22 जनवरी : सारण की मुख्य खबरें

0

टीकाकरण अभियान को लेकर हर रोज नए निर्देश

छपरा : वैश्विक महामारी कोरोना के खिलाफ स्वास्थ्य विभाग की ओर से जिले में कोविड-19 टीकाकरण अभियान की शुरुआत की गई है। प्रथम चरण में स्वास्थ्य कर्मियों को टीकाकृत किया जा रहा है। टीकाकरण अभियान को लेकर रोज नए नए निर्देश जारी किए जा रहे हैं।

अब जिले में सप्ताह में 2 दिन ही कोविड-19 टीकाकरण का कार्य किया जाएगा। इसको लेकर राज्य स्वास्थ समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार ने पत्र लिखकर जिलाधिकारी को आवश्यक दिशा निर्देश दिया है। जारी पत्र में बताया गया है कि भारत सरकार के निर्देशानुसार राज्य में 16 जनवरी से कोविड-19 का टीकाकरण किया जा रहा है। अब जिले में सप्ताह में 2 दिन यानी मंगलवार और शनिवार को ही कोविड-19 का टीकाकरण किया जाएगा। 19- 19 को अलग-अलग दिन टीकाकरण के लिए निर्धारित किए गए हैं।

पोर्टल पर रजिस्टर्ड लाभार्थियों को ही दिया जाएगा वैक्सीन :

पत्र के माध्यम से यह निर्देश दिया गया है कि कोविड-19 का टीकाकरण पूर्णता कोविन पोर्टल पर आधारित है। जिले में पोर्टल पर तकनीकी समस्याओं के कारण समय अनुसार सत्रों का निर्धारण नहीं हो पा रहा है। जिससे लाभार्थियों को टीकाकरण कराने के लिए ससमय सूचना प्रदान नहीं हो पा रही है। अतः आवश्यक है कि कोविन पोर्टल पर सत्रों का निर्धारण कम से कम 2 दिन पूर्व ही कर लिया जाए तथा लाभार्थियों को कोविड-19 टीकाकरण कराने के लिए कम से कम 1 दिन पहले सूचित किया जाए। साथ ही यह भी निर्देश दिया गया है कि किसी भी सत्र का आयोजन ऑफलाइन नहीं किया जाएगा।

18 सत्र स्थलों पर होगा कोविड-19 का टीकाकरण :

जिले में 16 जनवरी से 9 सत्र स्थलों पर प्रथम चरण में कोविड-19 टीकाकरण अभियान की शुरुआत की गई है। अब इसे बढ़ाकर 18 कर दिया गया है। शनिवार से 18 सत्र स्थलों पर कोविड-19 टीकाकरण का कार्य किया जाएगा। इसकी तैयारी लगभग पूरी कर ली गई है। साथ ही संबंधित कर्मियों को प्रशिक्षण भी दिया जा चुका है।

कोरोना से ठीक हो चुके व्यक्ति को भी वैक्सीन लगवाना है आवश्यक :

सिविल सर्जन डॉ माधवेश्वर झा ने बताया कि अगर कोई व्यक्ति कोरोना संक्रमित होने के बाद सही हो चुका है इसके बाद भी उसको वैक्सीन की दोनों डोज लेना आवश्यक है। क्योंकि वैक्सीन उसके शरीर में एक मजबूत प्रतिक्रिया तंत्र को विकसित करने में मदद करेगा। वहीँ संक्रमित व्यक्तियों को लक्षण खत्म होने के 14 दिन बाद तक वैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए क्योंकि वह वैक्सीनेशन स्थल पर दूसरों में वायरस फैला सकता है।

पूरी तरह से सुरक्षित और प्रभावकारी है वैक्सीन :

