24 सितंबर : मधुबनी की मुख्य खबरें

0
swatva samachar

नियमित टीकाकरण कार्यक्रम को सुदृढ कर शत- प्रतिशत लक्ष्य को किया जायेगा हासिल

मधुबनी : जिले में वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के बीच अन्य स्वास्थ्य सेवाओं को सुदृढ़ करने के लिए विभाग प्रयासरत है।आवश्यक स्वास्थ्य सेवाओं में सबसे महत्वूपर्ण कार्यक्रम नियमित टीकाकरण है। नियमित टीकाकरण कार्यक्रम को सुदृढ़ करने तथा इसके लक्ष्य को शत प्रतिशत हासिल करने के लिए विभाग प्रतिबद्ध है। इसी कड़ी में राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक संजय कुमार सिंह ने पत्र जारी कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिया है।

जारी पत्र में कहा गया है कि कार्यक्रम अंतर्गत 12 प्रकार की जानलेवा बीमारियों से बचाव के लिए टीकाकरण किया जाता है। नियमित टीकाकरण के आच्छादन में गिरावट होने से जानलेवा बीमारियों के संक्रमण के बढ़ने की संभावना बनी रहती है। छूटे हुए बच्चों में वैक्सीन प्रीवेंटबल डिजिज के संक्रमण का खतरा बढ़ गया है।आरआई दिवस (बुधवार एवं शुक्रवार) को नियमित टीकाकरण का कार्य अनिवार्य रूप से कराया जाए।

नियमित टीकाकरण में तेजी लाने के लिए रणनीति विकसित करें:

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने निर्देश दिया है कि नियमित टीकाकरण में तेजी लाने के लिए रणनीति विकसित करें ताकि महामारी और संबंधित शमन गतिविधियों के कारण उभरने वाले टीकाकरण अंतराल को दूर किया जा सके। नियमित टीकाकरण (आरजे) के लिए विशिष्ट दिनों की पहचान की जानी चाहिए और गतिविधियों की योजना इस तरह से बनाई जानी चाहिए कि समय, कार्यबल की भागीदारी आदि के संबंध में आरआई का कोविड टीकाकरण गतिविधियों के साथ कोई ओवरलैप न हो।

नियमित टीकाकरण बंद नहीं हुआ :

डीआईओ डॉ. एस.के विश्वकर्मा ने बताया कि नियमित टीकाकरण बंद नहीं किया गया है। लेकिन कोरोना की वजह से लोग कम आ रहे हैं। नवजात व गर्भवती का टीकाकरण कार्य जारी है। प्रखण्ड के विभिन्न पंचायत क्षेत्र स्थित सभी आंगनबाड़ी केन्द्रों पर रोस्टर के अनुसार एएनएम द्वारा सभी टीका लगाए जाने का प्रावधान है। क्षेत्र स्थित सेविकाओं से मिली जानकारी के अनुसार कोरोना काल मे भी केन्द्र पर टीका दिया जा रहा है। डीआईओ ने आंगनबाड़ी केन्द्रों पर गर्भवती व नवजात छोटे बच्चों को टीका दिए जाने की बात कही।

शिशुओं का संपूर्ण टीकाकरण है जरूरी :

इस समय नवजात शिशुओं के भी स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। जिसमें उनका सम्पूर्ण टीकाकरण करा कर उन्हें भविष्य में होने वाली कई बीमारियों से सुरक्षा प्रदान की जा सके। बच्चे के जन्म पर बीसीजी, ओरल पोलियो वैक्सीन और हेपेटाइटिस बी का टीका देना है। छह हफ्ते पर पेंटावेलेंट, 10 हफ्ते पर पेंटावेलेंट ओपीवी टू , रोटावायरस टू,14 हफ्ते पर पेंटावेलेंट, ओपीवी थ्री, रोटावायरस थ्री, आईपीवी टू, पीसीवी टू दिया जाना है। वहीं 9 से 12 महीनों पर खसरा और रूबेला वन टीका देना है। 16 से 24 महीनों पर खसरा, डीपीटी बूस्टर वन, ओपीवी बूस्टर और 5 से 6 साल पर डीपीटी बूस्टर टू का टीका देना है। इसके बाद 10 साल पर और 16 साल पर टेटनस एंड एडल्ट डिप्थीरिया का टीका दिया जाना है।

