18 मई : मधुबनी की मुख्य ख़बरें

0
swatva samachar

व्यवसाई के घर तीन रातों से फायरिंग कर दहशत फ़ैला रहे अपराधी

मधुबनी : कोरोना महामारी की संक्रमण की रोकथाम के लिए लगाए गए लॉकडाउन के कारण जहां आम जनजीवन थम सा गया है वहीं अपराधियों के हौसले बुलंद होते दिख रहे है। जिले के लहसुन व्यवसायी के घर अपराधियों ने लगातार तीन दिनों से हमला कर दहशत का माहौल बना दिया है।

मामला पंडौल थाना क्षेत्र का है जहां सरिसब-पाही पूर्वी पंचायत के पाही बाजार स्थित लहसुन व्यवसाई जगदीश साहु के घर विगत 15 एवं 17 मई की रात अपराधियों ने दहशत फैलाने के लिए कई राउंड फायर किया। फायरिंग से व्यवसायी के घर में तथा मुख्य दरवाजे पर कई जगह छेद स्पष्ट दिखलाई दे रहा है। पूरा परिवार दहशत के माहौल में जी रहा है।

सूचना मिलते ही पंडौल थानाध्यक्ष ने तुरन्त कार्रवाई शुरू कर दी है। गोली का निशान घर में कई जगह दिख रहा है। एक मोपेड पर भी गोली चलाई गई है जिससे उसका शीशा टूट गया है। घटनास्थल पर मौजूद संजीत कुमार गुप्ता एवं शीला देवी का कहना था कि वे लोग बुरी तरह डर चुके हैं। उपस्थित लोगों ने बताया कि थानाध्यक्ष ने पीड़ित परिवार की सुरक्षा के लिए वहाँ पुलिस बल को नियुक्त कर दिया है, लेकिन सरिसब-पाही जैसे शान्तिप्रिय क्षेत्र में इस तरह की वारदात से लोग भयभीत हैं।

प्रवासियों ने लगाया क्वारंटाइन सेंटर पर भोजन नहीं मिलाने का आरोप

मधुबनी : बैतोन्हा में स्थित उत्क्रमित मध्य विद्यालय के क्वारंटाइन सेंटर पर सुविधाओं का घोर अभाव दिख रहा है। प्रवासी लोगों को अपने घरों से खाना मंगाना पड़ रहा है। इस कारण गांव में संक्रमण फैलने की आशंका बनी हुई है। क्वारंटाइन केंद्र में रह रहे लोगों को प्रशासन द्वारा डिग्निटी किट भी नहीं दिया गया है।

इस संबंध में बेल्ही पश्चिमी पंचायत के पंचायत समिति शियाराम ठाकुर ने कहा कि क्वारंटाइन सेंटर पर सरकारी सुविधा नही मिलने पर लोग अपने घर से खाना मंगवा कर खा रहे है। किसी भी तरह की क्वारंटाइन लोगो को सरकारी सुविधा नही मिल रहा है।जिससे क्वारंटाइन में रह रहे लोग काफी परेशानी की सामना पड़ रहा है।

मुख्यमंत्री ने अति पिछड़ा प्रकोष्ठ के जिला अध्यक्षों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए किया संवाद

मधुबनी : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जदयू अति पिछड़ा प्रकोष्ठ अध्यक्षों को संबोधित किया। उन्होंने सभी जिला अध्यक्षों से कहा कि सभी लोग अपने अपने क्षेत्रों में ध्यान दें। सरकार के तरफ से हर राशनकार्ड धारी को एक एक हजार रुपैया मुहैया कराया गया हैं, इसकी जानकारी आप सभी लोग अपने अपने क्षेत्र में दें एवं जनता का सहयोग करें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अमेरिका जैसा विकसित देश भी इस बीमारी से त्रस्त हैं। इस बार मौसम अनुकूल नहीं हैं, ब्रजपात से दर्जनों लोगों की जान चली गई हैं जो काफी दुखद है। हम सभी परिवार वालो के प्रति गहरी संवेदना प्रकट करते हैं। फसलों की क्षति हुई है, सरकार ने तुरंत फसल क्षति का ऐलान कर दिया। लोग घर में रहें सोशल डिस्टेंस और लॉक डाउन का सख्ती से पालन करें, क्योंकि इस बीमारी का कोई इलाज नहीं हैं, बचाव ही एक मात्र उपाय हैं।

