राजद सुप्रीमों के लिए खाली रखा गया अस्पताल के 18 कमरे, भाजपा नेता ने उठाए सवाल

0

रांची : चारा घोटाले के कई मामलों में सजायाफ्ता होने के बाद रांची के रिम्स में इलाज के लिए भर्ती लालू प्रसाद यादव की खातिरदारी में अस्पताल के 18 कमरों को खाली रखा गया है।

मालूम हो कि रांची के रिम्स को सरकार ने कोरोना के लिए खास अस्पताल बनाया है। जहां हालत ये है कि आम मरीजों को बेड नहीं मिल रहा है। वहीं लालू यादव के लिए डेढ़ दर्जन कमरों को खाली छोड़ दिया गया है। इस बीच झारखंड बीजेपी के नेता बाबूलाल मरांडी ने सीएम हेमंत सोरेन को पत्र लिखकर पूछा है कि किसके आदेश पर इन कमरों को खाली रखा गया है।

झारखंड के सबसे बड़े अस्पताल रिम्स में राज्य सरकार ने कोविड-19 के इलाज की व्यवस्था की है। रिम्स में पहले से 100 बेड का कोविड वार्ड था। लेकिन जब कोरोना का कहर रांची में तेजी से बढ़ा तो सरकार द्वारा मेडिसिन वार्ड के दो वार्ड के साथ ही साथ दो अन्य वार्ड को भी कोविड वार्ड बना दिया गया है। वर्तमान में रिम्स में कोरोना के गंभीर मरीजों के लिए 172 बेड रखा गया है। वहीं कुछ मरीजों को पेइंग वार्ड में भी रखा गया है। हालांकि रिम्स में आम कोरोना मरीज के लिए अभी कोई बेड खाली नहीं है। इस कारण गंभीर रूप ये बीमार लोग भी अस्पताल से वापस लौट जा रहे हैं।

बाबूलाल मरांडी ने सीएम हेमंत सोरेन को पत्र लिखा

बीजेपी विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने लालू प्रसाद यादव की सुरक्षा के नाम पर रिम्स में 18 कमरों को बंद रखने पर सवाल उठाया है। बाबूलाल ने सीएम हेमंत सोरेन को पत्र लिखा है । उन्होंने कहा है कि एक ओर जहां मरीज बेड के लिए परेशान हो रहे वहीं रिम्स में 18 कमरों को बेवजह बंद रखा गया है।बाबूलाल मरांडी ने पूछा है कि आखिर किसके निर्देश पर ऐसा किया गया है. मरांडी ने अपने पत्र में कहा है कि सरकार के कोविड सेंटरों में बेड कम पड़ गये हैं. इस पर रांची हाईकोर्ट ने कड़ी टिप्पणी की है. जिन 19 कमरों को खाली रखा गया है वहां कम से कम 40 मरीजों का तो इलाज हो ही सकता है।

बीजेपी विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने लालू प्रसाद यादव की सुरक्षा के नाम पर रिम्स में 18 कमरों को बंद रखने पर सवाल उठाया है। बाबूलाल ने सीएम हेमंत सोरेन को पत्र लिख कर कहा है कि एक ओर जहां मरीज बेड के लिए परेशान हो रहे वहीं रिम्स में 18 कमरों को बेवजह बंद रखा गया है। उन्होंने पूछा है कि आखिर किसके निर्देश पर ऐसा किया गया है। मरांडी ने अपने पत्र में कहा है कि सरकार के कोविड सेंटरों में बेड कम पड़ गये हैं। इस पर रांची हाईकोर्ट ने कड़ी टिप्पणी की है। जिन 19 कमरों को खाली रखा गया है वहां कम से कम 40 मरीजों का तो इलाज हो ही सकता है।

swatva

Leave a Reply