7 अगस्त : मधुबनी की मुख्य ख़बरें

0
swatva samachar

गर्भवती महिलाओं में एनीमिया खतरनाक, जच्चा बच्चा की जान को रहता खतरा

मधुबनी : वैश्विक महामारी कोरोना ने दूसरी आवश्यक स्वास्थ्य मुद्दों से हमारा ध्यान खींचा है. लेकिन इस समय में संक्रमण से बचाव के साथ साथ हमें अन्य स्वास्थ्य समस्याओं की ओर भी से सजग रहना है. इनमें गर्भवती महिलाओं से जुड़ी समस्याएं व जटिलताएं शामिल हैं जिसका ससमय प्रबंधन आवश्यक है. इनमें से एक है- एनीमिया, जो गर्भवती महिलाओं की प्रमुख व आम समस्या है. इसका सही समय पर पहचान कर, सही पोषण तथा डॉक्टर से सलाह लेकर निजात पाई जा सकती है।

राष्ट्रीय परिवार एवं स्वास्थ्य सर्वे (एनएफएचएस 4) की रिपोर्ट के अनुसार जिला में 15 से 49 वर्ष की 54 फीसदी गर्भवती महिलाओं को एनीमिया रहता है. जबकि इसी आयुवर्ग की कुल 62 फीसदी महिलाएं एनीमिया पीड़ित हैं.

एनीमिया के दुष्प्रभाव को जानना जरूरी:

खून में आयरन यानि लौह तत्व की कमी एनीमिया कहलाता है. रक्त में हीमोग्लोबिन का स्तर सामान्य से कम हो जाने पर शरीर में ऑक्सीज़न का प्रवाह बाधित होता है. गर्भवती महिलाओं में एनीमिया, प्रसव के दौरान या इसके बाद कई जटिलताओं व जोखिम को जन्म देता है. जैसे समय से पूर्व प्रसव का दर्द, जन्म के समय शिशु का वजन कम होना, कमजोर शिशु, मृत शिशु का जन्म व विकलांगता तथा नवजात की मृत्यु जैसे खतरे बढ़ जाते हैं. इसके साथ ही गर्भावस्था में संक्रमण का भी खतरा रहता है.इसलिए बीमारियों से बचाव करना भी गर्भवती महिलाओं के लिए बहुत जरूरी है.

पौष्टिक आहार व आयरन गोली हैं कारगर:

स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञ डॉ. प्रवृत्ति मिश्रा ने बताया गर्भवती महिला का हर माह प्रसव पूर्व जांच आवश्यक है. ताकि एनीमिया का पता लगाया जा सके. एनीमिया के हल्के प्रभाव को पौष्टिक आहार से पूरा किया जा सकता है. जबकि गंभीर एनीमिया के लिए दवाईयों का इस्तेमाल होता है. गंभीर एनीमिया का तुरंत उपचार जरूरी है. अन्यथा जोखिम बहुत अधिक होता है. गंभीर एनीमिया थैलीसिमिया, सिकल सेल, आंत के संक्रमण व दूसरी अन्य बीमारियों की भी वजह बनता है. पालक, हरी सब्जी व मछली, दूध व अंडा आदि का नियमित सेवन शरीर में आयरन की मात्रा को बढ़ाता है. गर्भावस्था में बहुत अधिक चाय व कॉफी के सेवन से बचना चाहिए. गर्भवती महिलाओं को अच्छी नींद लेनी चाहिए. गुड़ और चना का सेवन काफी लाभप्रद होता है. इसके साथ चुकंदर, सूखे मेवे व मौसमी फल जरूर लें.

आयरन की 180 तथा 180 कैल्सियम जरूर लेनी चाहिए:

डॉ. मिश्रा ने बताया जिन महिलाओं में खून की कमी हो, उन प्रेग्नेंट महिलाओं को बच्चे को जन्म देने से पहले 180 कैल्शियम की तथा 180 आयरन की गोलियां लेनी चाहिए और 180 आयरन की गोली जन्म देने के बाद डॉक्टर की सलाह से लेनी चाहिए। गर्भवती महिलाओं को चार प्रसव पूर्व जांच एवं टिटनेस का टीका सुरक्षित प्रसव के लिए जरूरी होता है।

ये लक्षण दिखें तो हो जाएँ सर्तक:

• थकान व कमजोरी का एहसास
• सांस फूलना
• ह्रदय धड़कन तेज होना
• सिरदर्द व चिड़चिड़ापन
• होंठ का सूखना व फीकापन
• भूख कम होना
• पैरों में दर्द व ऐंठन

