इंडिया टुडे ग्रुप के सर्वे में राजेन्द्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय को मिला दसवां स्थान

0

समस्तीपुर : डॉ. राजेन्द्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय, पूसा, समस्तीपुर के कुलपति डॉ. रमेश चंद्र श्रीवास्तव के नेतृत्व में विश्वविद्यालय ने एक और गौरव हासिल किया है। इंडिया टुडे ग्रुप के देश के सभी विश्वविद्यालयों के सर्वे की रैंकिंग में डॉ. राजेन्द्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय को सर्वोच्च दस विश्वविद्यालय में शामिल किया गया है।

इंडिया टुडे ग्रुप द्वारा किए गए सर्वे में विश्विद्यालय को विभिन्न मानकों पर 1587 अंक प्राप्त हुए जबकि टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज को 1588 अंक हासिल हुआ। एक अंक कम होने के कारण डॉ राजेन्द्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालयको दसवां रैंक मिला है जबकि टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज को नौवां स्थान मिला।

जानकारी हो कि डॉ. रमेश चंद्र श्रीवास्तव के कुलपति बनने के बाद से विश्वविद्यालय में अकादमिक, अनुसंधान, इंफ्रास्ट्रक्चर सहित अन्य श्रेणियों में तेजी से प्रगति हुई है। पिछले तीन वर्षों से लगातार हो रही प्रगति के कारण हीं विश्वविद्यालय ने देश के सर्वोच्च दस विश्वविद्यालयों में स्थान प्राप्त किया है।

वहीं कुलपति डॉ. श्रीवास्तव ने कहा कि विश्वविद्यालय कि इस उपलब्धि को देखकर अत्यंत हर्ष हो रहा है। इस उपलब्धि का श्रेय विश्वविद्यालय के सभी शिक्षकों, कर्मचारियों तथा छात्रों को जाता है जिन्होंने मेरे योजनाओं को मूर्त रूप देने में भरपूर सहयोग किया।

हर मानक पर देश तथा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सर्वोच्च स्थान प्राप्त करना सपना

कुलपति ने टीम वर्क की सराहना की तथा भविष्य में और अधिक करने की सलाह दी है। उन्होंने बताया कि उनका सपना है कि यह विश्वविद्यालय हर मानक पर देश तथा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सर्वोच्च स्थान प्राप्त करे। विश्वविद्यालय को इंफ्रास्ट्रक्चर और लिविंग एक्सपीरिएंस के मानक में कुल 175 में 133.7 अंक मिले हैं। इसी तरह कैरियर प्रोग्रेशन एवं प्लेसमेंट में भी विश्वविद्यालय को अधिक अंक मिला है।

विश्विद्यालय लगातार प्रगति के पथ पर अग्रसर

डॉ. श्रीवास्तव ने कहा कि विश्विद्यालय लगातार प्रगति के पथ पर अग्रसर है और भारत के यशश्वी प्रधानमंत्री माननीय नरेन्द्र मोदी के सपनों को साकार करने के लिए लगातार अथक परिश्रम कर रहा है। विश्वविद्यालय किसानों की आय बढ़ाने के लिए विभिन्न योजनाओं पर काम कर रहा है और उसमें सफलता भी मिल रही है। कोविड के दौर में प्रवासी श्रमिकों को रोज़गार उपलब्ध कराने के लिए प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है। डॉ. श्रीवास्तव ने विश्वविद्यालय के सभी लोगों को बधाई दी और कहा कि हमें इतने में ही संतुष्ट नहीं होना है तथा लगातार कर्मपथ पर अग्रसर रहना है।

swatva

Leave a Reply