10 जून : नवादा की मुख्य ख़बरें

0

नवादा कोर्ट में किशोरी ने रो-रोकर सुनाई आपबीती, कैसे चार दिनों तक बंधक बना जिस्‍म नोंचता रहा भेडि़या

नवादा : जिले के पकरीबरावां थाना क्षेत्र के एक गांव से तीन जून को 16 वर्षीया किशोरी को पिस्टल की नोंक पर अगवा कर लिया। फिर, उसे नवादा ले जाकर एक ठिकाने पर रखा और चार दिनों तक यौन शोषण किया। मामले की प्राथमिकी दर्ज होने की खबर के बाद पीडि़ता को छह जून का अपहर्ता ने नवादा स्टेशन पर छोड़ दिया। जानकारी के बाद पुलिस पीडि़ता को अभिरक्षा में लेकर चिकित्सीय जांच कराई। साथ ही उसका बयान कोर्ट में कलमबंद कराया है। आरोपित फरार चल रहा है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

पीडि़ता के अनुसार 3 जून की सुबह शौच के घर से निकली थी। रास्ते में ही गांव के नवल ठाकुर का पुत्र मोनू ठाकुर अपने एक साथी के साथ पिस्टल का भय दिखाकर बाइक से अगवा कर लिया। उसे नवादा के गोंदापुर गांव ले जाया गया। जहां एक घर में बंद कर 4 दिनों तक जबरन शारीरिक संबंध बनाता रहा।इस बीच प्राथमिकी दर्ज होने के बाद पुलिस द्वारा मामले की जांच शुरू की गई। तब 6 जून को नए नंबर से परिजन से बात करवाकर पीडि़ता को नवादा स्टेशन पर होने की सूचना दी। तब परिजन नवादा पहुंचकर बच्ची को बरामद कर पकरीबरावां थाना लेकर पहुंचे। पुलिस ने सात जून को मेडिकल करवाकर आठ जून को 164 का बयान के लिए उसे न्यायालय में उपस्थित कराया।

पीडि़त नाबालिग ने न्यायालय को बताया कि मोनू समेत दो लोगों ने मिलकर पिस्टल का भय दिखाकर बाइक पर बैठने के लिए मजबूर किया। उसे नवादा के गोंदापुर गांव अवस्थित मुसाफिर चौधरी के मकान के एक कमरे में बंद कर दिया गया था। मेरी देख-रेख में एक पूजा नाम की लड़की को लगा दिया था। मेरा मोबाइल को भी छीन लिया था। जब उसे पता चला कि मेरे पिता जी थाना में प्राथमिकी दर्ज करा दिए हैं और मैं नाबालिग हूं तब मोनू ने कहा कि शादी तो नहीं हो सकती है,परन्तु शारीरिक संबंध तो हो ही सकता है। वह मेरे साथ लगातार जबरदस्ती संबंध स्थापित करता और फिर वहां से चला जाता।

जाते-जाते पिस्टल को दिखाकर कहता कि इसकी किसी को भी जानकारी नहीं देना, और उस घर मे मौजूद पूजा के जिम्मे कर देता। 6 जून को वह एक नए सिम से पापा से बात करने को कहा कि मैं नवादा स्टेशन पर हूं, आकर हमें ले जाएं। इतना कहकर वह घर में रह रही पूजा नाम की लड़की को साथ कर दिया। घर से निकलने के पूर्व वह मेरे साथ फिर जबरदस्ती शारीरिक संबंध बनाया था। इस बाबत पकरीबरावां थानाध्यक्ष नागमणि भाष्कर ने बताया कि मेडिकल रिपोर्ट आते ही अभियुक्तों की गिरफ्तरी के लिए छापेमारी की जाएगी।किसी भी हाल में आरोपितों को बख्शा नहीं जाएगाा।

इंट्री माफिया अरूण रिमांड पर, एसपी ने की घंटों पूछताछ

नवादा : जिले के राजमार्ग संख्या 31पर रजौली थाना क्षेत्र के चितरकोली समेकित जांच चौकी से ओवरलोड गिट्टी लदे हाइवा ट्रक को जबरन छुड़ाने के मुख्य आरोपित अरुण विश्वकर्मा उर्फ अरूण मुखिया को पूछताछ के लिए पुलिस ने बुधवार को रिमांड पर लिया है। रिमांड पर लिए गए अरूण मुखिया से पुलिस राजमार्ग 31 पर ओवर लोड सहित आधा अधूरे कागजातों वाले वाहनों की इंट्री कराने के मामले में पूछताछ की जा रही है।

