शोध से समाज को समाधान दें युवा : नागेंद्रजी

0

विवेकानंद की जयंती पर एएन कॉलेज में समारोह

पटना के एएन कॉलेज में स्वामी विवेकानंद की 157 वीं जयंती समारोह में सोमवार को सामाजिक चिंतक व भारतीय जनता पार्टी के संगठन मंत्री नागेन्द्र जी ने कहा कि युवा किसी सामाजिक समस्या पर चिंतन व शोध कर उसका समाधान निकालना अपने जीवन का लक्ष्य बनाएं। वर्तमान समय में युवा संन्यासी व राष्ट्र नायक विवेकानंद के प्रति यही श्रद्धांजलि होगी।

समारोह के मुख्य अतिथि के रूप में उन्होंने कहा कि युवावस्था की दहलीज पर खड़ा तरूण अपने जीवन का लक्ष्य तय कर उसे पूरा करने का संकल्प ले और उस पर दृढ रहते हुए उस दिशा में प्रयास करे तो वह उसे प्राप्त कर सकता है। दृढ़ संकल्प के बल पर भारत के कई युवाओं ने असंभव को संभव बनाने का चमत्कार कर दिखाया है। उन्होंने कहा कि अपनी विकास की गति तेज करने के लिए के लिए भारत को सुपर कंप्यूटर की आवश्यकता थी। लेकिन, अमेरिका ने भारत को वह कंप्यूटर देने से इनकार कर दिया था। इस समस्या को भारत के आईआईटी के एक छात्र भाटकर ने चुनौती के रूप में लिया और अमेरिका से ज्यादा क्षमता वाले सुपर कंप्यूटर 1000 का निर्माण कर दिया।

इसी प्रकार एक नाई को विमान दुर्घटना के कारण आग से लोगों के मरने की बाद उसे अंदर से दुखी कर दिया। उसने आग से बचाने वाले तत्व की खोज शुरू की और अंततः वह उसमें सफल रहा। उन्होंने कहा कि विवेकानंद ने भारत की युवाशक्ति को नवाचार के लिए प्रेरित किया है। भौतिक समस्या के साथ ही सामाजिक समस्याएं भी हमारे शोध के विषय हो सकती है। बइलते जमाने में संसाधन संपन्न माता-पिता एकाकी जीवन जीने को अभिशप्त है। अपना सर्वस्व लगाकर अपने जिन बच्चों को पढ़ाया-लिखाया वे आज उनसे दूर देश या विदेश में काम कर रहे हैं। आज के युवा इस संवेदनशील एवं आवश्यक विषय पर शोध कर उसका समाधान ढूंढ सकते हैं। उन्होंने जैविक खेती का क्रांतिकारी मॉडल देने वाले सुभाष पालेकर एवं भारत के शोध व इतिहास बोध को नई दृष्टि देने वाले चिंतक धर्मपाल जी के बारे में भी विस्तार से बताया।

समारोह की अध्यक्षता करते हुए एएन कॉलेज के प्राचार्य डा. एसपी शाही ने कहा कि उनके कालेज की ओर से राष्ट्र नायक विवेकानंद की जयंती पर प्रति वर्ष समारोह का आयोजन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि शिक्षकों एवं छात्रों के रचनात्मक सहयोग एवं सरकार के विशेष सहयोग से बिहार का यह कॉलेज लगातार नैक से ग्रेड ए ’ प्राप्त कर रहा है। उन्होंने कहा कि इस कॉलेज में अध्ययन व अध्यापन के अत्याधुनिक संसाधन व सुविधाएं उपलब्ध है।

अतिथियों का स्वागत पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय के एनएसएस समन्वयक व कॉलेज की शिक्षिका रत्ना अमृत ने अतिथियों का स्वागत किया। वहीं कार्यक्रम का संचालन करते हुए डा. कलानाथ मिश्र ने स्वामी विवेकानंद के जीवन के विविध संदर्भों की प्रासंगिकता पर प्रकाश डाला। दर्शन शास्त्र के अध्यक्ष प्रो. शैलेन्द्र ने धन्यवाद ज्ञापन किया। इस अवसर पर कालेज के वरसर प्रो. अजय कुमार भी मंच पर उपस्थित थे। समारोह में उपस्थ्ति जगन्नाथ गुप्ता, डा. विनोद शर्मा, अरविंद सिंह एवं विकास को भी सम्मानित किया गया। इस अवसर पर एक आयोजित लेख प्रतियोगिता के अव्वल दस छात्र-छात्राओं को भी प्रमाणपत्र देकर पुरस्कृत किया गया।

Leave a Reply