उद्धव नहीं दिखा पाये रामविलास की सूझ, सियासी भूकंप पर किसने क्या कहा?

2
udhav & ram vilas

पटना : महाराष्ट्र में भाजपा द्वारा बाजी पलटने के बाद बिहार में भी राजनीति गरमा गई है। एक तरफ जहां नए सरकार के गठन पर एनडीए नेताओं ने ट्वीट कर खुशी जताई वहीं विपक्ष के नेताओं ने भी इसे लोकतंत्र के लिए घातक बताते हुए तंज कसा। पटना स्थित भाजपा कार्यालय में दो बजे दिन में बजाप्ता जश्न मनाने के लिए एक कार्यक्रम रखा गया है जिसमें प्रदेश भाजपा अध्यक्ष और डिप्टी सीएम सुशील मोदी समेत तमाम वरिष्ठ नेता शामिल होंगे। आइए जानते हैं बिहार की राजनीति में महाराष्ट्र को लेकर किसने क्या कहा?

संजय राउत और प्रशांत किशोर ने किया उद्धव का बंटाधार, पढ़ें कैसे?

रामविलास पासवान ने ठाकरे पर कसा तंज

लोजपा सुप्रीमो रामविलास पासवान में महाराष्ट्र में शिवसेना द्वारा सत्ता के लिए दिखाई गई लिप्सा पर जमकर प्रहार किया। श्री पासवान ने अपने ट्वीट में कहा कि सड़क पर वही जानवर मरता है, जो निर्णय नहीं लेता कि वह दाएं जाए या बाएं। साफ है कि महाराष्ट्र में शिवसेना द्वारा बार—बार पाल बदलने और सरकार गठन में वहां हो रही देरी को रामविलास पासवान ने मौजूदा हालात के लिए जिम्मेदार ठहराया है। और इसके लिए वे शिवसेना पर खासे भड़के हुए दिखे।

गिरिराज ने किया कटाक्ष-‘देख तमाशा देख’

महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर भाजपा के फायरब्रांड नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने ट्वीट कर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की। उन्होंने शिवसेना पर तंज कसते हुए कहा कि ज्यादा लोभ और अहंकार नाश का कारण होता है। उन्होंने साथ ही ये भी लिखा है कि ‘देख तमाशा देख’।

सुशील मोदी ने दी फडणवीस को बधाई

बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने फडणवीस सरकार को बधाई देते हुए कहा कि शरद पवार नीतीश कुमार की तरह हैं। वो जानते हैं कि कांग्रेस से ज्यादा भरोसेमंद भाजपा है। वहीं शिवसेना राजद की तरह है। शिवसेना और राजद के साथ चलना मुश्किल है।

जीतनराम मांझी का जवाबी हमला

हिंदुस्तान अवाम मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने ट्वीट कर जवाबी हमला करते हुए आज के दिन को लोकतंत्र के इतिहास में काला दिन करार दिया। श्री मांझी ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को टैग करते हुए लिखा कि कल तक तो एनसीपी आपको आतंकियों की मददगार लगती थी। आज उसी के साथ सरकार बना लिया। मांझी ने आगे लिखा कि वह दिन दूर नहीं जब बिहार में भी भाजपा ऐसा ही कुछ करे।

बीजेपी व एनसीपी ने महाराष्ट्र में बनाई सरकार

क्या है शरद पवार का कहना

भतीजे अजित पवार के उपमुख्यमंत्री बनने के बाद शरद पवार ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने अजित के भाजपा के साथ जाने को उनका निजी फैसला बताया है। पवार ने कहा कि अजित पवार के इस फैसले से एनसीपी से कोई लेना-देना नहीं है। शरद पवार ने ट्वीट करके यह जानकारी दी है।

साफ है कि पवार कहना चाहते हैं कि अजित पवार ने पार्टी तोड़ दी है। बताते हैं कि पवार ने यही जानकारी शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, अहमद पटेल को दी है। अजित पवार के बारे में कहा जा रहा है कि वह एनसीपी के 22 विधायकों को लेकर भाजपा के साथ चले गए हैं।

2 COMMENTS

Leave a Reply