दानापुर में वैकल्पिक रास्ते पर सरकार कर रही विमर्श

0

अपर मुख्य सचिव से मिला ग्रामीणों का प्रतिनिधिमंडल, बंद रास्ते को खुलवाने एवं वैकल्पिक रास्ते की माँगों का ज्ञापन सौंपा

पटना: दानापुर में सेना द्वारा जबरन बंद किए जाने पर आज छात्रों एवं ग्रामीणों का तीन सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव आमिर सुबहानी से मिला।

प्रतिनिधिमंडल में शामिल लोगों ने अपर मुख्य सचिव से कहा कि सेना द्वारा चार माह पूर्व जबरन लोदीपुर-चांदमारी रास्ते को बंद करने से एनएच 30 से मात्र 300 मीटर का रास्ता को 6 से 8 किलोमीटर में तय करने को विवशता है।इससे 22 गाँवों के 15 हजार लोग प्रभावित हैं। बहुत विद्यार्थियों की पढ़ाई छूटने के कगार पर है।

कई लोगों के ससमय इलाज नहीं मिलने के कारण जान चली गई। वहीं चांदमारी गाँव में हीं डीपीएस स्कूल भी है।

अभी स्कूल बंद है। स्कूल खुलने पर 3000 बच्चों एवं उनके अभिभावकों को भी परेशानी होती। छात्रों एवं ग्रामीणों के प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि सेना द्वारा अक्सर उस इलाके के कई रास्ते को पूर्व में भी बंद किया गया है।

इसका स्थायी समाधान एनएच 30 से जोड़ते हुए शाहपुर-दानापुर वैकल्पिक मार्ग बनाकर किया जा सकता है। इससे इस इलाके के सभी रास्तों की समस्याओं का समाधान एक साथ हो सकता है।

लगभग 20 मिनट चली वार्ता में अपर मुख्य सचिव आमिर सुबहानी ने वैकल्पिक मार्ग के लिए पथ निर्माण विभाग को आवश्यक दिशा-निर्देश देने का भरोसा दिलाया। उन्होंने कहा कि वे पहले भी इस मामले पर आवश्यक पहल किए हैं और आगे भी जरूरी कदम उठाएंगे।

आमिर सुबहानी पुराने सचिवालय स्थित सामान्य प्रशासन विभाग के अपने कार्यालय में लोगों के प्रतिनिधिमंडल से वार्ता कर रहे थे।

इस दौरान लोगों ने वैशाली जिले के देसरी अंचल निरीक्षक कार्यालय को 12 किलोमीटर दूर महनार या देसरी से ही चलाए जाने का ज्ञापन भी दिया। जिस पर अपर मुख्य सचिव ने आवश्यक कदम उठाने की बात कही।

swatva

Leave a Reply