बुधवार को रिमांड पर लिए गए अरूण मुखिया से एसपी डीएसएस सावलाराम ने घंटों पूछताछ की। हालांकि इस मामले के लेकर पुलिस बहुत कुछ जानकारी देने से परहेज कर रही है। पूछताछ का बिदु क्या रहा, किसके-किसके नाम सामने आए आदि कयासों का दौर जारी है। इस बावत एसपी से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि केस के सुपरविजन को लेकर रजौली थाना पहुंची थी। इस मामले में अभी विशेष नहीं बताया जा सकता है। बताते चलें कि 4 जून की रात्रि समेकित जांच चौकी पर एसडीओ चंद्रशेखर आजाद के निर्देशानुसार ओवरलोड हाइवा परिवहन विभाग के गृह रक्षकों के द्वारा जब्त किया गया था।

तथाकथित मुखिया अरूण कुमार के द्वारा गृहरक्षक प्रमोद नारायण के साथ धक्का-मुक्की कर जबरन अपनी हाइवा को कैंपस से निकाल कर ले भागा गया था। जिसे बाद में रजौली पुलिस ने न्यू बाइपास में जप्त कर लिया गया था। उसके अगली रात को अरूण मुखिया को फरहा स्थित कार्यालय से देर रात गिरफ्तार कर लिया गया था। बाद में उसके कार्यालय से दंडाधिकारी की मौजूदगी में उसके कार्यालय में रखें कई इस्तेमाल होने वाले सामानों की भी जब्ती की गई थी।

छह आरोपियों को गिरफ्तार कर भेजा न्यायिक हिरासत में

नवादा : जिले के अकबरपुर पुलिस ने दो अलग-अलग गांवों में छापामारी कर छह आरोपियों को गिरफ्तार किया है । प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में कोरोना जांच के बाद सभी को न्यायिक हिरासत में भेज दिया।प्रशिक्षु डीएसपी सह थानाध्यक्ष महेश चौधरी ने बताया कि कुहिला गांव के मजार के आगे अकबरपुर-ककोलत पथ के सटे उत्तर हनुमान प्रतिमा निर्माण को ले पिछले 13 मई को श्रीपत व कुहिला के ग्रामीणों के बीच जमकर रोङे पत्थर चले थे। इस क्रम में थाने में प्राथमिकी दर्ज कर दोनों गांवों के कई लोगों को नामजद अभियुक्त बनाया गया था।

देर रात श्रीपत व कुहिला गांवों में अलग-अलग छापामारी कर कुहिला के नामजद गोरेलाल सिंह, छोटू सिंह, मन्नु चौधरी व गोपाल चौधरी तथा अप्राथमिकी अभियुक्त दिलखुश कुमार तथा श्रीपत के ईश्वरी महतो को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

राहगीरों से लूटपाट करने वाला गैंग चढ़ा पुलिस के हत्थे, 6 लुटेरों को किया गिरफ्तार

नवादा : जिले की सीतामढ़ी पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर छह लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। लुटेरों का यह गिरोह राहगीरों को निशाना बनाता था। मिली जानकारी के अनुसार बताया जाता है कि पूर्व में इन लोगों के द्वारा कई घटना को अंजाम दिया गया है। गुप्त सूचना मिलते ही 6 लोगों को रंगे हाथ गिरफ्तार कर सभी को न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

पुलिस ने बताया कि मोबाइल लोकेशन के आधार पर तुंगी गांव के निवासी उमेश चौधरी के पुत्र सौरभ कुमार, जयनंदन पासवान के पुत्र प्रकाश कुमार, दुल्ली विश्वकर्मा के पुत्र रोहित कुमार, शत्रुघ्न विश्वकर्मा के पुत्र संटी कुमार,स्व. सुरमल्ली के पुत्र मोहम्मद मेराज उपरोक्त पांचो तुंगी निवासी एवं मंझवे निवासी हीरा विश्वकर्मा के पुत्र राजीव कुमार सभी लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।