बच्चों को कराए स्तनपान, रहेगा निरोग

मधुबनी : मां बनने का अहसास ही अलग होता है, मातृत्‍व में आने के बाद माएं अपने शिशु के बेहतर स्‍वास्‍थ्‍य के लिए हर छोटी-छोटी बातों का ध्‍यान रखती हैं। जब एक नई जिंदगी इस दुनिया में आती है तो वह बेहद ही नाजुक होती है। उसे जरूरत होती है सम्पूर्ण आहार की जो उसे मां के दूध से मिलता है। इसीलिए नवजात का सर्वोत्तम आहार मां के दूध को माना गया है।

डीएमसीएच के वरीय चिकित्सक डॉ० अमोद ने बताया बच्चे के लिए मां का दूध अमृत के समान है। इससे बच्चे का संपूर्ण विकास होता है। बच्चों के शारीरिक व मानसिक विकास के लिए माँ के दूध से बेहतर कुछ भी नहीं होता। विशेष परिस्थिति को छोड़कर मां को अपने बच्चों को नियमित स्तनपान कराना चाहिए, जिससे मां और बच्चा दोनों को फायदा होता है। वही बाजार का दूध बच्चों के लिए नुकसानदायक होता है जो उसके स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है।

स्तनपान कराने से मां और बच्चे दोनों को होता है लाभ

मां के दूध में सभी वो पोषक तत्व पाए जाते हैं जो शुरुआती बीमारियों से लड़ने में सक्षम हो सकते हैं। शुरुआती छह महीने तक बच्चों को स्तनपान कराना बहुत जरूरी होता है। इससे उनके शरीर को विकसित होने में काफी मदद मिलती है। इसके बाद भी कई महिलाएं फिगर खराब होने के डर से अपने बच्चे को स्तनपान नहीं कराती हैं। जबकि स्तनपान, वजन कम करने में सहायक होता है, जब माँ, अपने शिशु को स्तनपान कराती है तो उसका शरीर लगभग 450 से 500 कैलोरी खर्च करता है, इससे प्राकृतिक ढंग से वजन कम करने मे मदद मिलती है।

मां के लिए स्तनपान कराने के हैं बहुत से लाभ

– प्राकृतिक ढंग से वजन कम करने में है सहायक
– स्तन व गर्भाशय जैसे विशेष कैंसर्स और डायबिटीज जैसी बीमारियों की संभावना कम होती है
– माँ और शिशु के बीच भावनात्मक रिश्ते को करता है मजबूत
– डिलिवरी के बाद कम से कम ब्लड लॉस
– पोस्ट पार्टम डिप्रेशन से बचाव
– स्तनपान कराने से हड्डियां होती है मजबूत
– स्तनपान के दौरान गर्भ धारण की सम्भवना कम होती है।

बोतल के दूध से होता है नकुसान, बच्‍चों के पेट में पहुंच सकते हैं खतरनाक रसायन

डॉ० आमोद के अनुसार मार्केट में मिलने वाले दूध में सिर्फ मिलावट का खतरा ही नहीं होता है, बल्कि इनमें काफी मात्रा में कैलोरी होती है जो बच्चे के मोटापे की वजह बनती है। एक रिसर्च में ये पाया गया कि बोतल से दूध पीने वाले बच्चे मोटापे का जल्दी शिकार होते हैं।इसके साथ ही उन्होंने बताया महिलाएं बच्‍चों को दूध पिलाने के ल‍ए जो प्लास्टिक की बोतल का इस्तेमाल करती हैं। वह प्लास्टिक कई तरह के रसायनों को मिलाकर बनाया जाता है। जब इसमें बच्चे को पिलाने वाला गर्म दूध डाला जाता है तो इसमें मौजूद रासायनिक तत्व दूध के साथ मिल जाते हैं। जिसके बाद ये दूध काफी खतरनाक हो सकता है तथा बच्चों को कई तरह की संक्रामक बीमारियों का खतरा बढ़ा देता है। वहीं, मां के दूध में पाए जाने वाले पौष्टिक तत्‍व बच्चों को निमोनिया, दस्त जैसी गंभीर बीमारियों से बचाते हैं।