बिहार सरकार पूरी तत्परता से कार्य कर रही हैं, एवं नीतीश कुमार ने सभी प्रखंड अध्यक्ष अध्यक्षों से कहा कि बिहार में इस वर्ष चुनाव हैं। इस विभीषिका को देखते हुए ऐसी उम्मीद है, कि इस बार कार्यकर्ता सम्मेलन या फिर रैली कम मात्रा में ही हो सकेगी, इसीलिए सभी अध्यक्ष अपने-अपने स्तर से व्हाट्सएप्प ग्रुप बनाएं। जदयू कार्यकर्ता को जोड़ें एवं सरकार के द्वारा जो कार्य किया जा रहा है, उसको सोशल मीडिया के जरिए जनता तक पहुंचाएं।

इस दौरान मधुबनी जदयू अति पिछड़ा प्रकोष्ठ के जिला अध्यक्ष रामभरोश राय ने कहा कि प्रवासी मजदूर जो जिला मुख्यालय से प्रखंड मुख्यालय आते हैं, तो उन मजदूर भाईयो को कठिनाई का सामना करना पड़ता हैं। प्रशाशन को कहते हैं, लेकिन प्रशाशन सुनने को तैयार नहीं हैं। हम लोगो की बातों को गंभीरता से नहीं लिया जाता हैं। उन्होंने आगे कहते हुए कहा कि पीडीएस का सिस्टम छिट-पुट की घटना को छोड़कर ठीक ही चल रहा हैं। मधुबनी में कोरोना का ग्राफ तेजी से बढ़ रहा हैं। कृपया मुख्यमंत्री महोदय से आग्रह है, की इस मामले को गंभीरता से लिया जाए।

वही इस मौके देवेन्द्र चौधरी,जिला अध्यक्ष जदयू सहकारिता प्रकोष्ठ ने कहा कि डीलर के द्वारा गरीब आदमी तक अनाज नहीं पहुंच पाता हैं। कई जगहों से यह खबर आती हैं, कि कार्ड धारियों से ज्यादा पैसा लिया जाता हैं। सरकार गरीब जनता के लिए सब कुछ देती है, इसीलिए योजना का लाभ गरीब जनता तक पहुंचना चाहिए। मधुबनी जिला में अभी तक दाल का बंटवारा नहीं हुआ है, जिसे जल्द से जल्द चालू किया जाएं।

पैक्स में अब तक धान खरीद का कार्य शुरू नहीं हुआ है, जिससे अनाज खराब होने का डर है। सरकार से कहना है कि जल्द से जल्द इस प्रक्रिया को भी चालू किया जाए। पूरा जिला में सिर्फ घोघोरडिहा गोदाम खुला है, जिससे भी कठिनाई का सामना करना पड़ता है, जिससे मीलर सब में आक्रोश हैं। आगे हम जिलाअधिकारी महोदय को भी पत्र लिखकर इस वास्तु स्तिथि से अवगत कराएंगे। इस मौके पर जदयू रहिका प्रखंड अध्यक्ष प्रभु जी झा,जदयू जिला सचिव प्रभात रंजन,जदयू नेता विद्यानंद ठाकुर सहित दर्जनों जदयू कार्यकर्ता मौजूद रहे।

