31 जुलाई : सारण की मुख्य ख़बरें

0
chhapra news

इस वर्ष सांकेतिक होगी महावीरी पूजा

सारण : गरखा प्रखंड के प्राचीन संठा ग्राम में हर वर्ष आयोजित होने वाले महावीरी पूजा इस बार सांकेतिक होगी l वैश्विक महामारी कोरोना को ले आयोजन समिति द्वारा निर्णय लिया गया आयोजन समिति के भरत शाह मदन राय मुंद्रिका सिंह गेना सिंह ने बताया कि सरकार के आदेश का पालन करते हुए इस बार मंदिर परिसर में सांकेतिक पूजा की जाएगी दूरदराज से आने वाले श्रद्धालुओं को भी आगाह कर दिया गया है कि वे इस बार महावीर जी का पूजन घर से ही करें वही दूरदराज से आने वाले दुकानदार झूला वाले एवं अन्य को मंदिर परिसर में आने की मनाही की गई है परंपरा के अनुसार शनिवार को सोशल डिस्टेंस का ध्यान रखते हुए मंदिर के पुजारी द्वारा सांकेतिक पूजा की जाएगी l

गौरतलब है कि संता का महावीरी पूजा सैकड़ों वर्षो से हो रही है जहां लाखों लोगों की आस्था इन से जुड़ी है तभी तो ग्रामीण क्षेत्र में होने वाले इस पूजा में अपनी मन्नतें पूरी होने पर हजारों श्रद्धालु हर वर्ष मंदिर परिसर में ध्वज लगाते हैं गांव के बुजुर्ग बताते हैं कि लगभग 300 वर्ष पूर्व बाढ़ के दिनों में महावीर जी की छोटी मूर्ति गांव के किसान को मिली थी जिसे वह अपने घर में रखा रात्रि में महावीर जी द्वारा स्वप्न में उसे मंदिर बनवाने के बात कही तब से ग्रामीण मंदिर बना कर महावीर जी की पूजा करते हैं लोगों का कहना है कि यहां जो भी मन्नते मांगते हैं उनकी मुराद महावीर जी अवश्य पूरा करते हैं तभी तो पूजा के दिन लाखों की भीड़ होती है l

बालू पर रफ़ाल की कलाकृति बना दर्शाया भारत की शान

सारण : शहर के मशहूर सैंड आर्टिस्ट अशोक कुमार ने बालू की रेत से सरयू नदी किनारे रफ़ाल की कलाकृति बनाया। अशोक कुमार ने कहा कि देश के लिए गर्व की बात है कि आज हमलोगों के बीच भारतीय एयरफोर्स में दुनिया के सबसे घातक लड़ाकू विमान ‘रफ़ाल’ के आने पर और इसके वायुसेना के बेड़े में शामिल होने पर पूरा देश अपने अपने तरीके से ख़ुशी मना रहा है।

छपरा शहर के सैंड आर्टिस्ट अशोक कुमार ने अपनी ख़ुशी सैंड आर्ट बनाकर व्यक्त की है और इस पर लिखा है देश का चौकीदार राफेल… 100 क़दम आगे सबसे ज्यादा वायरल हो रहा है अशोक कुमार की बनाई यह कलाकृति,अशोक कुमार इससे पहले Lock Down, ओर सदी के महानायक बॉलीवुड स्टार सोनू सूद की भी कलाकृति बना चुके हैं। अभी तक अशोक कुमार की पेंटिंग पर सरकार की कभी नजर नही पड़ती है,वही सरकारी कार्यक्रम रहता है,तो उनको याद किया जता है,आज तक ऐसे कलाकार छपरा तक ही सीमित रह गए। ऐसे अशोक की आशा लगा रहती है कि बिहार सरकार द्वरा मुझे बिहार स्तर पर कलाकृति की कभी न कभी अवसर जरूर देगा।

बाढ़ प्रभावित इलाके का दौरा कर विधायक ने स्थिति का लिया जायज़ा

सारण : मढौरा विधानसभा क्षेत्र के कई पंचायतों में बाढ़ ने तबाही मचानी शुरू कर दी है। गुरुवार को राजद विधायक जितेंद्र कुमार राय ने बाढ़ प्रभावित इलाके का ट्रैक्टर से दौरा किया तथा स्थिति का जायजा लिया। उन्होंने बाढ़ पीड़ितों से मिलकर उनका हालचाल जाना और आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए संबंधित अधिकारियों को मोबाइल पर कॉल कर तत्काल कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

