23 जून : नवादा की मुख्य ख़बरें

0

बिहार अराजपत्रित प्रारंभिक शिक्षक संघ में फूट, कई पदाधिकारी प्राथमिक शिक्षक संघ में शामिल

नवादा : बिहार अराजपत्रित प्रारंभिक शिक्षक संघ जिला इकाई में बड़ी फूट हुई है। संघ के कई नेता जिला प्राथमिक शिक्षक संघ में शामिल हो गए हैं। जिला प्राथमिक शिक्षक संघ नवादा के कार्यालय में आयोजित समारोह में बिहार अराजपत्रित प्रारंभिक शिक्षक संघ के जिला उपाध्यक्ष पंकज कुमार, जिला संयुक्त सचिव अनुज कुमार सिंह एवं अकबरपुर प्रखंड अध्यक्ष नरेंद्र कुमार ने प्राथमिक शिक्षक संघ की सदस्यता ग्रहण की।

मिलन समारोह में जिलाध्यक्ष अशोक कुमार सिंह की मौजूदगी में प्राथमिक शिक्षक संघ में आस्था जताते हुए उक्त शिक्षक नेताओं ने सदस्यता ग्रहण की। मौके पर प्राथमिक शिक्षक संघ के प्रधान महासचिव ब्रजकिशोर प्रसाद सिंह, मगध प्रमंडल अध्यक्ष जयराम सिंह, जिला उपाध्यक्ष छोटे नारायण सिंह, कार्यालय सचिव डॉ रवि शंकर कुमार, जिला सचिव संजय पासवान, कृष्ण किशोर आदि शिक्षक नेता मौजूद थे।

swatva

संघ की सदस्यता लेने वालों का माला पहना कर मिठाई खिलाकर संगठन में स्वागत किया। अपना उद्गार व्यक्त करते हुए जिलाध्यक्ष अशोक कुमार सिंह ने कहा कि इन शिक्षक नेताओं के संगठन में आने से जिला प्राथमिक शिक्षक संघ और मजबूत होगा और शिक्षकों की समस्याओं का निदान तीव्रता से होगा।

दबंगो की दबंगई से मोहल्लेवासी परेशान

नवादा : नगर के बुन्देलखण्ड ओपी क्षेत्र में आम रास्ते पर दबंगो द्वारा दीवार खड़ी करने से दो पक्षों में तनाव उत्पन्न हो गया है। मोहल्लेवासीयों ने डीएम से रास्ता खुलवाने की गुहार लगायी है। नगर के पार नवादा स्थित गांधी नगर मोहल्लेवासी ने जिलाधिकारी उदिता सिंह को शिकायत पत्र पेश किया है. जिलाधिकारी को दिए गए शिकायत पत्र में मोहल्लेवासियो ने दबंग राजेश कुमार शर्मा पर आम रास्ता रोकने का आरोप लगाया है। 12 से अधिक महिला और पुरुषों ने कलेक्टर से आम रास्ता खुलवाने की मांग की है।

मोहल्लेवासियों ने बताया की यह आम रास्ता है जो लगभग 30 वर्षो से चला आ रहा है। दबंगों द्वारा रास्ते में दीवार खड़ी कर बंद कर दिया गया है। जिससे आवागमन का आम रास्ता बंद हो चुका है। मोहल्लेवासियों ने नगर थाना और बुंदेलखंड ओपी थाने की पुलिस को शिकायत पत्र देकर मामले से अवगत कराया था। लेकिन पुलिस ने ठोस कार्रवाई को अंजाम नहीं दिया। जिससे आरोपियों के हौसले बुलंद हैं।

भाजपाईयों ने मनाया मुखर्जी का बलिदान दिवस

नवादा : भारतीय जनता पार्टी जिला कार्यालय में जनसंघ के संस्थापक डॉक्टर श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पुण्यतिथि पर बलिदान दिवस के रूप में मनाया गया, कार्यक्रम की अध्यक्षता जिला अध्यक्ष संजय कुमार मुन्ना ने किया, सर्व प्रथम वन्देमारतम गीत गाकर कार्यक्रम प्रारम्भ किया गया , डॉक्टर श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी के चित्र पर उपस्थ सभी कार्यकर्ता पुष्पांजलि अर्पित किया और नारा लगाया डॉक्टर श्यामा प्रसाद मुखर्जी अमर रहें, भारत माता की जय, वंदेमातरम।