व्यापारिक संस्था कैट ने की रेल डीआरएम से मुलाकात, दिया मांगपत्र

मधुबनी : आज कैट, जयनगर का शिष्टमंडल जयनगर रेलवे स्टेशन पर नेपाली रेलवे के स्पीडी ट्रॉयल निरीक्षण के लिए आये डीआरएम, समस्तीपुर के जयनगर आगमन पर उनसे मिला और अपनी मांग पत्रों को उनको सौंपा। इस बाबत जानकारी देते हुए कैट,जयनगर के अध्यक्ष प्रीतम बैरोलिया ने बताया कि सबसे खुशी की बात यह है हमारे मांगपत्र में हमारी प्रमुख दो मांगों को डीआरएम ने ऑन स्पॉट ही माना। मानी गयी दो मांगों में एक आरक्षण काउंटर की संख्या बढ़ाने एवं दूरी मांग के रूप में सभी लंबी दूरी की ट्रेनों का प्रस्थान और आगमन प्लेटफार्म संख्या एक से करने के लिए इस बात को उन्होंने स्वीकार किया, और उन्होंने भरोसा दिलाया जल्द ही आपकी इन दोनों मांगों को पूरा किया जाएगा।उन्होंने बताया कि हमारी हर कोशिश व्यापारियों के लिए व्यापारियों के द्वारा है।

आज के कैट,जयनगर के शिष्टमंडल में अध्यक्ष प्रीतम बैरोलिया, महासचिव रंजीत गुप्ता, कोषाध्यक्ष अरुण पूर्वे, उपाध्यक्ष राजकुमार साह, उपाध्यक्ष राजीव गुप्ता, संरक्षक दिनेश वर्मा, शवल राउत, दीपक गुप्ता, अमित मांझी शामिल थे। उन्होंने बताया कि हमारे प्रतिनिधिमंडल को डीआरएम समस्तीपुर के साथ आए हुए आरपीएफ कमानडेन्ट अरविंद कुमार के द्वारा दोबारा बुलाया गया, और डीआरएम समस्तीपुर के सैलून में इस बात का पूर्णतः विश्वास दिलाया गया हमारी दोनों मांगों को हमारे मांगपत्र में से पूरा किया जाएगा।

गर्भवती महिलाओं व टीबी के मरीजों का एचआईवी टेस्ट 100% करने के निर्देश

मधुबनी : जिले में एचआईवी की रोकथाम व जागरूकता बढ़ाने के लिए स्वास्थ्य विभाग विशेष अभियान चलाएगा। जिसके तहत सभी गर्भवती महिलाओं एवं टीबी के मरीजों का एचआईवी टेस्ट किया जाएगा। इसके लिए जिले के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों से लेकर जिला अस्पतालों में एचआईवी टेस्ट किट उपलब्ध कराया गया है। जिले की सौ फीसदी गर्भवती महिलाओं व टीबी मरीजों को एचआईवी टेस्ट कराने को कहा गया है। कार्यक्रम के सफल संचालन के लिए , जिले में संचालित कार्यक्रमों आईसीटीसी, पीपीटीसीटी, एफआईसीटीसी, प्रीजन एफ एवं पीपीएफ आईसीटीसी के कर्मी के साथ मासिक समीक्षात्मक सदर अस्पताल के एएनएम सभागार में आयोजित की गई। बैठक की अध्यक्षता करते हुए सीडीओ डॉक्टर जीएम ठाकुर ने बताया स्वास्थ्य विभाग के आदेश पर अमल की प्रक्रिया शुरू कर दी है। सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों से लेकर जिला अस्पतालों में टेस्ट किट उपलब्ध है। सभी स्वास्थ्य अधिकारियों को निर्देश जारी किया गया है।

एचआईवी/टीबी के मरीजों को बेहतर उपचार देने के साथ एड्स की जांच की जाए जिसके के तहत स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा टीबी के मरीजों का पहचान करेगी साथ ही जिन्होंने एचआईवी टेस्ट नहीं कराया है इसके बाद सभी मरीजों को जागरूक पर एआरटी सेंटर पर जांच के लिए लाया जाएगा टीबी के मरीज को एचआईवी एड्स की जांच के लिए जागरूक पर एआरटी सेंटर पर लाया जाएगा. सीडीओ डॉक्टर जीएम ठाकुर ने बताया जिले में काफी संख्या में ऐसे लोग हैं जो टीबी होने के बाद भी अपना एचआईवी टेस्ट नहीं कराते हैं इसलिए स्वास्थ्य विभाग ऐसे मरीजों की पहचान करेगा जहां जांच के दौरान अगर कोई मरीज एचआईवी पॉजिटिव पाया जाता है तो उसका इलाज कराया जाएगा उसकी रिपोर्ट गोपनीय रखी जाएगी। जिले में एड्स के 7900 मरीज पंजीकृत है। जिसमे 430 0मरीज की दवा सदर अस्पताल से दी जाती है।