उन्होंने बताया कि 28 मई की रात रवींद्र दास के परिवार में किसी की तबीयत खराब थी। वह घर से बाहर दवा लेने के लिए निकलते है। उसी दौरान रास्ते में ही इन लोगों द्वारा पचास हजार नगद, बाइक सहित मोबाइल लूट ली थी। जिसके बाद थाना में मामला दर्ज किया गया था। मामले को पुलिस गंभीरता से लेते हुए मोबाइल की लोकेशन के आधार पर सभी लुटेरों को गिरफ्तार कर लिया।

विवादित भूमि से संबंधित डाटा करें अपडेट:- डीएम

नवादा : गुरूवार को जिला पदाधिकारी यश पाल मीणा की अध्यक्षता में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिले भर में सरकारी एवं निजी भूमि विवाद से संबंधित सभी अंचलाधिकारी के साथ समीक्षा बैठक आयोजित की गयी। बैठक को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि लॉक डाउन के पहले जिला के सभी अंचल स्तर पर सरकारी जमीन का डाटा वेस तैयार किया गया था।

मौजा स्तर पर नक्से पर जमीन को चिन्हित किया गया है। उन्होंने कहा कि अंचल के अधिकांश जगहों पर सरकारी भूमि का अतिक्रमण से संबंधित असमाजिक तत्वों द्वारा साम्प्रदायिक दंगे तथा दो समुदायों के बीच विवाद की संभावना बनी रहती है। उन्होंने अकबरपुर एवं गोविन्दपुर प्रखंड के घटना का जिक्र करते हुए कहा कि भूमि विवाद के कारण साम्प्रदायिकता का माहौल बनता है। इसे हर हाल में खत्म करने के लिए उन्होंने सभी अंचलाधिकारी को निर्देश देते हुए कहा कि पिछले पॉच वर्षां में संवेदनशील तथा अति संवेदनशील (कब्रिस्तान, मंदिर, मूर्ति) भूमि विवाद के मामले को लैंड डिस्ट्रीप्यूट डायरेक्ट्री का निर्माण करें।

उन्होंने अंचलाधिकारी को निर्देश देते हुए कहा कि अति संवेदनशील मामले को फॉर्मेट में अंचलवार रिपोर्ट अगले बुधवार तक समर्पित करना सुनिश्चित करें, जिसमें मौजा, खाता, खेसरा नम्बर, जमीन का रकवा, चौहद्दी, जमीन का किस्म, जमीन की प्रकृति, उस प्लॉट में विवाद का कारण, गिरफ्तारियां, 107 की कार्रवाई, पंचायती के माध्यम से समझौते, पुनः घटना होने की संभावना है/नहीं, सरकारी जमीन जिस प्लॉट पर साम्प्रदायिक घटित घटना के विस्तृत जानकारी अगले बुधवार तक फॉर्मेट में प्रतिवेदन भेजना सुनिश्चित करेंगे।

उन्होंने कहा कि ग्राउन्ड स्तर पर क्षेत्र भ्रमण कर मास्टर डाटा वेस तैयार करें। उन्होंने सभी संबंधित पदाधिकारी को निर्देश देते हुए कहा कि भूमि विवाद मामले में सख्ति से कार्रवाई करना सुनिष्चित करें। जिस सरकारी जमीन को लेकर विधि-व्यवस्था की स्थिति उत्पन्न हुई है, उसे प्राथमिकता के आधार पर प्रतिवेदन तैयार करें। उन्होंने सभी अंचलाधिकारी को निर्देश दिया कि 20 जून 2021 तक अंचल में रेकर्ड रूम को संचालित करें साथ ही नक्सा निर्माण मशीन को क्रियाशील करें।

इस अवसर पर अपर समाहर्त्ता उज्जवल कुमार सिंह, अनुमंडल पदाधिकारी नवादा सदर उमेश कुमार भारती, अनुमंडल पदाधिकारी रजौली चन्द्रशेखर आजाद, भूमि उपसमाहर्त्ता रजौली विमल सिंह, भूमि उपसमाहर्त्ता नवादा सदर मो0 मुस्तकिम के साथ-साथ सभी अंचलाधिकारी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े थे।