जिला अध्यक्ष संजय कुमार मुन्ना जी ने मुखर्जी जी का त्याग, तपस्या और बलिदान पर विस्तार से चर्चा किया, डॉक्टर विमल प्रसाद जी ने कहा कि जब तक सूरज चाँद रहेगा , डॉक्टर श्यामा प्रसाद मुखर्जी का नाम रहेगा।कार्यक्रम में जिला उपाध्यक्ष विजय पांडेय, सतीश सिन्हा, प्रताप रंजन, अरविन्द कुमार गुप्ता, रामदेव यादव, कोषाध्यक्ष जितेंद्र पासवान, सूर्यनारायण गुप्ता, प्रेमचंद पटियाला, राधेश्याम चौधरी, उपेंद्र चंद्रवंशी, विकास कुमार चिरंजीवी पांडेय, राजीव कुमार, अविनाश कुमार इत्यादि उपस्थित रहे।

धुमड़ा प्राथमिक विद्यालय के बच्चों को ट्रस्ट के लोगों ने उपलब्ध करायी पाठ्य सामग्री

नवादा : श्री राज कृष्णा एजुकेशनल एंड सोशल वेलफेयर ट्रस्ट के चेयरमैन एकलव्य कुमार ने सदर प्रखण्ड के भदोखरा पंचायत स्थित धुमड़ा गाँव के प्राथमिक विद्यालय में बच्चों के बीच पाठ्य सामग्री का वितरण किया। इसके पहले उन्होंने ज्ञानदीप जलाकर बच्चों को शिक्षा का दीप जलाये रखने का सन्देश दिया। बच्चे पाठ्य सामग्री पाकर काफी खुश हुए और विद्यालय में निरन्तर उपस्थित रहने का वचन दिया।

कार्यक्रम का संचालन करते हुए ट्रस्ट के अधिकारी शम्भू विश्वकर्मा ने बताया कि ट्रस्ट द्वारा विगत छह महीने से शिक्षा जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है जिसमें अभिभावकों शिक्षको और बच्चों के साथ संयुक्त मीटिंग कर सरकारी स्कूल में सुविधाएँ बहाल करने की कोशिश की जा रही है ।

इस बीच ट्रस्ट के द्वारा 26 विद्यालयों को चिन्हित कर वहां बेहतर पठन-पाठन की कोशिश की जा रही है । इसी कड़ी में चिन्हित सभी विद्यालयों के सौ प्रतिशत उपस्थित बच्चों को पाठ्य सामग्री दी जा रही है । आज धुमड़ा गाँव में कक्षा 1 से 5 तक के बच्चों को किताब, कॉपी, कलम, पेन्सिल, गणित टूल्स, बैग, चार्ट आदि चीजें दी गई ।

इसके पहले मोतनाजे, ओढ़नपुर, डीला इंग्लिश, फकीरा बेलदरिया, पहाड़पुर, स्टील नगर, अनुसूचित मध्य विद्यालय, शाहपुर आदि गाँवों में एमएलसी अशोक कुमार, विधायक विभा देवी एवं ट्रस्ट के चेयरमैन एकलव्य कुमार के कर कमलों से पाठ्य सामग्री वितरित की जा चुकी है। मौके पर दिनेश कुमार अकेला, नंदकिशोर बाजपेयी, शशिभूषण शर्मा, अनिल सिंह, छोटेलाल सिंह के अलावे विद्यालय के शिक्षक एवं ग्रामीण जनता शामिल थे।

जिले में तीन महीने नहीं खुलेंगे बालू घाट, बालू के दाम बढ़े, घर बनाना हुआ मुश्किल

नवादा : जिले में पिछले 6 महीने से चल रही बालू की किल्लत अभी जारी रहेगी। कम से कम 3 महीने तो बालू घाटों से उठाव नहीं होगा। फिलहाल पर्यावरणीय मंजूरी नहीं मिलने के चलते जिले भर के सभी बालू घाट बंद है लेकिन अगर अब पर्यावरणीय स्वीकृति मिल भी जाती है तब भी 3 महीने तक बालू उठाव नहीं हो पाएगा।

