Home बिहार अपडेट 30 नवंबर : सारण की मुख्य खबरें

30 नवंबर : सारण की मुख्य खबरें

0

भारतीय किसान यूनियन लोकशक्ति का तृतीय स्थापना दिवस समारोह को लेकर हुई बैठक

छपरा : भारतीय किसान यूनियन लोकशक्ति ने अपने तीसरे वर्ष पूरे होने पर अपना तृतीय स्थापना दिवस समारोह का मुख्य कार्यक्रम दिनांक 29 नवम्बर 2020 दिन रविवार को नियर यमुना एक्सप्रेस-वे बैठक रेस्टोरेंट, झांझर रोड जेवर, जिला – गौतमबुद्धनगर, उत्तर प्रदेश सहित उत्तर प्रदेश के सभी जिलों और देश के सभी प्रदेशों और ज़िलों में भी भाकियू लोकशक्ति के वरिष्ठ पदाधिकारीयों ने तृतीय स्थापना दिवस समारोह कार्यक्रम हर्षोल्लास पूर्ण वातावरण में धूमधाम से मनाया ।

वहीं दोपहर मुख्य कार्यक्रम नियर यमुना एक्सप्रेस-वे , बैठक रेस्टोरेंट झांझर रोड,जेवर,जिला गौतमबुद्धनगर उत्तर प्रदेश में बड़े ही धूमधाम व हर्षोल्लास पूर्ण वातावरण में सम्पन्न हुआऔर समारोह में मुख्य रूप से राष्ट्रीय अध्यक्ष मा.श्यौराज सिंह जी , राष्ट्रीय महासचिव सह राष्ट्रीय प्रवक्ता व झारखंड-बिहार प्रदेश प्रभारी डा शैलेश कुमार गिरि जी , राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव मल्लिक जी, उत्तर प्रदेश अध्यक्ष अनुराग गुप्ता जी , उत्तर प्रदेश महिला अध्यक्ष श्रीमती रेखा सिंह जी , राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष प्रताप नागर जी , राष्ट्रीय मिडिया प्रभारी विश्वास गुर्जर जी सहित नोएडा की पूरी टीम और आसपास के तहसील , मंडल व जिला के सभी भाकियू लोकशक्ति के सभी पदाधिकारीगण शामिल हुए ।

इस मौके पर एसीपी शरद चंद शर्मा , डीसीपी राजेश कुमार , एडिशनल डीसीपी विशाल पांड्ये और कोतवाली प्रभारी उमेश बहादुर मौजूद रहे । तृतीय स्थापना दिवस पर 21किलो का केक आकर्षण रहा जिसे राष्ट्रीय अध्यक्ष मा.श्यौराज सिंह , राष्ट्रीय महासचिव सह राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ शैलेश कुमार गिरि उत्तर प्रदेश अध्यक्ष अनुराग गुप्ता सहित सभी राष्ट्रीय पदाधिकारियों ने काटा और एक दूसरे को केक खिलाया साथ ही सांस्कृतिक कार्यक्रम भी मनाये गये । भाकियू लोकशक्ति के स्थापना दिवस में प्रशासन के वरिष्ठ पदाधिकारीयों ने भी अपने अपने विचार व्यक्त किए ।

तृतीय स्थापना दिवस समारोह मनाने के बाद एक बैठक हुई जिसमें राष्ट्रीय अध्यक्ष मा.श्यौराज सिंह जी ने एलान किया कि नोएडा दिल्ली बॉर्डर सेक्टर 14 से 2 दिसंबर से किसान विरोधी तीन कृषि बिल के विरोध में और किसान आंदोलन के समर्थन में जंतर-मंतर दिल्ली को कूच करेंगे ।जो साथी यदि दिल्ली बॉर्डर पर नहीं पहुंच सकते , वे सभी अपने अपने नजदीकी थानों में जत्थों में जाएं और नीचे कपड़े डालकर बैठ जायें पुलिस पूछे कैसे और क्यों आये हो तो कह देना
देशव्यापी प्रोग्राम हमारा संगठन गिरफ्तारी दे रहा है हमें जेल भेजो देखें तुम्हारे जेलों में कितने जगह है।

विश्व एड्स दिवस के मुख्य अतिथि होंगे डॉ हर्ष वर्धन व अश्विनी कुमार चौबे

छपरा : आमजनों को जागरूक करने के उदेश्य से प्रत्येक वर्ष 1 दिसंबर को विश्व एड्स दिवस मनाया जाता है। इस दौरान स्वास्थ्य विभाग की ओर से तमाम गतिविधियों का आयोजन किया जाता है। इस बार वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण को देखते नेशनल वेबिनार का आयोजन किया जायेगा। भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की इकाई की ओर से विश्व एड्स दिवस (1 दिसम्बर) के अवसर पर राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया गया है।

