14 सितंबर : मधुबनी की मुख्य खबरें

0
swatva samachar

प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र झंझारपुर में सुरक्षित गर्भपात पर हुई बैठक

मधुबनी : कोरोना काल में गर्भवती महिलाओं को कई तरह के समस्याओं का सामना करना पड़ा, जिसमें सुरक्षित गर्भपात करना भी एक चुनौती रहा. इसको लेकर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भेजा मधेपुर में परिवार नियोजन पखवारा बैठक आयोजित की गई, जिसमें 22 आशा दीदी एवं 2 आशा फैसिलिटेटर 2 एएनएम को आई पास डेवलपमेंट फाउंडेशन के सीनियर रिसर्च एंड ट्रेनिंग कोऑर्डिनेटर दिनेश कुमार ने सुरक्षित गर्भ समापन और कानून व परिवार नियोजन पखवाड़ा के बारे में विस्तृत जानकारी तथा सही तरीके से गर्भपात को लेकर चर्चा की गई।

उन्होंने बताया कोरोना के समय में लोगों को कई विषम परिस्थितियों से गुजरना पड़ा। इस दौरान कई ऐसी महिलाएं है जो अनचाहे रूप से गर्भवती हो गई। संक्रमण के मद्देनजर वह अपना सुरक्षित रूप से गर्भपात भी नहीं करा सकी। सरकारी अस्पतालों में व्याप्त चिकित्सकीय सुविधा का लाभ से वह वंचित रह गई। लिहाजा उन महिलाओं का गर्भ अब 2 से 3 माह का हो चुका है। इसलिए उनका सुरक्षित रूप से चिकित्सकीय परामर्श आवश्यक है। ताकि उनका सुरक्षित रूप से गर्भ समापन किया जा सके। इसे लेकर सभी को प्रयास करने की आवश्यकता है। खासकर सामाजिक स्थिति में इसे लेकर जागरूकता लानी होगी।

20 सप्ताह तक के गर्भ को कानूनी रूप से समाप्त करने की है इजाज़त:

एमटीपी( मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ़ प्रेगनेंसी) एक्ट 1971 में निहित कुछ निहित शर्तों के तहत कोई भी महिला 20 सप्ताह तक के गर्भ को कानूनी रूप से हटा सकती है। लेकिन एमपीटी एक्ट में कुछ शर्तों का जिक्र किया गया है। जिसका अनुपालन अनिवार्य है तथा इसे लेकर जरूरी दस्तावेज होनी चाहिए। लेकिन इस दरमियान ख्याल रखना होगा कि उनका सुरक्षित रूप से गर्भपात हो सके। इसके लिए उनके परिजनों को खास ध्यान रखने की आवश्यकता है। किसी भी बिचौलियों के चक्कर में नहीं पड़ना चाहिए। किसी तरह की समस्या होने पर निकट के सरकारी अस्पताल में संपर्क करना चाहिए।

सरकारी अस्पतालों में निशुल्क रूप से कानूनी रूप से गर्भपात कराने की सुविधा उपलब्ध है। इस दौरान विशेष परिस्थिति होने पर एंबुलेंस की मदद से महिला मरीज को नि:शुल्क रूप से हायर सेंटर भेजने की सरकारी सुविधा उपलब्ध है। लोगों को इसका लाभ लेना चाहिए। 20 सप्ताह तक गर्भ समापन कराना वैध है. लेकिन 12 सप्ताह के अंदर एक प्रशिक्षित डॉक्टर एवं 12 सप्ताह से ऊपर तथा 20 सप्ताह के अंदर तक में 2 प्रशिक्षित डॉक्टर की उपस्थिति में सदर अस्पताल या सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त अस्पताल में प्रशिक्षित डॉक्टर की मौजूदगी में गर्भपात होनी चाहिए। इस दौरान माहवारी के समय साफ -सफाई के संबंध में विस्तृत जानकारी दी गयी।

असुरक्षित गर्भपात से 8 प्रतिशत महिलाओं की हो जाती मौत:

भारत में होने वाली मातृ मृत्यु में से लगभग 8% मृत्यु असुरक्षित गर्भपात के कारण होती है। यदि किसी महिला को माहवारी के दिन चढ़ गए हो या उससे अनचाहे गर्भ के ठहरने की आशंका हो तो उसे बिना किसी देरी के नजदीकी आशा एएनएम से संपर्क करना चाहिए या डॉक्टर को दिखाना चाहिए अगर गर्भधारण की पुष्टि होती है और महिला गर्भ नहीं रखना चाहती है तो उसे गर्भपात का निर्णय जल्दी ले लेना चाहिए अगर गर्भ 9 सप्ताह तक का हो तो गोलियों द्वारा गर्भपात भी किया जा सकता है। गर्भपात जितना जल्दी कराया जाए उतना ही सरल और सुरक्षित होता है। कई बार ऐसा हो सकता है कि गर्भपात सेवाएं लेने के लिए पहुंचने तक गर्भ 12 हफ्ते से ऊपर का हो इसके पीछे बहुत से कारण हो सकते हैं -जैसे कि गर्भ की जानकारी बाद में लगना होने वाले शिशु में जन्मजात विकृति होना अस्पताल समय से ना पहुंच पाना। सुरक्षित गर्भपात के मद्देनजर समय पर निर्णय न ले पाना इत्यादि।

यदि महिला 12 हफ्ते या 3 महीने से ज्यादा अवधि के गर्भ का गर्भपात करवाना चाहती है तो उसमें उसे घबराने की आवश्यकता नहीं है। 20 सप्ताह तक गर्भपात से जुड़ी सेवाएं लेने के लिए महिला को बड़े अस्पताल जैसे कि जिला अस्पताल 24*7 उपलब्ध सीएससी तथा मेडिकल कॉलेज अस्पताल जाना होगा। गर्भावस्था की अवधि के आधार पर महिला को इन सेवाओं के लिए अस्पताल में भर्ती किया जाता है। महिलाओं को ध्यान रखना चाहिए कि वह गर्भपात के साथ तुरंत ही किसी गर्भनिरोधक साधनों का उपयोग शुरू कर दें क्योंकि गर्भपात और अगले गर्भधारण के बीच में कम से कम 6 महीने का अंतर रखना उचित होता है। इस दौरान बीसीएम विजय कुमार, केयर इंडिया के रणविजय कुमार आदि उपस्थित थे।

लाइसेंसी शस्त्रों का किया गया भौतिक सत्यापन

मधुबनी : आगामी पंचायत चुनाव में विधि-व्यवस्था संधारित रखने के लिए मधुबनी जिले के साहरघाट थाना में अंचल पदाधिकारी राजकुमार पासवान एवं थानाध्यक्ष रामचंद्र चौपाल के उपस्थित में मंगलवार को थाना परिसर में पांच अनुज्ञप्तिधारी शस्त्रों का भौतिक सत्यापन किया गया। बता दें कि डीएम के आदेशानुसार जिले भर के सभी लाइसेंसधारी शस्त्रों का भौतिक सत्यापन किया जाना है, जिसके आलोक में जिले भर के विभिन्न थानों में अनुज्ञप्तिधारी शस्त्रों का भौतिक सत्यापन किया जा रहा है।

गणेश पूजा पंडाल में मामूली विवाद में चली चाकू, ईलाज के दौरान एक की मौत

मधुबनी : जिले के अनुमंडल मुख्यालय जयनगर के कोरहिया गाँव जयनगर थाना क्षेत्र में बीती रात कोरहिया डीहतोल स्थित हो रहे गणेश पूजा पंडाल परिसर क्षेत्र में मामूली विवाद में चल गई चाकू बाजी।चाकूबाजी से घायल लड़को की इलाज के लिए अस्पताल लाया गया, जहां खराब स्थिति को देखते उसे दरभंगा रेफर किया गया। दरभंगा में इलाज के दौरान मौत हो गई। मिली जानकारी अनुसार मृतक का नाम ओम यादव है, और उम्र 12 वर्ष है एवं इनके पिता का नाम उपेंद्र यादव है।