डीएम ने जनप्रतिनिधियों की कोविड की स्थिति की समीक्षा

मधुबनी : जिला पदाधिकारी डाॅ0 निलेश रामचन्द्र देवरे के द्वारा जिले में कोरोना महामारी के रोकथाम हेतु जिला प्रशासन स्तर से किए जा रहे कार्यों से जिले के सभी माननीय मंत्रीगण, माननीय सांसद, माननीय विधायक तथा माननीय विधान पार्षद को अवगत कराया गया तथा इसे और बेहतर करने के लिए सभी माननीय के सुझाव लिए गए। इस दौरान माननीय सांसद रामप्रीत मंडल, पी0एच0ई0डी0 मंत्री श्री बिनोदा नन्द झा, बेनीपट्टी विधायिका श्रीमती भावना झा, फुलफरास विधायिका श्रीमती गुलजार देवी, माननीय विधायक बिस्फी फैयाज अहमद, माननीय विधायक झंझारपुर श्री गुलाब यादव, माननीय विधायक समीर कुमार महासेठ , माननीय विधायक श्री सुधांशु शेखर माननीय विधायक हरलखी श्री सुधांशु शेखर तथा विधान परिषद श्री सूमन महासेठ आदि विडियो काॅन्फ्रेसिंग के माध्यम से समीक्षा के दौरान जुड़े थे।

सर्वप्रथम जिला पदाधिकारी द्वारा सभी जन-प्रतिनिधियो को जिले में कोराना महामारी के रोकथाम हेतु किए जा रहे कार्यों से अवगत कराया गया।जिला पदाधिकारी ने जिले में कार्यरत 4 कोविड केयर सेन्टर क्रमशः रामपट्टी, झंझारपुर, बेनीपट्टी एवं जयनगर की व्यवस्थाओ से अवगत कराया गया। जिला मुख्यालय में कार्यरत जिला कोविड कण्ट्रोल रूम सह टेलीफोनिक परामर्श केन्द्र के बारे में भी जन-प्रतिनिधियो को बताया गया। जहां से जिला के वरीय पदाधिकारी एवम् चिकित्सा पदाधिकारी कोराना केयर सेंटर एवम् होम आइसोलेट मरीजों से टेलीफोनिक संपर्क स्थापित कर आवश्यक सुझाव देने तथा उनकी स्वास्थ्य के बारे में जिला पदाधिकारी एवम् जिला चिकित्सा प्रभारी को अवगत कराने का निर्देश दिया गया है। जिला पदाधिकारी द्वारा बताया गया की जिले में प्रतिदिन प्रत्येक पी0एच0सी0 सेन्टर को 150 रैपिंड एंटीजन टेस्ट करने ,10 आर0टी0पी0सी0आर0 टेस्ट करने एवं 10 ट्रुनेट टेस्ट करने का टारगेट दिया गया है। जिला के सभी आमलोगो में यह प्रचारित कराया गया है कि उनमें कोविंड के किसी प्रकार के लक्षण पाए जाने पर अपने स्थानीय पी0एच0सी0 सेन्टर पर जाकर टेस्ट करवा सकते है। सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी एवम् पीएचसी प्रभारी को कोविड प्रभावित मरीजों हेतु स्थानीय स्तर पर आइसोलेशन सेंटर का स्थान चिन्हित कर सभी आवश्यक व्यवस्था करने का आदेश दिया गया है।होम आइसोलेट मरीजों को मेडी किट उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है।

इस बीच सभी जन-प्रतिनिधियो द्वारा जिला पदाधिकारी के स्तर से किए जा रहे कार्यो की प्रशंसा की गई विशेष रूप से झंझारपुर सांसद श्री रामप्रीत मंडल एवम् विधान पार्षद श्री सुमन महासेठ ने covid positive पाए जाने पर कि गई सहायता के लिए अलग से धन्यवाद दिया गया। जिला पदाधिकारी द्वारा कारोना के प्रभाव को रोकने हेतु जिला स्तर से किए जा रहे प्रयास को और बेहतर बनाने के लिए सभी माननीयों से सुझाव मांगे,जिसमे माननीय विधायक समीर कुमार महासेठ द्वारा रामपट्टी कोविड केयर सेन्टर में सुगर लेवल टेस्ट स्थापित करने एवं कोविड प्रभावित मरीजो को जिले में उपलब्ध स्पेसलिस्ट डाॅक्टर से टेलीफोनिक परामर्श दिलाने का अनुरोध किया गया।

इसी प्रकार झंझारपुर विधायक श्री गुलाब यादव द्वारा लखनौर तथा लौकही पी0एच0ई0सी0 सेन्टर किट उपलब्ध कराने का अनुरोध किया गया। बेनीपट्टी विधायिका श्रीमती भावना झा के द्वारा होम आइसोलेंट मरीजो को ससमय मेडिकल कीट उललब्ध कराने का अनुरोध किया गया। बिस्फी विधायक फैयाज अहमद के द्वारा सभी जन-प्रतिनिधियो एवं जिला पदाधिकारी को अवगत कराया गया की मधुबनी मेडिकल काॅलेज में दिनांक 16 अगस्त से आर0टी0पी0सी0आर0 टेस्ट कराने की सुविधा उपलब्ध हो जाएगी। जिसके पश्चात जाॅच हेतु आई0सी0एम0आर0 पटना में सैम्पल भेजने की आवश्यकता नही होगी। जिसपर सभी जनप्रतिनिधि एवम् जिला पदाधिकारी ने उनका धन्यवाद किया।