एड्स शरीर की रोग प्रतिरोधक छमता को कम कर देता है:

एड्स स्त्री-पुरुष दोनों को होता है। हमारे शरीर में होने वाले जीवाणुओं के संक्रमण से लड़ने के लिए व्हाइट ब्लड सेल्स होते हैं, जिससे शरीर हानिकारक जीवाणुओं के प्रभाव से सुरक्षित रहता है। शरीर की जीवाणुओं से लड़ने की अपनी इस स्वाभाविक शक्ति को इम्यूनिटी सिस्टम कहा जाता है। एड्स के वायरस इन व्हाइट ब्लड सेल्स को भी क्रियाहीन करके हमारी रोग प्रतिरोधक शक्ति को कम कर देते हैं, जिससे वायरस से लड़ने की हमारे शरीर की शक्ति खत्म हो जाती है और रोग शरीर में अपना अधिकार जमा लेता है। यही कारण है कि इसे इम्यून डेफिशिएंसी यानी रोग प्रतिरोधक शक्ति का कम होना कहते हैं।

जनमानस को रोग के प्रति जागरूक करना जरूरी :

आईसी कम डीआईएस सचिन कुमार पासवान बताया ने कहा कि जागरूकता ही एचआईवी संक्रमण के मामलों को रोकने का एकमात्र तरीका है। इसलिये ये जरूरी है कि रोग के कारण, लक्षण व इसके प्रसार की संभावनाओं के प्रति आम जनमानस को जागरूक किया जाये। एचआईवी व एड्स उन्मूलन की दिशा में लगातार कठिन प्रयास किये जा रहे हैं। बहुद हद तक हम इसमें कामयाब हुए हैं। उन्होंने कहा कि एचआईवी व एड्स सिर्फ स्वास्थ्य से जुड़ा मुद्दा न होकर हमारे समग्र विकास से जुड़ा मुद्दा है। इसलिये हमें हर स्तर पर इसके खतरे व इससे जुड़ी चुनौतियों के प्रति आम लोगों को जागरूक करते हुए इस पर प्रभावी नियंत्रण के उपाय करने होंगे।बैठक में डीपीसी पंकज कुमार, पीओ सुजीत कुमार एवं सभी परामर्शी प्रयोगशाला प्रौद्योगिकी उपस्थित थे।

(मार्क्सवादी) अंचल कमिटी, जयनगर के शाखा यूनिट का हुआ गठन, कुल 17 में से 13 यूनिट का शाखा सम्मेलन हुआ संपन्न

मधुबनी : जयनगर बस्ती शाखा यूनिट के सचिव कॉमरेड श्याम पासवान, दुल्लीपट्टी शाखा यूनिट के सचिव कॉमरेड भोला साह, खैरामाट “ग” शाखा यूनिट के सचिव कॉमरेड सुकेन्द्र प्रसाद, डोरवार शाखा यूनिट के सचिव कॉमरेड उमाशंकर प्रसाद, पीठवा टोल शाखा यूनिट के शाखा सचिव कॉमरेड रत्नेश्वर प्रसाद, बरही शाखा यूनिट के शाखा सचिव कॉमरेड शिव कुमार यादव, बरही (चातर) शाखा यूनिट के शाखा सचिव कॉमरेड मो० आविद, खैरामाट “ख” के शाखा सचिव कॉमरेड चमक यादव, धौली टोल शाखा यूनिट के शाखा सचिव, कॉमरेड कृष्ण देव यादव, बगही शाखा यूनिट के शाखा सचिव कॉमरेड राम चरित दास, पिपरा टोल शाखा यूनिट के शाखा सचिव कॉमरेड श्याम प्रसाद गुप्ता, खैरामाट “क” शाखा यूनिट के शाखा सचिव कॉमरेड गुरुशरण मंडल, देवधा शाखा यूनिट के शाखा सचिव कॉमरेड मो० अलीहस का चुनाव सर्वसम्मति से किया गया।

आयोजित शाखा सम्मेलन में पर्यवेक्षक के रूप में पूर्व जिला मंत्री सह वरिष्ठ किसान नेता कॉमरेड रामजी यादव, राज्य कमिटी सदस्य कॉमरेड शशिभूषण प्रसाद, अंचल मंत्री कॉमरेड उपेन्द्र यादव,पार्टी के युवा नेता सह (अधिवक्ता) कुमार राणा प्रताप सिंह ने भाग लिया।