आपदा प्रबंधन की बैठक में डीएम ने दिया निर्देश

नवादा : गुरूवार को जिला पदाधिकारी यश पाल मीणा की अध्यक्षता में जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकार की समीक्षा बैठक आयोजित की गयी। बैठक में मुख्य रूप से संभावित बाढ़ को देखते हुए की गई तैयारियों की समीक्षा की गयी। विशेषकर सिरदला, रजौली एवं गोविन्दपुर प्रखंडों में बाढ़ की संभावना बनी रहती है। उन्होंने कहा कि संभावित बाढ़ के मद्देनजर ससमय कार्य पूर्ण करना सुनिष्चित करें। वर्तमान में 02 लाइफ जौकेट, 1800 पोलोथिन सिट्स, 05 नाव की व्यवस्था है। उन्होंने अतिरिक्त 10 नाव क्रय करने का निर्देश दिया।

मिर्जापुर में छठ घाट एवं नारदीगंज में हडि़या सूर्य मंदिर के समीप नाविक के साथ नाव की व्यवस्था करना सुनिष्चित करें। उन्होंने कहा कि जिले भर में 05 एकड़ से उपर 138 तालाब का निर्माण किया गया है। आपदा की दृष्टि से आहर, पईन, पोखर, तालाब पर सुरक्षा व्यवस्था की जाय ताकि डूबने से लोगों की मौत न हो। उन्होंने कहा कि स्थानीय टोला स्तर पर गोताखोर को चिन्हित करना सुनिष्चित करें। जिले भर में 17 शरण स्थल चिन्हित किये गए हैं। उन्होंने दोनों अनुमंडल में एक-एक महाजाल क्रय करने हेतु निर्देश दिये साथ ही लोगों को डूबने से बचाने हेतु समुचित प्रशिक्षण देने की भी बात उन्होंने कही।

आपदा से निपटने हेतु पशु चारा, खाद्य सामग्री, पशु की दवा, महामारी की आवष्यक दवा, स्नेक एन्टीवेनम सभी पीएचसी स्तर पर व्यवस्था करने, एम्बुलेंस की व्यवस्था, ब्लिचिंग पाउडर आदि की समुचित व्यवस्था करने का उन्होंने संबंधित पदाधिकारी को निर्दश दिया। बाढ़ आपदा से पूर्व बुधवारा एवं बहुआरा डैम की मरम्मति की गयी है। उन्होंने आम लोगों से अपील की है कि जिले भर में अगले 03 दिनों तक भारी वर्षा की संभावना है। सभी जिलावासी सतर्क एवं सावधान रहें। मवेशियों को सुरक्षित स्थान पर रखने के लिए व्यवस्था करें।

कोरोना महामारी के समीक्षा के क्रम में सिविल सर्जन को निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि 45 वर्ष से अधिक उम्र वाले एवं 18 वर्ष से अधिक उम्र वाले सभी व्यक्तियों का टीकाकरण व्यापक पैमाने पर करने हेतु जीविका एवं षिक्षा विभाग की सहायता ली जाय। उन्होंने कहा कि सभी एमओआईसी स्थानीय स्तर के मेडिकल प्रैक्टिसनर के साथ बैठक कर टीकाकरण को व्यापक रूप से प्रगति लाना सुनिष्चित करेंगे। अंचलाधिकारी को निर्देश देते हुए कहा कि कोरोना से मृत व्यक्ति का भौतिक सत्यापन कर रिपोर्ट भेजें।

उन्होंने कहा कि सभी सरकारी भवनों में बज्रपात से सुरक्षा हेतु तडि़त चालक लगाया जायेगा। उन्होंने कहा कि शहरी क्षेत्रों में जल जमाव को रोकने हेतु नाला उड़ाही व्यापक पैमाने पर कराना सुनिष्चित करें ताकि वर्षात के समय जल जमाव की समस्या न हो। इस अवसर पर अपर समाहर्त्ता उज्जवल कुमार सिंह, सिविल सर्जन डॉ0 अखिलेश कुमार मोहन, कार्यपालक अभियंता पीएचईडी चंदेष्वर राम, जिला आपदा शाखा पदाधिकारी विश्वजीत कुमार आदि उपस्थित थे।

