नक्सली रडार पर​ बिहार का स्वर्ग ककोलत, केयरटेकर से मांगी लेवी

0

नवादा : माओवादियों की नजर नवादा जिले में स्थित और​ बिहार का कश्मीर कहे जाने वाले शीतल जलप्रपात ककोलत पर टेढी होनी शुरू हो गयी है। नक्सलियों ने वहां वन विभाग द्वारा कराये जा रहे विकास कार्यों के केयरटेकर से 5 लाख की लेवी मांगी है। निर्बाध विकास जारी रहने देने के लिए माओवादियों ने बतौर लेवी पांच लाख का भुगतान करने का फरमान जारी किया है। ऐसा न किये जाने पर उन्होंने अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहने की चेतावनी भी दी है। लेवी की मांग रविवार देर शाम केयरटेकर यमुना पासवान के भाई से की गयी है।

5 लाख नहीं देने पर अंजाम भुगतने की धमकी

बताया जाता है कि पन्द्रह की संख्या में रहे माओवादियों के दस्ते ने पहले तो केयरटेकर यमुना पासवान की खोज की। फिर उसके नहीं मिलने पर यमुना पासवान के भाई सुरेश पासवान से ककोलत जलप्रपात में स्नान के क्रम में संगठन के एक सदस्य की लाठी से की गई पिटाई पर आपत्ति व्यक्त करते हुए वन विभाग द्वारा कराये जा रहे कार्यों की एवज में पांच लाख रूपये की लेवी का भुगतान करने का फरमान जारी कर दिया। जब सुरेश पासवान ने माओवादियों से उक्त कार्य में उनके किसी तरह के मतलब के न रहने की बात बतायी तो नक्सलियों ने उससे कहा कि हमें सब पता है। तथा हमारी नज़र सब ओर है। आदेश का पालन नहीं किया तो अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहो।

केयरटेकर यमुना पासवान ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि फिलहाल मैं पटना में अपना इलाज करा रहा हूं। वहां पहुंचने पर स्थिति की जानकारी लेकर सूचना थाने को उपलब्ध करायी जाएगी। इस बाबत थानाध्यक्ष ज्योति पुंज ने बताया कि उङती खबर मिली है। अबतक किसी के द्वारा थाने को लिखित सूचना उपलब्ध नहीं करायी गयी है। फिलहाल ककोलत आने वाले सैलानियों की सुरक्षा कङी कर दी गयी है। पुलिस माओवादियों पर नजर रखने के साथ समय-समय पर एसएसबी जवानों के सहयोग से छापेमारी कर रही है। बता दें कि यह पहली घटना है जब ककोलत के केयरटेकर से माओवादियों ने लेवी की मांग की है। सूचना के बाद क्षेत्र के लोगों के बीच अज्ञात भय देखा जा रहा है।

Leave a Reply