पुल निर्माण कंपनी के बेस कैंप पर हमले को लेकर एसआइटी गठित, आठ हिरासत में

0

नवादा : जिले के उग्रवाद प्रभावित गोविन्दपुर प्रखंड क्षेत्र के सकरी नदी पर बकसौती के पास पुल निर्माण करा रही आरएएस कंपनी के बेस कैंप पर रविवार की रात हुए हमले में शामिल अपराधियों को दबोचने के लिए एसआइटी का गठन किया गया है। एसपी हरि प्रसाथ एस द्वारा स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (एसआइटी) का गठन किया गया है।

टीम में एएसपी अभियान कुमार आलोक, रजौली एसडीपीओ संजय कुमार, गोविदपुर थानाध्यक्ष डॉ. नरेंद्र प्रसाद व डीआइयू टीम को भी इसमें शामिल किया गया है। वहीं पुलिस इस घटना में शामिल बदमाशों को पकड़ने के लिए लगातार छापेमारी कर रही है। अबतक आठ को हिरासत में लिया गया है। जिससे पूछताछ की जा रही है।

मैनेजर ने दर्ज कराई प्राथमिकी

घटना की प्राथमिकी थाने में गोविंदपुर थाने में दर्ज कराई गई है। थानाध्यक्ष डॉ. नरेंद्र ने बताया कि कंपनी के मैनेजर संजय कुमार द्वारा प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। जिसका कांड संख्या 02/2020 है। जिसमें मो. चांद सहित करीब 15 को आरोपित किया गया है। चांद बकासौती बाजार का निवासी बताया जा रहा है। इसी को घटना का किंगपीन माना जा रहा है।

वारदात में शामिल बदमाशों को पकड़ने के लिए उनके कई संभावित ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है। वहीं एसपी ने पूर्व में ही इस घटना में नक्सलियों के हाथ होने से इंकार किया है। उनकी मानें तो इसके पीछे स्थानीय गिरोह का हाथ है। अभी तक आठ लोगों को हिरासत में लिया गया है।

सूत्रों की मानें तो बकसौती से छह, नरहट से एक और नवादा से एक व्यक्ति को हिरासत में लेकर पुलिस पूछताछ कर रही है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक हिरासत में लिए गए लोगों का पूर्व का आपराधिक इतिहास रहा है। हालांकि इन लोगों के बारे में पुलिस कुछ भी बताने से परहेज कर रही है।

क्या है पूरा मामला

रविवार की रात करीब तीन दर्जन हथियारबंद बदमाशों ने बेस कैंप में घुसकर वहां सो रहे मजदूरों को बंधक बना मारपीट किया था।  सूरज, जसराज, प्रमोद पासवान, राकेश, दीनदयाल यादव, दिनेश सहित वहां मौजूद 17 मजदूरों के कपड़े उतार हाथ-पैर बांध हमलावरों ने उन्हें बुरी तरह पीटा था। 17 मोबाइल व 80 हजार रुपये लूट लिए थे। साथ ही बेस कैंप में खड़ी एक जेसीबी और बोलेरो पिकअप वाहन को आग के हवाले कर दिया था। इसके बाद सभी डेलहुआ पहाड़ी की ओर भाग गए थे। जाते-जाते दहशत फैलाने के लिए दो राउंड हवाई फायरिग भी किया था।

ग्रामीणों की इच्छा जल्द बने पुल

बकसौती से महेशपुर जाने के रास्ते में पुल निर्माण कार्य कराया जा रहा है। ग्रामीण इस घटना के बाद खासे परेशान हैं। उन्हें डर है कि कहीं पुल का निर्माण बंद न हो जाए। दशकों की मांग पुरी हुई है। पुल का निर्माण हो जाने से दो प्रखंडों गोविदपुर व रोह आपस में जुड़ जाएंगे। लंबे अरसे से ग्रामीणों की पुल बनाने की मांग रही है।

फिलहाल काम बंद होने से महेशपुर सहित आसपास के कई गांवों के ग्रामीण निराश हैं। वैसे बेस कैंप पर पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। प्रशासन का दावा है कि जल्द ही काम शुरू होगा। डर से अधिकांश मजदूर काम छोड़ लौट गए हैं। कुमार आलोक, एएसपी अभियान कहते हैं वारदात में शामिल बदमाशों को पुलिस जल्द गिरफ्तार कर लेगी। पुल निर्माण में किसी प्रकार का व्यवधान नहीं आने दिया जाएगा। वहां सुरक्षा बलों की तैनाती कर दी गई है।

swatva

Leave a Reply