09 मई : मधुबनी की मुख्य खबरें

0
swatva samachar

टीका लगवा कर कोविड के खिलाफ जंग में शामिल हुए युवा, टीके को लेकर युवाओं में दिखा उत्साह

मधुबनी : कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में रविवार से युवाओं का टीकाकरण शुरू किया गया टीका लगवाने में है युवाओं का गजब का उत्साह देखा गया लेकिन वैक्सीन की कमी के कारण सैकड़ों युवाओं को निराश होकर लौटना पड़ा मालूम हो कि पहले दिन के लिए 700 लोगों का पंजीयन रद्द कर दिया गया था परंतु विभाग के उदासीनता के कारण लोगों तक यह मैसेज नहीं पहुंच पाया कि उनका रजिस्ट्रेशन रद्द कर दिया गया है ऐसी स्थिति में अत्यधिक भीड़ एकत्रित हो गई जिसे नियंत्रित करने में काफी मशक्कत करनी पड़ी।

निराश लौटे युवाओं में ने कहा अमरजीत गौरव कृति कुमारी ने बताया टीके के लिए रजिस्ट्रेशन कराया था तथा स्लॉट बुक कर समय तथा तारीख निर्धारित का मैसेज आया था यहां पहुंचने पर पता चला कि मेरा रजिस्ट्रेशन कैंसिल कर दिया गया है टीका लगवाने के लिए सुबह 8:00 बजे ही सत्र स्थल पर पहुंच गए थे घंटों इंतजार करने के बाद निराश लौटना पड़ रहा है।

खूब हुए रजिस्ट्रेशन :

कोरोना से बचाव के लिए टीके लगवाने के लिए सजगता अब लोगों में आने लगी है यही कारण है कि 28 अप्रैल से 18 से 44 साल तक के लोग पोर्टल पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करने में जुटे रहे 1 मई से वैक्सीनेशन शुरू करने की बात कही गई थी बाद में इस पर रोक लगा दी गई थी अब 9 मई से वैक्सीनेशन की बात सुनते ही युवाओं में खुशी का माहौल है सभी अपॉइंटमेंट बुक करने में जुट गए

45 से अधिक उम्र वालों के लिए जारी रहेगा टीकाकरण :

जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ एसके विश्वकर्मा ने बताया 45 साल से अधिक उम्र के बालों के लिए टीकाकरण प्रक्रिया जारी रहेगी 9 मई को 18 से 454 वर्ष के लोगों को टीका लगाने की शुरुआत की गई जबकि 45 साल से ऊपर के वालों के लिए टीकाकरण सतत प्रक्रिया चलती रहेगी स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि 45 साल से अधिक वालों के लिए टीके के पहले या दूसरे डोज लगवाना है वे समान रूप से अपने निकटतम केंद्र पर जाएं।

अमित रंजन ने बताया विभिन्न बीमारी से बचाव के लिए बचपन में टीके लगाए गए थे अब अपने होश हवास में कोविड-19 लगवाना काफी अच्छा महसूस कर रहा हूं युवाओं से अपील करता हूं जिनकी भी बारी आए जरूर टीकाकरण करवाएं ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराने वाले ही जाएं टीके लगवाने कोरोना के टीके के लिए जिनका ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन हुआ है उन्हीं को टीके लगाए जाएंगे 18 से 44 साल के लोगों को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना होगा बिना रजिस्ट्रेशन के टीका नहीं लगाया जाएगा इस आयु वर्ग के लोगों के लिए ऑन द स्पॉट पंजीयन की कोई व्यवस्था नहीं होगी।

विभिन्न मांगों के आलोक में फेयर प्राइस डीलर्स एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री से समन्वय बैठक की अपील की, कहा जल्द खत्म हो गतिरोध