मानसून के शुरुआत के चलते आगामी 1 जुलाई से नदियों से बालू खनन पर प्रशासनिक तौर पर 3 महीने के लिए पाबंदी लग जाएगी। यह अगले 30 सितंबर तक जारी रहेगा। हर साल जब बालू घाट चालू होती थी तो इन 3 महीनों के लिए बालू डंप करके रखा जाता था लेकिन इस बार लंबे समय से बालू खनन बंद है तो ऐसे में एक छटाक बालू का स्टॉक मौजूद नहीं है।

अगल-बगल के जिले में थोड़ा-बहुत बालू स्टॉक हुआ है और वहां से बालू मिल सकता है। वहां से बालू तो मिलेगा लेकिन काफी महंगा मिलेगा। एक ट्रैक्टर के लिए 5000- 6000 से अधिक रुपए खर्च करने पड़ सकते हैं। आधिकारिक तौर पर भले ही घाट बंद हो लेकिन जिले में बड़े पैमाने पर अवैध खनन चालू है।

कैसे बनेगा प्रधानमंत्री आवास

जिले में करीब 77000 प्रधानमंत्री आवास स्वीकृत हुए हैं। हजारों लाभुकों को आवास बनाने के लिए पहली किस्त भेज जा चुकी है और इन्हें तय समय में बनना है। सवाल उठता है कि जब बालू घाट चालू नहीं है तो इन आवासों का निर्माण कैसे होगा ? प्रधानमंत्री आवास के लाभुक इतने संपन्न नहीं कि वे दूसरे जिले से 6 से 7 हजार रुपए प्रति ट्रैक्टर बालू खरीद सकें।

1000 करोड़ से अधिक का निर्माण कारोबार

बालू खनन भले ही 6 महीने से बंद है लेकिन जिले में निर्माण कार्य पहले की तरह ही चल रहे हैं। बंद पड़े बालू घाट को चालू कराने का कोई गंभीर प्रयास नहीं हो रहा लिहाजा बड़ा बालू संकट खड़ा हो गया है। ऐसे में निर्माण कार्य को चालू रखने के लिए लोग जैसे तैसे बालू जुटा रहे हैं। कुल मिलाकर बालू खनन बंद होने के बाद भी निर्माण सेक्टर में करीब 1000 करोड़ से ज्यादा का कारोबार हुआ है। ​​​​​​​

बालू खनन के लिए नई बंदोबस्ती की गई

बालू खनन के लिए नई बंदोबस्ती हो गई है लेकिन पर्यावरणीय स्वीकृति नहीं मिलने के चलते अब तक खनन शुरू नहीं हुआ है। अब मानसून के चलते जुलाई माह से 3 महीने तक बालू खनन की कोई उम्मीद नहीं है। ऐसे में बालू खनन कब शुरू होगा इसका कोई अता-पता नहीं है। ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि नवादा में बालू खनन के लिए पर्यावरणीय स्वीकृति (ईसी) का मॉडल बाकी जिलों से अलग है।

पहले रात में होता था खनन, अब दिनदहाड़े हो रहा खनन

आधिकारिक तौर पर सभी घाट बंद है लेकिन वास्तविकता में सारे घाट से बालू की चोरी हो रही है। कहीं रात के घुप अंधेरे में तो कहीं दिन के उजाले में बड़े-बड़े मशीनों से बालू का अवैध खनन हो रहा है। विभिन्न घाटों पर नदी में बने ताजे गड्ढे चीख चीख कर अवैध खनन का सबूत दे रहे हैं। इस क्रम में कई बार बालू खनन रोकने के चलते खनन विभाग और पुलिस पर हमला हो चुका है।​​​​​​​

डीएम से पथ निर्माण की ट्रस्ट के अधिकारियों ने की मांग

नवादा : जिलाधिकारी श्रीमती उदिता सिंह द्वारा सदर प्रखण्ड के भदोखरा पंचायत स्थित पहाड़पुर गाँव में जनकल्याणकारी योजनाओं का जायजा लिया गया जो स्वागतयोग्य है। पहाड़पुर एक दलित बस्ती है जहाँ सरकारी योजनाएं पहुँचती ही नहीं है और पहुँचती भी है तो शिक्षा और जागरूकता के आभाव में ग्रामीणों को लाभ से वंचित होना पड़ता है।