स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि आम लोगों पर किसी भी वैक्सीन के प्रयोग से पहले वैक्सीन कंपनी द्वारा किये गए समस्त परीक्षणों की जांच ड्रग नियामक द्वारा की जाती है। जांच के परिणाम उत्साहवर्धक होने के पश्चात ही दवा कंपनी को वैक्सीन के प्रयोग का लाइसेंस प्रदान किया जाता है। इसलिए सभी लाइसेंस प्राप्त कोरोना वैक्सीन सुरक्षित और प्रभावकारी है। देश में शुरू की गई कोरोना वैक्सीन उतनी ही प्रभावी है जितनी अन्य देशों द्वारा विकसित वैक्सीन वैक्सीन का परीक्षण के विभिन्न चरणों से इसकी सुरक्षा और प्रभाव कार्य सुनिश्चित किया है।

दोनों डोज लेने के 2 सप्ताह बाद कोरोना के प्रति एंटीबॉडी का निर्माण :

स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा बताया गया है वैक्सीन की प्रभावशीलता और कोरोना के प्रति एंटीबाडी विकसित होने के लिए वैक्सीन के दो डोज लेना अति आवश्यक है। वैक्सीन का प्रथम डोज लेने के 4 हफ्ते या 28 दिन बाद ही इसका दूसरा डोज दिया जाएगा। आमतौर पर कोरोना वैक्सीन के दोनों डोज लेने के 2 सप्ताह बाद कोरोना के प्रति एंटीबॉडी का निर्माण शुरू हो जाता है।

टीकाकरण के लिए लोगों को नुक्कड़ नाटक के माध्यम से किया जा रह जागरूक

छपरा : वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के खिलाफ जिले में कोविड-19 टीकाकरण अभियान की शुरुआत की गई है। टीकाकरण के प्रति आम जनों में फैली भ्रांति व झिझक को दूर करने के उद्देश्य से जिला स्वास्थ समिति सारण के द्वारा सेंटर फॉर एडवोकेसी एंड रिसर्च के सहयोग से नुक्कड़ नाटक के माध्यम से जागरूकता फैलाने का प्रयास शुरू किया गया है।

शुक्रवार को जिले के 2 स्थानों पर पटना से आए कलाकारों के द्वारा नुक्कड़ नाटक का मंचन किया गया। नुक्कड़ नाटक की शुरुआत सदर अस्पताल से की गई। जहां पर नाटक के माध्यम से ओपीडी व इमरजेंसी में आए मरीजों और उनके परिजनों को कोरोना से बचाव एवं उपचार तथा कोविड-19 टीका के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई। वही दूसरा पूर्वोत्तर रेलवे के छपरा जंक्शन पर नुक्कड़ नाटक का मंचन किया गया। जहां काफी संख्या में यात्रियों को कोविड-19 टीकाकरण के बारे में जागरूक किया गया।

नुक्कड़ नाटक के माध्यम से यह जानकारी दी गई कि कोरोना का संक्रमण किसी जात-पात, ऊंच-नीच देखकर नहीं होता है बल्कि यह किसी को भी हो सकता है। इससे बचाव के लिए सावधानी अति आवश्यक है। इसके साथ ही आम जनों को यह भी जानकारी दी गई कि कोरोना खिलाफ कोविड19 टीकाकरण अभियान की शुरुआत की जा चुकी है। प्रथम चरण में स्वास्थ्य कर्मियों को टीकाकरण किया जा रहा है। सदर अस्पताल में जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ अजय कुमार शर्मा, डब्ल्यूएचओ के एसएमओ डॉ रंजीतेश कुमार, यूनिसेफ के के एसएमसी आरती त्रिपाठी, यूएनडीपी के कोल्ड चेन मेनेजर अंशुमान पांडेय, सेंटर फॉर एडवोकेसी एंड रिसर्च के राज्य कार्यक्रम प्रबंधक रंजीत कुमार प्रमंडलीय कार्यक्रम समन्वयक गणपत आर्यन समेत अन्य स्वास्थ्य कर्मी मौजूद थे।

स्वयं- परिवार व समाज की सुरक्षा के लिए निर्भीक होकर कराएं टीकाकरण :

