खरना के साथ 36 घंटे का निर्जला महापर्व शुरू, पटना में सूर्यास्त सवा 5 बजे

0

पटना : लोकआस्था के महापर्व छठ व्रत के दूसरे दिन आज शाम खरना की पूजा के साथ ही 36 घंटे का निर्जला उपवास शुरू हो गया। शुक्रवार को खरना के लिए व्रतियों ने सुबह से उपवास के बाद शाम में गेहूं के आटे की रोटी, गुड़़-चावल और दूध से बनी खीर के साथ फल-फूल, मिठाई से खरना की पूजा की। पूजा के बाद प्रसाद ग्रहण करने के बाद 36 घंटे का निर्जला व्रत शुरू हो गया। कल शनिवार को डूबते सूर्य को प्रथम अर्ध पड़ेगा। राजधानी पटना में सूर्यास्त का समय शाम सवा पांच बजे बताया गया है।

इधर राजधानी पटना समेत समूचे बिहार में महापर्व छठ को लेकर प्रशासन ने तैयारी मुकम्मल कर ली। पटना में छठ व्रतियों के लिए 100 से ज्यादा घाट बनाए गए जिन्हें प्रशासन ने पूरी तरह सुरक्षित घोषित किया है। इसके साथ ही प्रशासन ने पटना के 25 घाटों पर लोगों को नहीं जाने को कहा है।

ये 25 घाट घोषित किये गए असुरक्षित

पटना के 25 घाटों को असुरक्षित घोषित किया गया है। इन 25 घाटों पर दलदल जैसे हालात हैं। इसलिए इनको असुरक्षित घाटों की श्रेणी में रखा गया है। असुरक्षित घोषित घाटों में बुद्ध घाट, अदालत घाट, मिश्री घाट, टीएम बनर्जी घाट, जजेला घाट, जहाज घाट, सिपाही घाट, बीएन कॉलेज घाट, बांकीपुर घाट, खाजेकलां, पत्थर घाट, अदरक घाट, गरेरिया घाट, पिरदमड़िया, नंदगोला, बुन्देला टोली घाट और दमराही घाट शामिल हैं।

Leave a Reply