभागाध्यक्ष अपने -अपने विभागों में ऑनलाइन वर्ग चलाने हेतु एवं न्यूनतम सुविधा मुहैया कराने हेतु राशि का आकलन कर प्रस्ताव कुलसचिव के कार्यालय में जमा करेंगे। इस कार्य के लिए सभी संकायाध्यक्षों को अधिकृत किया गया है। विभागों के भवन एवं परिसर को साफ़ सुथरा रखें जाने पर सहमति बनी।

वहीं कुलसचिव डॉ मुश्ताक अहमद ने कहा कि शैक्षिक गतिविधियों तथा शोध परियोजना, सेमिनार, कान्फेरेंस आदि में भाग लेने हेतु कार्यालयी प्रक्रिया में विलम्ब या कोई कठिनाई उत्पन्न हो तो सम्बन्धित शिक्षक सीधे प्रतिकुलपति से मिलेंगे एवं वहीं से उसका त्वरित निष्पादन होगा।

swatva

Leave a Reply