क्वारंटाइन केंद्र का अनुमंडल पदाधिकारी ने किया निरीक्षण

मधुबनी : झंझारपुर अनुमंडल के मधेपुर प्रखंड स्थित प्रखंड/पंचायत स्तरीय क्वारंटाइन सेंटर में रह रहे प्रवासियों को दी जा रही सुविधाओं का अनुमंडल पदाधिकारी, झंझारपुर के द्वारा निरीक्षण किया गया। इसी क्रम में अनुमंडल पदाधिकारी, झंझारपुर की अध्यक्षता में मधेपुर प्रखंड के सभी मुखिया एवं अन्य पदाधिकारियों के साथ क्वारंटाइन सेंटर पर हो रही समस्याओं एवं उसके निदान के सम्बन्ध में विचार-विमर्श किया गया।

क्वारंटाइन केंद्र में दुर्व्यवस्था को ले लोगों ने किया सड़क जाम

मधुबनी : मधेपुर प्रखंड क्षेत्र में क्वारंटाइन किए गए प्रवाशी मजदूरों को जब सडक पर उतर कर सरकार एवं संवेदनहिन व्यवस्था के विरुद्ध जमकर नाराबाजी करते देखा गया। सरकार के सभी दावों की पोल खुल गई, सरकारी सुविध केवल कागजों तक ही सिमट कर रह गए है। एक तरफ सरकार का दावा है, कि क्वारंटाइन किए गए सभी मजदुरों को नाशता-चाय के साथ दो वक्त का भरपेट खाना चार बजे शाम को चाय-विसकीट दिया जा रहा है। प्रत्येक मजदुर को साबुन, सेनिटाइजर, मासक, बेडशीट एवं लुंगी-धोती दिया जा रहा है। दूसरी तरफ एक सप्ताह से बरसाम पंचायत के कन्या विध्यालय में रह रहे प्रवासी मजदूरों को मिलना तो दुर की बात यह सभी सामान देखना भी सपना हो गया।

इस क्वारंटाइन सेन्टर में रह रहे करीब 60 मजदूर उस समय भडक उठे, जब इन सभी को दिन के एक बजे तक नाश्ता भी नहीं मिला था। आक्रोश में आकर अपनी मांगों के समर्थन में बरसाम पंचायत के मुख्य पथ को जाम कर घंटों आवागमन बाधित कर दिया। खबर लिखे जाने तक कोई भी पदाधिकारी मौके पर नही पहुंचे थे।

16 नए कोरोना पॉजिटिव के साथ जिले में आँकड़ा हुआ 69

मधुबनी : कोरोना के मरीजों की संख्या काफी तेजी से बढ़ती जा रही है। रविवार को कोविड-19 से संक्रमित 16 और मरीज मिले, शनिवार को भी 20 संक्रमित मिले थे। इसमें देर रात 14 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इस तरह 24 घंटे में जिले में 30 मामले सामने आए। जिले में अब कोरोना पॉजिटिव की कुल संख्या 69 हो गई है।

रविवार को जिले के खुटौना प्रखंड क्षेत्र के आठ, झंझारपुर के छह व फुलपरास के दो लोगों में कोरोना पाॅजिटिव होने की पुष्टि जांच रिपोर्ट आने से हो गई। स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव ने तीसरी सूची में जिले के 16 मामलोें की पुष्टि की है। खुटौना प्रखंड के जिन आठ लोगों के कोरोना पॉजिटिव मरीज होने की पुष्टि हुई है। वे सभी उच्च विद्यालय, खुटौना क्वारंटाइन कैंप में क्वारंटाइन में आवासित हैं। गुरुवार को इस क्वारंटाइन सेंटर से 10 प्रवासियों के नमूने पटना भेजे गए थे, इसमें से आठ की रिपोर्ट पाॅजिटिव आई है। पाॅजिटिव पाए गए इन कामगारों में से कारमेघ मध्य के बंगला टोला ब्रह्मोतरा के तीन, एकहत्था के दो तथा खुटौना बाजार, ललमनियां तोरियाही व नहरी के एक-एक कामगार हैं।