इसका विषय है एड्स के परिपेक्ष्य में वैश्विक एकजुटता और साझा जिम्मेदारी। स्वास्थ्य मंत्रालय ने राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन (नाको) को इसकी जिम्मेदारी दी है। राष्ट्रीय वेबिनार के मुख्य अतिथि भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के मंत्री डॉ हर्ष वर्धन व विशिष्ट अतिथि राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे होंगे। हर वर्ष विश्व एड्स दिवस पर संगोष्ठी व जागरुकता रैली का आयोजन होता है। इस बार कोविड-19 के कारण वर्चुअल मोड से राष्ट्रीय कार्यक्रम का हिस्सा बनना है।

1097 हेल्पलाइन व ‘हम साथी’ एप्प से लें जानकारी:

बिहार राज्य एड्स नियंत्रण समिति द्वारा एचआइवी एड्स हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया है। हेल्पलाइन नंबर 1097 से एड्स संक्रमण होने के कारणों व बचाव के बारे में जानकारी ली जा सकती है। इसके साथ ही यदि एड्स की जांच या एड्स संबंधी इलाज सुविधा की भी सूचना प्राप्त कर सकते हैं। इसके साथ ही ‘हम साथी’ मोबाइल एप्प डाउनलोड कर एड्स से संबंधित सामाजिक सुरक्षा योजनाओं की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। यह मोबाइल एप्प एड्स के प्रति जागरूकता लाने और बच्चों में मां के माध्यम से एड्स के संक्रमण को रोकने के लिए विभिन्न जानकारियां मुहैया कराता है।

ऐसे कर सकते हैं रोकथाम:

सिविल सर्जन डॉ माधवेश्वर झा ने बताया कि यौन सम्पर्क से पूर्व बचाव के सुरक्षा के आवश्यक उपाय करें। रक्त चढ़ाने की आवश्यकता पड़ने पर उसकी सम्पूर्ण जांच अवश्य करवा लें। हमेशा डिस्पोजेबल सुई एवं सीरिंज का उपयोग करें।गर्भवती महिलाओं, टीबी के रोगियों, यौन रोगियों एवं जनसामान्य को निःशुल्क परामर्श एवं जांच सेवा उपलब्ध कराई जाती है। एचआईवी पॉजीटिव एवं एड्स पीड़ितों के उपचार के लिए एआरटी केन्द्रों का संचालन किया जा रहा है, जहां निःशुल्क औषधी एवं उपचार उपलब्ध है।

एचआईवी की जांच कराना जरूरी, लोगों को करें प्रेरित-

सिविल सर्जन डॉ. झा ने कहा कि हमें अपने क्षेत्र के लोगों को एचआईवी एड्स के बारे जागरूक करना चाहिए। सभी गर्भवती महिलाओं, टीबी के मरीजों की एचआईवी जांच अवश्य करवानी चाहिए। युवाओं को रक्तदान के लिये प्रेरित करना चाहिए। एचआईवी संक्रमित व्यक्तियों को छूने से उनके साथ रहने से, साथ खाना खाने से, मच्छर काटने से, छींकने या खांसने से संक्रमण नहीं फैलता है। इसलिए एचआईवी संक्रमित व्यक्ति के साथ अच्छा व्यवहार करना चाहिए। उनके साथ भेदभाव नहीं करना चाहिए। वे भी हमारी ही तरह सामान्य जीवन जीने के हकदार हैं। हम यदि सहयोग करेंगे तो एआरटी ईलाज के सहारे वे लम्बे समय तक स्वस्थ्य जीवन जी सकते हैं।

इन लक्षणों से करें एड्स की पहचान:

• गले या बगल में सूजन या गिल्टी
• लगातार बुखार व खांसी रहना
• वजन का तेजी से घटना
• मुंह में घाव निकल आना
• त्वचा पर खुजली वाले चकते उभरना
• सिरदर्द व थकान रहना
• भूख नहीं लगना

कोरोना काल में इन उचित व्यवहारों का करें पालन,-

– एल्कोहल आधारित सैनिटाइजर का प्रयोग करें।
– सार्वजनिक जगहों पर हमेशा फेस कवर या मास्क पहनें।
– अपने हाथ को साबुन व पानी से लगातार धोएं।
– आंख, नाक और मुंह को छूने से बचें।
– छींकते या खांसते वक्त मुंह को रूमाल से ढकें।