पार्टी के युवा नेता सह अधिवक्ता ने बताया कि प्रेस रिलीज जारी करने समय तक झूठे हुए शाखा यूनिट जयनगर शहर, कोरहिया, बेला, भेलवा टोल के पास मात्र 25 सितंबर 2021 के 8 बजे पूर्वाह्न तक का समय हैं। अगर निर्धारित तिथि तक 4 छुटे हुए यूनिट अपना सम्मेलन नहीं करा पाते है, तो 26 सितंबर 2021 को आयोजित होने वाले अंचल सम्मेलन में भाग नहीं ले सकते हैं। आयोजित सम्मेलन स्थल का नाम कॉमरेड सुनील कुमार सिंह रखा गया है, जो जनता उच्च विद्यालय बेलही प्रखंड जयनगर में 26/09/2021 को निर्धारित समय 10 बजे से प्रारंभ होगा।

प्रगतिशील किसानों को जिलाधिकारी करेंगे सम्मानित, ऑनलाइन आवेदन के बाद चयन कर 20 किसानों को चुना गया

मधुबनी : समाहरणालय के सभा कक्ष में अमित कुमार, भाoप्रoसेo, जिला पदाधिकारी, मधुबनी की अध्यक्षता में नेशनल मिशन ऑन एग्रीकल्चर एक्सटेंशन एंड टेक्नोलॉजी के अंतर्गत सबमिशन ऑन एग्रीकल्चर एक्सटेंशन आत्मा योजना के तहत वित्तीय वर्ष 2020-21 अंतर्गत प्रखंड एवं जिला स्तर पर कृषि एवं कृषि से संबंधित क्षेत्रों तथा उद्यान, पशुपालन, मत्स्य पालन में अति विशिष्ट एवं उत्कृष्ट कार्यों एवं उपलब्धियों के लिए किसानों को प्रोत्साहित करने हेतु किसान पुरस्कार योजना में किसानों के चयन हेतु बैठक की गई।

उन्होंने कहा कि किसान हमारे समाज की रीढ़ हैं। ऐसे में उनके प्रोत्साहन से और भी बेहतर परिणाम हासिल किया जा  सकते हैं। किसान पुरस्कार योजना कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य प्रखंड एवं जिला स्तर पर उल्लेखनीय रूप से कार्य करने वाले किसानों की उपलब्धियों को सभी किसानों के बीच प्रचारित करना है, ताकि वे इससे प्रेरित होकर जिले में चलाई जा रही कृषि योजनाओं में बढ़ चढ़ कर अपना योगदान दे सकें। किसानों के हित में यह आवश्यक है कि राज्य सरकार द्वारा संचालित सभी योजनाओं में उनकी भूमिका सुनिश्चित की जाय। उन्हें पुरस्कृत किए जाने से जहां उनके कार्य को रेखांकित किया जा सकता है। वहीं इससे अन्य किसानों को प्रोत्साहन भी प्राप्त होगा।

इस कदम से किसानों के बीच प्रतियोगिता की भावना भी विकसित की जा सकेगी, जिससे उन्हें सशक्त एवं स्वावलंबी बनाया जा सकता है। इस पुरस्कार के तहत प्रखंड स्तर पर फसल बार सबसे अधिक उत्पादकता वाले किसान को ₹10000 का पुरस्कार एवं प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जाएगा तथा उन्हें किसान श्री की उपाधि दी जाएगी। जिला स्तर पर चयनित किसानों को ₹25000 का पुरस्कार एवं प्रशस्ति पत्र तथा उन्हें किसान गौरव की उपाधि से सम्मानित किया जाएगा।

बताते चलें कि इक्षुक किसानों के द्वारा बामेती के वेबसाइट पर ऑनलाइन आवेदन किया गया था। ऑनलाइन आवेदनों का फसल कटनी के उपरांत मूल्यांकन किया गया तथा मूल्यांकन पश्चात परियोजना निदेशक, आत्मा मधुबनी के द्वारा वरीयता सूची तैयार करते हुए जिलाधिकारी महोदय को समर्पित की गई। जिले एवं प्रखंड स्तर पर कृषि के क्षेत्र में धान, गेहूं तथा उद्यान के क्षेत्र में आलू एवं मत्स्य पालन हेतु किसानों का चयन जिला स्तरीय चयन समिति के द्वारा किया गया, जिसमें जिला एवं प्रखंड स्तर पर कुल 20 किसानों का चयन किया गया है।

