BJP ने नीतीश को दिखाई औकात, पार्टी से निलंबित टुन्ना पांडेय मीटिंग में हुए शामिल

0

पटना : मुख्य्मंत्री नीतीश कुमार को जेल भेजने की धमकी देने वाले भाजपा नेता टुन्ना जी पांडेय को पार्टी से निलंबित करने के बाद भी बैठक में शामिल किया गया है।

निलंबित mlc पार्टी बैठक में शामिल

जानकारी हो कि भाजपा एमएलसी टुन्नाजी पांडेय को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर आपत्तिजनक बयान देने के कारण जदयू के कई नेता भाजपा से नाराज हो गए थे और भाजपा से टुन्ना जी पांडेय के खिलाफ कारवाई करने की मांग थी। जिसके बाद भाजपा ने उनको पार्टी से निलंबित कर दिया था। जिसके बाद यह माना गया था कि नीतीश के विरोध में बयान देने वाले बीजेपी के नेताओं पर एक्शन हो सकता है। लेकिन इस बीच जो सबसे बड़ी बात है वह यह है कि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष ने जिन एमएलसी टुन्ना जी पांडे को पार्टी से निलंबित कर दिया, वह अभी भी पार्टी की बैठकों में शामिल हो रहे हैं।

गौरतलब है कि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने पार्टी के जिला अध्यक्षों, जिला प्रभारियों, प्रदेश पदाधिकारियों और विधानसभा प्रभारियों के साथ बैठक की। इसके अलावा उन्होंने पार्टी के सभी मंत्रियों विधायकों और विधान पार्षदों के साथ भी मीटिंग की इस मीटिंग के दौरान टुन्ना जी पांडे जी जुड़े। साथ ही वह केवल जुड़े ही नहीं बल्कि उन्होंने अपनी बात भी रखी।

टुन्ना जी पांडे ने खुद शेयर किया पोस्ट 

इसको लेकर विधान पार्षद टुन्ना जी पांडे ने खुद एक पोस्ट अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर किया है।इस पोस्ट में उन्होंने बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल को टैग करते हुए लिखा है कि ‘आज बीजेपी की वर्चुअल मीटिंग में बी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर संजय जयसवाल जी से संवाद किया।

नीतीश समर्थकों में उठने लगा सवाल

वहीं पार्टी से निलंबित विधान परिषद का बैठक में जुड़ने के बाद नीतीश समर्थकों में फिर से सवाल उठने शुरू हो गए हैं। उनका कहना है कि भाजपा ने नीतीश कुमार को मूर्ख बनाया है। समर्थकों का कहना है कि 4 जून को उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया गया था.। खुद संजय जायसवाल ने उनपर कार्रवाई की थी। लेकिन अब भाजपा का असल चेहरा सामने आ गया है। भाजपा ने नीतीश कुमार के खिलाफ बयान देने वाले विधान पार्षद पर दिखावे के लिए कार्यवाही तो कर दी गई लेकिन हकीकत में वह पार्टी की तमाम गतिविधियों में शामिल हो रहे हैं।

 

 

swatva

Leave a Reply