08 मई : मधुबनी की मुख्य खबरें

0
swatva samachar

कोविड संक्रमण काल में अनाथ हुए बच्चों का चाइल्ड केयर होम में रखा जाएगा ख़्याल

मधुबनी : कोरोना महामारी की दूसरी लहर की चपेट में कई दंपत्तियों को अपनी जान गवानी पड़ी है। ऎसे में उनके पीछे उनके बच्चों की देखभाल करने वाला कोई शेष नहीं बचा है। इस महामारी में किसी ने अपने माँ-पिता में से किसी एक को खोया है तो किसी ने दोनों को। इस महामारी ने कितने बच्चे को अनाथ किया है, इसका कोई आधिकारिक आंकड़ा तो सामने नहीं आया है।

लेकिन, ऐसे बच्चों को आज आगे बढ़कर मदद करने की दरकार है। इस समस्या को गंभीरता से लेते हुए राज्य सरकार के समाज कल्याण विभाग के निदेशक-सह-मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी (सक्षम योजना) राज कुमार ने सभी जिले के जिला पदाधिकारियों को कोविड महामारी के कारण अनाथ हुए बच्चों की सुरक्षा के मद्देनजर आदेश जारी किया है। जिन बच्चों ने कोविड-19 की वजह से अपने परिवार का सपोर्ट खो दिया है या कोविड-19 के चलते उनके मां- बाप की जान चली गई है उन्हें अब किशोर न्याय (बालकों की देखरेख और संरक्षण) अधिनियम 2015 के तहत देखभाल और सुरक्षा प्रदान की जाएगी।

बच्चों, दिव्यांगों, वृद्धजनों तथा विधवाओं को सुरक्षित रखने को समाज कल्याण विभाग ने गंभीरता दिखाई है-

कोरोना महामारी की दूसरी लहर से उपजी परिस्थितियों तथा कोरोना संक्रमण के प्रसार को नियंत्रित करने एवं बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने तथा समाज में सबसे वंचित समूहों यथा – बच्चों, दिव्यांगों, वृद्धजनों तथा विधवाओं को सुरक्षित रखने के लिए समाज कल्याण विभाग ने गंभीरता दिखाई है। इसको लेकर समाज कल्याण विभाग के निदेशक – सह – मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी राज कुमार ने सभी जिलों के जिला पदाधिकारियों को अनुरोध पत्र जारी किया है, जिसमें वंचित समूहों को जिला स्तर पर पर्याप्त सुविधा उपलब्ध कराने की बात कही है।

बच्चों को चाइल्ड ट्रैफिकिंग में जाने से रोकने एवं इसके नियमित अनुश्रवण के निर्देश :

जारी पत्र में कहा गया है कि कोरोना संक्रमण की स्थिति में यदि कोई बच्चा अनाथ होता है तो प्रभावित बालक व बालिका को अविलंब चाइल्ड केयर होम में रखने के लिए जरूरी व्यवस्था किये जाने की भी बात कही गयी है। साथ ही कहा गया है इन परिस्थितियों में ऐसे अनाथ बच्चों को ट्रैफिकिंग में वृद्धि हो सकती है। अतः इसके नियमित अनुश्रवण की आवश्यकता पर भी बल देने के निर्देश दिए गए हैं। जारी पत्र में कहा गया है कि समाज में अभी वंचित समूह यथा – दिव्यांगों, वृद्धजनों तथा विधवाओं से संबंधित समस्याओं को प्राथमिकता के आधार पर निष्पादन किए जाने की आवश्यकता है ताकि कोरोना महामारी की कठिन परिस्थिति में उन्हें सुरक्षित रखा जा सके।

101 अनुमंडलों में संचालित बुनियाद केंद्रों का कोविड केयर सेंटर अथवा वैक्सीनेशन सेंटर के रूप में होगा उपयोग :

जारी पत्र में कहा गया है कि समाज कल्याण विभाग के अधीन कार्यरत स्टेट सोसायटी फॉर अल्ट्रा पुअर एंड सोशल वेलफेयर के सक्षम योजना अंतर्गत सभी 101 अनुमंडलों में संचालित बुनियाद केंद्र का कोविड केयर सेंटर अथवा वैक्सीनेशन सेंटर के रूप में उपयोग किया जा सकता है। सभी जिले में संचालित मोबाइल थेरेपी एवं और आउटरीच वैन “संजीवनी सेवा” का उपयोग आउटरीच कार्य अथवा टीकाकरण के कार्य में यथासंभव करने की सलाह भी दी गयी है। वहीं कोरोना संक्रमण से हुई मृत्यु की परिस्थिति में लाभुक के परिवार को वित्तीय सहायता देने के उद्देश्य से कबीर अंत्येष्टि अनुदान योजना का लाभ नियमानुसार करने के भी निर्देश दिए गए हैं।