उक्त बैठक में विशाल राज, भाoप्रoसेo, उप विकास आयुक्त, मधुबनी, जिला कृषि पदाधिकारी सह परियोजना निदेशक, आत्मा, मधुबनी, जिला पशुपालन पदाधिकारी, मधुबनी के प्रतिनिधि ,सहायक निदेशक, उद्यान एवं जिला मत्स्य पदाधिकारी, मधुबनी के प्रतिनिधि शामिल थे।

खाद नही देने पर पैक्स अध्यक्ष पर हुआ हमला, घायल अवस्था मे अस्पताल में इलाज को भर्ती

मधुबनी : 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चाें के आधार कार्ड पर खाद नहीं देने के एक मामले में गाँव के ही लोगों ने स्थानीय पैक्स अध्यक्ष पर हमला करते हुए उनको गंभीर रुप से घायल कर दिया है। इलाज के दौरान वरीय चिकित्सक उमेश प्रसाद सिंह ने आकस्मिक कक्ष में पहुंचकर घायल पैक्स अध्यक्ष के स्वास्थ्य का जायजा लिया और अपनी देखरेख में इलाज भी कराया। घायल पैक्स अध्यक्ष को ग्रामीणों ने गंभीर अवस्था में उमगांव सीएचसी में भर्ती करा दिया, जहां उनके सिर से खून बह रहा था और उनके कुर्ते पर भी खून के धब्बे लग गए थे।

खबरों से प्राप्त जानकारी के अनुसार बता दें कि घायल पैक्स अध्यक्ष ने बताया कि जब वह अपने पैक्स गोदाम पर खाद का वितरण कर रहे थे, तो उस समय गांव के कुछ बच्चे अपना आधार कार्ड लेकर आए और खाद देने को कहा। 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चाें के आधार कार्ड पर खाद नहीं मिलेगा, तो वे बच्चे घर चले गए। उसके बाद उसके घर से दो व्यक्ति आए और अचानक हमला कर दिया। पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि बच्चे के नाम पर खाद नहीं देने पर गांव के ही संतोष यादव व जिमदार यादव ने लोहे के रॉड से सिर फोड़ दिया और दोनों ने उनके गल्ले से बेचे गए 40 से 50 बोरी खाद का पैसा भी लेकर भाग गए।

खबरों से प्राप्त जानकारी के अनुसार बता दें कि पिपरौन पंचायत के पैक्स गोदाम पर गुरुवार को खाद वितरण के दौरान खाद नहीं देने पर कुछ लोगों ने पैक्स अध्यक्ष श्याम पूर्वे का सिर फोड़कर घायल कर दिया। इस बाबत स्थानीय थानाध्यक्ष प्रेम लाल पासवान ने बताया कि मामले की जांच चल रही है।

जांच में निगरानी अन्वेषण ब्यूरो का पत्र निकला फर्जी, जांच के बाद सामने आयी हकीकत

मधुबनी : पुलिस निरीक्षक सह सहायक शिक्षक जांचकर्ता, निगरानी अन्वेषण ब्यूरो, पटना सत्येन्द्र राम के नाम से जारी दो लेटर जांच में फर्जी निकला। मधुबनी जिला शिक्षा पदाधिकारी नसीम अहमद के निर्देश पर जब राजनगर के बीईओ ने मामले की जांच की तो पर्दाफाश हो गया। बीईओ ने जांच रिपोर्ट डीईओ को भेज दिया है। जांच रिपोर्ट में बीईओ ने उल्लेख किया है कि वे स्वयं पुलिस निरीक्षक सह जांचकर्ता, निगरानी अन्वेषण ब्यूरो, पटना, कैंप कार्यालय मधुबनी में जाकर जांच किया।

निर्गत पत्रांक-058, दिनांक 02-09-21 एवं पत्रांक-058, दिनांक 30-08-21 का मिलान कराया। यह दोनों पत्रांक गलत पाया गया। जांच में ज्ञात हुआ कि उक्त कार्यालय से कैलाश कुमार एवं राकेश कुमार के नाम से पत्र निर्गत नहीं हुआ है। बीईओ ने डीईओ को यह भी रिपोर्ट किया है कि पत्रांक-058/जांच शाखा दिनांक 02-09-21 के आलोक में वांछित प्रतिवेदन जो प्रावि भरिया विशनपुर की नियोजित शिक्षिका बबीता कुमारी से संबंधित है, जमा करा दिया गया है। निगरानी विभाग के नाम से जारी दो लेटर जांच में फर्जी पाए जाने के कारण अब इस मामले में प्राथमिकी भी दर्ज की जा सकती है।