पी0एच0डी0 मंत्री बिहार सरकार श्री बिनोदा नन्द झा द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग तथा मास्क पहनने पर जोर देने का सुझााव दिया गया, साथ ही जिले को ज्यादा मात्रा में वेंटीलेटर उपलब्ध कराने हेतु स्वास्थ्य मंत्री को अनुरोध करने का आश्वासन दिया।

विधान पर्षद श्री सूमन कुमार महासेठ के द्वारा कोविड केयर सेन्टर पर केन्द्र सरकार से प्राप्त वेंटीलेटर को शीघ्र लगवाने का अनुरोध किया गया। सदर अस्पताल मधुबनी में आक्सीज़न पाइप लाइन लगाने तथा कोविड प्रभावित मरीजो को ले जानेवाले एम्बुलेंस का निरंतर सेनेटाइज कराने का अनुरोध किया गया। माननीय पार्षद द्वारा जिले के रामपट्टी कोविड केयर सेन्टर के साफ-सफाई, पानी की व्यवस्था एवं खाने की क्वालिटी को नियमित रूप से जिला प्रशासन द्वारा जाॅच करने का अनुरोध किया गया। जिले के विभिन्न दवा दुकानो द्वारा पल्स ऑक्सी मीटर के कालाबजारी होने की सूचना जिला पदाधिकारी को देते हुए इसपर कारवाई करने का अनुरोध किया गया। माननीय सांसद श्री रामप्रीत मंडल द्वारा अंधराठाढ़ी प्रखण्ड के मरूतिया गांव के लोगो का कोविड जाॅच कराने का जिला पदाधिकारी से अनुरोध किया गया। माननीय जन-प्रतिनिधियो द्वारा प्रखण्ड तथा पंचायत में कार्यरत रहे आइसोलेंशन सेन्टर के भोजन एवम् अन्य सामग्री उपलब्ध कराने वाले के बकाया राशि का भुगतान अविलंब कराने का अनुरोध जिला पदाधिकारी से किया गया।

सभी माननीय के द्वारा दिए गए सुझााव को शीघ्र अमल में लाने का आश्वाशन देते हुए जिला पदाधिकारी द्वारा सभी माननीय को अपना बहुमूल्य समय देने के लिए धन्यवाद दिया गया।

डीएम बाढ़ एवं अतिवृष्टि से उत्पन्न स्थिति को ले जनप्रतिनिधियों संग की समीक्षा बैठक

मधुबनी : जिला पदाधिकारी द्वारा जिले के सभी माननीय मंत्री, सांसद, विधायक, एवं विधान पार्षद के साथ बाढ़ एवं अतिवृष्टि से उत्पन्न समस्याओ एवं उसपर जिला प्रशासन, मधुबनी के स्तर से की जा रहे कार्यों की समीक्षा की गई एवं उसे और बेहतर बनाने हेतु सभी जन-प्रतिनिधियो से उनके सुझाव आमंत्रित किए गए।

जिला पदाधिकारी द्वारा बताया गया की मधुबनी जिले के बेनीपट्टी, बिस्फी, मधवापुर, मधेपुर, घोघरडीहा आदि के कतिपय पंचायत पुर्ण एवं आशिक रूप से बाढ़ प्रभावित होने का जांच प्रतिवेदन प्राप्त है। इन सभी प्रखण्डो के पंचायतों के बाढ़ प्रभावित परिवारो की सूची तैयार कर सहायता राशि (जी. आर.)उपलब्ध कराने की कारवाई की जा रही है ।जिले में बाढ़ की संभावना देखते हुए जिला प्रशासन पुरी तरह से मुस्तैद है।जिला में एनडीआरएफ एवम् एसडीआरएफ की टीमों को अलर्ट मोड में रखा गया है।जिला के बाढ़ प्रभावित प्रखंड हेतु उपलब्ध नावों अतिरिक्त नये नावों को खरीदने की अनुशंसा एमएलए एवम् एमएलसी स्तर से प्राप्त हो चुका है और आगे की कार्यवाही की जा रही है। मौसम विभाग के सर्वे के अनुसार जिला में इस वर्ष सामान्य से ज्यादा वर्षा होने के कारण फसले की क्षति अधिक हुई है। जिसका सर्वे प्रखण्ड कृषि पदाधिकारी एवं किसान सलाहकार द्वारा कराई जा रही है। तदोपरांत प्रभावित किसानो को मुआवजा दिलाने हेतु कृषि विभाग को सूची भेजी जाएगी।

