21 मार्च मधुबनी की प्रमुख खबरें

0
madhubani news

कोरोना वायरस पर भारतीय मित्र पार्टी ने व्यक्त की चिंता, कहा बचाव ही इसका अभी तक उपाय

भारतीय मित्र पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष धनेश्वर महतो ने प्रेस वार्ता कर कहा कि कोरोना वायरस आज एक महामारी का रूप से चुका है, देश मे लॉक डाउन की स्तिथि आ चुकी है। उन्होंने कहा की माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 22 मार्च को जनता कर्फ्यू लगाने का कहा है। सवाल ये उठता है की क्या 01 दिन घर में बंद होने से कोरोना वायरस नहीं होगा? क्या कोई व्यक्ति अगले दिन वह घर से बाहर निकलेगा तो कोरोना वायरस नहीं फैलेगा? और जिस व्यक्ति को कोरोना वायरस है अगर वो सेल्फ आइसोलेटेड यानी अगर वह अपने घर में रहेगा तो क्या उसके परिवारों को कोरोना वायरस नहीं होगा? बहुत बेतुका सा ये मोदी जी यह अपील बहुत बेतुका सा प्रमाण होता है। देश की भोली-भाली जनता थोड़ा साफ सोचे कि मोदी जी की बात में कितनी दम है? श्री महतो ने कहा कि हिंदुस्तान में कोरोना वायरस कैसे आया? कौन है इसका जिम्मेदार? इसका जिम्मेदार भारतीय जनता पार्टी की सरकार है, क्योंकि जब चाइना के अंदर कोरोना वायरस फैल रहा था, उसी टाइम में भारत सरकार को कदम उठाना चाहिए था ताकि विदेश का कोई भी नागरिक भारत में प्रवेश करता है। तो उसकी पहले पूरी जांच हो, उसके बाद ही देश के अंदर आने दिया जाए। लेकिन ऐसा नही हुआ, ओर बड़े आसानी से हर व्यक्ति को एंट्री मिली भारत में। उसी का खामियाजा है कोरोना वायरस। मोदी सरकार पहले काम करती है, बाद में सोचती है कि हम ने सही किया या गलत किया? जैसे याद होगा आपको नोटबंदी से देश को कितना नुकसान हुआ था, यह पूरे देश की जनता जानती है। जीएसटी लगाने से देश को कितना बड़ा छती हुआ था। देश का हर व्यक्ति एवं व्यापारी जानता है नागरिकता संशोधन कानून को लाने से देश में कितने दंगे फसाद हुए। यह पूरा देश जानता है, की मोदी सरकार बिना सोचे समझे बिना रणनीति तैयार किए ओर जनता कर्फ्यू का एक हिटलर की तरह फरमान जारी कर देता है। बाद में उसे फजीहत उठानी पड़ती है। यह भी एक उदाहरण है की जैसे कहावत है अनाड़ी का खेलना खेल का सत्यानाश। उसी प्रकार मोदी सरकार जब से देश में सत्ता में आई है, तब से देश का बेड़ा गर्क हुआ है। आम जनता के तो यह लोग कहते हैं, तुम यह मन ना करो वह ना करो लेकिन इन्हीं के मंत्री फाइव स्टार होटलों में पार्टियां करते हैं।

कोरोना वायरस के प्रति लोगों को जागरूक किया पूर्व भारतीय सैनिक बबलू कुमार गुप्ता ने, बांटे मास्क ओर साबुन।

कोरोना वायरस के प्रति सचेत करने और स्वच्छता के लिए जागरूकता के उद्देश्य से खजौली विधानसभा के बासोपट्टी प्रखंड अंतर्गत छतौनी पंचायत के सिमराढ़ी गाँव स्थित वार्ड-13 और 14 के लोगों के बीच मास्क वितरण करते समाजसेवी पूर्व सैनिक बबलू कुमार गुप्ता ने ग्रामीणों के बीच जाके उनको इस वायरस से सावधान रहने को आगाह किया।उन्होंने इस मौके पर उनके बीच मास्क ओर साबुन भी बांटा। श्री गुप्ता ने ग्रामीणों को कहा कि बहुत जरूरत होने और ही घर से बाहर निकालें, ओर मास्क लगाएं एवं घर से बाहर जाने-आने के क्रम में हाथ को बढ़िया से धोएं ओर साफ-सफाई का विशेष ख्याल रखें।

उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि ये एक महामारी बन चुका है विदेशों में, इसलिए अपने यहां भी हम इसके ओरभाव से बचने के लिए इससे बाख कर रहें। क्योंकि अभी तक इसकी वैक्सीन या इससे निपटने की दवा का ईजाद नही हुआ है।साथ ही साथ उन्होंने कहा कि जो भी आदमी में कोरोना के लक्षण में दिखे तो तुरंत उंसको नजदीकी अस्पताल भेजें। आपको बता दें कि बबलू गुप्ता वर्ष 2019 में झंझारपुर से लोकसभा चुनाव लड़ चुके हैं, और 2020 में खजौली विधानसभा से भावी प्रत्याशी भी हैं।इससे पहले वो कई विद्यलयों एवं मदरसों में जाके स्कूल के बच्चों के बीच कॉपी,पेंसिल, रबर,कटर एवं कलम का वितरण करते रहे हैं।

कोरोना वायरस को ले बैंक और अधिकारी खुद अपने अपने ग्राहकों को कर रहे जागरूक

कोविड -19 नोबल कोरोना वायरस के मद्देनजर मधुबनी जिले में भी सतर्कता खूब बरती जा रही है।इसका उदाहरण बैंक में भी देखा जा सकता है, जहाँ उत्तर बिहार ग्रामीण क्षेत्रीय बैंक में बैंक के ब्रांच मैनेजर ने हमारे संवाददाता से बातचीत कर बताया कि सरकार ने सरकारी/गैर-सरकारी स्टाफ को वर्क फ्रॉम होम की बात कह रखी हुई है, पर हमारा काम ऐसा है कि वर्क फ्रॉम होम नही हो सकता है। ऐसे में हमलोग एहतियातन बरत रहे हैं, ओर अपने स्टाफ ओर ग्राहकों को मास्क पहनने वे हाथ धोने ओर साफ-सफाई रखना है। हालांकि अपने हर ग्राहकों को वो अपने घर पर रहने और बहुत जरूरत पड़ने पर ही बैंक आने की बात कही है।वहीं, बैंक में सारे स्टाफ मास्क लगाए हुए मिले। वहीं, हर ग्राहक भी जागरूक दिखाई दिए और कहा कि बैंक का काम ऐसा है कि आये बिना नही हो सकता इसलिए आये हैं।

निर्भया के दोषियों को फाँसी की सजा मिलने से लोगो मे खुशी

निर्भया के दोषियों को फाँसी की सजा मिलने से लोगो मे खुशी का माहौल है, साथ ही लम्बे समय मे मिले इंसाफ पर नाखुशी जाहिर करते बेटियाँ ने कहा जल्द सजा मिले ऐसी व्यवस्था सरकार को करनी चाहिये।ये बातें शहर की महिलाओं एवं लड़कियों ने की।इस मौके पर हमारे संवाददाता से बात करते हुए कॉलेज की लड़किया दीक्षा झा, अपर्णा झा, रुपम कुमारी, पुष्पम कुमारी, सानिया, ज्योति चौधरी, ब्यूटी मिश्रा, सुजाता झा एवं प्रिया झा ने कहीं। साथ ही उन्होंने एक सुर में कहा की इससे बेटियो का मनोबल बढ़ा है। आज बेटियाँ आसमान चूम रही है, और ये दरिंदे दरिंदगी की हद पार कर रहे थे। फाँसी की सजा मिलने से निश्चित रूप से उस मानसिकता के लोगो मे डर का माहौल फैला है, कि गलत करेंगें तो लटका दिये जायेंगे।इस मौके पर कल से ही जश्न से माहौल बना हुआ है मधुबनी जिले में खासकर महिलाओं के बीच।

सरकार के आदेश हो पालन, विक्रमशीला देवी ने कहा कि कल जनता कर्फ्यू को सफल करने की जिम्मेदारी हम सबका