शिक्षक नियुक्ति को 11 से 25 जून तक यहां करें आवेदन, प्रखंड और पंचायत में होगी बहाली

नवादा : पटना हाईकोर्ट के फैसले के बाद शिक्षकों की नियुक्ति का रास्‍ता साफ हो गया है। प्रखंड और पंचायत स्‍तर पर शिक्षकों की नियुक्ति की जाएगी। इसके लिए अभ्‍यर्थियों को आवेदन करना होगा। यहां पूरी प्रकिया की जानकारी मिल जाएगी। शिक्षक नियुक्ति में दिव्यांगजनों की बहाली को लेकर गुरुवार को रजौली प्रखंड बीईओ दिगंबर ठाकुर की अध्यक्षता में प्रखंड कार्यालय कक्ष में प्रखंड एवं पंचायत स्तरीय नियोजन इकाई की बैठक हुई।

आयोजित बैठक में बताया गया कि हाईकोर्ट के निर्देश पर शिक्षक बहाली की प्रक्रिया में 4% दिव्यांग जनों को आरक्षण देना है। इसी के तहत रजौली प्रखंड में प्रखंड व पंचायत स्तर पर रिक्तियों को मिलाकर कुल 8 पदों पर बहाली होनी है।
स्थापना, नवादा के डीपीओ के पत्रांक-1918 दिनांक 5 जून 2021 के माध्यम से प्रखंड स्तर व पंचायत स्तर पर दिव्यांगजनों की नियुक्ति को लेकर प्रखंड नियोजन इकाई एवं पंचायत नियोजन इकाई को निर्देश दिए गए हैं। प्रखंड व पंचायत स्तर पर वर्ग 1 से 5 तक 5 सीटों व वर्ग 6 से 8 तक 3 सीटों कुल 8 सीटों पर नियुक्ति की प्रक्रिया शुक्रवार से शुरु हो जाएगी।

बैठक में बीडीओ प्रेम सागर मिश्र व बीईओ दिगंबर ठाकुर ने प्रखंड व पंचायत स्तर की नियोजन इकाइयों को शिक्षक नियुक्ति से संबंधित कई दिशा-निर्देश दिए। बैठक में बीडीओ व बीईओ ने कहा कि शिक्षक नियुक्ति प्रक्रिया में 45 प्रतिशत से उपर के दिव्यांगता प्रमाण पत्र प्राप्त टीईटी पास दिव्यांगजन अभ्यर्थियों से रिक्त पदों के आलोक में आवेदन लिया जाएगा। 11 जून से 25 जून 2021 तक शिक्षक अभ्यर्थियों से पूर्व से निर्धारित आवेदन काउंटर पर ही आवेदन लिए जाएंगे।

जिन 8 पदों पर बहाली होनी है, उनमें प्रखंड नियोजन इकाई द्वारा प्रखंड स्तर पर वर्ग 1 से 5 तक के बेसिक ग्रेड में रिक्त 1 सीट पर कान से दिव्यांग व पंचायत स्तर पर हरदिया पंचायत में कान से दिव्यांग, अमावां पश्चिमी में हाथ- पैर से व रजौली पूर्वी पंचायत में मनोविकार से तथा सवैयाटांड़ पंचायत में नेत्र से दिव्यांग अभ्यर्थियों की शिक्षक पदों पर बहाली की जाएगी।

वहीं वर्ग 6 से 8 तक बेसिक ग्रेड में प्रखंड स्तर पर हिंदी विषय में 2 सीटों पर दो कान एवं हाथ पैर से दिव्यांग के साथ अंग्रेजी विषय में 1 सीट पर नेत्र से दिव्यांग अभ्यर्थियों से आवेदन लिए जाएंगे। बीडीओ प्रेम सागर मिश्र ने बातचीत के दौरान बताया कि शिक्षक नियुक्ति के दौरान रिक्त पदों पर आवेदन करने वाले दिव्यांगजन अभ्यर्थी गण किसी प्रकार के दलालों के फेरे में ना पड़े। नियोजन प्रक्रिया पूरी तरह से पारदर्शी होगी। किसी प्रकार की शिकायत होने व त्रुटि मिलने पर बीडीओ से संपर्क कर अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

swatva

Leave a Reply