31 जुलाई : नवादा की मुख्य ख़बरें

0
swatva samachar

जबरन सेवानिवृति के काले कानून को वापस ले सरकार : डॉ पाण्डेय

नवादा : 50 वर्ष में जबरन सेवा निवृति वाले काले कानून को सतासीन सुशासन सरकार शीघ्र वापस लें,अन्यथा इसके गंभीर परिणाम होंगे। सूबे के शिक्षक अगामी विधानसभा चुनाव में सरकार की नैया पार नहीं लगने देंगे।उक्त बातें नवनियुक्त माध्यमिक शिक्षक संघ बिहार के प्रदेश अध्यक्ष डा0 गणेश शंकर पांडेय ने शुक्रवार को प्रेस विज्ञिप्त जारी कर कही।

प्रदेश अध्यक्ष डा0 पांडेय ने कहा कि 50 वर्ष मे राज्य सरकार द्वारा सरकारी सेवा कर्मियों को जबरन सेवा निवृत करने का फैसला तुगलकी फरमान जैसा प्रतित होता है । इस हिटलरशाही फैसले से सरकारी सेवा कर्मियों में काफी नाराजगी व आक्रोश है। जिसका प्रतिकूल असर उनके कार्यो पर पड़ना स्वाभाविक है ।
उन्होंने कहा कि इस गलत सरकारी फैसले के कारण बडे़ पैमाने पर सरकारी कर्मियों काआर्थिक,मानसिक व शारीरिक शोषण होना तय है। दूसरी ओर,उन्होंने कहा कि सरकार चलाने वाले राजनेताओं की भी उम्र सीमा 50 वर्ष निर्धारित होनी चाहिये। यह भी सरकार तय करे कि 50 वर्ष से अधिक उम्र वाले विधायक,विधान पार्षद,सांसद,मंत्री,उपमुख्यमंत्री के साथ मुख्यमंत्री की सदस्यता रद्द करें।क्योंकि 50 वर्ष से अधिक अवस्था होने के कारण इनकी कार्यक्षमता भी समाप्त हो जाती है। उन्होंने माननीय मुख्यमंत्री से आग्रहपूर्वक इस काले व अव्यवहारिक कानून को वापस लेने का अनुरोध किया है।

ईदगाहों व मस्जिदों में सामूहिक नमाज पढने पर रहेगी रोक

  • प्रतिनियुक्त किये गये दंडाधिकारी व पुलिस पदाधिकारी

नवादा : जिला पदाधिकारी यशपाल मीणा तथा पुलिस पदाधिकारी हरि प्रसाथ के द्वारा ईद-उल-जोहा (बकरीद) 2020 पर्व को लेकर संयुक्त आदेश जारी किया गया है। इस वर्ष ईद-उल-जोहा (बकरीद) 2020 का त्योहार दिनांक 01.08.2020 से 03.08.2020 तक मनाया जाना है। गौरतलव है कि सरकार के विशेष सचिव, गृह विभाग (विशेष शाखा) द्वारा दिनांक 01 अगस्त 2020 से दिनांक 16अगस्त 2020 तक लॉकडाउन की अवधि बढ़ाई गयी है जिसमें लॉकडाउन केअन्य नियमों के साथ-साथ राज्य के सभी धार्मिक स्थल आम जनों के लिए पूर्णतः बन्द रखने का स्पष्ट निर्देश दिया गया है। अतः ईद-उल-जोहा(बकरीद) 2020 त्योहार के अवसर पर सार्वजनिक नमाज अदायगी तथा कुर्बानी को वर्जित किया जाता है।

