रात में धर्मस्थल को तोड़ने पर भड़के ग्रामीणों ने किया सड़क जाम, प्रशासन ने हालात को संभाला

0

नवादा : जिले के नारदीगंज थाना इलाके में गुरुवार की सुबह बवाल हो गया। हालांकि प्रशासन समय रहते सक्रिय हुई और स्थिति को बिगड़ने के पहले संभाल लिया। हुआ यूं कि बस्तीबिगहा टांडपर स्थित शिवमंदिर की मूर्तियां गुरुवार 22 अप्रैल की सुबह मंदिर की बजाय कुछ दूर फेंका मिला। मामला आस्था का था सो लोग भड़क गए और राजगीर-बोधगया राजमार्ग 82 को जाम कर दिया। लोग मंदिर से दूर फेंके गए शिवलिंग, नंदी, त्रिशुल को लेकर सड़क पर जम गए। लोग मंदिर निर्माण करा मूर्तियों को पुन: स्थापित करने की मांग कर रहे थे।

घटना की खबर मिलते ही नारदीगंज एसएचओ मोहन कुमार,एसआइ श्याम कुमार पांडेय, हिसुआ थाना की पुलिस के साथ अासपास के थाना की भी पुलिस पहुंच गई। नारदीगंज के बीडीओ राजीव रंजन, सीओ अमिता सिन्हा भी पहुंचे। लेकिन इन अधिकारियों से आक्रोशित लोग शांत नहीं हुए। तब सदर एसडीओ उमेश कुमार भारती, एडिशनल एसपी महेन्द्र कुमार बंसत्री पुलिस बल के साथ पहुंचे और लोगों को समझाबुझा कर मामला को शांत कराया।

दरअसल, राजगीर-बोधगया राजमार्ग 82 काे फोरलेन बनाने का काम चल रहा है। ग्रामीणों का कहना था कि निर्माण कंपनी द्वारा यह सब किया गया। मंदिर की चाहरदिवारी को पूर्व में ध्वस्त कर दिया गया था। हालांकि, निर्माण कंपनी गायत्री कंन्टेंक्शन के प्रोजेक्ट मैनेजर सुधीर कुमार शांडिल्य ने आरोपों को खारिज किया। कहा कि धार्मिक स्थलों के प्रति हमलोगों की भी आस्था है। हमलोग निर्माण के रास्ते आने वाले मंदिर को विस्थापित करते हैं, उंखाडकर फेंका नहीं जाता है।

एसडीओ उमेश कुमार भारती ने बताया मंदिर एनएच 82 पर स्थित है, फोरलेन निर्माण में मंदिर की जगह का भी अधिगग्रहण किया गया है। किसी ने विवाद खड़ा करने के लिए साजिश रची थी। ग्रामीणों के सहयोग से समस्या का समाधान कर लिया गया है। मंदिर को विस्थापित करने के लिए गांव से कुछ दूरी पर बिहार सरकार की भूमि को चिन्हित कर लिया गया है। एक सप्ताह के भीतर मंदिर निर्माण करने का निर्देश फोरलेन निर्माण कंपनी को दिया गया है।

swatva

Leave a Reply