एनीमिया आम बीमारी, लेकिन इसके प्रति लापरवाही से जान जोखिम में

छपरा : कोरोना काल में इस बात पर विशेष जोर दिया जा रहा है कि शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होनी चाहिए। आज की जीवन शैली में एनीमिया एक आम बीमारी हो गई है, लेकिन इसके प्रति लापरवाही जान जोखिम में डाल सकती है। व्यक्ति के शरीर में आयरन की कमी के कारण जब हीमोग्लोबिन का बनना सामान्य से कम हो जाता है, तब शरीर में खून की कमी होने लगती है। इस स्थिति को ही एनीमिया कहा जाता है। इस बीमारी से बचाव के लिए लोगों को जीवनशैली बदलने एवं आयरन युक्त आहार का सेवन करने की जरूरत है।

एनीमिया शारीरिक व मानसिक क्षमता को करता है प्रभावित:

जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ अजय कुमार शर्मा ने बताया कि एनीमिया हमारी शारीरिक व मानसिक क्षमता को प्रभावित करता है। एनीमिया में हीमोग्लोबिन की कमी होती है। हीमोग्लोबिन ही फेफड़ों से ऑक्सीजन लेकर खून में पहुंचाता है। यही कारण है कि शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी होने से ऑक्सीजन की कमी होने लगती है और शरीर को पर्याप्त ऊर्जा नहीं मिलती है। जो भी व्यक्ति अपने खान-पान का ख्याल नहीं रखता है उसे एनीमिया हो सकता है लेकिन महिलाओं में एनीमिया की समस्या अधिक देखने को मिलती है।

एनीमिया के लक्षण महसूस होने पर तुरंत डॉक्टर से लें सलाह:

जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. अजय कुमार शर्मा ने बताया कि वैसे तो बच्चों से लेकर बड़ों तक हर उम्र के लोग एनीमिया ग्रसित हो सकते हैं, लेकिन किशोरावस्था, प्रसव के बाद और रजोनिवृत्ति के बीच की आयु में यह समस्या अधिक देखी जाती है। आमतौर पर ऐसा तब होता है, जब शरीर में लाल रक्त कणों की कोशिकाओं के नष्ट होने की दर उनके निर्माण की दर से अधिक होती है। उन्होंने कहा कि एनीमिया के लक्षण महसूस होने पर तुरंत किसी अच्छे चिकित्सक से परामर्श लेना चाहिए।एनीमिया के लक्षण सांस फूलना, थकावट आना, चक्कर आना, घबराहट, एकाग्रता में कमी और आंखों, हथेलियों व नाखून का रंग पीला होना एनीमिया के प्रमुख लक्षण हैं।

खान पान का विशेष ध्यान:

आज कोरोना के दौर में तो हमें इस पर विशेष ध्यान देना चाहिए क्योंकि इससे हमारी प्रतिरोधक क्षमता भी कम हो सकती है। ऐसी स्थिति में कोरोना के संक्रमण की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। हमें ऐसे समय में अपने खान-पान का विशेष ध्यान रखना चाहिए। हमें फल व सब्जियों को अच्छी तरह से धोकर खाना चाहिए। खाना बनाने व खाना खाने से पहले हाथों को साबुन और पानी से अच्छे से धोना चाहिए। गर्भवती एवं धात्री महिलाओं को डाक्टर की सलाह से विटामिन सी युक्त खाद्य पदार्थ नीबू, संतरा, आंवले के साथ आयरन की गोलियों का सेवन करना चाहिए।

यह है आंकड़ों की तस्वीर:

राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-4 (2015-16) के अनुसार जिले में 15 से 49 वर्ष की 50.4%.गर्भवती, 15 से 49 वर्ष के 22 प्रतिशत पुरुष और 15 से 49 वर्ष की 53.9 प्रतिशत महिलाएं एनीमिया से ग्रसित हैं। एक स्वस्थ महिला में हीमोग्लोबिन की मात्रा 12 ग्राम प्रति डेसीलीटर और पुरुषों में 14 ग्राम प्रति डेसीलीटर होनी चाहिए।

इन बातों का ध्यान रख कोविड-19 से बचा जा सकता है :

• सार्वजानिक स्थानों पर लोगों से दूरी बनाएं
• कम से कम दो मास्क रखें। घर में बनाए गए मास्क को समय समय पर धुलते रहें
• अपनी आंख, नाक एवं मुंह को छूने से बचें
• हाथों को नियमित रूप से साबुन एवं पानी से अच्छी तरफ साफ करें
• आल्कोहल आधारित हैण्ड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें
• तंबाकू, खैनी आदि का प्रयोग नहीं करें, ना ही सार्वजानिक स्थानों पर थूकें