साथ ही ईद-उल-जोहा (बकरीद) 2020 त्योहार को शांति एवं सौहार्दपूर्ण तरीके से मनाने के लिए जिले में विभिन्न स्थलों पर दण्डाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारी की प्रतिनियुक्ति की गयी है। कोविड-19 के मद्देनजर प्रतिनियुक्त सभी दण्डाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारी को निर्देश दिया गया है कि वे सभी स्वयं भी सरकार द्वारा निर्धारित सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क कीअनिवार्यता आदि नियमों का पालन करते हुए जिले के सभी आमजनों को भी इस निर्देश का अनुपालन करायेंगे तथा लॉकडाउन अवधि में निर्देशित दिशा-निर्देश का भी अनुपालन कराना सुनिश्चित करेंगे।

जिले में ईद-उल-जोहा (बकरीद) 2020 पर्व के दौरान शांति व्यवस्था एवं साम्प्रदायिक सद्भाव बनाये रखने हेतु एहतियातन व्यवस्थाएं की गयी है। शरारती एवं उग्रवादी तत्वों पर कड़ी नजर रखने का निर्देश दिया गया है साथ हीअसमाजिक तत्वों, साम्प्रदायिक भावना को खण्डित करने वालों पर कड़ी कार्रवाई की जायेगी। इस पर्व के लिए प्रतिनियुक्त दण्डाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि वे दिनांक 01.08.2020 को 06ः00 बजे प्रातः में अपनी-अपनी जगहों पर स्थान ग्रहण करेंगे तथा 03अगस्त 2020 के अप0 में स्थिति समान्य होने पर अपने कर्त्तव्य स्थल का परित्याग करेंगे। समाहरणालय में जिला नियंत्रण कक्ष की स्थापना की गयी है, जिसका दूरभाष संख्या- 06324-212261/212254 है।

नियंत्रण कक्ष के वरीय प्रभार में अपर समाहर्त्ता ओम प्रकाश एवं पु0नि0 राम बच्चन कुमार हैं। जिला नियंत्रण कक्ष 01 अगस्त से 03 अगस्त 2020 तक संचालित रहेगी। नियंत्रण कक्ष में 12 वरीय पदाधिकारियों के साथ-साथ 09 सुरक्षित दण्डाधिकारी एवं 04 सुरक्षित पुलिस पदाधिकारी की भी प्रतिनियुक्ति की गयी है। किसी भी आपातकालीन परिस्थिति से निपटने हेतु जिला नियंत्रण कक्ष में फोन करने पर अग्निशामक दस्ता, बज्रवाहन,विद्युत व्यवस्था, परिवहन संचालन आदि समस्याओं का समाधान किया जायेगा।

सिविल सर्जन नवादा को निर्देश दिया गया है कि आपात स्थिति से निपटने हेतु वे अपने स्तर से चिकित्सीय पदाधिकारी/कर्मी को आवश्यक सामग्री तथा जीवन रक्षक दवाईयों के साथ एम्बुलेंस सहित जिला नियंत्रण कक्ष में प्रतिनियुक्त कराना सुनिश्चित करेंगे। उप विकास आयुक्त वैभव चौधरी एवं अपर पुलिस अधीक्षक महेन्द्र कुमार बसंत्री ईद-उल-जोहा बकरीद पर्व 2020 के अवसर पर जिले में सम्पूर्ण विधि-व्यवस्था के प्रभार में रहेंगे।

वारिसलीगंज और पकरीबरावां डाकघर में खुला कोरोना शॉप

नवादा : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की महत्वकांक्षी योजना मेक इन इंडिया के तहत डाक विभाग खादी ग्रामोद्योग से टाइप कर गांव गांव तक इस योजना का लाभ दिलाने के लिए प्रयासरत है। जिससे लोगों को कहीं भी बाहर जाने की कोई आवश्यकता न पड़ सके। कोरोना की इस लड़ाई में वह अपनी अहम भूमिका दर्ज करा सकें।

इसी कड़ी में शुक्रवार को वारसलीगंज एवं पकरीबरमा के डाकघरों में भी कोरोनाशॉप का उद्घाटन किया गया। जिसका एकमात्र उद्देश्य सभी लोगों के पास मास्क , हैंड वॉश, सैनिटाइजर, गमछा, काढ़ा इत्यादि पहुंचाना है। जिससे लोगों को घर से बाहर निकलना पढ़े। जो स्लोगन है घर में रहें सुरक्षित रहें उसका पूरी तरह से पालन हो सके।

