जानिये कोरोना से किस आयु वर्ग को कितना खतरा

0

पटना : विश्व भर में कोरोना वायरस के मद्देनजर हर देश की सरकार अपनी जनता से अपील कर रही है कि बिना किसी जरूरी काम के कहीं भी बाहर ना जाएं। इस वायरस से अबतक 11 हजार 419 लोगों की मौत हो चुकी है और 2 लाख 76 हजार 698 लोग इससे संक्रमित हो चुके हैं। एक सर्वे के अनुसार इस वायरस ने सबसे अधिक 80 वर्ष से अधिक के आयु वर्ग के लोगों को शिकार बनाया है। 80 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोंगो में इस वायरस से हुए मौत रेट 14.8 % है। 70 से 79 साल के लोगों में 8% है। वहीँ बात करें 60 से 69 तक के आयु वर्ग के जनता का तो इसका डेथ रेट 3.6 % है। इसे कम 50 से 59 साल के लोगों के बीच 1.3% है। वहीं 40 से 49 साल के उर्म के बीच इसका दर 0.4% है। 30 से 39 साल के लोगों के बीच इस वायरस से हुए मृत्यु दर 0.2 % है। वहीं 20 से 29 साल आयुवर्ग के बीच का दर 0. 2 % है। तथा 10 से 19 साल के लोगों के बीच 0.2 % है। वहीँ 0 से 9 साल के आयु वर्ग में मृत्यु दर नहीं है।

प्रधानमंत्री ने जनता से किया 1 दिन के लिए जनता कर्फ्यू लगाने की अपील

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने देश की जनता से गुरूवार की रात अपील किया था कि भारत देश में जनता खुद से रविवार को एक दिवसीय कर्फ्यू लगाये। उन्होंने कहा कि यह कोरोना वायरस से लड़ने के लिए जनता का ,जनता से, जनता के लिए, जनता के द्वारा लगाया जाने वाला कर्फ्यू होगा। इस कर्फ्यू का समयकाल सुबह 7 बजे से रात के 9 बजे तक होगी। इस जनता कर्फ्यू को लेकर देश में किसी भी तरह का भय का माहौल नहीं है बल्कि इसके विपरीत खुशी का माहौल है। इस कर्फ्यू के लिए लोग शनिवार से ही तैयारियां शरू कर दी है लोग अपने घरो में रोजमर्रा की वस्तु शनिवार से ही ला कर रविवार के लिए रख रहे हैं।

भारतीय रेलवे ने भी किया कोरोना वायरस से लड़ने के लिए जनता कर्फ्यू का सपोर्ट

इसके मद्देनजर शनिवार की रात 12 बजे से रविवार की रात 10 बजे तक कोई भी पैसेंजर ट्रेनें नहीं चलेगी। मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें भी सुबह 4 बजे रोक दी जाएंगी। इसके साथ ही रेल अधिकारियों के मुताबिक, जनता कर्फ्यू के दौरान कुल 2400 यात्री ट्रेनें नहीं चलेंगी। इनमें 1300 मेल एक्सप्रेस गाड़ियां, पैसेंजर ट्रेनें और बड़ी संख्या में उपनगरीय ट्रेनें शामिल हैं। कोरोना वायरस के मद्देनजर, गैर जरूरी यात्रा टालने के लिए रेलवे पहले ही 245 यात्री गाड़ियां रद्द कर चुका है। मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों में ऑन बोर्ड कैटरिंग सर्विस को भी अगले आदेश तक बंद कर दिया गया है। इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन लिमिटेड (आईआरसीटीसी) की ओर से बताया गया कि संक्रमण रोकने के लिए उसके द्वारा संचालित फूड प्लाजा, जन आहार केंद्र और सेल किचन भी बंद करने का फैसला किया गया है।

तेजप्रताप शर्मा

swatva

Leave a Reply