खुटौना के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डाॅ. विजय मोहन केशरी ने बताया कि इन सभी को जयनगर के आइसोलेशन केंद्र में भेजा गया है। वहीं झंझारपुर के क्वारंटाइन सेंटर में आवासित छह लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव है। इसमें पांच ललित नारायण जनता महाविद्यालय में बने क्वारंटाइन सेंटर में आवासित प्रवासी हैं। जबकि एक मरीज ट्रॉमा सेंटर, अरड़िया संग्राम क्वारंटाइन सेंटर का है।

अब तक कोरोना से बचे फुलपरास प्रखंड में भी दो मामले आ गए, ये दोनों प्रवासी भी प्रखंड स्तरीय क्वारंटाइन सेंटर में रह रहे हैं। मालूम हो कि शनिवार की देर रात जिन 14 मरीजों की पुष्टि हुई थी उसमें से राजनगर थाना क्षेत्र के दो मरीज शामिल है। राजनगर थाना क्षेत्र के बसुआनी एवं मंगरौनी गांव के रहने वाले एक-एक मरीज के कोरोना से पॉजिटिव होने की पुष्टि जांच में हुई।

वहीं बासोपट्टी प्रखंड क्षेत्र से सात, बेनीपट्टी के तीन एवं मधुबनी शहरी क्षेत्र से दो लोगों के कोरोना पॉजिटिव मरीज होने की पुष्टि हुई थी। हालांकि, अब तक 17 कोरोना पाॅजिटिव मरीज ठीक भी हो गए हैं। उन्हें कोविड केयर सेंटर से होम क्वारंटाइन में भेज दिया गया है। आज चार कोरोना वॉरियर्स को अस्पताल से छुट्टी दी गई है।

कंटेनमेंट जोन के तीन किलोमीटर की परिधि को किया गया सील

मधुबनी : बेनीपट्टी प्रखंड क्षेत्र के तीन गांवों के तीन लोगों के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद बेनीपट्टी अनुमंडल, प्रखंड सह अंचल व थाना प्रशासन रविवार को हरकत में आ गई। प्रशासन ने कोरोना संक्रमित पाए गए तीनों लोगों के तीनों गांवों के तीन किलोमीटर की परिधि को कन्टेनमेंट जोन घोषित कर तीनों गांवों की सीमा को सील करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

प्रशासन ने बेनीपट्टी प्रखंड क्षेत्र के बसैठ, कटैया व अधबारी गांव की तीन किलोमीटर की दूरी को कंटेनमेंट जोन घोषित कर इन गांवों की सीमाओं को सील करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। बेनीपट्टी एसडीएम मुकेश रंजन एवं बेनीपट्टी डीएसपी अरुण कुमार सिंह के निर्देश पर बेनीपट्टी बीडीओ मनोज कुमार, बेनीपट्टी सीओ प्रमोद कुमार सिंह, बेनीपट्टी बीईओ अरबिंद कुमार यादव व पुलिस इंस्पेक्टर सह बेनीपट्टी थानाध्यक्ष महेंद्र कुमार सिंह ने उक्त तीनों गांवों से लगने वाली तीन किलोमीटर की दूरी को कंटेनमेंट जोन घोषित कर सीमा को सील करने और बांस-बल्ला से घेरकर लोगों के आवागमन पर पूर्णतया प्रतिबंध लगाने की तैयारी शुरू कर दी है।

बेनीपट्टी बाजार से सटे उक्त गांवों की सीमा को भी बांस-बल्ला लगाकर आवागमन पर प्रतिबंध लगाने की तैयारी प्रशासन कर रही है। बेनीपट्टी, बसैठ सहित क्षेत्र की सभी प्रकार की दुकानें बंद रहेगी। बीडीओ मनोज कुमार ने बताया कि उक्त तीनों गांवों की तीन किलोमीटर की परिधि को बांस-बल्ला लगाकर सील किया जाएगा और आवागमन पर प्रतिबंध लगाया जाएगा। वहीं बीडीओ, सीओ, बीईओ व एसएचओ ने ध्वनि विस्तारक यंत्र से प्रचार कर बेनीपट्टी बाजार की सभी दुकानों को बंद करवा दिया। प्रशासन ने ध्वनि विस्तारक यंत्र से प्रचार के जरिए बेनीपट्टी बाजार में खुली किराना और दवा की दुकानों को भी अगले आदेश तक बंद करवा दिया।