नुक्कड़ नाटक के माध्यम से आम जनों को यह जानकारी दी गई कि कोविड-19 का टीका पूरी तरह से सुरक्षित है। पूरा जांच-परख के बाद ही टीकाकरण अभियान की शुरुआत की गई है। इससे घबराने और डरने की जरूरत नहीं है। हमारे वैज्ञानिक धन्यवाद के पात्र हैं कि इतने कम समय में महामारी के खिलाफ कोविड-19 का टीका बनाने में सफल रहे हैं। स्वयं परिवार और समाज की सुरक्षा के लिए सभी को वह कोविड-19 का टीका लेना चाहिए। ताकि संक्रमण के प्रसार को रोका जा सके या इसे खत्म किया जा सके।

जन जागरूकता फैलाने में सीफार का सहयोग सराहनीय :

सिविल सर्जन डॉ माधवेश्वर झा ने कहा कि कोविड 19 को लेकर जन जागरूकता फैलाने में सेंटर फॉर एडवोकेसी एंड रिसर्च का सहयोग काफी सराहनीय रहा है। कोरोना काल में सेंटर फॉर एडवोकेसी एंड रिसर्च के द्वारा लगातार मीडिया के माध्यम से जन जागरूकता फैलाने में जो सहयोग किया गया है वह काफी महत्वपूर्ण है। वर्तमान में कोविड-19 टीकाकरण को लेकर भी सेंटर फॉर एडवोकेसी एंड रिसर्च के द्वारा लगातार जागरूकता फैलाया जा रहा है। अब नुक्कड़ नाटक के माध्यम से भी आम जनों को जागरूक करने की पहल शुरू की गई है। जिसके माध्यम से कोविड-19 टीकाकरण को लेकर आम जनों में फैली भ्रांतियों को दूर करने का प्रयास किया जा रहा है।

टीकाकरण के प्रति लोगों के मन से झिझक को किया गया दूर :

नुक्कड़ नाटक के माध्यम से कोविड-19 टीकाकरण के प्रति आम लोगों में जो झिझक बनी हुई है उसे दूर करने का प्रयास किया गया। सदर अस्पताल व छपरा जंक्शन पर नुक्कड़ नाटक देखने वाले हर वर्ग के लोगों ने कहा कि इसके माध्यम से हम लोगों को काफी महत्वपूर्ण जानकारी मिली है । टीकाकरण को लेकर जो मन में भ्रांतियां थी वह दूर हुआ है, और जब भी आम जनों को टिका दिया जाएगा तो हम बेझिझक जाकर अपना टीकाकरण करवाएंगे और इसके लिए दुसरो को भी प्रेरित करेंगे।

दोनों डोज लेने के बाद ही सफल होगा टीकाकरण :

नुक्कड़ नाटक के माध्यम से यह जानकारी दिया गया कि कोविड-19 टिकाकरण 2 डोज में पूरा होगा। व्यक्ति को जिस दिन टिका दिया जाएगा उसके 28 दिन बाद दूसरा डोज भी लेना अनिवार्य है। दूसरा डोज लेने के 14 दिन बाद रोग प्रतिरोधक क्षमता का विकास होगा। इसलिए सभी को दोनों डोज का टीका लेना अनिवार्य है। अगर सभी लोग दोनों डोज का टीका लेंगे तभी यह टीकाकरण अभियान सफल हो पाएगा।

कड़ाई भी दवाई भी :

नुक्कड़ नाटक के माध्यम से यह संदेश दिया गया कि कोरोना का संक्रमण अभी खत्म नहीं हुआ है। इसलिए आप सभी से यह अपील है कि कोविड-19 अनुरूप व्यवहारों का पालन जरूर करें। जब भी घर से बाहर निकले मास्क का उपयोग करें, सामाजिक दूरी का पालन करें और अपने हाथों को साफ करते रहें। कोविड-19 लेने के बाद भी इन नियमों का पालन करते रहना है।