दो पटिदार के बीच वर्षों से चल रहा भूमी विवाद को लेकर मारपीट एक दर्जन लोग घायल

मधुबनी : जिले के हरलाखी थाना क्षेत्र के बरही गांव में जमीनी विवाद को लेकर दो पटिदार के बीच हुई मारपीट में दोनों पक्षों के करीब एक दर्जन लोग घायल हो गए। सभी घायलों को ईलाज के लिए सीएचसी ले जाया गया, जहां कई घायलों की हालत को नाजूक देखते हुए चिकित्सक ने रेफर कर दी।

मिली जानकारी के अनुसार दोनों पटिदार के बीच वर्षों से भूमी विवाद चल रहा है। इसी दौरान शुक्रवार को दोनों पक्षों में कहासुनी होते-होते मारपीट शुरु हुई। दोनों तरफ से ताबड़तोड़ लाठी डंडे चलना शुरु हो गया, अंधाधुंध लाठी चलने की विडियो सोशल मिडिया पर भी तेजी से वायरल होने लगा।

बताया जा रहा है कि राम बिहारी मंडल और उतिमलाल मंडल के बीच मारपीट शुरु हुई, जिसमें एक पक्ष के राम बिहारी मंडल, अरुण मंडल, प्रदीप मंडल, गुलाब मंडल, गीता देवी,दीलीप मंडल घायल हो गए। जबकि दुसरे पक्ष से वार्ड सदस्य उत्तिम लाल मंडल, शत्रुधन मंडल, बिन्दे कुमार मंडल घायल हो गया। इस बावत थानाध्यक्ष प्रेम लाल पासवान ने बताया कि पुलिस मामले की जांच कर रही है।

गैस सिलेंडर लीकेज से घर मे लगी आग, लाखों के सामान जलकर हुए राख, बाल-बाल बचे लोग

मधुबनी : जिले के हरलाखी प्रखंड के फुलहर गांव में भोगेन्द्र साह के घर में गैस सिलेंडर लीकेज करने से घर में आग लग गई। आग लगने से लाखों के सामान जलकर नष्ट हो गए, जबकि इस हादसे में बाल बाल घर के लोगों की जान बच गई।घर में आग का इतना ज्यादा तांडव था, कि उसे बुझाने में मोहल्ले के सारे लोग करीब एक घंटे तक मशक्कत करते रहे।

ग्रामीणों के सहयोग से बड़ा हादसा होने से टल गया। जानकारी देते हुए पीड़ित परिजनों ने बताया कि गैस गोदाम से सिलेंडर लाने के बाद घर में खाना बनाने के लिए जैसे ही चूल्हा जलाया तो सिलेंडर के पास आग धधक उठा। डर से घर की महिलाएं घर से बाहर निकल कर चिल्लाने लगी। उसके बाद घर लोग व आस पास के लोगों ने बालू व चट्टी वाले बोरी लेकर आग फेंक रहे सिलेंडर पर ढंकने लगे। काफी मशक्कत के बाद आग बुझाया गया। लेकिन तबतक घर मे रखे कपड़े, फर्नीचर, बर्तन, चूल्हा, ट्रंक व उसमे रखे सामान, गोदरेज, मोबाइल, अनाज व रुपये भी जलकर नष्ट हो गए।

पीड़ित परिजनों द्वारा अगलगी में करीब दो लाख रुपये की क्षति बताए गए हैं। मुखिया पति रामप्रकाश साह उर्फ छोटे साह ने बताया कि घटना को लेकर मुआवजे के लिए एजेंसी से शिकायत की गई है। एजेंसी प्रबंधक ने बताया कि घटना को लेकर जांच के बाद इंश्योरेंस क्लेम किया जाएगा।

लॉक उल्लंघन करने वालों के प्रति पुलिस पदाधिकारी ने करवाई को किया काफी तेज कई खुले दुकान को किया गया सील

मधुबनी : जिले के बिस्फी प्रखंड क्षेत्र के कई गांवों एवं चौक चौराहे पर पुलिस प्रशासन द्वारा लगातार दौड़ लगाई जा रही है। अनावश्यक रूप से सड़कों पर घूम रहे लोगों एवं खुले दुकानदारों से बार-बार अपील करने के बावजूद अपनी आदतों से बाज नहीं आने के बाद प्रशासन अपनी तेवर काफी बदल कर क़ानूनी एवं कागजी प्रक्रिया काफी तेज कर दी है।