एसडीएम मुकेश रंजन ने बताया कि अगले आदेश तक बेनीपट्टी, बसैठ सहित क्षेत्र की सभी प्रकार की दुकानें बंद रहेगी और लॉकडाउन के मद्देनजर लोगों के आवागमन व सभी प्रकार के वाहनों के परिचालन पर प्रतिबंध रहेगा। एसडीएम ने बताया कि किराना और दवा की दुकानें भी अगले प्रशासनिक आदेश तक बंद रहेगी। बता दें कि बेनीपट्टी प्रखंड के कटैया, बसैठ व अधबारी गांव के एक-एक कुल तीन व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। तीनों कोरोना संक्रमित व्यक्ति मुंबई व दिल्ली से आकर बेनीपट्टी के श्रीलीलाधर प्लस टू उच्च विद्यालय, डॉ. एनसी कालेज व कटैया मिडिल स्कूल में बारह दिन, पांच दिन व सात दिन से क्वारेंटाइन थे।

गोरखपुर व लखनऊ के रिसर्च स्कॉलर को मिला एक्सीलेंस अवार्ड

मधुबनी : ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय, दरभंगा की आनुषंगिक इकाई डी.बी. कालेज, जयनगर के वाणिज्य विभाग व इंडियन एशोसिएशन फार मैनेजमेंट डेवलपमेंट के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित प्रथम राष्ट्रीय वेबीनार का समापन हुआ। वेबीनार के समापन सत्र का शुभारंभ मुख्य अतिथि दीनदयाल उपाध्याय विश्वविद्यालय, गोरखपुर के प्रख्यात शिक्षाविद प्रोफेसर आर पी सिंह, विशिष्ट अतिथि विनोवा भावे विश्वविद्यालय, हजारीबाग के युवा शिक्षाविद डा सरोज रंजन, पूर्णीया विश्वविद्यालय, पूर्णीया के शिक्षाविद डाॅ तारा नंद झा, प्रधानाचार्य प्रोफेसर नंद कुमार व डा शैलेश कुमार सिंह ने संयुक्त रूप से माॅ सरस्वती की प्रतिमा के सन्मुख दीप प्रज्वलन कर किया।

वाणिज्य विभाग के सहायक प्रोफेसर व आयोजक डा शैलेश कुमार सिंह ने इंडियन एशोसिएशन फार मैनेजमेंट डेवलपमेंट के संस्थापक अध्यक्ष व मैनेजमेंट गुरु प्रोफेसर एच के सिंह, मुख्य अतिथि प्रोफेसर आर पी सिंह, विशिष्ट अतिथि डा सरोज रंजन, डा तारानंद झा व प्रतिभागीयों का आनलाईन स्वागत किया।

कोरोना संक्रमण काल में बचाव के लिए शारीरिक स्वास्थ्य के साथ मानसिक रूप से स्वस्थ रहना भी उतना ही जरुरी है, घर में रहते हुए लोग मानसिक अवसाद का अनुभव कर रहे हैं और यह स्थिति लोगों में अनावश्यक तनाव की वृद्धि कर सकता है। ऐसे समय में उच्च रक्तचाप या हाइपरटेंशन से ग्रसित होने के बजाय योग, ध्यान व आयुर्वेद के माध्यम से तनाव को कम कर सकते हैं।

उक्त उदगार मुख्य अतिथि व दीनदयाल उपाध्याय विश्वविद्यालय, गोरखपुर के प्रख्यात शिक्षाविद प्रो आर पी सिंह के है वह डी.बी. कालेज, जयनगर द्वारा कोविद -19 के दौर में तनाव प्रबंधन पर आनलाईन आयोजित राष्ट्रीय वेबीनार के समापन सत्र में छात्र छात्राओं व शिक्षको को सम्बोधित कर रहे थे।