विधायक ने बताया कि गंडक नदी तथा अन्य सहायक नदियों के जलस्तर में वृद्धि और लगातार हो रही बारिश के कारण पूरे इलाके में प्रलयंकारी बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हो गयी है और हजारों एकड़ में लगी फसलें नष्ट हो गई है। जलमग्न हो चुके गांव के लोगों को पलायन करने को मजबूर होना पड़ रहा है । उन्होंने कहा कि सरकार और प्रशासन बाढ़ पीड़ितों की सहायता करने में पूरी तरह फेल साबित हो रही है।

मही नदी के रास्ते गंडक के बाढ़ का पानी काफी मात्रा में आने के कारण मढ़ौरा के भावलपुर और नौतन पंचायत में बाढ़ आ गई है। बाढ़ के पानी से भावलपुर, भिडिया, विष्णुपुर जगदीश, नरौनी, जमालपुर, कोल्हुआ, नौतन, धर्मपुर आदि गांवों घिर गए है। भावलपुर के वार्ड 1 और 3 में दर्जनों लोगों के घरों के अलावे छठ घाट, ईदगाह के साथ साथ कई सम्पर्क रोड भी डूब गए है। इसी तरह से भिरिया और विष्णुपूरा नरौनी में भी अधिकांश लोगों का घर बाढ़ के पानी मे घिरा हुआ है और आने जाने के रास्ते पर कही घटना तो कही कमर तक पानी हो गया है। मुखिया सुमित सिंह आदि का कहना है कि इस बार जो बाढ़ आई है। वह 2001, 2002 और 2017 से भी भयंकर है, क्योंकि उस समय बाढ़ का पानी उतना ऊँचाई तक नही आया था जितना इस बार आया है। मढ़ौरा विधायक जितेंद्र राय ने भावलपुर और नौतन पंचायत के बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा कर स्थिति का जायजा लिया और प्रशासन से बाढ़ पीड़ितों की जरूरी सहायता करने और प्रभावित क्षेत्रों में राहत कार्य चलाने की मांग की। मढ़ौरा सीओ ओमप्रकाश औऱ सीआई धर्मेन्द्र कुमार ने इन बाढ़ प्रभावित गांवों का दौरा कर सर्वे किया और जरूरी राहत कार्य चलाने के लिए जिला को आवश्यक रिपोर्ट भेज दी है।

सवर्ण आयोग का गठन मात्र एक दिखावा

सारण : सवर्ण आयोग का गठन मात्र दिखावा कर बिहार सरकार सवर्ण समाज को बरगलाने का काम कर रही है। युवा ब्राह्मण चेतना मंच के राष्ट्रीय संयोजक डाॅ0.सुभाष पाण्डेय ने गूगल मीट के माध्यम से मंच की बिहार प्रदेश इकाई के पदाधिकारियों की बैठक को संबोधित करते हुए कहा। डाॅ0 पाण्डेय ने कहा कि 27 जनवरी 2011 को कैबिनेट ने सवर्ण आयोग बनाने की मंजूरी दी। इसके साथ ही आनन फानन में सवर्ण आयोग का गठन किया गया। इलाहाबाद उच्च न्यायालय के अवकाश प्राप्त न्यायाधीश डीके त्रिवेदी की अध्यक्षता में सवर्ण आयोग का गठन हुआ और इसके साथर ही बिहार सवर्ण आयोग बनाने वाला पहला राज्य बन गया।आयोग ने 25 मई 2011 को घोषणा की थी कि अगले छह महीने में वह सरकार को रिपोर्ट देगी।परन्तु 2013 में सरकार को सवर्ण आयोग ने अपना रिपोर्ट सौपा।परन्तु इस रिपोर्ट पर आज तक सरकार ने कोई कदम नहीं उठाया।

इस कारण सवर्ण आयोग जिसका गठन सवर्णों के कल्याण के उद्देश्य हेतु हुआ था हाथी का दाॅत बनकर रह गया।आयोग का कार्य था कि ऊॅची जातियों में शैक्षणिक व आर्थिक रुप से कमजोर समूह की पहचान करना ।ऊॅची जाति में ऐसे वर्ग की पहचान करना जिनके पास दूसरे वर्ग की तुलना में आर्थिक लाभ के सीमित श्रोत हैं जिसमें जमीन भी शामिल है और उनके पुश्तैनी धंधे की महत्ता कम हो रही है इसका आकलन करना। उनके पिछड़ेपन के कारणों की तलाश करना और उनके व्यापक हित में सुझाव देना।तथा राज्य सरकार आर्थिक आधार पर एक पैमाना तय कर ऊॅची जाति के गरीब लोगों की पहचान कर सके जो प्रतिकूल परिस्थितियों में रह रहे हैं। परन्तु बिहार सरकार ने ग्यारह वर्ष बाद भी सवर्ण आयोग के गठन के उद्देश्य के नजदीक भी पहुंचती नहीं दिखाई पड़ती। इसलिये बिहार सरकार सवर्ण आयोग की अब तक की रिपोर्ट एवम् कार्यों को सार्वजनिक करे।

