पटना की 60 कॉलोनियों में डेंगू का तांडव, ‘सुशासन’ के हाथ-पांव फूले

0

पटना : राजधानी पटना समेत सूचे बिहार पर डेंगू कहर बनकर टूट पड़ा है। रोजाना सिर्फ पटना शहर में सौ से अधिक डेंगू पॉजीटिव मरीज मिल रहे हैं। राजधानी की करीब 60 के लगभग कॉलोनियों में डेंगू कहर बरपा रहा है। इनमें से ज्यादातर कॉलोनियां हालिया जलजमाव त्रस्त रही हैं। इनमें पश्चिमी पटना का इलाका सबसे ज्यादा प्रभावित है। पाटलिपुत्र अंचल, बांकीपुर अंचल, कंकड़बाग, अजीमाबाद, पटना सिटी और राजेंद्रनगर के लोगों का हाल बेहाल है। इन इलाके के लोगों में प्रशासन और राज्य सरकार के खिलाफ जबर्दस्त गुस्सा देखा जा रहा है।

लोगों में जबर्दस्त गुस्सा, सरकार पर लगाए आरोप

लगभग जलजमाव वाले सभी मुहल्ले में लोगों ने आरोप लगाया कि डेंगू के बढ़ते प्रकोप के बावजूद कई इलाकों में ब्लीचिंग पाउडर और चूने का छिड़काव नहीं हुआ है। फॉगिंग भी नाममात्र को ही हो रही है। इधर पीएमसीएच की वायरोलॉजी लैब जो रिपोर्ट जारी की है उसमें पटना के 120 मरीजों में डेंगू पॉजीटिव पाया गया। हालांकि इस जांच रिपोर्ट में वैसे मरीज भी शामिल हैं, जिन्होंने गुरुवार को डेंगू एवं चिकुनगुनिया जांच शिविर में सैंपल दिये थे। प्राइवेट अस्पतालों में भर्ती मरीजों की संख्या को भी इसमें जोड़ दें तो मोटामोटी पटना शहर में एक दिन में पौने 200 मरीजों के अस्पतालों में भर्ती होने की खबर है।

Image result for पीएमसीएच में डेंगू जांच शिविर

हालात भयावह, अन्य जिलों से भी त्राहिमाम

हालात की भयावहता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि अकेले पटना में अब तक 1200 से अधिक डेंगू के कन्फर्म मरीज मिले हैं। यह आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। पटना के अलावा भागलपुर में 112, नालंदा में 33, वैशाली में 29, पूर्णिया में 16, सारण, सिवान-मुजफ्फरपुर में 15-15, समस्तीपुर में 13, नवादा में 12, मधुबनी में 11, खगड़िया में आठ और शेष जिलों में डेंगू के एक से तीन रोगी पाए गए हैं।

पीएमसीएच में डेंगू जांच शिविर, आज से हेल्पडेस्क भी

Image result for पीएमसीएच में डेंगू जांच शिविर

स्वास्थ्य विभाग के निर्देश पर पीएमसीएच में डेंगू जांच शिविर लगाया गया जहां कल 150 सैंपल लिए गए। गुरुवार के 108 सैंपल मिला दें तो दो दिनों में यहां 258 लोगों ने जांच के सैंपल दिये हैं। शुक्रवार को लिए गए सैंपल की रिपोर्ट सोमवार को आएगी।

आज शनिवार से प्रशासन ने एक हेल्पडेस्क भी शुरू करेगा जिसमें 30 टेलीफोन एक साथ काम करेंगे। हेल्पडेस्क के माध्यम से लोग समस्या दर्ज करा सकते हैं। शिकायत सुबह छह से रात 12 बजे तक दर्ज होगी। शिकायतों की समीक्षा प्रत्येक दिन डीएम और कमिश्नर करेंगे।

Leave a Reply