इस कारण लालू को छोड़ना पड़ा रिम्स निदेशक का बंगला

0

रांची : चारा घोटाले में सजायाफ्ता लालू प्रसाद यादव की जमानत की सुनवाई कल रांची हाईकोर्ट में होने वाला है। अगर कल लालू यादव को जमानत नहीं मिलती है तो उन्हें रिम्स निदेशक के बंगले से बाहर कर दिया गया और उन्हें फिर से पेइंग वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया ।

चारा घोटाले के जुर्म में सजा काट रहे लालू प्रसाद यादव को कोरोना संकट के मद्देनजर रिम्स निदेशक के केली बंगले पर शिफ्ट किया गया है। जिसके कारण नए निदेशक कामेश्वर प्रसाद को परेशानी हो रही है। इस बंगले में लालू के रहने के कारण वह खुद मोरहाबादी में स्थिति स्टेट गेस्ट हाउस में रह रहे हैं। इसके एवज में उनको 400 रुपए रोज चुकाना पड़ रहा है। इस बीच लालू यादव पर pil दर्ज किया गया और उन्हें रिम्स निदेशक के बंगले से बाहर कर पेइंग वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया ।

मालूम हो कि लालू यादव को चारा घोटाले के मामले में होटवार भेजा गया था। लेकिन कुछ दिनों के बाद उनकी तबीयत खराब हुई। जिसके बाद 26 माह से लालू प्रसाद को रिम्स में भर्ती कराया गया है। यहां पर उनका इलाज चल रहा है।

लालू यादव विधायकों को कॉल कर रहे थे

वहीँ इससे पहले सरकार गठन के बाद अब बिहार में स्पीकर का चयन होना था इसको लेकर वोटिंग भी होनी थी। वोटिंग से पहले राजद नेता लालू यादव विधायकों को कॉल कर रहे थे । इसका खुलासा लालू यादव के कथित एक वायरल ऑडियो से हुआ था। जिसमें लालू प्रसाद यादव पीरपैंती से भाजपा विधायक ललन पासवान से बात कर रहे थे। जिसके बाद भाजपा द्वारा pil दर्ज करवाया गया था। जिसके बाद आज झारखंड सरकार द्वरा इस पर कारवाई करते हुए लालू यादव को पेइंग वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया।

जानकारी हो की लालू यादव की जमानत याचिका पर 27 नवंबर को रांची हाईकोर्ट में सुनवाई होनी है। लालू की याचिका पर कोर्ट ने सीबीआई से जवाब मांगा था। सीबीआई ने अपना पक्ष रख दिया है। सीबीआई ने कहा है कि लालू यादव ने दुमका कोषागार से घोटाले के मामले में अब तक आधी सजा नहीं काटी है। वहीं लालू यादव ने दुमका कोषागार में आधी सजा काटने और कई तरह की बीमारियों का हवाला देते हुए जमानत मांगी है। अब यदि हाईकोर्ट उन्हें बेल दे देता है वे जेल से बाहर आ जायेंगे।

swatva

Leave a Reply