मधुबनी : फेयर प्राइस डीलर्स एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष बरूण कुमार सिंह एवं प्रदेश महामंत्री कृष्ण कुमार सिंह ने बिहार के सभी प्रदेश पदाधिकारी एवं सभी जिला के अध्यक्ष सचिव व प्रखण्ड अध्यक्ष सचिव से वर्चुअल वैठक मे सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि, एसोसिएशन की लंबित माँग पर मुख्यमंत्री स्तर पर ही निर्णय के वाद 05-05-2021 से हो रहे हड़ताल को समाप्त किया जाएगा, और जब तक मुख्यमंत्री स्तर पर वार्ता नही होती है, जन-वितरण प्रणाली के विक्रेताओ का 05-05-2021 से हो रहा अनिश्चित कालिन हड़ताल जारी रहेगा।

प्रदेश अध्यक्ष बरूण कुमार सिंह एवं प्रदेश महामंत्री कृष्ण कुमार सिंह ने मुख्यमंत्री नीतीस कुमार से खाद्ध एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग को अपने पास या अपने अधिनस्त रखने एवं मुख्यमंत्री की अध्यक्षता मे ही राज्य स्तरीय समीक्षा वैठक में पूर्व की भाँति एसोसिएशन के प्रतिनिधि पदाधिकारी को आमंत्रित करने की मांग की है। मुख्यमंत्री जी की अध्यक्षता मे ही वैठक किया जाएगा, तत्पश्चात एसोसिएशन के द्वारा घोषित 05-05-2021 से अनिश्चित कालिन हड़ताल को समाप्त कराने का निर्णय लिया जाएगा।

प्रदेश अध्यक्ष बरूण कुमार सिहं एवं प्रदेश महामंत्री कृष्ण कुमार सिंह ने एसोसिएशन के लंबित प्रमुख माँग निम्न है:-

1). बिहार के 38 जिला मे कोरोना वायरस से लाभुको एवं विक्रेताओं को बचाव के लिय एवं उसे रोकथाम के लिय तत्काल प्रभाव से प्रखण्ड आपूर्ति पदाधिकारी की देख रेख मे खाद्वयान का वितरण में आंशिक संसोधन कर लाभूक के थंब (ऑथेनटीकेशन) के स्थान पर जन वितरण विक्रेता के थंब (ऑथेन्टीकेशन) के आधार पर वितरण करने का आदेश जनहीत आदेश देना अति आवश्यक है।
2). विक्रेता को विभाग स्तर से सुरक्षा कीट, साबुन, ग्लव्स मास्क, सेनीटाइजर उपलब्ध कराते हुए जान माल की सुरक्षा करते हुए विक्रेता अपने लाभूक को खाद्धयान दे सके।
3). बिहार के 38 जिला के जन वितरण विक्रेता या उसके नौमिनी को सरकारी सेवक बनाया जाए, या प्रतिमाह तीस हजार रुपया मानदेय दिया जाए या तत्काल खाद्ध एवं उपभोक्ता विभाग के सचिव स्तर से भारत सरकार के खाद्ध एवं अभोक्ता मामले विभाग के संयुक्त सचिव को 300 रुपया भेजा गया प्रस्ताव को मंजूर किया जाए।
4). पूर्व की भाँति अनुकम्पा पर अनुज्ञप्ति देते, सप्ताहिक छुट्टी व निलम्वन आदेश लागू करना।
5). राज्य खाद्ध निगम से अरवा चावल के स्थान पर उसना चावल नेटवेट व सही मापतौल कर खाद्धयान दिया जाए।
6). सामान्य मृत विक्रेता को दस लाख रुपया वीमा राशि निर्धारित किया जाए।

उक्त मांगों के आलोक में मुख्यमंत्री से अनुरोध किया है कि मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में वैठक करने या वर्चुअल वैठक करने के लिय एसोसिएशन दो प्रतिनिधियों अध्यक्ष महामंत्री को आमंत्रित किया जाय, ताकि बिहार के सभी 38 जिला में जन वितरण विक्रेताओ का हो रहे अनिश्चित कालिन हड़ताल को समाप्त कराकर गरीव लाभूक का खाद्धयान मुहैया कराया जाए।