वेबीनार को सम्बोधित करते हुए समापन सत्र के विशिष्ट अतिथि विनोवा भावे विश्वविद्यालय के प्रख्यात शिक्षाविद डाॅ. सरोज रंजन ने कहा कि, दिन प्रतिदिन कोरोना संक्रमण की बढती भयावहता आम जनमानस के बीच नकारात्मकता का निर्माण कर रही है, जिससे लोग हत्तोसाहित और भयभीत होने के तनावग्रस्त हो रहे हैं। इसके समाधान के लिए आम जनमानस को प्राथमिक स्तर पर ध्यान व योग को अपनाना होगा, जिससे आम जनमानस दैनिक जीवनचर्या के प्रति अभिप्रेरित होकर तनाव मुक्त हो सकेगा।

विशिष्ट अतिथि पूर्णीया विश्वविद्यालय के प्रोफेसर तारा नंद झा ने कहा कि करोना वायरस ने वैश्विक स्तर पर आर्थिक पक्षों में बहुत बड़ा परिवर्तन किया है जिसका प्रत्यक्ष प्रभाव उधोग और कम्पनीयों के घटते उत्पादन के रुप में सामने आया है। परिणामतः वर्तमान समय में पूरा वर्ष आंशिक व अप्रत्यक्ष बेरोजगारी से गुज़र रहा है।

अध्यक्षता करते हुए प्रधानाचार्य डा नंद कुमार ने कहा कि, कोविद 19 संक्रमण को रोकने के लिए सुनियोजित तरीके से लाकडाउन नहीं किया गया, जिसके परिणाम स्वरुप कामगारों व मजदूरों से रोजगार छीन गए, वर्तमान परिवेश में वे तनावपूर्ण जिन्दगी जीने को मजबूर है। स्थानीय स्तर पर शासन व प्रसाशन को तनाव प्रबंधन के क्रम में रोजगार व जीविकोपार्जन की व्यवस्था करना चाहिए।

आयोजक व इंडियन एशोसिएशन फार मैनेजमेंट डेवलपमेंट के मुख्य संपादक *डाॅ. शैलेश कुमार सिंह ने बताया कि, राष्ट्रीय वेबीनार के विभिन्न तकनीकी सत्र में प्रतिभागीयों द्वारा 50 से अधिक शोध पत्र प्रस्तुत किया गया, साथ ही उत्तर प्रदेश, झारखंड, पश्चिम बंगाल सहित भारत के विभिन्न राज्यों के 200 से अधिक प्रतिभागीयों ने प्रतिभाग किया। इस दौरान बेस्ट पेपर प्रजेन्टेशन के क्रम में गोरखपुर की डा गीता सिंह व लखनऊ के स्वदेश दीपक को रिसर्च एक्सीलेंस अवार्ड प्रदान किया गया।

धन्यवाद ज्ञापन करते हुए आयोजन सचिव डा मो. मिनहाजुद्दीन ने समस्त अतिथि एवं प्रतिभागीयों के प्रति आभार प्रकट किया एवं कहा कि लाकडाउन एवं कोरोना संक्रमण के दौर में राष्ट्रीय स्तर पर वेबीनार का आयोजन विश्वविद्यालय के दूरदर्शी कुलपति प्रोफेसर राजेश सिंह एवं कुलसचिव कर्नल निशीथ कुमार राय के अभिप्रेरणा व शुभाशीष से ही संभव हो सका।

इस दौरान मुख्य रूप से प्रधानाचार्य डा नंद कुमार, डा विमलेन्दु मिश्रा, डा उमेश कुमार सिंह, डा शैलेश कुमार सिंह, डा संजय रस्तोगी, डा जमील हसन अंसारी, डा अभिषेक झा, डा प्रियंका सिंह, डा चन्दा रानी, डा गीता सिंह, ओम प्रकाश मौर्य, चन्दन ठाकुर, डा संजय कुमार पासवान, डा संजय कुमार, डा अंतेश्वर यादव, डा अवध बिहारी यादव, डा आनंद कुँवर, डा रंजना, डा मो. मिनहाजुद्दीन, सहित समस्त शिक्षक उपस्थित रहें ।

