गरीब कल्याण रोजगार अभियान से प्रधानमंत्री ने प्रवासी मजदूरों से पूरा किया अपना वादा -पप्पू वर्मा

0

पटना : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 50 हजार करोड़ रुपये की लागत वाली गरीब कल्याण रोजगार अभियान का शनिवार को वीडियो कॉन्फ्रेन्स के जरिए शुभारंभ किया। दिल्ली में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इस अभियान को प्रधानमंत्री ने रिमोट द्वारा बिहार के खगड़िया जिले के ब्लॉक बेलदौर के गांव तेलिहार से शुरुआत किया। इसी बीच पटना विश्वविद्यालय के सिंडिकेट सदस्य पप्पू वर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा गरीब कल्याण रोजगार अभियान की शुरुआत से बिहार को नई ऊर्जा मिलेगी।

प्रधानमंत्री ने प्रवासी मजदूरों को बहुत बड़ा उपहार देने का काम किया

युवा नेता पप्पू वर्मा ने कहा कि पीएम ने बिहार के खगड़िया जिले के बेलदौर प्रखंड से गरीब कल्याण रोजगार अभियान की शुरुआत करके रोजगार की तलाश में दूसरे प्रदेशों में रह रहे लाखों की संख्या में प्रवासी मजदूरों को बहुत बड़ा तोहफा देने का काम किया है। पप्पू वर्मा ने कहा वह लोग विवश होकर कोरोना काल में परिवार समेत जमे जमाए रोज़गार को छोड़कर घर वापसी को आए हैं और उन प्रवासियों को रोजगार के संसाधन उपलब्ध करवाकर व इस महत्वकांक्षी योजना की शुरुआत बिहार से करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अभिनंदन के पात्र हैं।

 बिहार के प्रत्येक गांव से बिहार की विकास सुनिश्चित

वैश्विक महामारी के दौरान अपने राज्य वापस आए प्रवासी मजदूरों को इस योजना के माध्यम से रोजगार की गारंटी और केंद्र सरकार द्वारा प्रवासी मजदूरों से किए गए वादों को पूरा किया गया। वर्मा ने कहा कि इस अभियान के माध्यम से प्रधानमंत्री ने बिहार के प्रवासी मजदूरों को बड़ी सौगात दी है। इस अभियान से बिहार में बड़े पैमाने पर आंगनबाड़ी, कुआं मंडी निर्माण के साथ-साथ 25 कार्य क्षेत्रों का चयन किया गया है। जिसके माध्यम से ग्रामीण क्षेत्र के लोग रोजगार से जुड़कर अपने प्रदेश व गांव के विकास में भागीदारी सुनिश्चित करेंगे।

बिहार मैन पावर का बिहार में ही होगा इस्तेमाल

वर्मा ने कहा कि बिहार को रोजगार की सख्त जरूरत थी। रोजगार के मामले में बिहार दिनोंदिन अन्य प्रांतों से काफी पीछे चला जा रहा था जिसके वजह से बड़े पैमाने पर बिहार से पलायन का सिलसिला वर्षों से जारी था बिहार के ही लोगों का मेन पावर इस्तेमाल करके कई राज्य विकासशील प्रदेशों की सूची में तेज गति से आगे बढ़ रहा था। वहीं बिहार में रोजगार की सुविधा नहीं रहने के कारण बड़े पैमाने पर कल कारखाने बंद हो जाने के वजह से बिहार के श्रमिक युवा दूसरे प्रदेशों में रोजगार के लिए भटकने पर मजबूर हो गए थे।

केंद्र सरकार द्वारा घोषित हर योजना में बिहार की विशेष हिस्सेदारी सुनिश्चित

वर्मा ने कहा कि बिहार के रोजगार की केंद्र सरकार द्वारा घोषित हर योजना में बिहार की विशेष हिस्सेदारी रहती है। केंद्र सरकार द्वारा दिए गए पैसों से बिहार रोजगार के क्षेत्र में देशभर में नजीर स्थापित करेगा। रोजगार के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बिहार के संकल्प को बिहार के प्रवासी मजदूर व युवा अपने मेहनत के दम पर प्रदेश और गांव को भी आत्मनिर्भर बनाएंगे।

swatva

Leave a Reply