प्रदेश अध्यक्ष बरूण कुमार सिंह एवं प्रदेश महामंत्री कृष्ण कुमार सिंह ने कहा कि कई वर्षों से कई वार प्रर्दशन एवं हड़ताल किया गया है। मुख्यमंत्री जी की अध्यक्षता मे कभी वैठक हुआ ही नही है। हर बार आन्दोलन मे मुख्यमंत्री जी द्वारा निर्देश मिलता रहा कि मंत्री स्तर पर ही वैठक कराए तत्पश्चात मंत्री स्तर पर वैठक होती रही, लेकिन एक भी माँग पर कोई आदेश विभागिय सचिव के द्वारा निर्गत नही किया गया। यह वात सत्य है कि जिस दिन मुख्य मंत्री की अध्यक्षता में बैठक हो गई, तो विक्रेता को विश्वास है जायज मांग पूरा हो जाएगा। लेकिन आपूर्ति विभाग के लोग मुख्यमंत्री स्तर पर एसोसिएशन की माँग को नही रखते है।

निजी अस्पताल प्रबंधकों द्वारा कोरोना पीड़ितों के परिजनों से मनमानी रुपये लूटने के सम्बंध में कांग्रेस जिलाध्यक्ष ने डीएम को लिखा पत्र

मधुबनी : विदित हो कि बिहार सरकार द्वारा कोरोना पीड़ितों के इलाज के लिए निजी अस्पतालों में सभी तरह के वेड के लिए पैसा निर्धारित कर दिया गया है, और इसी दर पे निजि अस्पताल के प्रबन्धको को इलाज करने का आदेश भी निर्गत किया जा चुका है। लेकिन दुःख के साथ कहना पर रह है कि निजि अस्पताल के प्रबन्धको ने इस विपदा की घड़ी में पीड़ितों के परिजनों से मनमानी ढंग से रकम वसूलने का खेल खेला जा रहा है।

मुझे कई परिजनों ने जानकारी दी है कि आईसीयू वेड आक्सीजन युक्त 30 हजार से 40 हजार रुपये प्रतिदिन एवं आईसीयू वेड वेंटिलेटर युक्त 35 हजार से 50 हजार तक वसूला जा रहा है। साथ ही सामान्य वेड ऑक्सीजन के साथ 20 हजार से 25 हजार रुपये लिए जा रहा है, जो अमानवीय के साथ-साथ कानूनी अपराध की श्रेणी में आता है। किसी भी अस्पताल में सरकार द्वारा निर्धारित इलाज का दर तालिका नही लगाया गया है।

मुझे जो जानकारी मिल रही है प्रबंधकों के द्वारा पीड़ितों के परिजनों को पहले वेड खाली नही है। ये कह कर उसे हतोत्साहित किया जाता है, फिर उससे मुंहमांगी रकम वसूला जाता है। मेरा तो स्पष्टरूप से कहना है कि मधुबनी जिला प्रशासन अविलंब प्रभावी कदम उठाए और सभी निजी अस्पतालों में वेड एवं इलाज के लिए एक बरीय पदाधिकारी को नोडल अधिकारी के रूप में पदस्थापित किया जाए। जो सभी अस्पतालों में उनके देख रेख में वेड एवं इलाज का खर्च का मूल्यांकन कर सकें, साथ ही प्रतिदिन नोडल अधिकारी लोगों को वेड की जानकारी सार्वजनिक रूप से घोषणा करें।

मैं आपसे पहले भी वाट्सएप के माध्यम से पत्र लिखकर आग्रह किया हूँ कि इस भयानक परिस्थिति में सरकार के स्तर से क्या व्यवस्था की गई है, और उसे किस प्रकार लागू की जा रही है। लोगों को विशेष जानकारी के लिए एक सर्वदलीय बैठक बुलाई जाए, और सभी चीजों पर विस्तृत चर्चा हो। लेकिन आज तक आपके स्तर पे कोई कार्रवाई नही की जा सकी है। अतः आपसे आग्रह है कि इन सभी समस्याओं पर शीघ्राति-शीघ्र संज्ञान लेकर आवश्यक कार्रवाई करने के दिशा में ठोस पहल हो, नही तो बाध्य होकर जिला कांग्रेस कमिटी मधुबनी लॉक डाउन का नियमों का उल्लंघन कर आंदोलन करने पर विवश होगी।