नई शिक्षा निति का भाजपा जिलाध्यक्ष ने किया स्वागत

सारण : भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष रामदयाल शर्मा ने देश की नई शिक्षा पद्धति का स्वागत एवं सहारना करते हुए कहा कि नई नीति वास्तव में नये भारत की आवश्यकता और स्वभाविक उत्कर्ष को प्रतिबिम्बित करती है।इसमें भारत की मूल चेतना जन्मजात प्रतिभा और निष्णात तत्व के अधिकतम अनुप्रयोग की सुनिश्चतता दिखाई पड़ रही है।

यह नीति उदारता के साथ ही भारतीय बहुलता का भी प्रतिनिधित्व करती है। यह नीति शालेय शिक्षा को मातृभाषा और प्रादेशिक भाषाओ में देने की बात करके बच्चों के दिमाग पर पड़ने बोझ को समाप्त की है। यह बच्चों के विकास में काफी सहायक होगी। यह नीति उच्च शिक्षा को व्यवहारिक बनाने पर भी जोड़ दे रही है।अलग अलग संकायों में बटी पालिशी की जगह पाठ्यक्रम से बाहर हर रुचिकर ज्ञान और कौशल को सीखना है शिक्षा का असली उद्देश्य होता है। नई शिक्षा नीति इस उद्देश्य को प्राप्त करने की दिशा में बढ़ती दिख रही है। अब तक बीएससी या बीकाम करने वाला विद्यार्थी संगीतज्ञ या चित्रकार बनना चाहता है तो उसे इसकी इजाजत उसका पाठ्यक्रम नहीं देती थी।

कोई खेल में करियर बनाना चाहता है तो उसे अलग से बी पी एड की पढ़ाई करनी होती तब तक उस बेचारे खिलाड़ी की उम्र ही समाप्त हो जाती है। नई शिक्षा नीति में बहु विषयक पढ़ाई की बात करके इसे समाप्त कर दिया गया। जो विद्यार्थी 1 साल 2 साल पढ़ाई करके किसी कारणवश पढ़ाई छोड़ देते हैं उसका समय और पैसा सब चला जाता था। नई शिक्षा नीति में इस पर ध्यान देते हुए डिप्लोमा सर्टिफिकेट और डिग्री में बाँटा है जो उसकी आजादी और अधिकार की बेहतरीन गारंटी देता है या नई नीति लर्निंग आउटपुट के संपूर्ण विकास की बात करती है।

अर्ली चाइल्डहुड केयर एजुकेशन को सरकार शिक्षा के बुनियादी बदलाव को सशक्त बनाना चाहती छठी कक्षा से वोकेशनल स्किल को जोड़ने का प्रधान कौशल को सुनिश्चित करती है। उच्च शिक्षा को शोध एवं विकास उन्मुख बनाने के लिए नई नीति में जो प्रधान है उससे भारत की प्रतिभा निखरेगी। अर्थात इस शिक्षा से भारत को महाशक्ति बनने की प्रबल इच्छा शक्ति को उद्घघाटित करती है नई शिक्षा नीति का हृदय से स्वागत है यह शिक्षा नीति निश्चित ही देश के युवाओं के भविष्य सुधरेगी एवं उज्जवल बनाएगी।

मुंशी प्रेमचंद्र की जयंती पर कार्यक्रम का आयोजन

सारण : भारत स्काउट गाइड सारण के गड़खा इकाई के बलीराम सिंह शालिग्राम सिंह ओपेन स्काउट ट्रूप बसंत के स्काउट मास्टर आशीष रंजन के नेतृत्व में महान साहित्यकार मुंशी प्रेम चंद्र के जयन्ती पर कार्यक्रम आयोजित किया गया।

भारत स्काउट और गाइड सारण के जिला संगठन आयुक्त आलोक रंजन के निर्देशानुसार इस कार्यक्रम को किया गया,जिन्होंने कार्यक्रम में वर्चुअल रूप से जुड़ते हुए कहा कि बसंत के इस क्रियाशील यूनिट के द्वारा किये जा रहे लगातार कार्यक्रम कोरोना काल मे स्काउट के लिए ऊर्जा प्रदान कर रहा है जो अत्यंत ही सराहनीय है एवम हमे गौरववान्वित महसूस करा रहे है।