इस योजना के तहत आप घर से बाहर निकलना अगर नहीं चाहते हैं तो डाकघर के अपने एरिया के डाकिया से संपर्क कर आप यह सभी चीज मंगवा सकते हैं । ताकि लॉक डाउन का पूरी तरह से पालन हो सके। आप कोरोना से बच सकें। डाकघर हमेशा अपने सामाजिक दायित्वों को पूरी करने में लगा है। पोस्ट मास्टर जनरल अनिल कुमार ने बताया कि हम लोग जैसे आधार आधारित भुगतान प्रणाली के द्वारा लोगों को घर तक इस कोरोना काल में भी रुपया पहुंचाने एवं मेडिकल किट पहुंचाने व आवश्यक दवाई रजिस्ट्री इत्यादि को पहुंचाने में लगे हैं।

इस दौरान डाक विभाग ने एक और महत्वपूर्ण कदम उठाया है कि हम मास्क, सैनिटाइजर और हैंड वॉश सभी उनके घर तक पहुंचाएंगे और जरूरी जरूरत की दवाई भी उपलब्ध कराने की योजना है। इस पर भी काम किया जा रहा है। क्योंकि रक्षाबंधन बहुत नजदीक है। इसके लिए भी स्पेशल टास्क बनाया गया है। जिसका निर्देशन डाक विभाग के निदेशक पवन कुमार कर रहे हैं।

इन सभी चीजों के विषय में उद्घाटन के दौरान अनिल कुमार ने बताया कि अगर किसी को कोई दिक्कत है तो वह मुझसे भी डायरेक्ट संपर्क कर सकते हैं । इस दौरान में डाक विभाग के डाक अधीक्षक नवादा मंडल शिव शंकर मंडल एवं सहायक डाक अधीक्षक धीरेंद्र कुमार धीरज लगे थे। इस मौके पर मार्केटिंग एंड बिजनेस हेड जितेंद्र कुमार, बृजकिशोर सीनियर मैनेजर इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक, डाक निरीक्षक रामजी राय, सुरेंद्र कुमार उपस्थित थे।

इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ख्याल कराने में वहां के डाकपाल अजय कुमार, रामवृक्ष, शंकर कुमार, चंदन कुमार, पवन कुमार इत्यादि मौजूद थे । बता दें इसके पूर्व नवादा प्रधान डाकघर व रजौली डाकघर में भी इस प्रकार की दुकानों का सफल संचालन किया जा रहा है ।

विदेशी शराब व बीयर के साथ कारोबारी गिरफ्तार, एक फरार

नवादा : जिले के गोबिंदपुर पुलिस ने आपचे मोटरसाइकिल पर से विदेशी शराब व बियर के साथ कारोबारी को गिरफ्तार किया है ।कारोबारी की पहचान राजगीर के रामहरि पथ नई पोखर के गुड्डू राजबंशी के रूप में की गई है । इस बावत उत्पाद अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज कर आरोपी को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

थानाध्यक्ष डॉ नरेंद्र प्रसाद ने बताया कि गुप्त सूचना के आधार पर बासोडीह झारखंड से एक आपचे मोटरसाइकिल से दो बोरे में लाद कर आ रहा था कि गोबिंदपुर चेकपोस्ट पर तैनात ए एस आई रामप्रवेश राम दल बल के साथ धर दबोचा। मोटरसाइकिल पर लदे बोरा खोल कर दिखा तो शराब था।तुरंत थाना लाया गया।

बोरे में कार्टून था और शराब और बीयर भरा था।उस कार्टन में किंगफिशर का 650 एमएल का बियर का बोतल,500 एमएल का केन बियर की संख्या 24,रॉयल स्टैग का 750 एमएल का 11 बोतल तथा 375 एमएल का 35 बोतल रॉयल स्टैग का बोतल पाया गया। थानाध्यक्ष ने उत्पाद अधिनियम के तहत प्रथमिकी दर्ज कर कारोबारी को जेल भेज दिया।

खाना बनाने में हुआ लेट तो पति ने पत्नी को टांगी से मारकर किया जख्मी

नवादा : जिले के रजौली थाना क्षेत्र अंतर्गत पसरैला गांव में पत्नी ने पति को खाना बनाकर देने में लेट किया तो पति ने पत्नी को टांगी से मार कर घायल कर दिया। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और घायल महिला मेनका देवी को उठाकर अनुमंडलीय अस्पताल रजौली में भर्ती कराया।

पति को पुलिस लिया हिरासत में:

इलाज के बाद पीड़ित महिला की शिकायत पर अकबरपुर पुलिस ने पति राजू गिरी को हिरासत में लेकर उसे रजौली थाने को सौंपी है। महिला ने अपने पति पर आरोप लगाया है कि उसका पति शराबी है और अक्सर शराब पीने के लिए तरह-तरह के उपाय करता रहता है। रुपये नहीं रहने पर घर के साजो-सामान, जेवर आदि को बेचकर शराब पीता है। पत्नी का आरोप है कि जब भी इसका विरोध किया तो तब-तब उसके पति ने उसके साथ मारपीट की।

आवेदन मिलने के बाद होगी कार्रवाई:

शराब पीने के लिए पत्नी से पैसा मांग रहा था, जब उसने पैसा नहीं रहने की बात कही तो उसका पति घर के बर्तन को बेचने की कोशिश करने लगा। इसका विरोध करने पर खाना बनाने में लेट होने की बात कह कर उसके पति ने टांगी से मार कर उसे घायल कर दिया। थानाध्यक्ष सुजय विद्यार्थी नेबताया कि पत्नी के द्वारा लिखित आवेदन देने के बाद पति के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।

कोरोना संक्रमितों की मदद के लिए अलर्ट पर कोविड कंट्रोल रूम, फोन कर ली जा रही जानकारी

नवादा : जिले में बढ़ते कोरोना संक्रमितों की संख्या को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों पर निगरानी रखने का निर्देश जारी किया है। इसको लेकर कोविड कंट्रोल रूम की शुरुआत की गई है। जहां से प्रतिदिन नियमित रूप से आइसोलेट मरीजों की हालचाल लिया जा रहा है।

कोरोना संक्रमण को कम करने के लिए जिला स्वास्थ्य विभाग लगातार मुस्तैदी बरत रहा है। होम आइसोलेशन में रहे रहे मरीजों का लगातार मनोबल बढ़ाया जा रहा है। इसके लिए बकायदा दो कर्मियों को कार्य पर लगाया गया है।

दिन में 4 बार लिया जा रहा हालचाल:

कोविड कंट्रोल रूम में तैनात कर्मी का कहना है कि हम नियमित रूप से सभी आइसोलेशट मरीजों को 4 टाइम फोन कर रहे हैं. उनसे उनकी सेहत के बारे में जानकारी लेते हैं। अगर किसी को तकलीफ होगी तो उसकी जानकारी रेपिड एक्शन टीम को दी जाती है। टीम उनके पास पहुंचकर थर्मल स्क्रीनिग करती है या फिर ज्यादा समस्या दिखाई पड़ती है तो उसे एबुलेंस के जरिए अस्पताल लाया जाता है।

200 मरीज फिलहाल आइसोलेट:

अभी तक जिले में करीब 200 कोरोना संक्रमितों मरीजों को आइसोलेट किया गया है वहीं, 13 लोगों को आइसोलेशन सेंटर में रखा गया है जिनका नियमित हालचाल लिया जा रहा और जरूरत की दवाई पहुंचाई जा रही है। बता दें कि बीते मंगलवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए कई सारे आदेश दिए थे जिनमें से एक अस्पताल में एक नियंत्रण कक्ष स्थापित कर होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों की लगातार मॉनिटरिंग करने का भी था।