डा. संजीव कुमार सिंह ने किया गुरूकुल कप क्रिकेट लीग प्रतियोगिता 2020-21 का शुभारम्भ

छपरा : राजेन्द्र स्टेडियम छपरा में सारण जिला गुरूकुल कप क्रिकेट लीग प्रतियोगिता 2020-21का शुभारम्भ डा. संजीव कुमार सिंह द्वारा खिलाड़ियों से परिचय प्राप्त कर प्रतियोगिता का उदधाट्न किया आज का मैच त्रिशूल क्रिकेट क्लब ब्लू बनाम दहियावं क्रिकेट क्लब D के बीच हुआ टॉस हारकर पहले बल्लेबाज़ी करते हुए त्रिशूल क्रिकेट क्लब ब्लू 27.4 ओवर में 137 रन बनाकर पूरी टीम ऑल आउट हो गई.

त्रिशूल क्रिकेट क्लब के तरफ से संजीत ने 31 धीरेंद्र ने 27 और आकाश ने 23 रनो का योगदान दिया दहियावां के से गेंदबाज़ी करते हुए सशिकांत ने 24 रन देकर 3 विकेट सुजीत ने 2 विकेट और 2 विकेट प्राप्त किया जवाब में खेलते हुए दहियावां क्लब ने 1 विकेट शेष रहते हुए विजय लक्ष्य को प्राप्त किए जिसमे आदर्श ने 32 रन दिपु 20 प्रशांत शॉर्या ने 17 रनो का योगदान दिया त्रिशूल क्रिकेट क्लब के तरफ से संजीत ने 3 विकेट और टिंकू ने 2 विकेट प्राप्त किया .ईस अवसर पर संजय सिंह.भूपेंद्र सिंह.सुरेश सिंह.विभूति नारायण शर्मा. चन्दन शर्मा. राजेश राय.केशर अनवर. कुंदन शर्मा और अंपायर बबलू यादव और सचिन पांडे थे।

ऑल इण्डिया स्टूडेंट्स फेडरेशन ने राष्ट्रव्यापी आंदोलन छेड़ने का किया आह्वान

छपरा : किसान आंदोलन के समर्थन में पूरे देश में एक साथ छात्र-नौजवान सड़कों पर उतरेंगे। पिछले दिनों किसान आंदोलन पर बर्बर दमन के खिलाफ रोष व्यक्त करते हुए ऑल इण्डिया स्टूडेंट्स फेडरेशन (एआईएसएफ) एवं एआईवाईएफ ने राष्ट्रव्यापी आंदोलन छेड़ने का आह्वान किया है। इस बाबत आज एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर एआईएसएफ के राज्य उपाध्यक्ष राहुल कुमार यादव ने कहा कि किसान आंदोलन के समर्थन में संगठन के राष्ट्रव्यापी आह्वान पर 02 दिसंबर को सारण जिले में भी आक्रोश मार्च निकाल पीएम मोदी का पुतला दहन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि राजधानी दिल्ली जा रहे अन्नदाता किसानों को रोकने के लिए इस ठंड में वाटर कैनन,आँसू गैस एवं लाठीचार्ज करा मोदी सरकार किसानों के हौसलों को पस्त करना चाहती है।

किसान का बेटा सीमा पर शहीद होने को विवश है तो किसान खेतों के बाद अब सड़कों पर दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं।कभी लाल बहादुर शास्त्री ने जय जवान-जय किसान का नारा दिया था। आज मोदी जी ने अपने चंद कारपोरेट मित्रों को फायदा पहुंचाने के लिए किसानों से बातचीत कर समस्याओं का समाधान निकालने के बजाय किसानों और जवानों को आमने सामने कर दिया है जो काफी दु:खद और शर्मनाक है। राज्य-पार्षद अमित नयन ने कहा कि जीने के बुनियादी संसाधनों में से एक भोजन की व्यवस्था किसान करते हैं। उनको हीं सरकार किसान विरोधी नए तीन कृषि कानूनों के द्वारा अंबानी-अडानी के हाथों को मजबूत कर रही है किसानों के हाथों को कमजोर कर रही है। सरकार ने अभी तक किसानों से वार्ता के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया है ऐसे में किसानों का समर्थन करना छात्र-नौजवानों की ऐतिहासिक जिम्मेदारी बन जाती है।

NO COMMENTS

Leave a Reply

%d bloggers like this: