JDU के अंदर ललन सिंह का होम्योपैथिक ट्रीटमेंट शुरू, कमजोर कड़ी की होगी समीक्षा

0

पटना : बिहार में क्षेत्रीय दल के रूप में अपनी पहचान बना चुकी जनता दल यूनाइटेड के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह होम्योपैथिक इलाज के काफी जानकर माने जाते हैं। यह बात वह खुद भी सार्वजनिक मंच से कहना नहीं भूलते हैं। लेकिन इस बार उनका यह इलाज विरोधियों पर नहीं बल्कि खुद के संगठन के अंदर ही शुरू होने जा रहा है।

दरअसल, बिहार विधानसभा चुनाव में जदयू के खराब प्रदर्शन को लेकर ललन सिंह आज से दो दिनों की समीक्षा बैठक शुरू करने वाले हैं। यह बैठक राजधानी पटना स्थित पार्टी के प्रदेश कार्यालय में शनिवार और रविवार को होने वाला है। इस बैठक को खुद राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने बुलाई है।

जदयू की स्थिति बद से बदतर

मालूम हो कि बीते विधानसभा चुनाव में बिहार की दूसरी बड़ी क्षत्रिय पार्टी जदयू की स्थिति बद से बदतर हो गई थी। जदयू ने किसी तरह साम दाम दंड भेद का उपयोग कर अपनी लाज बचाने के लिए 40 सीटों पर जीत दर्ज की। जिसके बाद से ही जदयू के दिग्गज और वरिष्ठ नेता इस बात की समीक्षा करने में जुट गए की आखिर इतने कम सीट आने की प्रमुख वजह क्या रही।

ललन की समीक्षा बैठक

वहीं, अब राष्ट्रीय अध्यक्ष का कमान ललन सिंह के हाथों में जाने के बाद वह पहली बार इस चुनाव को लेकर समीक्षा बैठक करने जा रहे हैं। इस बैठक में यदि उन सभी उम्मीदवारों को बुला रही है जिन्हें विधानसभा चुनाव में टिकट दिया गया था। इस बैठक में ललन सिंह इस बात की समीक्षा करेंगे कि जिन सीटों पर जदयू की हार हुई, वहां इसका मुख्य वजह क्या रहा।

जदयू को नंबर वन बनाने का ऐलान

गौरतलब है कि राष्ट्रीय अध्यक्ष का कमान थामने के बाद ललन सिंह ने सार्वजनिक मंच से ऐलान किया है कि वह जदयू को बिहार में नंबर एक की पार्टी बना कर रहेंगे। साथ ही जनता दल यूनाइटेड को राष्ट्रीय पार्टी के रूप में बहुत जल्द स्थापित करेंगे।ललन सिंह इसी प्रक्रिया के तहत समीक्षा बैठक करने वाले हैं।

करीबी नेताओं को किया साइड लाइन

मालूम हो कि इससे पहले भी ललन सिंह संगठन में बदलाव करते हुए आरसीपी सिंह के करीबी नेताओं को भी साइड लाइन किया गया था। अब एक बार फिर यह माना जा रहा है कि हार की समीक्षा के बाद संगठन में ललन सिंह बड़े बदलाव कर सकते हैं। फिलहाल दो दिनों तक के वीडियो कार्यालय में समीक्षा का दौर चलेगा और नतीजा रविवार की शाम या उसके बाद ही सामने आ पाएगा।

swatva

Leave a Reply