कोविड-19 यानी नोबल कोरोना वायरस दुनियां एवं भारत के लिए परेशानी का सबब बन चुकी है। भारत सरकार कई दिशा-निर्देश जारी कर चुकी हैं।इस बाबत बिहार सरकार के मुख्य सचिव ने प्रेसवार्ता कर कई बंदिशे ओर पाबंदियां लगाई हैं।इसके कारण सरकारी कार्यालयों में आवाजाही लोगों एवं कर्मियों की कम हो गयी है। शिक्षण संस्थानों पर ताले लटक गई हैं। शॉपिंग-मॉल, सिनेमानघर, जू, सरकारी भवन, सरकारी कार्यक्रम एहतियातन बंद करवा दिए गए हैं।प्रेसवार्ता में जानकारी देते हुए जदयू की महिला प्रकोष्ट की जिला अध्यक्ष सह अधिवक्ता एवं मधुबनी जिला पार्षद विक्रमशीला देवी ने इस भयानक कोरोना वायरस को जानलेवा बताया। उन्होंने कहा की इस समय हम सभी को एक साथ होके इस वायरस से लड़ना है। कल हमारे माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जो देश के लोगों ने जनता कर्फ्यू का आवाहन किया है, उसको सफल बनाने की जिम्मेदारी हम सभी की है। इसके खतरे के मद्देनजर हम सभी को मास्क ओर सेनेटाइजर का इस्तेमाल करना है। कोई भी ऐसा संदिग्ध दिखाई पड़े तो उसको डॉक्टर के संपर्क करने को कहना है।घर और अपने आसपास साफ-सफाई का खास ध्यान रखें। और ऐसी किसी भी परिस्थिति में खुद को दूसरे से अलग करें।इस मौके पर पार्टी की दर्जनों महिला नेत्री मौजूद थीं।

सुविधा संसाधन विहीन सदर अस्पताल को खुद ईलाज की जरूरत:- शितलाम्बर झा

मधुबनी का सदर अस्पताल सुविधा और संसाधन विहीन है। रोगियों को मिलने वाली कई जरूरी सेवाएं अस्पताल में बंद है। अगर एक सप्ताह में सदर अस्पताल में मरीजों को मिलने वाली आवश्यक सेवाओं में सुधार नहीं हुआ तो कांग्रेस आंदोलन करेगी। बिहार प्रदेश काँग्रेस कमिटी के निदेश के आलोक में सदर अस्पताल का निरीक्षण अपने जिला काँग्रेस के साथियों के साथ किया गया। सबसे पहले कांग्रेसी नेताओं ने सिविल सर्जन डॉक्टर केसी चौधरी से मुलाकात कर कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं पर जानकारी ली। इसके बाद मधुबनी जिला अध्यक्ष ने कहा जो जानकारी सिविल सर्जन से मिली बहुत ही चौकाने बाली है। मधुबनी जिला के जनसंख्या लगभग 60 लाख है। सीएम नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी की सरकार पिछले 13 बर्षो से बिहार में है। लेकिन आज तक जिला अस्पताल में भी डॉक्टर,नर्स ,दवा,साफ सफ़ाई का भी ब्यबस्था नही है। सदर अस्पताल में स्वीकृति पद डाक्टर 72 है, जबकि कार्यरत संविदा सहित सिर्फ 14 है। वहीं नर्स की स्वीकृति पद 200 से ज्यादा है। कार्यरत सिर्फ 38 हैं। महिला डॉक्टर का पद स्वीकृति 8 हैं। कार्यरत सिर्फ 2 है। जिला अस्पताल में आपातकालीन सेवाओ की ब्यबस्था नही है। न आईसीयू, एमआईसीयू, न ट्रामा सेंटर है, एक भी महिला सर्जन नहीं है। सदर अस्पताल में भी अल्ट्रासाउंड, सिटी स्केन,एमआरआई की आज तक ब्यबस्था नहीं हुई।अभी कोरोना वायरस से पूरी दुनिया डरी हुई है। लेकिन अपने जिला अस्पताल में इस बीमारी से लड़ने के लिए कुछ भी ब्यबस्था नही है।ऐसे में तो यह लगता है कि इस जिला के जनताओं को भगवान भरोसे छोड़ दिया है।इस दौरे में उनके साथ विजय कुमार राउत, पवन कुमार यादव, आकिल अंजुम, कृष्ण कुमार झा, मो साबिर हुसैन आंनद कुमार झा , बिदेश चौधरी थे समय दर्जनों कार्यकर्ता उपस्थित थे।

swatva

Leave a Reply