क्वारंटाइन केंद्र को किया गया सैनिटाइज

मधुबनी : बढ़ते कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए राजनगर स्वास्थ्य प्रखंड प्रशासन ने क्वारंटाइन केंद्र को सैनिटाइज किया। वही, आइसोलेशन वार्ड को भी सेनेटाइज किया गया। अग्निशमन वाहनों से हॉस्पिटल इस्थित आइसोलेशन वार्ड एव सड़को को बिलीचिंग पाऊडर का छिड़काव किया गया। वही प्रखंड क्षेत्र में जब एक भी कोरोना पॉजिटिव केस नही मिले थे, उस वक्त प्रशासन ने पहले लॉक डाउन का तेजी पालन किया। लेकिन जब अभी पॉजिटिव मरीज की भी संख्या में तेजी इजफ़ा हो रहा है, और रोज रोज प्रवासी मजदूरों का आना लगा है। इससे संक्रमण बढ़ने रफ्तार तेज हो सकती है।

इस समय अभी चौथा लॉकडाउन की चल रहा है और वही हाट बाजार सहित कुछ कुछ दुकाने लगने लगे है, जहाँ शोशल डिस्टेंसिंग की धज्जिया उड़ा रहे हैं लोग। आम जनता इस भी में यदि एक भी संक्रमित मरीज हो तो आखिर क्या परिणाम हो सकते है आप खुद अंदाजा लगाए। इसमे प्रशाशन को तेजी लाने और जागरूक करने में तेजी लानी चाहिए, ताकि इस संक्रमण की चेन को तोड़ा जा सके।

शीघ्र राशनकार्ड बनाने लिए भाजपा ने सौंपा मांगपत्र

मधुबनी : राशन कार्ड के कार्य को जल्द खत्म करने और बचे हुए कार्ड को जल्द बनवाने जैसी प्रमुख मांगों का एक मांगपत्र भाजपा नगर इकाई प्रतिनिधिमंडल के द्वारा जयनगर नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी सह प्रभारी एमओ अमित कुमार को सौंपा गया। भाजपा कार्यकर्ताओं का प्रतिनिधिमंडल नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी को ज्ञापन सौंपा वर्तमान में राशन कार्ड जो बन रहा है, उसमे कुछ का सूची जारी किया गया है। उसमे बहुत सारे लोगों का नाम नहीं आया है। शहर में इसकी चर्चा जोरो पर है।

जानकारी देते हुए वर्तमान नगर अध्यक्ष राजकुमार साह ने बताया कि इसी बात पर कार्यपालक पदाधिकारी के सामने अपना पक्ष रखा है, की हमने 1250 आवेदन को ऑनलाइन किया है, जिसमे की 850 के करीब ही स्वीकृत हुआ है। इस बाबत ईओ अमित कुमार ने बताया कि मेरे ओर से कोई भी प्रकार का निरस्त नहीं किया गया है। फिर भी आपलोग को आस्वस्त कर रहें हैं कि अभी अगर कोई जरुरतमंद छुटा हुआ है, तो हमलोग आवेदन स्वीकार करेंगे।

इस प्रतिनिधिमंडल में जयनगर भाजपा नगर अध्यक्ष राजकुमार साह, पूर्व नगर अध्यक्ष विकास चंद्रा, पूर्व नगर अध्यक्ष सूरज महासेठ, सुधीर खरगा, राजेश गुप्ता, नरेंद्र कुमार उर्फ उद्धव कुंवर, शशिभूषण सिंह, अरविंद तिवारी, सूर्यनाथ महासेठ शामिल थे।