खासकर जनवितरण प्रणाली के लाभुक गाँव के प्रत्येक व्यक्ति को होना चाहिए किन्तु विभागीय उदासीनता के कारण अधिकतर लोगों का राशनकार्ड भी अपडेट नहीं है। इस गाँव में स्टील नगर के डीलर मनोज मांझी द्वारा राशन बांटा जाता है किन्तु उनकी दुकान अक्सर बन्द पायी जाती है। एमएलसी अशोक कुमार के प्रतिनिधि शम्भु विश्वकर्मा ने बताया कि माननीय विधायक विभा देवी ने स्वयं इस गांव का दौरा कर सरकारी योजनाओं का जायजा लिया था। जनवितरण में शिकायत पर विभागीय पत्राचार भी किया गया और डीलर मनोज मांझी पर कार्रवाई करने की अनुशंसा भी की गई थी। कैंसिल किये गए राशनकार्ड की छायाप्रति देकर कई लोगों का राशनकार्ड अपडेट भी कराया गया।

विगत 30 मई को नवादा डीएम की अध्यक्षता में अनुसूचित जाति अत्याचार निवारण अधिनियम के तहत जिला स्तरीय अनुश्रवण समिति की बैठक में विधायक विभा देवी एवं एमएलसी अशोक कुमार के प्रतिनिधि ने भदोखरा पंचायत के विभिन्न गाँवों का लिस्ट देकर कल्याणकारी योजनाएं चलाने की मांग की थी। डीएम उदिता सिंह ने इस गाँव का दौरा किया जिससे वहां के लोगों में भरोसा बढ़ा है। खासकर इस रूट के दर्जनभर गाँव के लोग आज भी पक्की सड़क नहीं देखें हैं।

गोनी, स्टीलनगर, पहाड़पुर, मोतनाजे, फकीरा बेलदरिया, पथरा, डीला इंग्लिश, सिंघौल, देवकी बिगहा आदि गाँवों को जोड़ने वाले संपर्क पथ आजादी के बाद से भी कच्चा ही है। माइंस स्टोन और खनन कंपनियां अपने माल ढुलाई के लिए सड़कों पर पत्थर और मेटल मोरम गिराकर काम चलाती है जबकि आम नागरिकों को नवादा बाजार आने जाने में पसीने छूट जाते हैं। श्री राज कृष्णा एजुकेशनल एंड सोशल वेलफेयर ट्रस्ट ने मांग की है कि इन सड़कों का पक्कीकरण हेतु आवश्यक कार्रवाई शुरू की जाय ताकि यहां के लोगों को आवागमन सुविधाजनक हो सके।

मशरूम प्रशिक्षण में शामिल प्रतिभागियों को दिया गया प्रमाण पत्र

नवादा : जिले केनारदीगंज प्रखंड के कहुआरा गांव स्थित जीविका कार्यालय शाखा में आयोजित आठ दिवसीय मशरूम प्रशिक्षण गुरुवार को सम्पन्न हो गया। प्रशिक्षण नावार्ड व लोक प्रभात के संयुक्त तत्वावधान में दिया गया। आयोजित प्रशिक्षण में जीविका से जुड़ी महिलाओं को मशरूम की खेती के बारें में आठ दिनों तक प्रशिक्षण देकर आत्मनिर्भर बनाने की जानकारी दी गई । प्रशिक्षण उपरांत पंजाब नेशनल बैंक, नारदीगंज के शाखा प्रबंधक शशि भूषण सिन्हा ने प्रशिक्षण में शामिल 30 प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र दिया।प्रशिक्षण व प्रमाण पत्र पाकर सभी प्रतिभागी जीविका दीदी गदगद हो गई।