समीक्षा के दौरान बिस्फी के विधायक फैयाज अहमद, बेनीपट्टी के विधायिका श्रीमती भावना झा, झंझारपुर विधायक गुलाब यादव तथा हरलाखी विधायक सुधांशु शेखर तथा फुलफरास विधायिका श्रीमती गुलजार देवी के द्वारा क्रमशः बिस्फी, बेनीपट्टी, लखनौर,माधवपुर, मधेपुर ,फुलपरास के बाढ़ प्रभावित कतिपय अन्य पंचायतो का नाम बाढ़ प्रभावित सूची में सम्मलित करने हेतु जिला पदाधिकारी से अनुरोध किया। जिसपर जिला पदाधिकारी के द्वारा जांच कराकर अग्रेतर कारवाई का आश्वाशन दिया गया। जबकि मधुबनी विधायक समीर कुमार महासेठ के द्वारा रहिका एवं पण्डौल के फसल क्षति का सर्वे कराकर किसानों को मुआवजा का शीघ्र भुगतान कराने का अनुरोध जिला पदाधिकारी से किया गया। जिसपर जिला पदाधिकारी द्वारा सहमति जताई गई। बेनीपट्टी विधायिका श्रीमती भावना झा के द्वारा एन0एच0 105 के क्षतिग्रस्त होने तथा इसे शीघ्र मरम्मत कराने हेतु जिला पदाधिकारी से अनुरोध किया गया जिसपर जिला पदाधिकारी ने अविलंब मरम्मति कराने का आश्वासन दिया गया।

स्कूल रात्री प्रहरी की बहाली में हुई धांधली को ले बैठक

मधुबनी : हरलाखी में ग्राम रक्षा दल पुलिस मित्र का बैठक का आयोजन किया गया।जिसकी अध्यक्षता ग्राम रक्षा दल के मधुबनी के जिला अध्यक्ष धर्मेंद्र दास ने किया।इस अवसर पर ग्राम रक्षा दल पुलिस मित्र के जिला अध्यक्ष धर्मेंद्र दास ने कहा कि ग्राम रक्षा दल सदस्य विगत कई वर्षों से रात्रि प्रहरी ,संध्या प्रहरी ,राष्ट्रीय त्योहार और आपदा में कार्य कर रही है।अब विद्यालयों में स्कूल रात्री प्रहरी की बहाली हो रही है जिसमें बिना सूचना टांगे बिना स्कूल प्रबंधक समिति का गठन कर प्रधानाध्यापकों और उनके सहयोगियों के साथ पैसे को लेनदेन कर बहाली की जा रही है जबकि वर्तमान विधायक सुधांशु शेखर ने जो ग्राम रक्षा दल की ही बहाली करने की बात बराबर कहते आ रहे है।

ग्राम रक्षा दल पुलिस मित्र की बहाली नहीं होती है तो हम सब उग्र आंदोलन करने को बाध्य होंगे जिसके जिम्मेवारी जिला शिक्षा अधिकारी ,जिला कार्यक्रम अधिकारी ,जिला पदाधिकारी और यहां के जनप्रतिनिधि होंगे सभी पदाधिकारियों को आज से करीब 6 महीने पहले और इस बीच में भी आवेदन और धरना के माध्यम से हमलोगों ने यह जानकारी दिया है इस मौके पर संतोष राय, जितेंद्र कुमार संतोष ठाकुर, सिकंदर महतो, अतीक उल्लाह, प्रमोद नायक, सरोज साह, पितांबर जवाहर यादव, अवधेश ठाकुर, दीपक और अन्य सदस्य उपस्थित थे।

कंटेनर व पिकअप की आमने-सामने की टक्कर में दो की मौत

मधुबनी : झंझारपुर के भैरवस्थान थाना क्षेत्र के एनएच 57 पर आज अहले सुबह नरूआर ओवरब्रिज पर कंटेनर ट्रक और पिकअप के आमने-सामने की टक्कर में दो लोगों की दर्दनाक मौत घटना स्थल पर हो गई। जबकि दो लोग गंभीर रूप से घायल हो गए । घटना भैरवस्थान थाना क्षेत्र के एनएच 57 पर शुक्रवार सुबह 8:00 बजे के आसपास की बतायी जाती है ।

