क्या है धमकी, अल्टीमेटम और चिरौरी का उपेंद्र थ्रीलर? पढ़ें रिपोर्ट

0

पटना : रालोसपा अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा ने सम्मानजनक सीट बंटवारे के लिए भाजपा के शीर्ष नेतृत्व को 30 नवंबर तक की डेडलाइन देते हुए आज कहा कि यदि ऐसा नहीं हुआ तो यह स्पष्ट हो जाएगा कि भाजपा उनकी पार्टी से आगे गठबंधन बनाये रखने पर गंभीर नहीं है। पटना में चल रही रालोसपा की राज्य कार्यकारिणी की बैठक के बाद बंद कमरे में उपेंद्र कुशवाहा ने कोर कमिटी की सदस्यों से बात की और उसके बाद भाजपा को 30 नवम्बर तक का अल्टीमेटम दिया है और कहा है कि उसके बाद पार्टी फैसला लेने के लिए स्वतंत्र होगी। इस तरह उन्होंने एेलान किया है कि अभी 30 नवंबर तक वो एनडीए में बने रहेंगे।

नीतीश कुमार पर लगाया साजिश करने का आरोप

बैठक के बाद प्रेस कांफ्रेंस में उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार की भरसक कोशिश है कि मेरी पार्टी खत्म हो जाए। नीतीश कुमार हमारी पार्टी को बर्बाद करने में लगे हैं। उन्होंने अपने सांसद रामकुमार शर्मा को दिखाकर कहा कि ये तो हमारे साथ हैं। लेकिन, इसे लेकर क्या-क्या कहा जा रहा है?

कहा-अब सीट शेयरिंग के लिए पहल नहीं करूंगा

उन्होंने कहा कि भाजपा के शीर्ष नेतृत्व को दूसरों की बातों में नहीं आना चाहिए। मैं अब अपनी तरफ से सीट शेयरिंग के लिए कोई पहल नहीं करुंगा। कहा कि सीट शेयरिंग को लेकर मैं एकबार पीएम से बात करना चाहता हूं। कुशवाहा ने कहा कि मैं किसी भी पार्टी के किसी भी नेता से मिलने के लिए स्वतंत्र हूं, मैं किसी का गुलाम नहीं हूं। कुशवाहा ने कहा कि बिहार एनडीए में घटक दलों के बीच सीट बंटवारे को लेकर बातचीत अभी तक अधूरी है। रालोसपा के लिए लोकसभा की जितनी सीटों का प्रस्ताव भाजपा की ओर से दिया गया है उसे वह मंजूर नहीं। यह हाल के वर्षो में बिहार में पार्टी के बढ़े हुए जनाधार के भी अनुकूल नहीं है।

अब सिर्फ प्रधानमंत्री से करेंगे मुलाकात

उपेंद्र ने कहा कि उनकी ओर से भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से लगातार सीटों के बंटवारे को लेकर बातचीत का प्रयास किया गया। इसके बाद भी पार्टी को सम्मानजनक हिस्सा मिलने का काम अब भी अधूरा है। उन्होंने कहा कि राजग में शामिल घटक दलों के बीच सीट बंटावरे में किसी भी तरह की देरी होना अत्यंत ही नुकसानदेह साबित हो सकता है। अब वह सीटों के आवंटन को लेकर भाजपा के शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात नहीं करेंगे। सिर्फ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से बात करने का एक बार प्रयास करेंगे क्योंकि वह उनके मंत्रिमंडल में सदस्य हैं। हालांकि उन्होंने कहा कि भाजपा की ओर से यदि उन्हें बुलाया जाता है तो वह बात करने के लिए तैयार हैं। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से उन्होंने तीन बार मिलने की कोशिश की जो नहीं हो सकी।

29 नवंबर को ऊंच-नीच विरोध दिवस मनाएंगे

कुशवाहा ने कहा कि 29 नवंबर को ऊंच-नीच विरोध दिवस मनाएंगे। उन्होंने कहा कि बैठक में मुझे नीच शब्द कहे जाने पर चर्चा हुई और सबने इसपर आपत्ति जताई। बिहार में रालोसपा नेताओं की हत्या हो रही है। कानून व्यवस्था ध्वस्त हो गई है। शिक्षा का भी बुरा हाल है।

बैठक में नहीं पहुंचे दोनों रालोसपा विधायक

बैठक में रालोसपा के दोनों विधायक ललन पासवान और सुधांशु शेखर नहीं पहुंचे । ललन पासवान ने पार्टी अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि उपेन्द्र कुशवाहा महागठबंधन की बैठक’कर रहे हैं, असली रालोसपा हमलोग हैं। अब हममें से कोई भी उपेंद्र कुशवाहा के साथ नहीं है। सभी विधायक और सांसद उनसे अलग हो चुके हैं।

सांसद रामकुमार शर्मा ने कहा-एनडीए में रहेंगे

रालोसपा के एकमात्र सांसद रामकुमार शर्मा की राज्य कार्यकारिणी की बैठक में मौजूद रहे। बैठक से पहले् उन्होंने कहा कि हम एनडीए के साथ हैं और उपेंद्र कुशवाहा भी एनडीए का हिस्सा हैं। हमारी पीएम मोदी और अमित शाह से जल्द मुलाकात होगी।

swatva

Leave a Reply