वही कई दुकान खुले पाए जाने के बाद बिस्फी थाना अध्यक्ष संजय कुमार एवं सीओ प्रभात कुमार के द्वारा दुकान को पूर्ण रूपेण सील कर दिया गया। कोरोना वायरस महामारी बढ़ते संक्रमण को देख सरकार ने 15 अप्रैल तक लॉकडाउन की घोषणा जारी की है, जिसके बाद पुलिस प्रशासन काफी सक्रिय होकर लॉक डाउन पालन कराने को लेकर काफी हरक्क्त में आ गई है।

वही लॉक डाउन को उल्लंघन करते पाये गये नूरचक चौक इस्थित भवानी हार्ड वेयर, प्रियंका वस्त्रालय, सिंह ड्रेसेज तथा भैरवा चौक समीप मो० इरसाद के दुकान को पुलिस प्रशासन द्वारा कड़ी फटकार लगाते हुए विधिवत रूप से सील कर दिया तथा सीओ प्रभात कुमार बिस्फी थाना अध्यक्ष संजय कुमार बीडीओ अहमरअब्दाली औंसी ओ पी थाना प्रभारी कुणाल कुमार सहित पुलिस पदाधिकारी दल बल के साथ प्रखंड के बिस्फी, धजवा, सकराढ़ी, भैरवा बलहा, बेंगरा चहुटा सहित गांव एवं चौक चौराहो पर माइकिंग के माध्यम से लोगों को अपने अपने घर में रहने हाथ को सेनिटाइज करने को लेकर जागरूक भी कर रही है। अनावश्यक रूप से घर से बाहर नही निकलने दुकानों को बंद रखने की नसीहत दी गई।

लॉक डाउन को लेकर सख्त हुआ जिलाप्रशासन, निर्देश उपरांत सख्ती से कराया जा रहा पालन

मधुबनी : कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए बिहार सरकार ने 15 मई तक सम्पूर्ण लॉक डाउन किया गया है। उस बाबत सभी जिलाधिकारी ने अपने जिले के सभी एसडीएम, सीओ, बीडीओ को सख्त निर्देश दिए हैं इसके अनुपालन को।

मधुबनी जिले के लदनियां अंचलाधिकारी निशीथ नंदन के पूरे अंचल में लॉकडाउन सख्ती से पलने कया जा रहा है। गश्ती के दौरान तेनुआही, पद्मा, सिधपकला चौक पर दुकानदारों को 11 बजे के तक सभी दुकान बंद करने का निर्देश दिया और मेडिकल स्टोर के अलावा सभी दुकान बंद करने का सख्त हिदायत दिये।

मोटरसाइकिल एवं चार पहिया वाहन चालक सख्त हिदायत दिया गया की बिना काम के सड़क पर न घूमें। हालांकि कुछ वहां चालक एवं मटरगशती करने वालों को दंडित किये, और कुछ को उठक-बैठक करके छोड़ दिया गया। उन्हीने अपील करते हुए कहा कि अतिआवश्यक कार्य से ही घर से बाहर निकले, एवं लॉकडाउन का सख्ती से पालन करें, साथ ही राहगीरों को जागरूक किये। इस मौके पर लदनिया सीओ निसिथ नंदन तथा लदनियां थाना के अन्य कई पुलिस बल तैनात थे।

एनएच के निर्माण में बरती जा रही घोर लापरवाही, आये दिन हो रही कई दुर्घटनाएं

मधुबनी : जिले के जयनगर अनुमंडल मुख्यालय के जयनगर शहर के शहीद चौक से महावीर चौक एनएच द्वारा निर्माण कराए जा रहे सड़क निर्माण कर्म में निर्माण एजेंसी की घोर लापरवाही झलक रही है। स्थानीय लोगों की मानें तो निर्माण स्थल पर विभागीय अधिकारियों के अनुपस्थिति रहने के कारण निर्माण एजेंसी बिना सड़क निर्माण कार्य में विलंब के साथ कार्य में लापरवाही बढ़ती जा रही है।

