लालू के शाशनकाल में युवा वर्ग के कई पीढ़ियों को बर्बाद करने का किया गया कार्य – पप्पू वर्मा

0

पटना : बिहार में पटना विश्वविद्यालय के सिंडिकेट सदस्य पप्पू वर्मा ने कहा कि सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने 15 वर्षों के शासन काल में युवा वर्ग के कई पीढ़ियों को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया । उनके पुत्र तेजस्वी यादव द्वारा बिहार की जनता से माफी मांगने के सवाल पर पप्पू वर्मा ने कहा कि लालू प्रसाद यादव व उनके परिवार 15 वर्षों तक बिहार में शासन किया। इन 15 वर्षों में युवा वर्ग के कई पीढ़ियों को बर्बाद कर दिया । बर्बाद पीढ़ियों का आने वाली पीढ़ी 100 वर्षों तक भुगतेगी।

युवा पीढ़ी वर्तमान में भी भुगत रहा लालू प्रसाद के अपराधों का प्रकोप

उन्होंने कहा कि युवा पीढ़ी वर्तमान में आज भी लालू प्रसाद के अपराधों के प्रकोप को भुगत रहा है । बिहार की जनता लालू प्रसाद व लालू के परिवार को कभी माफ नहीं करेगा। लालू प्रसाद 1990 में बिहार के मुख्यमंत्री बने। इसके बाद अपना कारनामा दिखाना शुरू कर दिया। अपने फायदा के लिए और अपने सहयोगियों को फायदा पहुंचाने के लिए अवर सेवा चयन परिषद को भंग कर दिया । नतीजतन मैट्रिक, इंटरमीडिएट और स्नातक स्तर (अराजपत्रित पद ) पदो पर वैकेंसी निकलनी बंद हो गई। बीपीएससी में भी भ्रष्टाचार का बोलबाला रहा। बीपीएससी की कोई भी परीक्षा समय पर नहीं हुई।

फलस्वरूप 15 वर्षों तक युवा वर्ग की सरकारी नौकरियो मे वहाली नहीं के बराबर हुई। युवा वर्ग बेरोजगार होते गये। नतीजतन बेरोजगार,रोजगार के लिए बिहार से पलायन करने लगे। जिसे आज प्रवासी का नाम दिया गया है। इन 15 वर्षों में स्कूल और कॉलेजों में शिक्षा का स्तर काफी नीचे गिर गया। करीब-करीब सरकारी स्कूलों व कॉलेजों में पढ़ाई नहीं के बराबर हुई।

लालू राज में केवल भ्रष्टाचार का बोलबाला

सके साथ ही पप्पू वर्मा ने कहा कि लालू राज में केवल भ्रष्टाचार का बोलबाला रहा। सूबा अपराध में डूब गया। रंगदारी और अपहरण जैसे अपराध की सीमा उच्चतम स्तर पर पहुंच गयी। फलस्वरूप डॉक्टर और व्यवसाई लोग बिहार से पलायन कर गये। भू माफिया और बालू माफिया जैसे लोगों का बोलबाला रहा। सड़क निर्माण कार्य नहीं के बराबर हुये। मुकदमों की संख्या तेजी से बढ़ी। अस्पतालों की हालत खस्ताहाल हो गया। जातिवाद को चरम पर पहुंचाया गया। जाति-जाति के बीच विद्वेष पैदा किया गया।

वर्मा ने कहा कि जिस बिहार ने देश को सबसे अधिक आईएएस और आईपीएस,डॉक्टर और इंजीनियर दिया,उसी प्रदेश में सरकारी विद्यालयों और विश्वविद्यालयों को बर्बाद करके चरवाहा विद्यालय का नीव रख कर देश दुनिया में पढ़े-लिखे प्रदेशों में शुमार प्रदेश को अपमानित किया गया। आज तेजस्वी यादव बेशर्म की तरह राजनीतिक स्वार्थ में डूब कर, प्रदेश की कुर्सी पर बैठने हेतु लालायित होकर अपने पिता के किए हुए पापों को जनता से माफ करने के लिए कह रहे है,लेकिन यह अब संभव नहीं है।जनता तेजस्वी के इरादों को भांप चुकी है और अब उनके झूठे वादों में फसने वाली नहीं है।

swatva

Leave a Reply