जलालपुर से मधुबनी पहुंची ट्रेन, स्केनिंग के बाद भेजा गया क्वारेंटाइन केंद्र

मधुबनी : पूर्व से निर्धारित श्रमिक स्पेशल ट्रेन सूरत से अपने नियत समय से लगभग 14 घंटे विलंब से रात्रि लगभग 10:00 बजे मधुबनी स्टेशन पर पहुंची। दानापुर-मधुबनी DMU भी सुबह 6बजे मधुबनी पहुंची। ट्रेन से आये प्रवासियों श्रमिकों की अगुवाई सुनील कुमार सिंह, अनुमंडल पदाधिकारी, सदर, कामिनीबाला, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी सदर, सुशील कुमार, जिला परिवहन पदाधिकारी, बुद्धप्रकाश, प्रभारी, जिला आपदा प्रबंधन शाखा, शैलेन्द्र कुमार, जिला सूचना एवं जनसंपर्क पदाधिकारी द्वारा किया गया।

ट्रेन से आये मधुबनी एवं अन्य जिलों के प्रवासियों को उनके प्रखंड/जिला पहुंचाने के लिए बसों की व्यवस्था जिला प्रशासन द्वारा किया गया था। प्रवासियों के स्क्रीनिंग हेतु चिकित्सकों का दल स्टेशन पर मौजूद था। प्रत्येक प्रवासी यात्री की स्क्रीनिंग के पश्चात उनको खाने का पैकेट, पानी का बोतल, मास्क, साबुन इत्यादि का किट वितरित किया गया। जिला के प्रवासियों को सभी प्रखंडों/पंचायतों के क्वारंटाइन सेन्टर पर 14 दिन रखने की व्यवस्था पूर्व से की गई है।

सैनिटाइजेशन का काम जारी, विधायक ने बांटे फेस मास्क

मधुबनी : शहर में चल रहे सैनिटाइजेशन की धीमी गति को देखते हुए नगर के राष्ट्रीय जनता दल के विधायक समीर कुमार महासेठ ने नगर मे तेजी से सैनिटाइजेशन के लिए खुद ही कमान संभाल ली है।

इसी के मद्देनजर कल सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुये राजद विधायक समीर कुमार महासेठ ने नगर के थाना मोड़ से शहर का सेनीटाईज करने का काम आरंभ किया था। आज उसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुये आज अपने विधानसभा क्षेत्र मधुबनी के थाना चौक, बाटा चौक, चूड़ी बाजार, कारकपट्टी, शंकर चौक, चभचा चौक, लहेरियागंज वार्ड नं-1, वार्ड नं-02, राउत पट्टी, सोनार पट्टी, बड़ी बाजार में सैनीटाइजर,करवाया।

इस मौके पर उन्होंने कहा कि हम सब कि जिम्मेदारी है इस महामारी से बचने के लिए हर जरूरी उपाय करने की। इस दौरान विधायक ने नीतीश सरकार पर जमकर भड़ास निकाली साथ ही कई सुझाव भी दी। देखने वाली बात यह रही की विधायक ने खुद सेनीटाईजर किट पीठ पर बांधकर शहर को सेनीटाईज करने का काम कर रहे है। उनके साथ कई और कर्मी भी सेनीटाईज करने का काम कर रहे थे।

मधुबनी नगर विधायक ने शहर को सेनीटाईज करने के लिये एक टैंकलॉरी के साथ दस सेनीटाईजर किट की व्यवस्था की है। कोरोना वायरस महामारी से त्रस्त लोगों के बीच विधायक के काम की आम जनता के द्वारा जमकर सराहना की जा रही है। विधायक समीर महासेठ ने बताया की सेनीटाईजेशन का यह अभियान अनवरत चलेगा। वहीं, वार्ड पार्षद मनीष कुमार सिंह ने विधायक के द्वारा शहर मे किये जा रहे सैनीटाईजेशन के काम की जम कर तारीफ की और बताया की नगर परिषद भी शहर की साफ-सुथरा करने मे तत्पर है। इस मौके पर गणमान्य लोगों के अलावा कई वार्ड पार्षद मौजूद थे।

सुमित राउत

swatva

Leave a Reply