गौरतलब है कि डीईओ ने प्राथमिक विद्यालय भरिया विशनपुर, राजनगर की पंचायत शिक्षिका बबीता कुमारी को शैक्षणिक एवं प्रशैक्षणिक मूल प्रमाण पत्र उपस्थापित करने के संबंध में राजनगर के बीईओ को पत्र जारी किया था। जिसमें डीईओ ने उल्लेख किया था कि पुलिस निरीक्षक सह सहायक शिक्षक जांचकर्ता, निगरानी अन्वेषण ब्यूरो, पटना कैंप- मधुबनी द्वारा प्राथमिक विद्यालय भरिया विशनपुर, राजनगर की पंचायत शिक्षिका बबीता कुमारी के संबंध में उनके मूल प्रमाण पत्र के लिए राजनगर के बीईओ को लिखा गया है। लेकिन ऐसा प्रतीत होता है कि कुछ शरारती तत्व ने बबीता कुमारी मामले में निर्गत पत्र में टैंपरिंग कर प्राथमिक विद्यालय भरिया विशनपुर, राजनगर के शिक्षक कैलाश कुमार एवं राकेश कुमार से संबंधित फर्जी पत्र के माध्यम से भ्रामक सूचनाएं फैलाई जा रही है।

शिक्षक कैलाश कुमार एवं राकेश कुमार के संबंध में निगरानी अन्वेषण ब्यूरो के नाम से कथित फर्जी पत्र निर्गत किया गया है। पुलिस निरीक्षक सह सहायक शिक्षक जांचकर्ता, निगरानी अन्वेषण ब्यूरो, पटना सत्येन्द्र राम ने राजनगर के प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी को पत्रांक-158, दिनांक 02-09-2021 के तहत पत्र जारी किया था। इस पत्र में उल्लेख किया गया था, कि प्राथमिक विद्यालय भरिया विशनपुर, राजनगर की पंचायत शिक्षिका बबीता कुमारी का शैक्षणिक प्रमाण पत्रों के सत्यापन के क्रम में पाई गई। त्रुटियों के स्पष्ट मिलान के लिए उनके मूल शैक्षणिक व प्रशैक्षणिक प्रमाण पत्रों-प्रवेश पत्र, अंक पत्र, मूल प्रमाण पत्र, पंजीयन आदि की आवश्यकता है।

बबीता कुमारी से संबंधित उक्त प्रमाण पत्र पत्र प्राप्ति की तिथि से एक सप्ताह के अंदर पहचान पत्र के साथ जांच पदाधिकारी के समक्ष उपस्थापित करने को कहा गया था। आशंका व्यक्त की गई थी कि बबीता कुमारी के संबंध में निर्गत पत्र के पत्रांक दिनांक को टैंपरिंग कर उक्त विद्यालय के ही शिक्षक कैलाश कुमार एवं राकेश कुमार के नाम शरारती तत्वों द्वारा पत्र निर्गत कर भ्रम फैलाया जा रहा है। अब जांच में यह स्पष्ट हो गया कि शिक्षक कैलाश कुमार एवं राकेश कुमार के नाम से संबंधित निगरानी विभाग के नाम पर जारी पत्र फर्जी था।

पंचायत चुनाव को लेकर ईवीएम की पहली खेप प्रखंड मुख्यालय पहुंची, चप्पे-चप्पे पर हो रही निगरानी

मधुबनी : ईवीएम कोषांग प्रखंड मुख्यालय के सामने स्थित प्लस टू कामेश्वर सिंह उच्च विद्यालय परिसर को बनाया गया है। तैयारियों का जायजा लेने के लिए जिला ईवीएम कोषांग के नोडल पदाधिकारी सह पीजीआर, बेनीपट्टी किशोर कुमार व जिला परिवहन पदाधिकारी सुशील कुमार प्रखंड ईवीेएम कोषांग परिसर पहुंचे, एवं हुई तैयारियों का जायजा लिया।
ईवीएम के रखरखाव व डिस्पैचिग संबंधी कई आवश्यक दिशानिर्देश आरओ सह बीडीओ डा० अभिजीत चौधरी समेत अन्य कर्मियों को दिया। साथ ही इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए कि सभी पंचायतों के लिए अलग-अलग काउंटर बनाए जाएं। ईवीएम डिस्पैचिग के समय विशेष सावधानी बरतें। बताया जा रहा है कि, कार्य में किसी भी तरह की कोई लापरवाही नहीं कीजानी चाहिए।