सेवा का पूरा हुआ आज 300वां दिन, लगातार सहयोग मिलने पर अनवरत जारी है माँ अन्नपूर्णा कम्युनिटी किचन की सेवा

मधुबनी : कोरोना काल मे गरीब, निःसहाय, विकलांग, जरूरतमंद लोगों कि उम्मीद बनी माँ अन्नपूर्णा कम्युनिटी किचन, लॉकडाउन के समय से ही लोगों की कर रही है रोज सेवा। यूं तो इस कोरोना काल मे हर लोग अपनी जिंदगी की जद्दोजहद में जुट है। गरीब लोगों के सामने भूखे लोगों को खाना तक नसीब होने में परेशानी हो रही है।

ऐसे में मधुबनी जिले के जयनगर शहर की माँ अन्नपूर्णा सेवा समिति संगठन की एक शाखा, माँ अन्नपूर्णा कम्युनिटी किचन, जिसका मकसद सड़क किनारे, रेलवे स्टेशन पर व शहरी क्षेत्र में भूखे लोगों को खाना उपलब्ध कराना है। पिछले लगभग 300 दिनों से जयनगर शहर और कुछ चुने घरों में खाना वितरण कर रही है। पिछले लॉक डाउन के समय से ही एक भी दिन ऐसा नहीं हुआ, जिस दिन भूखों को भोजन ना दिया गया हो।

यह संस्था पिछले 300 दिनों से हर शाम शहर में घूम-घूम कर रेलवे स्टेशन, पटना गद्दी रोड, भेलवा चौक, यू-टर्न रोड, कमला पुल सहित अन्य जगह भूखे लोगों को लिए खाना देने का कार्य करती है।

वहीं, संस्था के मुख्य संयोजक समाजसेवी अमित राउत ने बताया कि लॉक डाउन के दौरान से ही हम गरीब, असहाय, निर्धन कुछ लोगों को खाने की हो रही दिक्कत को देखते हुए हम पिछले 300 दिनों से लगातार पौष्टिक खाना पैक कर शहर के लगभग सभी जगहों पर जैसे कि रैलवे स्टेशन परिसर, शहीद चौक, पटना गद्दी चौक, भेलवा टोल, यू-टर्न सड़क, कमला पुल के दोनों छोड़ के तरफ निःस्वार्थ भावना से उच्च गुणवत्ता वाले भोजन के 100 पैकेट का वितरण किया करते हैं, और अब जनसहयोग मिलने से हमारा मनोबल बढ़ा है।

आशा और उम्मीद के साथ शुरू किया हुआ ये नेक कार्य अब अनवरत जारी रहेगा। पिछले कई महीनों में काफी सहयोग लोगों से मिला है, अब ओर भी लोगों का सहयोग इसमें हमें मिल रहा है। आज के दाता श्री विकास चंद्रा जी हैं, आज उनके द्वारा जयनगर रेलवे स्टेशन परिसर में गरीबों के बीच #भोजन, फेस मास्क एवं साबुन का वितरण किया गया है। इस नेक कार्य मे उत्साहवर्धन के लिए जयनगर दैनिक जागरण के पत्रकार राघवेन्द्र झा ‘बब्लू’ एवं पब्लिक एप्प, जयनगर के पत्रकार गुड्डू गुप्ता मौजूद रहे।

इस नेक कार्य मे प्रवीर महासेठ, मनोज सिंह, विकास चंद्रा, राजेश गुप्ता, ललन कुमार, अमित अमन, मनीष कुमार रोहिता, प्रभात झा, सुमित पंजियार, बब्लू कुमार, हिमांशु जायसवाल, जितेंद्र मंडल, लखन महासेठ, लक्ष्मण यादव, मिथिलेश महतो, प्रथम कुमार, हर्षवर्धन कुमार, विक्रांत सिंह, प्रहलाद शर्मा, श्रवण शर्मा, पप्पू पूर्वे, संतोष शर्मा, सुनील कर्ण, विशाल नायक, किशन महतो, अमित महतो एवं अन्य लोग भी इसमें इनका सहयोग कर रहे हैं।