वही आरोपी का नाम मिली जानकारी अनुसार आकाश कुमार यादव उम्र 14 वर्ष है। मौत की खबर सुनते ही मृतक के परिवार के सदस्यों का हालत खराब है, एवं गाव में मातम छा गया है। ग्रामीणों के द्वारा बांस-बल्ला लगाकर सड़क को जाम कर दिया गया। पुलिस को सूचना मिलते ही पुलिस घटना स्थल पर पहुच कर ग्रामीणों को शांत करने का प्रयास कर रही है। समाचार प्रेषण तक जाम को नही हटाया गया था, एवं झगड़ा का कारण का खुलासा अभी तक नही हुआ है।

स्कूल के लापरवाही से 8 साल के बच्चे की मौत

मधुबनी : जिले के जयनगर थाना क्षेत्र स्थित राजकीय कृत मध्य विद्यालय खैराटोल परिसर में अवस्थित तालाब में डूबने से गाँव के ही करीब 8 साल के बच्चे नीतीश कुमार की मौत हो गयी है। घटना मंगलवार सुबह ग्यारह बजे का बताया जा रहा है। घटना की सूचना जयनगर थाना पुलिस को ग्रामीणों ने दी, लेकिन सूचना के तीन घंटे बाद जयनगर थाना पुलिस पहुंची। जब एएसपी जयनगर डा० शौर्य सुमन को लोगों ने घंटों बाद तक भी पुलिस को नहीं पहुंचने की शिकायत की। इसके बाद जयनगर थाना ने घटनास्थल पर पहुंचकर जांच पड़ताल शुरू कर दिया।

ग्रामीणों ने बताया कि मृतक बच्चा इस स्कूल के पहला क्लास का छात्र है। वह मंगलवार को स्कूल में पढ़ने आया था, उसी क्रम में बच्चा का तालाब में डूबने से मौत हो गयी। वही स्कूल के प्रभारी ने बताया कि बच्चा स्कूल में अपना बस्ता रखकर प्रार्थना से पहले हीं अपना बस्ता छोड़कर स्कूल से निकल गया। इस घटना को लेकर गांव में चर्चा का विषय बना हुआ है। सबसे आश्चर्य की बात यह है कि शिक्षक को विद्यालय में रहते हुए भी विद्यमान से बच्चा निकल कर तालाब में डूब जाता है।

हिंदी दिवस के अवसर पर जिले भर में कई कार्यक्रम हुए आयोजित, हिंदी की महत्ता पर हुई चर्चा

मधुबनी : जिले के उच्च विद्यालय, जयनगर में हिंदी दिवस का आयोजन किया गया। विद्यालय के प्रधानाध्यापक मो० नुरुलाह की उपस्तिथि में पूर्व प्रधानाध्यापक नारायण यादव की अध्यक्षता में हिंदी शिक्षक नरेंद्र कुमार के द्वारा हिंदी के उद्भव एवं विकास पर विस्तारपूर्वक बताया गया।

मौके पर विशिष्ट अतिथि विवेक कौशिक ने अपने संभाषण से सबको मोहित किया। इस मौके पर विचार रखने वाले शिक्षकों में विजय प्रसाद, सीताराम सिंह, विभूति कुमार प्रतिहस्त थे। इस मौके पर मंच का संचालन डॉ० केशव चंद्र झा ने किया।वहीं, दर्जनों बुद्धिजीवी एवं कई अन्य लोगों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया।

सरकारी व स्वास्थ्य संस्थानों में लगाए जा रहे तंबाकू मुक्त परिसर की बोर्ड व साइनेज

मधुबनी : स्वास्थ्य विभाग, बिहार सरकार के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (वीसी) के माध्यम से जिले के जिलाधिकारी अमित कुमार एवं सिविल सर्जन डॉ० सुनील कुमार झा को निर्देश दिया की सभी सरकारी परिसर एवं स्वास्थ्य संस्थानों में अविलम्ब तम्बाकू मुक्त परिसर का बोर्ड अथवा होर्डिंग,साइनेज या दीवाल लेखन लगाने की व्यवस्था की जाये। जिसपर उलंघन करने वालों को दंडित करने की प्रावधान का भी जिक्र हो. साथ ही परिसर अथवा चिकित्सीय संस्थान में तंबाकू इस्तेमाल करते हुए पकड़े जाने पर त्वरित दंड का प्रावधान हो.तंबाकू का सबसे ज्यादा दुष्प्रभाव स्कूली बच्चों एवं युवाओं पर पड़ रहा है. इस आदेश का जिले में अनुपालन होता भी दिख रहा है।