कहा गया यह प्रशिक्षण आजीविका उधमिता विकास प्रशिक्षण के तहत किया जा रहा है।सचिव विजय कुमार सिंह ने कहा इस प्रशिक्षण का मुख्य उद्देश्य है कि जिस महिला के पास खेत नहीं है वह भी मशरूम की खेती कर सकती है। उन्होंने कहा 150 महिलाओं को प्रशिक्षण देना है,इसके लिए पांच चरण में 30-,30 महिलाओं का समूह बनाकर दिया जाएगा। प्रशिक्षण में एक चरण के 30 महिलाओं को मशरूम उत्पादन के बारें में प्रशिक्षण दिया गया है। इसके बाद दूसरे चरण में 30 महिलाओं को प्रशिक्षण दिया जाएगा।

मौके पर प्रशिक्षक प्रेम सागर ने विस्तार से मशरूम की खेती औऱ मुनाफा पर चर्चा कियु। उन्होंने कहा कम पूंजी में अधिक लागत का काम है,सालों भर मशरूम की खेती कर सकते है।इस दौरान सरपंच नागेन्द्र कुमार सिन्हा, प्रभारी प्रशिक्षक कौशिल्या देवी भी शामिल रहें ।इस मौके पर गीता देवी,अनिता देवी,प्रेमा सिन्हा, हीरा कुमारी,नीरू कुमारी,संगीता देवी समेत अन्य प्रशिक्षण प्राप्त प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र दिया गया ।

हाइवा ने तीन बाइक सवारों को कुचला, मौके पर मौत

नवादा : जिले में बड़ी सड़क हादसे की सूचना मिली है। जिले के सिरदला थाना क्षेत्र के कमल कुरहा गांव के समीप हाइवा की चपेट में आने से बाइक सवार तीन युवकों की मौत हो गयी। मृतकों की पहचान सिरदला थाना क्षेत्र के बड़हीबिगहा गांव के संदीप कुमार, भुइया टोली पचंबा के सोनू लाल और डेविड के रूप में हुई है। घटना की सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने हाइवा को कब्जे में लिया है।

जिले के नक्सल प्रभावित इलाका सिरदला थाना क्षेत्र के कमल कुरहा गांव में तेज रफ्तार हाइवा और बाइक के बीच टक्कर हो गयी जिसमें बाइक पर सवार तीन युवकों की दर्दनाक मौत हो गयी। घटना के बाद मृतक के परिजनों में कोहराम मच गया। घटना की सूचना मिलने पर पुलिस ने मौके पर पहुंच कर हाइवा को अपने कब्जे में ले लिया । पुलिस मामले की जांच में जुट गयी है। स्थानीय लोगों ने बताया कि इस रूट में ट्रक की काफी तेज रफ्तार रहती है। इसके कारण आए दिन लगातार दुर्घटना हो रही है।

समन्वय समिति की समीक्षा बैठक में कई अधिकारियों से स्पष्टीकरण

नवादा : उदिता सिंह जिला पदाधिकारी की अध्यक्षता में डीआरडीए सभागार में जिला स्तरीय समन्वय समिति की समीक्षात्मक बैठक हुई। बैठक में साक्षरता, मनरेगा, जीविका, राजस्व, लोक शिकायत, आईसीडीएस, आरटीपीएस, हर घर नल जल, आपूर्ति आदि विभागों की विस्तृत समीक्षात्मक बैठक हुई। बैठक में मनरेगा के तहत बनने वाले अमृत सरोवर योजना की प्रखंड वार समीक्षा की गई।

सभी प्रखंडों में 04 से 06 योजना ली गयी है जिसके तहत एक एकड़ से 05 एकड़ का अमृत सरोवर का निर्माण किया जाना है। अकबरपुर प्रखंड में कार्यक्रम पदाधिकारी के द्वारा बताया गया कि 06 योजना में से मात्र 02 योजना में कार्य प्रारम्भ हुआ है। जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त की और कहा कि एक सप्ताह के अन्दर सभी 06 योजना पर कार्य प्रारम्भ करना सुनिश्चित करें। कनीय अभियंता के कार्य कलाप पर असंतोष व्यक्त किया गया और स्पष्टीकरण पूछने का निर्देश दिया।