मधुबनी के विभिन्न केंद्रो पर 18 से 44 वर्ष के लोगों को टीका लगाने का कार्य शुरू

मधुबनी : मधुबनी की सभी केंद्रो पर 18 से 44 वर्ष के लोगों को टीका लगाने का कार्य रविवार से शुरु कर दिया गया। इस दौरान युवाओं ने काफी उत्साह के साथ टीका लगवाया।

इधर, बेनीपट्टी अनुमंडल कार्यालय परिसर में स्थित एएनएम स्कूल टीकाकरण केंद्र पर रविवार को 18 से 44 वर्ष उम्र के ढ़ाई सौ लोगों को टीका लगाया गया। युवाओं ने काफी उत्साह के साथ कोविड-19 टीका का पहला डोज लिया। दूसरी ओर एसडीएम अशोक कुमार मंडल ने टीकाकरण केंद्र पर पहुंच वैक्सीनेशन कार्य का जायजा लिया।

18वर्ष से ऊपर वालों का वैक्सीनशन आज से हुआ शुरू, देखा गया युवाओं में खासा उत्साह

मधुबनी : जिले के अंधराठाढ़ी प्रखंड के एमआरजी हाई स्कूल परिसर में रविवार को तीसरे चरण की टीकाकरण अभियान शुरू हो गया। इस अभियान में 18 से 44 साल की उम्र के लोगों को टीका दिया जाएगा। हालांकि इस दौरान भीड़ का जबरदस्त नजारा देखने को मिला जहां सामाजिक दूरी की खुलकर धज्जियां भी उड़ाई गई।

मालूम हो कि कोरोना से बचाव के लिए 18 से 44 साल की उम्र के लोगों के लिए नि:शुल्क टीकाकरण का केंद्र सरकार ने एलान किया है। इस के तहत अंधराठाढ़ी प्रखंड में हजारों की संख्या में ऑनलाइन पंजीकरण हुए हैं। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार रविवार को काफी तनाव पूर्ण माहौल में पहले दिन का टीकाकरण अभियान रहा। सुबह 9 बजे से शाम 3 बजे तक 310 लोगों को वैक्सीन का पहला डोज दिया गया है। इस मौके पर स्वास्थ्य प्रबंधक सुशील कुमार कश्यप, रंजीत कुमार आदि मौजूद थे।

जन अधिकार पार्टी के जिलाध्यक्ष पूर्व विधानसभा प्रत्याशी बना कोरोना काल मे जरूरतमंदों को ऑक्सीजन देकर बने मसीहा

मधुबनी : वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए बिहार राज्य सरकार के द्वारा 15 मई तक लाॅक डाउन लगाया गया है। इस विपदा की घड़ी में अपने भी पराए लग रहे हैं।

वहीं मधुबनी जिले के जन अधिकार पार्टी के जिला अध्यक्ष एवं 33-खजौली विधानसभा के पूर्व प्रत्याशी ब्रजकिशोर यादव लगातार कई दिनों से इस संकट की घड़ी में अपने जान की परवाह किए बगैर बीमार व जरूरतमंद लोगों के बीच जा कर ऑक्सीजन दे रहे हैं। जो भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या है, उसमें बढ़-चढ़ कर सहयोग कर रहे हैं।

उनका कहना है कि इस महामारी के समय जाती, धर्म व राजनीति से उपर उठकर लोगों की जिन्दगी बचाना सबसे महत्वपूर्ण है। वे रात दिन मानवता की सेवा में लगे हुए हैं। रात हो या दिन कोई भी जरूरतमंद उनके पास पहुंचता है, वे हर संभव उनकी मदद करते हैं। जरूरतमंदों को आक्सीजन गैस सिलेंडर मुहैया कराना या फिर मरीजों को एम्बुलेंस से मधुबनी, दरभंगा और पटना ले जाना, दबा उपलब्ध कराना उनकी दिनचर्या बन गया है।

सुमित कुमार की रिपोर्ट

swatva

Leave a Reply