लोकल टू वोकल योजना को सफल बनाएं देशवासी ,स्वदेशी वस्तुओं का करें इस्तेमाल – पप्पू वर्मा

0

पटना : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के अपील के बाद स्वदेशी वस्तुओं के उपयोग को लेकर देशवासी एकजुट हो गए हैं। इस बीच पटना विश्वविद्यालय के सिंडिकेट सदस्य पप्पू वर्मा ने कहा की चीन निर्मित सामग्रियों का बहिष्कार से ही आत्मनिर्भर भारत अभियान को मिलेगी मजबूती।

वायरस के चपेट के कारण विश्व के लगभग देशों में आर्थिक मंदी

उन्होंने चीन निर्मित सामग्रियों का बहिष्कार अभियान की शुरुआत बिहार में करते हुए कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना के चलते पूरी दुनिया को चीन के प्रति घृणा उत्पन्न हुआ है। पूरी दुनिया का मानव समाज मानवता का दुश्मन चीन निर्मित वायरस के कारण परेशान व हताशा का जीवन व्यतीत कर रहे हैं लाखों लोगों की मृत्यु हो चुकी है करोड़ों लोगो का व्यापार चौपट हो चुका है कई परिवार पूरे परिवार समेत बर्बाद हो चुका हैं करोड़ों लोग बेघर व बेरोजगार हो चुके हैं पूरी दुनिया में मातम का माहौल है, पूरा विश्व इस वायरस के चपेट के कारण विश्व के लगभग देशों को आर्थिक मंदी के दौर से गुजरना पड़ रहा है।

विश्व की सारी शक्तियां इस वायरस से छुटकारा पाने के लिए कर रही संघर्ष

वर्मा ने कहा कि विश्व की सारी शक्तियां इस वायरस से छुटकारा पाने के लिए संघर्ष कर रही है, इस वायरस के कारण भारत मैं भी बड़े पैमाने पर आम जनमानस पर असर पड़ा है करोड़ों लोग बेघर हो गए सभी प्रकार के व्यापार उद्योग धंधा चौपट होने के कारण लाखों श्रमिक,बरसों से अपना बसा बसाया व्यापार व घर समेत सड़क पर आ गए लाखों विद्यार्थियों को अपना पढ़ाई बीच में छोड़ना पड़ा प्राइवेट नौकरियों पर ताला लग गया जीवन के हर क्षेत्र में हर वर्ग को जिंदगी को चलाने व बचाने का जंग लड़ना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि मानव समाज की इस परेशानियों का जिम्मेवार चीन है।

महामारी में भी भारत ने द्वारा किया गया दूसरे देशों को मदद

मालूम हो कि भारत ने इस महामारी के दौरान अमेरिका सहित अन्य देशों को न केवल दवाइयां भेजी बल्कि टेस्टिंग किट और भी कई प्रकार के मेडिकल सहायता उपलब्ध कराई। कोरोना के चलते चीन के प्रति दुनिया के ज्यादातर देश उससे नाराज है। वे लोग हर हाल में चीन को सबक सिखाना चाहते हैं और चीन के साथ किसी प्रकार का व्यापार नहीं करना चाहते हैं। जिसके कारण पूरी दुनिया का व्यापार जगत भारत की ओर आकर्षित हुआ है। महामारी के समय मोदी सरकार ने हर क्षण का बेहतर उपयोग किया है। भारत निवेशकों के लिए अच्छा माहौल उत्पन्न किया है। जिसके कारण भारत के कई राज्य इस अवसर का लाभ उठाने के लिए बेताब हैं और उन्होंने अपना प्रयास भी तेज कर दिया है।

कई बड़े निवेशक गुजरात, महाराष्ट्र,मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश जैसे कई राज्यों में निवेश की योजना भी बना ली है। चीन का क्रूर चेहरा विश्व के सामने आने के बाद कई देशों ने चीनी सामग्रियों का बहिष्कार शुरू कर दिया है भारत में भी चीन निर्मित सामग्रियों का बहिष्कार बड़े पैमाने पर शुरू हो गया है।

भारत के खिलाफ षड्यंत्र रच रहा चीन

पूरी दुनिया के व्यापार जगत को अपने यहाँ से पैर उखड़ते देख चीन इन सभी हालातों से घबराकर चीन वायरस एवं उनके यहां होने वाले आर्थिक नुकसान से दुनिया को ध्यान भटकाने के लिए भारत के खिलाफ षड्यंत्र रच रहा है। परंतु 21वीं सदी के भारत को दुनिया का कोई मुल्क आंख दिखाने का साहस नहीं कर सकता क्योंकि मजबूत इच्छाशक्ति रखने वाले देश के प्रधानमंत्री के नेतृत्व में भारत की सेना हर मोर्चे पर दुश्मनों को माकूल जवाब देने के लिए पूरी मजबूती के साथ तैयार है। भारत के ताकत को कमजोर आंकने वाले देश अब समझ चुके हैं कि भारत ही मानव समाज के लिए कल्याणकारी कार्य व सेवा के माध्यम से विश्व का नेतृत्व कर सकता है।

चुनौतियों को अवसर में बदलने का भारत के पास अच्छा मौका

वर्मा ने कहा कि चीन निर्मित सामग्रियों से छुटकारा पाने का व चुनौतियों को अवसर में बदलने का भारत के पास अच्छा मौका है। प्रधानमंत्री जी की अपील ‘लोकल को वोकल’ बनाने अभियान के माध्यम से भारत निर्मित सामग्रियों का विस्तार कर पूरी दुनिया के सामने उदाहरण प्रस्तुत करे व आत्मनिर्भर भारत अभियान को मजबूती प्रदान कर समृद्ध और शक्तिशाली भारत का निर्माण में पूरी शक्ति लगाकर आगे बढ़ना होगा।

swatva

Leave a Reply