सोमवार तथा मंगलवार को जिले के सभी मुख्य सरकारी संस्थानों एवं प्रमुख सार्वजनिक स्थानों पर तंबाकू मुक्त परिसर का बोर्ड अथवा साइनेज लगाने का काम तेजी से किया जा रहा है। गैर संचारी रोग पदाधिकारी डॉ एस.पी. सिंह ने बताया सभी को एकजुट होकर प्रयास करने की जरूरुरत है, जिससे समाज को तंबाकू सेवन के खतरे से अवगत कराते हुए उन्हें तंबाकू से दूरी बनाने के लिए प्रेरित किया जाये.

तम्बाकू सेवन मुख कैंसर का है प्रमुख कारण :

सिविल सर्जन डॉ सुनील कुमार झा ने बताया सभी प्रकार के कैंसरों में तंबाकू के सेवन से जुड़े कैंसरों का हिस्सा 40 प्रतिशत है एवं 90 प्रतिशत मुँह का कैंसर तंबाकू के प्रयोग से होते हैं. तंबाकू सेवन पर रोक लगाने एवं साथ ही तंबाकू से होने वाले विभिन्न प्रकार के कैंसर के बारे में वृहत पैमाने पर जन-जागरूकता फैलाने की जरूरुरत है.तंबाकू का दुष्प्रभाव सबसे अधिक स्कूली बच्चों एवं युवाओं पर पड़ रहा है।

लोगों को जागरूक करना जरूरी:

सिविल सर्जन डॉ सुनील कुमार झा ने कहा कि लोगों को तंबाकू मुक्त और स्वस्थ बनाने के लिये तथा सभी स्वास्थ्य खतरों से बचाने के लिए तंबाकू चबाने या धूम्रपान धुम्रपान के द्वारा होने वाली सभी परेशानियों और स्वास्थ्य जटिलताओं से लोगों को आसानी से जागरूक करने के लिए बैनर, पोस्टर, होर्डिंग आदि लगाया जा रहा है। तंबाकू के बारे में लोगों को जागरूक करने की जरूरत है। सीड्स के कार्यक्रम पदाधिकारी मनोज कुमार झा ने बताया कि मधुबनी जिला के सभी सार्वजनिक स्थानों को तम्बाकू मुक्त क्षेत्र बनाने के लिए यह आवश्यक है कि वहाँ पर तम्बाकू मुक्त क्षेत्र परिसर का साइनेज , बोर्ड, दिवाल दीवाल लेखन या होडिंग लगा होना चाहिए।

इधर-उधर थूकने पर लगेगा जुर्माना:

जिले में तंबाकू का सेवन कर के यत्र तत्र थूकने पर जुर्माने का प्रावधान किया गया है। साथ ही 6 माह की जेल भी हो सकती है । इधर-उधर थूकने से कोरोना वायरस के फैलने का खतरा ज्यादा है। किसी भी सरकारी या गैर सरकारी कार्यालय एवं परिसर में किसी भी प्रकार का तंबाकू पदार्थ, सिगरेट, खैनी, गुटखा, पान मसाला, जर्दा आदि के उपयोग को पूर्णत: प्रतिबंधित है।

सार्वजनिक स्थानों पर थूकना स्वास्थ्य के लिए खतरा:

सीड्स के कार्यक्रम पदाधिकारी मनोज कुमार झा ने बताया कि तंबाकू का सेवन जन स्वास्थ्य के लिए बड़े खतरों में से एक है। सार्वजनिक स्थानों पर थूकना स्वास्थ्य के लिए खतरा है और संचारी रोग के फैलने का एक प्रमुख कारण है। तंबाकू सेवन करने वाले की प्रवृति यत्र-तत्र थूकने की होती है। थूकने के कारण कई गंभीर बीमारी तथा कोरोना, इंसेफलाइटिस, यक्ष्मा, स्वाइन फ्लू आदि का संक्रमण फैलने की आशंका रहती है। भा.द.वि. (आई पी सी) की धारा 268 एवं 269* के तहत कोई भी व्यक्ति यदि महामारी के अवसर पर उपेक्षापूर्ण अथवा विधि विरुरूद्ध कार्य करेगा जिससे जीवन के लिए संकटपूर्ण रोग का संक्रमण हो सकता है तो उसे छह माह की का कारावास एवं अथवा 200 रुपये जुर्माना किया जा सकता है।