इस भीषण हादसे में पिकअप के परखच्चे उड़ गए । पिकअप में कुल चार व्यक्ति सवार थे । जिसमें दो की मौत पिकअप में दबकर हो गई । भैरवस्थान पुलिस को पिकअप तोड़कर दोनों का शव बाहर निकालना पड़ा । जबकि पिकअप के ढाला पर बैठे व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हैं । जिन्हें इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया है । सूचना पर पेट्रोलिंग टीम एवं भैरवस्थान पुलिस पहुंचकर दोनों मृतक की लाश को पोस्टमार्टम में भेज दिया एवं सड़क से मलबा हटाने के कार्य में जुटी हुई है ।

घटना के बाद जानकारी है कि फुलपरास की तरफ से दरभंगा की ओर पिकअप जा रही थी । जिसमें मखाना की गुड़ी लगी हुई थी । घटनास्थल पर देखने से प्रतीत होता है किसी कारणवश या ड्राइवर के झपकी आने के कारण पिकअप डिवाइडर को पार करते हुए दूसरे लेन में आ गया । जहां तेज गति से आ रही कंटेनर की चपेट में आने से भीषण हादसा हुई ।भैरवस्थान थानाध्यक्ष संतोष कुमार सिंह से मिली जानकारी के अनुसार मृतक की पहचान दरभंगा जिला के बहेरा थाना क्षेत्र के परदहा गांव निवासी जयनाथ चौपाल के पुत्र गोविंद चौपाल एवं नेहरा गांव निवासी ठाकुर सहनी के पुत्र शंकर सहनी के रूप में हुई है ।

जबकि घायल में शंकर सहनी का भाई टुनटुन सहनी एवं हरदा गांव के निवासी गौरी शंकर राय का पुत्र श्रवण राय है । दोनों मृतक की लाश पोस्टमार्टम के लिए भेज दी गई है । जबकि घायलों की गंभीर स्थिति को देखते चिकित्सकों ने बेहतर इलाज हेतु डीएमसीएच रेफर कर दिया गया।

जदयू नेता राम रत्न कुशवाहा के इंसाफ को ले परिजनो ने एसपी कार्यालय के बाहर दिया धरना

मधुबनी : झंझारपुर में राम रत्न कुशवाहा के न्याय को लेकर परिजनो ने मधुबनी एसपी कार्यालय के बाहर अंबेडकर प्रतिमा के नीचे शांतिपूर्ण प्रदर्शन किया। उनकी पत्नी ने बताया कि मेरे पति समाजसेवी थे वे जनता दल यू के किसान प्रकोष्ट प्रखंड अध्यक्ष भी थे। उनके पत्नी ने बताई कि मैं ललमनियां थाना क्षेत्र के घोड़मोहना गांव का मूल निवासी हूँ। मेरे पति राम रत्न कुशवाहा का 28/4/2020 के देर शाम घुसकीपट्टी के खेत में शव मिला था।मैंने थाने में एफआईआर दर्ज कराया था जिसमें ललमनियां पंचायत के मुखिया रुपनारायण यादव,बाबू कुमार सलहैता,धर्मेन्द्र कुमार महतो,राजेश कुमार पासमान और रजनीश कुमार यादव मेरे पति को साजिश रचकर मिलकर हत्या कर दिया।

उनके पुत्र ने बताया कि मैं और मेरे पिता खेत में काम कर रहे थे उसी समय ये सभी लोग बुलेट और बाइक सुबह में मेरे घर पर आये और बोले की कुछ काम है फिर आ जाएंगे। ललमनियां के मुखिया अपने बुलेट पर बैठाकर साथ ले गये। शाम के तकरीबन छे बजे घुसकीपट्टी थाना खुटौना के ग्रामीणों द्वारा सुचना दी गई की आपके पिता का लाश सड़क किनारे पड़ा है।जब हम परिजनो के साथ वहाँ पहुँचे तो देखा कि पिता जी खेत में चित लेटा पड़ा है।और नाक से झाग निकल रहा है।तथा गले में काला निशान है। हमें यकीन हो गया कि इन्हीं लोगों ने मिलकर हत्या कर लाश छोड़कर भाग गया। मैं नवीन कुमार महतो ललमनियां थाना में एफआईआर दर्ज कराया कांड संख्या 50/2020 है।