कहते हैं प्रभारी सिविल सर्जन:

प्रभारी सिविल सर्जन डॉ. अशोक कुमार ने बताया कि अगर कोई व्यक्ति संक्रमित पाए जाते हैं और उनके घर पर होम आइसोलेट के लिए पर्याप्त सुविधा नहीं है वैसे व्यक्तियों को आइसोलेशन सेंटर भेजा जा रहा है.।बाकी जो सक्षम हैं तो अपने घर पर सुविधानुसार होम आइसोलेट रहने को कहा जा रहा है। साथ ही रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली चीजों का सेवन करने को कहा जा रहा है।

सदर अस्पताल का केएमसी यूनिट बना कमजोर नवजात के लिए वरदान

नवादा : कोरोना आपदा के बीच जन्म लेने वाले कमजोर नवजात शिशुओं की सुरक्षा का विशेष ध्यान रखने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा हर स्तर पर प्रयास किए गए हैं। इस दिशा में कमजोर नवजात शिशुओं की ट्रैकिंग कर उनके नियमित स्तनपान और उनकी माताओं और परिजनों को कंगारू मदर केयर के तरीके बताकर शिशुओं का बेहतर स्वास्थ्य सुनिश्चित कराया जा रहा है।

कंगारू मदर केयर यूनिट साबित हो रहा है जीवनदायिनी:

प्रीमैच्योर या कमजोर नवजात के लिए सदर अस्पताल परिसर में मौजूद कंगारू मदर केयर यूनिट भी जीवनदायिनी साबित हो रहा है। वर्ष के जुलाई माह तक लगभग चार सौ से भी अधिक प्रीमैच्योर शिशुओं को एसएनसीयू व कंगारू मदर केयर युनिट में रख कर स्वास्थ्य लाभ प्रदान किया गया है।

हाइपोथर्मिया से बचाव के लिए केएमसी कारगर:

प्रभारी सिविल सर्जन डॉ. अशोक कुमार ने बताया सदर अस्पताल के सिक न्यूबॉर्न केयर यूनिट में ही कंगारू मदर केयर कॉर्नर है. नवजात शिशु में हाइपोथर्मिया से बचाव के लिए कंगारू मदर केयर दिया जाता है। सभी सरकारी अस्पतालों में एएनएम और आशा द्वारा कंगारू मदर केयर देने की जानकारी दी जाती है। सभी सरकारी अस्पतालों में कंगारू केयर कॉर्नर बनाया गया है।

1000 से 1200 ग्राम तक के शिशु रखा जाता है यहां:

एसएनसीयू की प्रभारी ममता ने बताया अंडर वेट 1000 से 1200 ग्राम तक के शिशु को ही यहां रखा जाता है। सात दिनों में शिशु के वजन हासिल करने के बाद उसे मां को सौंप दिया जाता है। यदि शिशु का वजन इससे भी कम होता है तो उसे बड़े सरकारी अस्पताल में रेफर किया जाता है।

2 किलो से कम वजन वाले होते हैं कमजोर शिशु :

यदि नवजात का वजन दो किलो से कम है तो वे कमजोर नवजात की श्रेणी में रखे जाते हैं। कई बच्चे प्रीमैच्योर होते हैं, जिन्हें आम बोलचाल की भाषा में सतमसुवा या अठमसुवा भी कहते हैं। ये शिशु कमजोर होते हैं और इसलिए माताओं को कंगारू मदर केयर की मदद से आवश्यक गर्मी देने की सलाह दी जाती है। इस तरह नवजात को प्राकृतिक तरीके से आवश्यक उर्जा और उष्मा मिल पाता है। मां का दूध जल्दी उतरने के साथ नवजात का शारीरिक विकास होता है।

जन्म का पहला 2 साल नवजात का महत्वपूर्ण:

राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण -4 की रिपोर्ट के मुताबिक जिले में 42.6 प्रतिशत बच्चों को उनके जन्म के पहले एक घंटे के अंदर स्तनपान कराया जाता है। नवजात शिशुओं की मृत्यु दर कम करने के लिए उनके जन्म के बाद का 2 साल महत्वपूर्ण माना गया है। राज्य में नवजात शिशुओं की कुल संख्या का एक तिहाई हिस्सा जन्म के समय ही काफी कमजोर होते हैं। ऐसे में आशा व स्वास्थ्यकर्मियों की मदद से महिलाओं को आधुनिक विधि से स्तनपान कराने के बारे में भी बताया गया है।

हेमजाभारत में आठ माह से नल का जल आपूर्ति बाधित

  • ग्रामीणों ने कई बार विडिओ से किया शिकायत कार्रवाई नहीं होने से रोष

नवादा : जिले के उग्रवाद प्रभावित सिरदला प्रखंड के धिरौंध पंचायत वार्ड नंबर 15 हेमजाभरत गांव में पिछले आठ माह पानी का सप्लाय नहीं किया जा रहा है। बताते चले कि हेमजाभारत गांव तीन टोला में बटा हुआ है जहां हर एक टोला में करीब एक सौ घर की आबादी है। ऐसे में दो जगहों पर पानी टंकी बैठाया गया है। लगातार बिजली आपूर्ति रहने के बावजूद वार्ड क्रियान्वयन समिति के अध्यक्ष वार्ड सदस्य व सचिव अपने मनमानी का परिचय देकर पिछले आठ माह से

पानी आपूर्ति बन्द करके रखा है।

समस्या को लेकर स्थानीय ग्रामीण बरहमदेव राजवंशी,मनोज राजवंशी, गोविंद राजवंशी, नरेश राजवंशी, चंदो राजवंशी, भोला राजवंशी, सुरेश मांझी, हेमराज सिंह भोक्ता,लालो मांझी, मुंशी मांझी, किशुन राजवंशी, राजो राजवंशी, हरी राजवंशी, जगदीश राजवंशी समेत सैकड़ों लोगों ने प्रखंड विकास पदाधिकारी अखिलेश्वर कुमार के समक्ष पानी कि समस्या को लेकर शिकायत किया था। लेकिन किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं किया गया। न ही स्थलीय जांच की गई। जिससे ग्रामीणों में काफी रोष व्याप्त है। बताया जाता है कि हेमजाभारत पश्चिमी टोला के लिए आंगनबाड़ी केंद्र के समीप पानी टंकी बनाया गया है।

वहीं हेमजाभारत पूर्वी व उतरी टोला के लिए चमारी राजवंशी के घर के समीप पानी टंकी का निर्माण कर बोरिंग कराया गया है। वार्ड सदस्य अनीता देवी के पति एवम् सचिव दिलीप राजवंशी दोनों अपने मनमाने तरीके पानी सप्लाई को बन्द कर दिया है। ग्रामीणों ने जिलाधिकारी से क्षेत्र के नल की जल योजना की गहनता पूर्वक जांच कराने की मांग किया है।

क्या कहते हैं मुखिया :

धिरौंध ग्राम पंचायत मुखिया शेरपुर गांव निवासी मो अली रजा अंसारी से इस मामले में पूछे जाने पर बताया कि मुझे अभी कुछ ग्रामीणों से जानकारी मिली है कि वार्ड नंबर 15 के क्षेत्र में ग्रामीणों को मुख्यमंत्री सात निश्चय हर घर नल कि जल की योजना से पानी सप्लाई बाधित है। पूर्व व उतरी टोला के लिए बैठाए गए पानी टंकी में समरसेबल जल गया था। जिसकी जानकारी पंचायत सचिव दिलीप प्रसाद को दिया गया है। वहीं पश्चमि टोला में सप्लाय दी जा रही थी। यदि सप्लाय बन्द है तो प्रखंड पंचायती राज पदाधिकारी को जानकारी देकर अविलंब पानी सप्लाई शुरू कर दिया जाएगा।

पिता ने सौतेले बेटे और बहू को मारपीट कर घर से निकाला

नवादा : जिले के रोह प्रखंड के रुखी गांव में एक पिता ने अपने सौतेले बहू और बेटे को मारपीट कर घर से निकाल दिया। इस मामले में पीड़ित बेटे ने रोह थाना में शिकायत की है। शिकायत के बाद थाना प्रभारी धर्मेंद्र कुमार ने गांव जाकर स्थिति का जायजा लिया।

सिर में लगी चोट :

रूखी ग्राम निवासी शिवनंदन शर्मा ने अपने बेटे श्रवण शर्मा और उनकी पत्नी के साथ मारपीट किया। पीड़ित ने थाने में दिए आवेदन में कहा है कि हमारी पत्नी खेत में धान रोपने गई थी। जहां मेरे पिता के अलावा, हमारी मां और छोटा भाई विक्रम कुमार सहित अन्य सदस्यों ने उसके साथ बुरी तरह मारपीट की. जिसकी वजह से उसके सिर में चोट लगी है।

गांव में हुई है पंचायत:

बेटे ने थाने में दिए लिखित आवेदन में कहा कि पत्नी के गले से सोने का हार भी छीन लिया गया है। साथ ही अश्लील हरकत करने का भी प्रयास किया गया। ग्रामीणों की माने तो शिवनंदन शर्मा ने दो शादी किया है। पहली पत्नी के बेटे और बहु के साथ हमेशा मारपीट करते हैं. कई बार थाने और गांव में भी पंचायत हुई है।

झोपड़ी में रहने को मजबूर:

आवेदन में बताया गया है कि सौतेले बेटे और उसकी पत्नी के साथ मारपीट नहीं करते हैं। बावजूद पिता परेशान करते हैं। पीड़ित बहु रिंकू देवी ने बताया कि सरकार से इंदिरा आवास मिला है. उसे भी बनाने में बाधा डालते हैं। जिसके कारण घर और खेत रहते हुए झोपड़ी में अपने दो बच्चों के साथ रहने को मजबूर हूं।

मजदूर हत्या की प्राथमिकी दर्ज, पिता पुत्र समेत तीन नामजद

  • अकबरपुर थाने में मौत के पांच दिन बाद दर्ज हुई प्राथमिकी

नवादा : जिले के अकबरपुर प्रखंड क्षेत्र के बरेव पंचायत की दुधैली आजाद नगर मुहल्ले में मजदूर की पिटाई से हुई इलाज के क्रम में मौत की प्राथमिकी दर्ज की गयी है ।

मामला अकबरपुर थाना क्षेत्र के बरेव पंचायत की दुधैली आजाद नगर मुहल्ले की है जहां मृतक कुलो मांझी के बेटे गोरेलाल मांझी ने पिता की हत्या कर दिये जाने का आरोप लगाया है । दर्ज प्राथमिकी में वरेब गाँव के मजदूर ठीकेदार उपेंद्र सिंह व उनके बेटे छोटू सिंह ,तथा ओंकार सिंह के बेटे कुणाल सिंह को आरोपित किया गया है।

आरोप है कि 11 जुलाई को इन लोगों ने 50 वर्षीय कुलो मांझी के साथ उसके घर आजाद मुसहरी में तीनों ने मारपीट की थी । मारपीट में घायल उसके पिता का ईलाज के दौरान पटना के निजी अस्पताल में 26 जुलाई की रात मौत हो गई । मृतक पेशे से मजदूर था। घटना के बाद आक्रोशितों ने 27 जुलाई की सुबह एन एच 31 को जाम कर दिया था। एस एसच ओ मुंन्ना कुमार वर्मा ने बताया कि प्राथमिकी दर्ज कर कार्रवाई आरंभ की गयी है।

swatva

Leave a Reply