हर्षोल्लास के साथ शोभा यात्रा निकाल कर पूरे विधि-विधान से व्याहुत कलवार सेवा समिति के द्वारा मनाया जा रहा बलभद्र पूजा

मधुबनी : जयनगर कमला रोड अवस्तिथ रामजानकी मंदिर के प्रांगण में प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी व्याहुत कलवार सेवा समिति के तत्वावधान में श्री बलभद्र भगवान की पूजा अर्चना हर्षोल्लास के साथ वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ भगवान श्री बलभद्र का पूजा अर्चना किया जा रहा है।

इस मौके पर विनोद कुमार गुप्ता, शम्भू कुमार प्रसाद(आइका जिलाध्यक्ष, कलवार समाज,मधुबनी), रवि कुमार चौधरी, गोपाल साह प्रसाद, शम्भू कुमार प्रसाद, चंदन प्रसाद, रमेश चौधरी, जितेन्द्र प्रसाद, विमल गुप्ता, संतोष साह तथा व्यहुत समाज के कई परिवारों ने विधि-विधान के साथ पूजा अर्चना किया। इसमें काफी संख्या में कलवार समुदाय के लोगों ने शिरकत की।

प्रत्येक वर्ष की तरह जयनगर में हो रहे भगवान श्री बलभद्र की पूजा को लेकर श्रद्धालुओं की भीड़ यहां लगातार जुटी रही। पूजा के बाद प्रसाद वितरण किया गया। ब्याहुत समाज के लोग विशेषकर इस पूजा अर्चना में शामिल हुए। इस दौरान लोगों ने श्री बलभद्र भगवान से शांति, समृद्धि व आरोग्य की कामना की गयी। इस मौके पर आज देर शाम को विशाल भंडारा का भी आयोजन किया गया है। वहीं, पूजा में आने वाले श्रद्धालुओं ने समाज के उत्थान के लिए मन्नतें मांगी।

विधायक द्वारा बर्न यूनिट एवं आई. सी. यू. चलाने की गई मांग

मधुबनी : आरजेडी विधायक सह प्रवक्ता समीर कुमार महासेठ ने बिहार विधानसभा मे शून्यकाल मे़ प्रश्न किया है की मधुबनी सदर अस्पताल मे़ बर्न यूनिट एवं आई.सी.यू. स्थापित है, परंतु यह चालु नही है। जिसके कारण गरीबो को भारी कठिनाई हो रही है। अतः सदर अस्पताल,मधुबनी मे़ बने बर्न यूनिट एवं आई.सी.यू. को चालु किये जाने की मांग करता हूँ।

शून्यकाल के उपरोक्त प्रश्न पर सरकार का वक्तव्य सदर अस्पताल मधुबनी मे बने बर्न यूनिट कार्यरत है। सदर अस्पताल,मधुबनी मे आई.सी.यू. का भवन उपल्बध है। राज्य स्वास्थय समिति,बिहार के अधीन एनएचएम के अन्तर्गत विशेषज्ञ/चिकित्सक/टेक्नीशियन के पद आरोपी मे स्वीकृत है।

विशेषज्ञ/चिकित्सक/टेक्नीशियन कें रिक्त पदो पर नियोजन हेतु रोस्टर क्लीयरेंस के अनुमोदन की कार्रवाई की जा रही है। रोस्टर क्लीयरेंस कें उपरांत नियोजन की कार्रवाई यथाशीघ्र की जायेगी। इसकी प्रतिलिपि अवर सचिव,बिहार विधानसभा सचिवालय,पटना को पांच अतिरिक्त प्रतियों सहित सूचनार्थ प्रेषित की गई है। इसके अलावा इसकी प्रतिलिपि संसदीय कार्य विभाग,पटना(दो प्रतियों मे)/प्रशाखा पदाधिकारी-13,स्वास्थ्य विभाग,पटना को सूचनार्थ एवं आवश्यक कार्रवाई हेतु प्रेषित की गई है।