ऐसे में सड़क एक तरफ तो बन रही है, दूसरी तरफ से यातायात का आवागमन है। ऐसे में समय बचाने के लिए आपाधापी में वहां चालक लेन बदल कर गाड़ी चलाते हैं, ऐसी इस्तिथि में कई बार दुर्घटना हो चुकी है। बावजूद इनके न ही निर्माण ऐजेंसी ओर न ही स्थानीय प्रशासन इस ओर ध्यान दे रही है। हालांकि इस बार कई बार निर्माण एजेंसी के इंजीनियर या निर्माता कॉन्ट्रैक्टर से बात करने की कोशिश की, पर असफलता मिली।

सूत्रों की माने तो शहरी क्षेत्र के महावीर चौक से शहीद चौक तक महज आधे किलोमीटर सड़क निर्माण कार्य में विभागीय लूज पूर्ज व्यवस्था के कारण काफी विलंब किया जा रहा है, जिस कारण आम राहगीरों के साथ वाहन चालकों को भारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।

यातायात नियमों के तहत निर्माण एजेंसी के द्वारा निर्माण कार्य हेतु कार्य प्रगति संबंधित साइन बोर्ड नहीं लगाए जाने के कारण रात्रि में निर्माण एजेंसी में उद्योग होने वाले लोहे के राडो अच्छी तरह से घायल हो चुके हैं, जबकि अब तक दर्जनों वाहनों का टायर लोहे की रॉड से कट चुका है। एजेंसी की लापरवाही उस समय देखने को मिला जब शहीद चौक से शहीद स्मारक तक नवनिर्मित पीसीसी पर तेज धूप में जल के माध्यम से पानी का छिड़काव किया है। पीसीसी सड़क पर पानी कंपनी से सड़क हाल जल्द ही में बदहाल हो सकता है।

सूत्रों ने बताया कि निर्माण एजेंसी की लापरवाही का मुख्य कारण विभागीय अधिकारियों की अनुपस्थिति मानी जा रही है। अगर निर्माण स्थल पर विभागीय अधिकारियों की उपस्थिति हो, तो एजेंसी कर्मियों में अधिकारियों की उपस्थिति का भय रहेगा और ठीक कार ठीक से किया जाएगा। सूत्रों की माने तो जब से एनएच सड़क निर्माण कार्य शुरू किया गया है, तब से सबके सामने निर्माण कार्य की गुणवत्ता पर लोगों के द्वारा प्रश्न उठाया जा रहा है। पीसीसी पर सही रूप से अधिवेशन मशीन का उपयोग भी नहीं किया गया है।

पिकअप वैन की ठोकर से बच्ची की मौत, आक्रोशित लोगों ने किया सड़क जाम

मधुबनी : जिले के बेनीपट्टी अनुमंडल के साहरघाट थाना क्षेत्र के बैंगरा में पिकअप वैन की ठोकर से एक बच्ची की दर्दनाक मौत हो गयी। घटना शनिवार को साहरघाट दरभंगा स्टेट हाइवे स्थित बैंगरा चौक पर दिन के करीब 12 बजे के आस-पास की है।

मृत बालिका की पहचान साहरघाट थाना के उतरा पंचायत अंतर्गत मिनती गांव के उस्मान अंसारी की पुत्री कसिरा खातून (16) के रूप में की गयी है। घटना में दो अन्य लोगों को भी घायल होने की सूचना मिल रही है, हालांकि पिकअप वैन को जब्त कर चालक को गिरफ्तार कर लिया गया है। उधर, आक्रोशित लोगों ने मुआवजे की मांग को लेकर बांस बल्ले से सड़क जाम कर प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की, और इसके बाद सभी धरने पर बैठ गये।

बताया जा रहा है कि शनिवार की दोपहर 12 बजे मृत बालिका अपनी मां के साथ साहरघाट बाजार से खरीदारी कर वापस अपने घर मिनती लौट रहीं थीं, जहां त्रिमुहान के तरफ से अचानक तेज रफ्तार से आ रही पिकअप वैन ने बालिका को ठोकर मार दी। ठोकर मारने के बाद पिकअप वैन लेकर तेज गति से साहरघाट की ओर भागने लगा, जिसे चौक पर मौजूद कुछ लोगों ने बाइक से पिकअप वैन का पीछा कर साहरघाट में पकड़ा।

सूचना मिलते ही पुलिस पहुंचकर पिकअप वैन व चालक को अपने कब्जे में ले लिया। इस बाबत साहरघाट एसएचओ सुरेंद्र पासवान ने कहा कि घटनास्थल पर पुलिस परिजनों से वार्ता कर रही है। जल्द ही वार्ता कर सड़क जाम को हटा कर यातायात बहाल कराया जायेगा।

सुमित कुमार की रिपोर्ट

swatva

Leave a Reply