मुंशी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि हिंदी साहित्य के महान शिल्पकार जिनकी कहानियों को प्रत्येक हिंदी भाषी ही नही साहित्य की विधा में रुचि रखने वाले सभी पढ़ना पसन्द करते है ऐसे सम्राट मुंशी प्रेमचंद जी की जयंती पर शत शत नमन । मुंशी जी के द्वारा लिखी गई पहले के समय की कहानियां आज भी पूर्ण प्रासंगिक और ज्ञानवर्धक है जिस पर हमें गर्व महसूस होता है सामाजिक और परिस्थियों पर अपनी कलम की ताकत से जबाब देती हुई कहानियां हमारे लिए प्रेरक भी हैं।

वही जिले के सक्रिय स्काउट शिक्षक में एक ज्योति भूषण सिंह ने वर्चुअल रूप से जुड़ते हुए कहा कि साहित्य के द्वारा समाज में प्रेम और भाईचारे का संदेश देने वाले कलम के अद्भुत सिपाही, महान उपन्यासकार ‘मुंशी प्रेमचंद जी’ की जयंती पर उन्हें मेरा सादर नमन। आपके द्वारा लिखे गोदान, गबन, रंगभूमि जैसे उपन्यास आज भी युवाओं को मानवीयता और राष्ट्रभक्ति का पाठ सिखाते हैं। कार्यक्रम में मुख्य रूप से मौजूद राजू कुमार ठाकुर , विशाल कुमार, बिट्टू कुमार , चंदन कुमार, दीपक कुमार, सोनू कुमार, व आदित्य नारायण सिंह सहित कई एक गणमान्य लोग भी उपस्थित हुए । कार्यक्रम को धन्यवाद ज्ञापन देते हुए आशीष रंजन ने कहा कि इस कार्यक्रम में आये सभी स्काउट्स व वर्चुअल रूप से जुड़े जिले के अन्य पदाधिकारियों का आभार व धन्यवाद ज्ञापित किया।

मशहूर चिकित्सक डॉ चंदन लाल मेहता जदयू में हुए शामिल

सारण : सोनपुर अंतर्गत नया गाव के चर्चित चिकित्सक डॉ चन्दन लाल मेहता ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के विकास कार्यो नीतियों तथा बिहार के सर्वांगीण विकास को देखते जदयू की सदस्यता ग्रहण कर लिया है। जहां जिलाध्यक्ष अल्ताफ आलम राजू ने सदस्यता दिलाते बताया कि डॉ चन्दन लाल मेहता सोनपुर क्षेत्र के नया गाव में खुशी किलनिक के संचालक है जिनकी समाजसेवा से इलाके के हजारों चाहने वाले समर्थक है कुशल समाज सेवी है।इनके पार्टी में जुड़ने से पार्टी का जनाधार सोनपुर क्षेत्र में मजबूत होगा।

वही श्री मेहता ने बताया कि नीतीश सरकार ने बिहार के सर्वांगीण विकास के साथ हर वर्ग हर समाज का जति से ऊपर उठ कर विकास किया है।आगामी चुनाव में बिहार में पुनः एनडीए की सरकार बनेगी।हम नीतीश कुमार के कार्यशैली से प्रभावित होकर पार्टी में योगदान देने का निर्णय लिया है।वही उनके हजारो समर्थक जद यू की सदस्यता ग्रहण करने पर खुशी जाहिर किया है। मौके पर राज्य परिषद सदस्य आनंद किशोर सिंहभी सामिल रहे।

इनरव्हील क्लब ने ऑक्सीज़न गैस सिलेंडर कराया उपलब्ध

सारण : कोरोना महामारी को देखते हुऐ अंतरराष्ट्रीय महिला संगठन इनरव्हील क्लब सारण की संस्थापक अध्यक्ष अनु जायसवाल के प्रयास से एक ऑक्सीज़न गैस सिलेंडर औक्सी सेट के साथ उपलब्ध किया गया। जिसे आज क्लब कि वर्तमान अध्यक्ष रूपा गुप्ता एवं कोषाध्यक्ष तनु जायसवाल को सौपा गया ।

इस अवसर पर अनु जायसवाल ने ने बताया कि जिस प्रकार अभी कोरोना संक्रमण के मरीजो की संख्या बढ़ रही है और कुछ मरीजो को सांस लेने मे तकलीफ होती है जिससे उन्हे ऑक्सीज़न की आवश्यकता पड़ती है । क्लब की अध्यक्ष रूपा गुप्ता ने जानकारी दी की इसका संचालन रोटरी सारण और इनरव्हील सारण के द्वारा उचित सुविधा शुल्क ले कर किया जाएगा । और जानकारी दी की वैसे कोरोना मरीज जो गरीब और असहाय उन्हे ऑक्सीज़न गैस सिलेंडर की सेवा निःशुल्क दिया जाएगा ।

swatva

Leave a Reply