उन्होंने बताया कि मेरे पिता जदयू के किसान प्रकोष्ट के प्रखंड अध्यक्ष थे और जिला कुशवाहा महासभा के पूर्व जिला सचिव भी और वे पार्टी के लिए घर -परिवार छोड़कर दिन रात लगे रहते थे उन्होंने कहा कि न तो पार्टी के कोई नेता और न ही कोई मंत्री मेरे परिवार से मिलने आये हैं। जबकि जिले में चार चार मंत्री हैं।उन्होंने फुलपरास डीएसपी पर भी गंभीर आरोप लगाया उन्होंने कहा कि ये हत्या है जबकि पुलिस एक्सीडेंट बता रही है। जबकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खरोच तक का जिक्र नहीं है तो एक्सीडेंट कैसे हो सकता?इंसाफ नहीं मिलने से परेशान परिजनो ने मधुबनी एसपी कार्यालय के बाहर शांतिपूर्ण प्रदर्शन किया। इस पर एसपी डा० सत्य प्रकाश द्वारा संज्ञान लिया गया और एसपी डा० सत्य प्रकाश ने थानाध्यक्ष को फोन कर फरार चल रहे चारों अभियुक्तों को अविलम्ब गिरफ्तार करने का निर्देश भी दिया। उन्होंने कहा बताया कि बहुत जल्द अपराधी पुलिस के गिरफ्त में होगा। इसी के साथ आज का एक दिवसीय शांतिपूर्ण धरना खत्म हो गया लेकिन आगे की लड़ाई कुशवाहा महासभा द्वारा डेलिगेशन बनाकर लड़ा जाएगा।

विभिन्न मांगों को लेकर स्वास्थ्य कर्मियों का शांतिपूर्ण प्रदर्शन

मधुबनी : झंझारपुर के लखनौर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर राज्य सामान्य परिषद के आदेशानुसार विभिन्न मांगों को लेकर चार दिवसीय शांतिपूर्ण प्रदर्शन किया गया।जिसमें स्वास्थ्य कर्मी,आशा,ममता और कुरियर कर्मियों ने बताया कि वेतन,प्रोत्साहन राशि,नाश्ता,अवकाश जांच कीट दिया जाये। कर्मियों ने बताया कि न तो हमें नाश्ता मिलता है और न ही अवकाश और न ही जांच कीट जिससे हमलोगों को बहुत ही ज्यादा परेशानी है। पूरे बिहार में विभिन्न मांगों को लेकर आज से 9 तारीख तक शांतिपूर्ण प्रदर्शन किया जा रहा है जिसका आज पहला दिन था। प्रदर्शन के कारण कार्य ठप्प रहे कामकाज।इनलोगों का मांग है कि सभी प्रकार के मदद मुहैया कराया जाये।प्रदर्शन में कोषाध्यक्ष राकेश कुमा, एएनएम राधा कुमारी, संयुक्त मंत्री मोहम्मद अली हुसैन,जिला संघर्ष मंत्री रामशीष ठाकुर,एएनएम सदस्य चिंता देवी,मीना कुमारी कार्यकारिणी सदस्य,आशा सुजीता झा,और मीना कुमारी उपस्थित रही।

स्वतंत्रता दिवस को लेकर एसडीओ ने की बैठक,बच्चे नहीं लेंगे परेड में हिस्सा

मधुबनी : झंझारपुर में स्वतंत्रता दिवस को लेकर झंझारपुर एसडीओ शैलेश कुमार चौधरी ने अनुमंडल कार्यालय में पदाधिकारीयों के साथ बैठक किए जिसमें बिहार सरकार के मंत्री मंडल सचिवालय विभाग के निर्देशानुसार कोविड 19 को देखते हुए विभिन्न प्रकार का निर्देश दिये हैं। उन्होंने बताया कि स्वतंत्रता दिवस के शुभ अवसर पर कार्यक्रम के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पूरी तरह ख्याल रखा जायेगा। परेड में बच्चों को शामिल नहीं किया जाएगा और न ही झांकी और सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित होंगे।

स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से स्वतन्त्रता सेनानी,वरिष्ठ नागरिक और जनप्रतिनिधियों को नहीं आमंत्रित किया जाएगा।किसी भी प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन नही होगा ।साफ- सफाई का खास ख्याल रखा जाएगा। सेनेटाइजर का छिड़काव निरन्तर होता रहेगा।मुख्य समारोह स्थल पर आमंत्रित सदस्यों की संख्या बहुत ही कम होंगी।शांति पूर्ण वातावरण में सोशल डिस्टेंसिंग के साथ कार्यक्रम किया जाएगा।आम पब्लिक को आमंत्रित नहीं किया जाएगा।एनसीसी और स्कॉट के लोगों को भी आमंत्रित नहीं किया जाएगा। नियमों के पालन नहीं करने पर उनके खिलाफ कार्यवाई की जाएगी। बैठक में झंझारपुर बीडीओ विनोद कुमार सिंह,रमन कुमार मंडल,बाल विकास परियोजना झंझारपुर,लखनौर,मधेपुर एंव अंधराठाढी़ से महिला पर्यवेक्षिकायें और पदाधिकारीगण मौजूद थे।