मछली व्यवसाई की गुवाहाटी मे मौत, परिवार सकते एवं शोक में

मधुबनी : जिले के रहिका प्रखंड के बहरबंद गांव निवासी एहसान अली उम्र करीब 30 साल की मृत्यु गुवाहाटी में हो गया। उनके मृत शरीर को उनके स्थानीय गांव में लाकर दफन किया गया। उनकी माता सैरुल खातून भाई मोहम्मद सुभान और एहसान ने बताया कि एहसान अली गुवाहाटी में मछली बेचने का काम करता था। बीते दिनों 11 सितंबर की रात वह गुवाहाटी में खाना खाकर अपने रूम में सोने गया, जब सुबह नहीं उठा तो उनके परिजनों ने उसे उठाने गया तो मृत पाया गया। उनके परिजनों ने स्थानीय प्रशासन को सूचना देकर पोस्टमार्टम करवाया।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार उनकी मृत्यु(हार्टअटैक) हृदय गति अचानक रुकने से हुई मौत। जबकि परिजनों का कहना है कि उनके गले पर काला निशान लगा हुआ था, जिससे लग रहा था किसी ने उसे गला दबाकर मार दिया है। पोस्टमार्टम करने के बाद उसके बॉडी को उनके परिजनों को दे दिया गया और परिजनों द्वारा गांव भेजा गया। जहां उसे जनाजे के नमाज अदा कर दफना दिया गया। परिजनों ने बताया कि इरफान अपने पीछे वृद्ध मां, पत्नी और छोटे-छोटे दो बेटे छोड़ गए हैं। गांववाले ने बताया कि अब इरफान के जाने के बाद उनके वृद्ध मां, पत्नी और छोटे बच्चे को निवाला खिलाने वाला अब कोई नहीं रहा।

फुलपरास के सिसवा बरही निवासी स्वतंत्रता सेनानी स्व० नसीब लाल यादव के सम्मान में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के द्वारा साइकिल रैली

मधुबनी : स्वतंत्रता सेनानी के परिजनों को प्रशस्ति पत्र देकर केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के पुलिस उप-महानिरीक्षक अनिल कुमार समूह केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल सिलीगुड़ी नोडल अधिकारी बकार अहमद के द्वारा किया गया। आजादी का अमृत महोत्सव के द्वारा केंद्रीय रिजर्व बल के द्वारा 31अगस्त से जोकीहाट असम से 2अक्टूबर को गांधी जयंती पर दिल्ली राज घाट पर पहुंचेंगे। इसी क्रम में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवान सोमवार को फुलपरास पहुंचे और आज मंगलवार की सुबह में सिसवा बरही स्वतंत्रता सेनानी स्वर्गीय नसीब लाल यादव द्वार के निकट सम्मान समारोह केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवानों के द्वारा किया गया।

इसमें स्वतंत्रता सेनानी के परिजन और रहिका सेंट्रल को ऑपरेटिव बैंक मधुबनी के अध्यक्ष ब्रह्मा नन्द यादव, कृष्न कुमार सिंह, चितरंजन यादव, देब रंजन यादव, जितेंद्र यादव, शशि रंजन, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी प्रभात कुमार शर्मा, प्रखंड विकास पदाधिकारी फुलपरास कृष्ण मुरारी एवं अन्य सभी लोगो ने पुलिस बल और पदाधिकारियों को मिथिला परंपरा अनुसार पाग़,माला एवं दोपट्टा से सम्मानित किया गया, और साइकिल वाली को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया।

पंचायत चुनाव-2021 के मतदान को स्वच्छ, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण कराने को लेकर जनकपुर धाम नेपाल में भारत-नेपाल सीमा के संबंधित मुख्य पदाधिकारी एवं अधीक्षकों के साथ बैठक आहुत की गई