पूर्ण सुरक्षा के लिए टीकाकरण के बाद भी पांच नियमों का करें पालन:
• मास्क सही से पहनें
• हाथ को नियमित रूप से धोएं
• 2 गज की दूरी बनाएं रखें
• लक्षण होने पर तुरंत खुद को दूसरों से अलग रखें
• लक्षण होने पर तुरंत जांच कराएं

वन वे यातायात पोस्ट पर समस्यों से निजात दिलाने को पुलिस बल तैनात

छपरा : अनुमंडल पदाधिकारी एवम अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी सदर छपरा द्वारा RCD पथ प्रमंडल NH-19 बड़े बाहनो के यातायात के परिचालन हेतु वन वे यातायात पोस्ट पर पुलिस बल तैनात करने एवम पथ निर्माण का कार्य समय पूर्व कार्य कराया जा सके। इससे यातायात परिचालन में वाहनों को किसी प्रकार की समस्या नहीं रहे। यह दिनांक 28.1.2021 के मध्य रात्रि से लागू करने का निर्देश सभी को दिया गया।

स्वर्गीय केदारनाथ के कमरे को खोल उसकी सफाई करने का निर्देश

छपरा : कुलपति प्रो० फारूक अली जी ने काफी दिनों से बंद पड़े स्थापना विभाग के बगल के कमरे को खुलवाया और उसकी ठीक से सफाई करने का निर्देश दिया। विदित हो कि केदारनाथ जी के स्वर्गीय हो जाने के बाद से यह कमरा लगातार बंद था और इस कमरे तथा इस तरह के अन्य बंद कमरों के लिए एक समिति का गठन किया गया था, जिसके बाद यह कार्य हुआ।

इसके बाद कुलपति महोदय स्थापना विभाग का औचक निरीक्षण किए और स्वयं से कोने मे पडी गंदगी की फोटोग्राफी किए और कहा कि इस तरह की लापरवाही कदापि फिर नहीं होनी चाहिएI स्थापना 1st और स्थापना 2nd को अलग करने का आदेश दिया जो कि दीवार बनाकर किया जाएगाIकुलपति महोदय के साथ प्रो हरिश्चंद्र,डॉक्टर शेखर सिंह,श्री प्रमोदकुमार सिंह आदि भी थेI

इंटरकॉम सर्विस का प्रशासन प्रखंड में किया गया उद्घाट

छपरा : कुलपति महोदय प्रोफेसर फारूक अली जी ने विश्वविद्यालय के अपने कार्यालय से अध्यक्ष, छात्र कल्याण प्रोफेसर US ओझा के साथ बात कर इंटरकॉम सर्विस का प्रशासन प्रखंड में उद्घाटन कियाI इस अवसर पर प्रोफेसर हरिश्चंद्र CCDC,कुलसचिव कर्नल SN झ, AK पाठक तथा अन्य पदाधिकारी और कर्मचारी उपस्थित थे.कुलपति महोदय ने कहा कि intercom लगा देने से किसी भी कार्यालय में किसी भी पदाधिकारी और किसी भी कर्मचारी की location का पता तत्काल लगा लिया जाएगाI

विदित हो कि पूर्व में बहुत पहले से ही intercom था,परंतु खराब हालत में था,थोड़े से खर्च में एक बड़ा काम हो गया और माननीय कुलपति महोदय के इस निश्चय कि,अधूरे कार्यों को पहले पूरा किया जाएगा तब नया कार्य होगा,का भी उद्देश्य पूरा होता हुआ परिलक्षित होता है. माननीय कुलपति महोदय प्रोफेसर फारूक अली जी नें कहा कि निकट भविष्य में सभी प्राचार्य ,सभी अध्यक्ष स्नातकोत्तर विभाग,विश्वविद्यालय के सभी कर्मचारियों को भी जी पी यस लगा हुआ मोबाइल दिया जाएगा,जिससे सभी के location की जानकारी किसी भी समय ली जा सकेI इसके लिए अधिकारियों को एयरटेल तथा अन्य से बात करने के लिए कह भी दिया गया है,जिससे यह योजना यथाशीघ्र कार्यान्वित हो सकेI

swatva

Leave a Reply