मधुबनी जिला परिवहन पदाधिकारी सुशील कुमार ने बताया कि चुनाव कार्य के लिए वाहन मालिकों की सूची भेजी जा चुकी है। प्रखंड प्रशासन पुलिस प्रशासन के सहयोग से 24 सितंबर से मतदान कार्य हेतु वाहनों को जब्त करें। लॉग बुक खुलवा लें। एसडीओ व एसडीपीओ ने किया बूथों का खबरों से प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि, सदर एसडीओ एवं सदर एसडीपीओ ने बूथों का भौतिक सत्यापन किया है।

सूत्रों के अनुसार बताया जा रहा है कि पंडौल में 29 सितंबर को पंचायत चुनाव के लिए होने वाले मतदान की तैयारी प्रखंड प्रशासन युद्ध स्तर पर कर रहा है।बूथों पर शौचालय, रैंप, बिजली व्यवस्था की उपलब्धता का जायजा लिया। वहीं, रहिका प्रखंड क्षेत्र में पंचायत चुनाव को लेकर एसडीएम अश्वनी कुमार और डीएसपी राजीव कुमार ने पोलिग बूथों का स्थलीय निरीक्षण किया।रहिका, सौराठ, हुसैनपुर, सतलखा सहित विभिन्न पंचायतों के दर्जनों पोलिग बूथों पर पहुंचकर शौचालय, विद्युत, सड़क आदि का जायजा लिया। एसडीओ राजीव कुमार ने प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न गावों में जाकर लोगो से शांतिपूर्वक मतदान के लिए स्थानीय लोगों से संवाद स्थापित कर शांतिपूर्ण चुनाव करने की अपील भी किया।

एसडीएम अश्वनी कुमार ने कहा शांतिपूर्वक और निष्पक्ष चुनाव संपन्न कराना उनकी पहली प्राथमिकता हैं। असामाजिक तत्वों पर पुलिस की कड़ी नजर हैं। निरीक्षण के समय थानाध्यक्ष अरुण कुमार, सीओ रामप्रवेश प्रसाद, सब इंस्पेक्टर राहुल कुमार, विकाश दुबे सहित दर्जनों पुलिस कर्मी मौजूद रहे।

आजादी अमृत महोत्सव के तहत फिट इंडिया फ्रीडम रन प्रतियोगिता का आयोजन

मधुबनी : आजादी का अमृत महोत्सव के तहत फिट इंडिया फ्रीडम रन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, प्रतियोगिता प्रखंड मुख्यालय के उमगांव स्थित दीन दयाल प्लस टू हाईस्कूल के मैदान में हुआ। इस प्रतियोगिता में कबड्डी, दौड़, ऊंची कूद, लंबी कूद, फुटबॉल, वॉलीबॉल आदि में सफल प्रतिभागियों को पुरस्कृत भी किया गया। बताया जा रहा है कि सर्वप्रथम एसएसबी ने ध्रुवतारा स्कूल के बच्चों के साथ प्रभात फेरी निकाली और ‘बेटी पढ़ाओ-बेटी बचाओ’ का नारा लगाते हुए पैदल मार्च किया।उमगांव प्लस टू हाई स्कूल के मैदान में खेल प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।

बता दें कि जहां लड़कियों की कबड्डी प्रतियोगिता में ध्रुवतारा स्कूल की बच्चियों ने बाजी मारी और लड़को में हाई स्कूल के बच्चों ने बाजी मारी। वहीं भाषण प्रतियोगिता में सबसे अव्वल जयंती कुमारी, निशा कुमारी व प्रतिभा कुमारी अव्वल रही। सूत्रों के अनुसार बताया जा रहा है कि लड़कों के दौर में प्रथम ध्रुवतारा के मो० चांद द्वितीय हाइस्कूल के कमलेश व तृतीय अरफाज आलम हुए और लड़कियों की दौर में प्रथम ध्रुवतारा की रौशनी कुमारी, द्वितीय मौसम कुमारी व तृतीय पूर्णिमा कुमारी हुई। कार्यक्रम का पिपरौन एसएसबी कंपनी इंचार्ज सह असिस्टेंट कमांडेंट यदुवीर सिंह नेगी ने संचालन किया।