मधुबनी : उक्त बैठक का नेतृत्व भारत की ओर से डॉ० मनीष कुमार, भा.प्र.से., आयुक्त, दरभंगा प्रमण्डल, दरभंगा द्वारा किया गया। साथ ही उक्त बैठक में मधुबनी जिला से अमित कुमार, जिला निर्वाचन पदाधिकारी (पं.)-सह-जिला पदाधिकारी, मधुबनी, डॉ० सत्यप्रकाश, पुलिस अधीक्षक, मधुबनी, भारतीय सीमावर्ती क्षेत्र के अनुमण्डल पदाधिकारी, अनुमण्डल पुलिस पदाधिकारी, क्रमशः बेनीपट्टी जयनगर एवं फुलपरास के अतिरिक्त एसएसबी जयनगर एवं एसएसबी राजनगर के समादेष्टा के साथ-साथ अपर जिला दण्डाधिकारी, मधुबनी, विशेष कार्य पदाधिकारी, मधुबनी, उत्पाद अधीक्षक, मधुबनी, कस्टम अधीक्षक, जयनगर द्वारा बैठक में भाग लिया गया।

नेपाल की ओर से प्रदीप राज कनेल, मुख्य जिल्ला पदाधिकारी, सिरहा के नेतृत्व में मुख्य जिल्ला पदाधिकारी, धनुषा, महोतरी, सप्तरी के साथ-साथ पुलिस अधीक्षक, नेपाल, धनुषा, महोतरी, सिरहा एवं सप्तरी के अतिरिक्त अन्य पदाधिकारीण द्वारा भाग लिया गया। बैठक के दौरान मधुबनी जिला में पंचायत चुनाव, जो दिनांक-29.09.2021 से 12.12.2021 तक 10 चरणों में सम्पन्न होगी, के संबंध में भारतीय सीमा से लगे अंतराष्ट्रीय सीमा पर विधि-व्यवस्था एवं शांतिपूर्ण वातारण में मतदान सम्पन्न कराने हेतु

निम्नांकित बिन्दूओं पर सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया:-

1. मधुबनी जिला में पंचायत चुनाव के मद्देनजर दोनों देश के सीमावर्ती क्षेत्र तत्काल प्रभाव से लगातार वाहनों की चेकिंग प्रारंभ करने का निर्णय लिया गया।
2. मतदान के दिन सीमावर्ती क्षेत्र के वाहनों की आवागमन पर पूर्ण रोक लगाए जाने का निर्णय लिया गया, जिसमें आवश्यक सेवा से पड़े वहनों का जांचोपरांत सीमावर्ती क्षेत्र में प्रवेश कराने का निर्णय लिया गया।
3. पंचायत चुनाव को लेकर सीमावर्ती क्षेत्र में दोनों देश की ओर से सघन गस्ती कराने पर निर्णय लिया गया।
4. मधुबनी जिला में होने वाले पंचायत चुनाव को लेकर सीमावर्ती क्षेत्र में दोनों देश की ओर से सीमावर्ती क्षेत्र में असामाजिक तत्वों पर कड़ी निगरानी रखने हेतु निर्णय लिया गया।
5. मतदान के एक दिन पूर्व दोनों देश की ओर से शुस्क दिवस (Dry Day) मनाने का निर्णय लिया।
6. दोनों देश की ओर से सीमावर्ती क्षेत्र में होनेवाले अपराध/अपराधिक गति-विध, मानव तस्करी, मादक द्रव्य एवं जाली नोट के जांच हेतु लगातार जांच करने एवं आपसी सहयोग से उसपर नियंत्रण रखने हेतु निर्णय लिया गया।
7. बैठक में दोनों देश के पुलिस पदाधिकारी द्वारा अपराध करके एक-दूसरे के देश में घुसने वाले अपराधी की सूची का आदान-प्रदान किया गया।
8. दोनों देश अपराधिक गति-विधि पर रोक लगाने हेतु सूचना तंत्र को मजबूत करने का निदेश दिया गया साथ हीं सीमावर्ती क्षेत्र में अवैध हथियार का आदान-प्रदान एवं आतंकवादी गतिविधि पर कड़ी निगरानी रखने हेतु निर्णय लिया गया।
9. सीमावर्ती क्षेत्र में शांति-व्यवस्था बनाए रखने हेतु दोनो देश के स्थानीय पुलिस पदाधिकारी एक-दूसरे देश से लगातार सम्पर्क स्थापित कर कार्रवाई करने का निर्णय लिया गया। इस बैठक सौहार्दपूर्ण वातावरण में सम्पन्न हुई।

सुमित कुमार की रिपोर्ट

swatva

Leave a Reply