जहां-जहां चुनाव लड़ेगा लालू कुनबा, NDA ऐश्वर्या के लिए मांगेगा इंसाफ

0

पटना : इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए एनडीए ने पुख्ता किलेबंदी कर ली है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस बार मुख्य विपक्षी दल राजद को डील करने की खास रणनीति पर भाजपा और जदयू काम कर रहे हैं। इसके तहत लालू और उनके ​पूरे कुनबे को विधानसभा के चुनावी चक्रब्यूह में घेरने पर अमल भी शुरू हो गया है। नपी—तुली रणनीति के तहत जहां भाजपा—जदयू ने लालू फैमिली के एक—एक मेंबर, जो चुनावी दंगल में उतरेगा, उसके खिलाफ उन्हीं की बहू ऐश्वर्या के ​जरिये ‘यादव जनमानस’ को झकझोरा जाएगा, वहीं जदयू लालू के ‘माय’ में से M समीकरण पर फोकस कर रहा है।

चंद्रिका राय, ऐश्वर्या व अन्य परिजनों को उतारेगा एनडीए

प्राप्त जानकारी के अनुसार राजद के खिलाफ एनडीए की पुख्ता तैयारियों में इस बार के चुनाव में ‘यादव जनमानस’ से लालू की बहू ऐश्वर्या के लिए जनता से न्याय मांगने की रणनीति बनी है। अंदरखाने से जो खबर मिली है उसके अनुसार चुनाव में उतरने वाले लालू फैमिली के एक—एक मेंबर के खिलाफ लालू के समधी चंद्रिका राय, बहू ऐश्वर्या और अन्य परिजनों को मैदान में उतारा जाएगा। इसके लिए जातीय समीकरणों के तहत जीत पक्की करने के लिए एनडीए के जिस भी दल के अनुकूल माहौल होगा, उसी दल से इन्हें टिकट दिया जाएगा। साफ है कि चंद्रिका राय और ऐश्वर्या को भाजपा या जदयू, किसी भी पार्टी के टिकट पर उतारने की तैयारी है।

लालू के ‘माय’ समीकरण से ही तेजस्वी को घेरने की तैयारी

ये तो हुई लालू के विजयी फॉर्मूले, MY में से Y को साधने की स्कीम। अब बात करते हैं मुस्लिम कार्ड की। तो इसके लिए जदयू ने जबर्दस्त तैयारी की है। इस समीकरण में सेंध लगाने के लिए जेडीयू ने लालू यादव के गांव फुलवरिया को ही चुना है। यही नहीं, इसके लिए पार्टी ने शुरुआत भी कर दी है जिसके तहत जदयू अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष तनवीर अख़्तर की अगुवाई में पार्टी के कई मुस्लिम नेता और कार्यकर्ता 29 जून को फुलवारिया पहुंच रहे हैं। वे वहां के मुस्लिम समाज को बताएंगे कि लालू-राबड़ी राज के 15 साल में मुस्लिम समाज के लिए हुए काम और नीतीश राज के 15 साल में मुस्लिम समाज के विकास कार्यों की तुलनात्मक रिपोर्ट रखेंगे

लालू के गांव फुलवरिया से M के लिए सघन अभियान

दरअसल ऐश्वर्या और मुस्लिम कार्ड के जरिये एनडीए लालू और उनकी पार्टी राजद को उनके ही चुनावी समीकरण के जाल में फांसना चाह रहा है। जदयू अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष तनवीर अख़्तर के अनुसार लालू यादव और उनकी पार्टी ये दावा करती है कि उनके राज में मुस्लिम समाज के विकास के लिए बहुत कुछ किया गया था। लेकिन सच्चाई सिर्फ ये है कि 15 साल में मुस्लिम समाज के विकास की जगह उन्हें लालू ने सिर्फ वोट बैंक समझा। लालू के यादव और मुस्लिम समाज के प्रति इसी प्रकार की सच्चाइयों को आगामी चुनाव में हथियार बनाया जाएगा।

जदयू फुलवरिया से मुस्लिम समुदाय में जो मुहिम शुरू कर रहा है उसे अन्य सभी जिलों में ले जाया जाएगा। इसमें लालू की सच्चई बताने के अलावा यह भी समझाया जाएगा कि बीजेपी के साथ रहते हुए भी मुस्लिम समाज के विकास के लिए नीतीश कुमार ने कितने काम किए हैं। इसमें भाजपा के स्थानीय अल्पसंख्यक कार्यकर्ता भी जदयू को पूरा सपोर्ट करने वाले हैं।

swatva

Leave a Reply