बता दें कि आजादी के 75वें साल के उपलक्ष्य पर एसएसबी द्वारा यह कार्यक्रम सामाजिक चेतना के उद्देश्य से चलाया जा रहा है। कार्यक्रम का उद्देश्य शरीर को फिट रखने, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए लोगों को प्रेरित करना है। इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में हाइस्कूल के प्रभारी एचएम अब्दुल अजीज, अनिल सिंह, ध्रुवतारा स्कूल के निदेशक उमेश ठाकुर व सुभाष प्रसाद सिंह, प्राचार्य गोविद झा, शिक्षक गुलाब झा, मंजू शर्मा, मो० तमीम, पूजा कुमारी, विभा कुमारी, आलोक कुमार, अनुपमा आदि मौजूद थे।

कला संस्कृति एवं युवा विभाग और बिहार राज्य खेल प्राधिकरण के संयुक्त तत्वावधान में वार्षिक खेल कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए अनुमंडल स्तरीय कार्यशाला का हुआ आयोजन

मधुबनी : कला संस्कृति एवं युवा विभाग और बिहार राज्य खेल प्राधिकरण के संयुक्त तत्वावधान में वार्षिक खेल कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए अनुमंडल स्तरीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम के तहत इस वर्ष नवंबर दिसंबर में जिला स्तरीय विद्यालय खेल प्रतियोगिता का आयोजन किया जाना है। शुक्रवार को आयोजित इस कार्यशाला में लखनौर, झंझारपुर, मधेपुर और अंधराठाढ़ी प्रखंड के शारीरिक शिक्षा शिक्षक और खेल प्रभारी शिक्षक उपस्थित हुए और कार्यक्रम के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त की।

मिली जानकारी के अनुसार विद्यालय के प्रधानाध्यापक चंद्रमोहन सिन्हा द्वारा शारीरिक शिक्षा उपाधीक्षक विजय कुमार पंडित को मिथिला परंपरा अनुसार पाग दोपट्टा से सम्मानित किया गया और फिर कार्यशाला का शुभारंभ किया गया। इस अवसर पर बोलते हुए उपाधीक्षक ने कहा कि पिछले वर्ष की तरह इस वर्ष भी अंडर 14 अंडर 17 और अंडर 19 कोटी के प्रतिभागी सूत्रों के अनुसार बताया जा रहा है कि, प्रतियोगिता में भाग लेंगे।अनिवार्य खेल के अंतर्गत एथलेटिक्स, कबड्डी, बैडमिंटन, वॉलीबॉल, क्रिकेट तथा फुटबॉल है।

बताया जा रहा है कि, चिन्हित खेल के अंतर्गत हैंडबॉल, वॉलीबॉल, कराटे, बूशू, खोखो, रग्बी है। इसके अतिरिक्त ओपेन गेम का भी आयोजन होगा।प्रतिभागियों को निर्धारित तिथि से एक सप्ताह पूर्व निबंधन करा लेना अनिवार्य होगा। बता दें कि बिना निबंधन के किसी प्रतिभागी को प्रतियोगिता में शामिल नहीं होने दिया जाएगा। एकलव्य खेल प्रशिक्षण कार्यक्रम के प्रशिक्षक मोहम्मद दानिश द्वारा फुटबॉल तथा डीएवी स्कूल के खेल शिक्षक अमित कुमार द्वारा खो खो खेल के बारे में विस्तार से बताया गया। पूरे कार्यशाला की रूपरेखा और भविष्य की दशा दिशा की जिला प्रशिक्षक सह शारिरिक शिक्षा शिक्षक सुनील कुमार द्वारा दिया गया।

कार्यक्रम से उत्साहित शिक्षकों ने जिलास्तरीय खेल प्रतियोगिता के झंझारपुर ललित कर्पूरी स्टेडियम में आयोजित करने की माँग की। कला संस्कृति एवं युवा विभाग और बिहार राज्य खेल प्राधिकरण के संयुक्त तत्वावधान में वार्षिक खेल कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए अनुमंडल स्तरीय कार्यशाला का आयोजन झंझारपुर के केजरीवाल प्लस टू उच्च विद्यालय में आयोजित किया गया। सभी का कहना था कि जिला स्तरीय खेल प्रतियोगिता के विकेंद्रीकरण से खेलकूद को बढ़ावा मिलेगा और अधिक से अधिक बच्चे इसमें भाग भी लेंगे। इस अवसर पर शिक्षक मदनलाल, जितेंद्र प्रसाद, तेजीलाल राम, चंदा झा, शिव कुमार सहित अन्य शिक्षक उपस्थित रहे।

swatva

Leave a Reply