गोविन्दपुर प्रखं डमें 06 में 02 योजना पर, मेसकौर में 02 योजना पर, नारदीगंज में 04 में 01 योजना पर, नरहट में 04 में 01 योजना पर कार्य प्रारम्भ किया गया है जिसको जिलाधिकारी ने काफी गंभीरता से लिया है और संबंधित प्रखंडों के कार्यक्रम पदाधिकारी से डीडीसी को स्पष्टीकरण पूछने का निर्देश दिया गया है। सिरदला प्रखंड के कार्यक्रम पदाधिकारी ने बताया कि कनीय अभियंता के द्वारा कार्य प्रारम्भ नहीं किया गया है। जिलाधिकारी ने तत्काल कनीय अभियंता को चयनमुक्त करने का निर्देश उप विकास आयुक्त को दिये। जिलाधिकारी ने सभी कार्यक्रम पदाधिकारी को सख्त निर्देश दिये कि अमृत सरोवर योजना पर एक सप्ताह के अन्दर कार्य प्रारम्भ करना सुनिश्चित करें।

जिलाधिकारी के आदेश के आलोक में सभी प्रखंडों के एक-एक गाॅव का चयन किया गया है जिसमें सभी महिलाओं को साक्षर किया जायेगा। जिला शिक्षा पदाधिकारी ने बताया कि सभी 14 गाॅवों का चयन कर लिया गया है जहां 18 से 50 वर्ग के सभी महिलाओं को पूर्ण साक्षर किया जायेगा। सभी प्रखंडों में 50 से 80 महिलाओं का इस कार्य हेतु चयन किया गया है।

जिलाधिकारी ने स्पष्ट कहा कि इस कार्य में सभी जन प्रतिनिधियों को भी शामिल करें। सभी प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी प्रत्येक दिन साक्षरता केन्द्रों का निरीक्षण करना सुनिश्चित करें। सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी और प्रखंडों के वरीय पदाधिकारी को निर्देश दिया गया कि पूर्ण साक्षरता कार्यक्रम को सर्वोच्च प्राथमिकता दें और 15 अगस्त 2022 के पहले चयनित 14 प्रखंडों के 14 गांव का गाॅवों के महिलाओं को पूर्ण साक्षर कराना सुनिश्चित करें।

कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए उन्होंने सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी, प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी को निर्देश दिये कि शनिवार को सभी चयनित 14 गाॅवों में रात्रि चैपाल लगाना सुनिश्चित करें। 28 जून 2022 मंगलवार को चयनित गांवों में सभी जन प्रतिनिधियों यथा प्रमुख, मुखिया, पंचायत समिति, सरपंच आदि को इस कार्यक्रम में शामिल करें। अगले दिन उस क्षेत्र के सभी शिक्षकों के साथ भी एक आवश्यक बैठक करने का निर्देश दिया। उन्होंने स्पष्ट कहा कि उस पंचायत के सभी शिक्षकों को पूर्ण साक्षरता कार्यक्रम में शामिल करना सुनिष्चित करें।

इसके अलावे जीविका, आशा, एएनएम, सेविका आदि को भी इस कार्यक्रम में निर्धारित समय सीमा के अन्दर लक्ष्य प्राप्त करने के लिए सम्मिलित करें। चयनित गांवों में सभी महिलाओं को सरकार के विभिन्न प्रकार के कल्याणकारी योजनाओं से जोड़ने का भी निर्देश अधिकारियों को दिया गया। डीपीओ आईसीडीएस को कहा गया कि चयनित गांवों के सभी महिलाओं को एक बार फिर से सर्वे कराना सुनिश्चित करें जिससे कि कोई भी महिला निरक्षर नहीं रहे।

राजस्व विभाग के अन्तर्गत सभी अंचलाधिकारी के कार्य कलापों की समीक्षा की गयी। नारदीगंज, रोह और नरहट के अंचलाधिकारी के द्वारा ससमय म्यूटेशन नहीं करने के कारण चेतावनी दी गयी और कार्य कलाप में अपेक्षित सुधार लाने के लिए कई महत्वपूर्ण निर्देश दिये। नारदीगंज के अंचलाधिकारी को वेतन बंद करते हुए स्पष्टीकरण पूछने का निर्देश दिया गया।