मवेशी के लिए चारा लाने गये वृद्ध की नदी में डूबने से मौत

मधुबनी : झंझारपुर प्रखंड के भैरव स्थान थाना क्षेत्र के नरुआर गांव में आज अहले सुबह कमला नदी में मवेशी की चारा लाने गये धनेश्वर मंडल की डूबने से मौत हो गया। परिवार में घटना के की खबर सुनते ही कोलाहल मच गया। पत्नी का रो-रो कर बुरा हाल है।उनके घर पर घटना की खबर सुनते ही लोगों की भीड़ उमर पड़ी। थानाध्यक्ष संतोष कुमार ने बताया कि लाश को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए मधुबनी भेज दिया गया है।

जिला के 17 किसानों को किसान पुरस्कार से किया सम्मानित

मधुबनी : मिशन ऑन एग्रीकल्चर एक्सटेंशन एंड टेक्नोलॉजी के अंतर्गत सबमिशन ऑन एग्रीकल्चर एक्सटेंशन द्वारा आत्मा योजना में कृषि प्रसार को सक्षम बनाने हेतु जिला में अति विशिष्ट /उत्कृष्ट कार्य करने वाले किसानों को सबमिशन ऑन एग्रीकल्चर एक्सटेंशन आत्मा योजना के अंतर्गत प्रखंड, जिला, स्तर पर कृषि एवं कृषि के संबद्ध क्षेत्रों यथा उद्यान में अति विशिष्ट एवं उत्कृष्ट कार्यों एवं उपलब्धियों के लिए किसानों को प्रोत्साहित करने हेतु किसान पुरस्कार योजना के अंतर्गत जिले के किसानों को माननीय मंत्री कृषि -सह-पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग डॉ0 प्रेम कुमार के द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पुरस्कृत किया गया।

किसान पुरस्कार कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य है कि जिले के उत्कृष्ट एवं अति विशिष्ट कार्य करने वाले किसानों की उपलब्धियों को अन्य किसानों के बीच प्रचारित करना ताकि इसे अपनाकर किसान भाई लाभ उठा सकें, किसानों के बीच प्रतियोगिता की भावना विकसित हो ,किसान सशक्त एवं स्वावलंबी बने । किसान पुरस्कार योजना का लाभ लेने हेतु किसानों के द्वारा बामेती के वेबसाइट पर ऑनलाइन आवेदन कर उनके द्वारा अपने नजदीकी प्रखंड कृषि पदाधिकारी या प्रखंड तकनीकी प्रबंधक को फसल के परिपक्व होने पर कटनी से पहले सूचित करने के पश्चात उनके खेत पर फसल कटनी प्रयोग 10 * 5 मीटर स्क्वायर क्षेत्र में किया गया ।फसल कटने के पश्चात प्रखंड में सबसे ज्यादा उत्पादकता वाले किसान को गेहूं के क्षेत्र में प्रखंड स्तर पर ₹10000 तथा जिला स्तर पर सबसे ज्यादा उत्पादकता वाले किसान को ₹25000 एवं प्रखंड स्तर पर किसान श्री तथा जिला स्तर पर किसान गौरव के पुरस्कार से नवाजा गया है ।गेहूं फसल के क्षेत्र में श्री राम स्वार्थ यादव प्रखंड रहिका को किसान गौरव के पुरस्कार से नवाजा गया ।

मंत्री कृषि -सह-पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग के द्वारा जिले के कुल 17 किसानों को किसान पुरस्कार से पुरस्कृत किया गया ।आज माननीय मंत्री महोदय के द्वारा जिले के किसान श्री राम स्वार्थ यादव प्रखंड रहिका, श्री बलराम महतो प्रखंड अंधराठाढ़ी , श्री अरविंद मिश्र प्रखंड झंझारपुर, हितेश कुमार तिवारी प्रखंड रहिका , घूरन यादव प्रखंड घोघरडीहा , धनुष लाल महतो प्रखंड जयनगर ,मंगल साह प्रखंड मधवापुर , प्रदीप कुमार प्रखंड बाबुबरही, श्री सीताराम यादव प्रखंड रहिका एवं अन्य किसानों को पुरस्कृत किया गया ।इस अवसर पर बामेती के स्टेट नोडल ऑफिसर श्री विजय कुमार (भारतीय प्रशासनिक सेवा )एवं डा0 जितेंद्र प्रसाद, निदेशक बामेती,पटना ,बिहार, तथा जिला कृषि पदाधिकारी -सह-परियोजना निदेशक ,आत्मा मधुबनी के साथ-साथ राज्य के सभी परियोजना निदेशक उपस्थित थे ।

सुमित राउत

swatva

Leave a Reply