ब्रिटिश कोचिंग सेंटर का वार्षिकोत्सव, शिक्षा में सामाजिक सरोकार जरूरी

0

सारण : दिघवारा प्रखंड के धारीपुर हराजी गांव में ब्रिटिश कोचिंग सेंटर का वार्षिकोत्सव धूमधाम के साथ मनाया गया। कोचिंग सेंटर के छात्र—छात्राओ ने एक से बढ़कर एक गीत और नृत्य-संगीत की प्रस्तुती से सबका मन विभोर कर दिया। कार्यक्रम का उदघाटन दीप जलाकर वैदिक मंत्रोचार के साथ आचार्य, वशिष्ठ नारायण त्रिपाठी मानस ममंज्ञय, शिवबच्चन जी महाराज, के साथ प्राचार्य गोपाल जी त्रिपाठी एवम दिघवारा जिला परिषद् प्रतिनिधि सुमन कुमार यादव द्वारा सम्पन्न हुआ।

उदघाटन सत्र के बाद आगत अतिथियों का स्वागत डायरी कलम मोमेंटो के साथ माल्यार्पण के बाद संपन्न हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए सारण जिला परिषद के पूर्व अध्यक्ष राजेन्द्र प्रसाद राय ने शिक्षा के सम्यक विकास सबके लिए पर बल दिया। वार्षिकोत्सव में मुख्य अतिथि, दिल्ली विश्वविद्यालय में असिस्टेंट प्रोफेसर, डॉ.अमरेन्द्र कुमार आर्य ने संबोधित करते हुए कहा कि सदीपनी मुनि/कृष्ण पैदा कर सकते हैं। विश्वामित्र और वाशिठ मुनि रामत्व पैदा कर सकते हैं। इस देश में बुद्ध और महावीर, आर्यभट का नहीं होना चिंता का विषय है। बालक एवम् बालिकाओं के अंदर कृष्णत्व और रामत्व पैदा करने के साथ—साथ सीता और सावित्री को हमें आदर्श बनाना होगा।

swatva

शिक्षा में सरोकार पर चर्चा करते हुए मुख्य अतिथि ने कहा कि सामाजिक सहयोग के बिना माता पिता एवम अभिभावकों को सही मार्गदर्शन के बिना वास्तविकता मीसा की कल्पना बेमानी होगी। आगत अतिथियों का स्वागत दीपांजन सर और नीलाजन सर ने किया। धन्यवाद ज्ञापन से पहले क्लास 07 और 12 तक। 1 से 10 तक के बच्चो को पुरस्कृत किया गया। अन्य सहभागियों में अमरेश जी, शिवजी राय, पप्पू सिंह, मुकेश कुमार मुनचुन कुमार और अन्य लोग मौजूद थे।

Leave a Reply