लोक शिकायत निवारण अधिनियम की समीक्षा की गयी जिसमें प्रखंड विकास पदाधिकारी अकबरपुर, वारिसलीगंज एवं सिरदला को लगाये गए आर्थिक दण्ड को यथाशीघ्र जमा करने का निर्देश दिया गया। जिलाधिकारी ने स्पष्ट निर्देश दिया कि लोक शिकायत निवारण अधिनियम और आरटीपीएस सरकार की महत्वकांक्षी और जनप्रिय योजना है। सभी वादों/प्रमाण पत्रों को ससमय निवारण/बनाना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारी जनता के सेवक हैं, इसलिए जनता की सभी समस्याओं का समाधान करने के लिए कृत संकल्पित रहें। एक सप्ताह के अन्दर सभी लंबित म्यूटेशन को बनाने का निर्देश दिया गया।

भूअर्जन की समीक्षा की गयी जिसमें नवादा सदर, अकबरपुर और रजौली के अंचलाधिकारी को एनएच से संबंधित सभी जमीनी मामले को एलपीसी दो दिनों के अन्दर पूर्ण करने का निर्देश दिया। ठोस, तरल, अवशिष्ट पदार्थाें को निवारण करने के लिए गोविन्दपुर, नरहट आदि प्रखंडों में जमीन चिन्हित करते हुए एक सप्ताह के अन्दर कार्य प्रारम्भ करने का निर्देश दिया गया। इसके तहत डस्टविन, कार्ड आदि का क्रय करने का निर्देश दिया गया। डीपीएम जीविका के द्वारा बताया गया कि नीरा के उत्पादन में जिला का रैंकिंग छठा है।

कार्यपालक अभियंता पीएचईडी को निर्देश दिया गया कि काशीचक प्रखंड के पार्वती में नल जल योजना एक सप्ताह के अन्दर पूर्ण करना सुनिश्चित करें।जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि जिन वार्डों में पीएचईडी के द्वारा नल जल योजना का कार्य पूर्ण नहीं किया गया है, उसको एक सप्ताह के अन्दर पूर्ण करना सुनिश्चित करें। पिछले दिनों रोह प्रखंड में आकाशीय बिजली गिरने से मरने वाले व्यक्ति के निकटतम आश्रितों को आपदा के तहत 04 लाख रूपया 24 घंटे के अन्दर देना सुनिश्चित करें।

जिला स्तरीय अधिकारियों के द्वारा समग्र योजना जांच के समय आंगनबाड़ी केन्द्रों की भी जांच की गयी थी। जो केन्द्र बंद पाया गया था, संबंधित सेविका को चयनमुक्त करने का निर्देश दिया गया और संबंधित सीडीपीओ से स्पष्टीकरण पूछने के लिए कहा गया। जिलाधिकारी ने स्पष्ट कहा कि सभी सीडीपीओ कार्य कलाप में अपेक्षित सुधार लायें और सभी आंगनबाड़ी केन्द्रों को संचालित करना सुनिश्चित करें।

आंगनबाड़ी केन्द्रों के संचालन में किसी भी प्रकार की कोताही और लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। समाज कल्याण विभाग के द्वारा निर्धारित पोषाहार का मेनू और सभी सुविधाएं नामांकित 40 बच्चों को देना सुनिश्चित करें। जिले के संचालित आंगनबाड़ी केन्द्रों की स्थिति बेहद खराब है। डीपीओ और सीडीपीओ को चेतावनी दी गयी कि 15 दिनों के अन्दर सभी आंगनबाड़ी केन्द्रों के कार्यकलाप में अपेक्षित सुधार लाना सुनिश्चित करें अन्यथा संबंधित अधिकारियों पर विधि-सम्मत कार्रवाई तय है। समीक्षात्मक बैठक में श्री उज्जवल कुमार सिंह अपर समाहर्ता, मो0 नैय्यर एकबाल ,उप विकास आयुक्त, डाॅ0 कारी प्रसाद महतो डीपीजीआरओ, मो0 मुस्तकीम जिला भूअर्जन पदाधिकारी, श्री उमेश कुमार भारती अनुमंडल पदाधिकारी नवादा सदर, श्री आदित्य कुमार पियूष अनुमंडल पदाधिकारी रजौली, श्री सत्येन्द्र प्रसाद डीपीआरओ, मो0 जफर हसन डीसीएलआर रजौली, सभी वरीय उप समाहर्ता, अंचलाधिकारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी, सीडीपीओ के साथ-साथ जिला स्तरीय पदाधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply