एमएलसी को डुप्लेक्स, छात्रों को जर्जर स्कूल भवन

0

बेगूसराय जिले के शाम्हों में स्कूल की छत की सीढ़ी गिरने के कारण 15 वर्षीय छात्रा की मौत हो गई। एक तरफ जहाँ स्कूल की छत की सीढ़ियां गिर रही हैं वहीँ दूसरी तरफ बिहार के विधान परिषद सदस्यों को क्रम के अनुसार डुप्लेक्स आवास आवंटित किए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को डुप्लेक्स की चाबी 75 में से 55 विधान परिषद् के सदस्यों को सौंपी। आवास में सभी सुविधाएं मिलने के कारण एमएलसी इतने खुश हैं कि वे लोग इसे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सोच का नतीजा बता रहे हैं।

सभी एमएलसी को एक ही कैंपस में आवास दिया गया है। छह कमरों के आवास में एमएलसी अपने परिवार और कर्मचारी दोनों के रहने की व्यवस्था की गई है। बिहार विधान परिषद के सदस्य खुश हैं क्योंकि अब सभी को एक जैसा आवास मिल गया है। आखिर शाम में चौकड़ी जो जमेगी! 20 एमएलसी ऐसे हैं, जिनके डुप्लेक्स बन रहे हैं। अगले 4-5 महीने में उन्हें हैंडओवर कर दिया जायेगा।

बिहार के शिक्षा मंत्री रहे अशोक चौधरी जो अब भवन निर्माण मंत्री है। शिक्षा मंत्री रहते चौधरी को स्कूलों के जर्जर हो चुके भवन की चिंता नहीं थी। लेकिन, अब उनको विधायकों की चिंता होने लगी। उद्धघाटन के मौके पर चौधरी ने कहा कि साल भर के अंदर विधायकों को इसी तरह के आवास मिलने शुरू हो जाएंगे।

18.76 एकड़ में 450 करोड़ खर्च करके 116.42 करोड़ का एग्रीमेंट तथा 9.03 करोड़ के फर्नीचर के साथ 30 डबल बेडरूम का हॉस्टल तथा कम्युनिटी सेंटर,कांफ्रेंस हाल,पुलिस पोस्ट,शॉपिंग सेंटर,गार्डेन तथा गेस्ट के लिए पार्किंग 75 आवास का निर्माण अगले 3 महीने में पूरा हो जाएगा। भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी ने कहा कि मुख्यमंत्री की अलग सोच का नतीजा एमएलसी आवास है। पता नहीं चौधरी कब कहेंगे कि मुख्यमंत्री के सोच का नतीजा है कि बिहार के स्कूलों को अत्याधुनिक बनाया जाएगा।

निशा भारती

swatva

Leave a Reply