15 सितंबर : मधुबनी की मुख्य ख़बरें

0
swatva samachar

बदलकर अपना व्यवहार, करें कोरोना पर वार

मधुबनी : वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण का प्रसार तेजी से फैल रहा है। इससे बचाव को लेकर स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन की ओर से तमाम प्रयास किये जा रहें हैं। विभाग द्वारा व्यापक स्तर पर जागरूकता अभियान भी चलाया जा रहा है। ऐसे में हम सबको अपने व्यवहार में परिवर्तन लाने की जरूरत है। इसको लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के द्वारा सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों को जागरूक किया जा रहा है। दरअसल, कोरोना आपस में संपर्क रखने पर फैल जा रहा है। इसे देखते हुए व्यक्तिगत दूरी रखने को कहा जा रहा है। साथ ही अपने व्यवहार में परिवर्तन कर बचा जा सकता है। नोट गिनते समय या अखबार के पन्ने पलटते समय थूक का प्रयोग ना करें लेनदेन के लिए डिजिटल माध्यम सुरक्षित स्रोत है। जैसी पुरानी आदतों को छोड़कर कोरोना से बचा जा सकता है।

मास्क लगाने व 2 गज की शारीरिक दूरी रखने पर बल:

स्वास्थ्य एंव परिवार कल्याण मंत्रालय के गाइडलाइंस में घर से बाहर भीड़ वाले स्थानों जैसे डेयरी, अस्पताल या दवाई दुकान या ऐसी ही अन्य जगहों पर कम से कम 6 फीट या 2 गज की शारीरिक दूरी रखने के लिए कहा गया है। कार्यस्थलों पर भी इन नियमों के पालन करने के लिए कहा गया है। साथ ही मास्क के इस्तेमाल पर ज़ोर दिया गया है। मास्क संक्रमण की संभावना या श्वसन संबंधी रोगों की रोकथाम के लिए महत्वपूर्ण है।

सार्वजनिक स्थानों पर न थूकें, अनावश्यक यात्रा न करें और समूह में न बैठें:

सिविल सर्जन डॉ. सुनील कुमार झा ने आमजनों से अपील करते हुए कहा है आज के परिवेश में हम सबको अपने आदतों में परिवर्तन लाने की आवश्यकता है। कोरोना से बचाव में व्यवहार परिवर्तन बेहद जरूरी है। खांसते-छींकते समय अपनी हथेलियों को मुंह के सामने नहीं लाएं, बातचीत के दौरान लोगों से एक सुरक्षित दूरी बनाए रखें, अपने शरीर के तापमान और श्वसन लक्षणों की जांच नियमित रूप से करें, बुखार, सांस लेने में कठिनाई होने पर तुरंत डॉक्टर से संकर्प करने की जरूरत है। इसी तरह यह भी सुनिश्चित किया जाए कि कोई सार्वजनिक स्थानों पर न थूके, अनावश्यक यात्रा न करे और समूह में न बैठे।

कोरोनावायरस संक्रमण से जुड़ी भ्रांतियों से बचें:

संक्रमण के इस काल में जब इस रोग को लेकर कई तरह की भ्रांतियां फैल रही हैं, सही जानकारी ही इसका बचाव है। ऐसी अफवाहों के फैलने से ना सिर्फ एक ही व्यक्ति बल्कि एक बड़ी आबादी खतरे में आ सकती है। ऐसे अफवाहों को रोकने की पुरजोर कोशिश समाज के हर स्तर पर होनी चाहिए। विशेष तौर पर ग्रामीणों को सही सूचनाओं को पाने में सजगता बरतनी चाहिए। इसके लिए राज्य स्तर पर टोल फ्री नम्बर 104 जारी किया गया है, जिसपर कॉल कर कोरोना के संबंध में किसी भी प्रकार की जानकारी ली जा सकती है।

कोरोना वायरस से बचाव को लेकर व्यवहार में लाये परिवर्तन:

• व्यक्तिगत स्वच्छता और शारीरिक दूरी बनाए रखें.
• बार-बार हाथ धोने की आदत डालें.
• साबुन और पानी से हाथ धोएं या अल्कोहल आधारित हैंड रब का इस्तेमाल करें.
• साफ दिखनेवाले हाथों की भी अंतराल पर सफाई करें.
• छींकते और खांसते समय अपनी नाक और मुंह को रूमाल या टिशू से ढंके.
• उपयोग किए गए टिशू को उपयोग के तुरंत बाद बंद डिब्बे में फेंके.
• घर से निकलते समय मास्क का इस्तेमाल जरूर करें.
• बार-बार मास्क को ऊपर नीचे करने से बचें.
• बातचीत के दौरान फ्लू जैसे लक्षण वाले व्यक्तियों से एक सुरक्षित दूरी बनाए रखें.
• अपनी कोहनी के अंदरूनी हिस्से में छींके, अपने हाथों की हथेलियों में न खासें.
• आंख, नाक एवं मुंह को छूने से बचें.
• अपने तापमान को और श्वसन लक्षणों की जांच नियमित रूप से कराये.
• अस्वस्थ्य महसूस करने पर (बुखार, सांस लेने में कठिनाई और खांसी) डॉक्टर से मिले.

आंगनवाड़ी सेविकाएँ दीवाल लेखन कर दे रही पोषक का संदेश

मधुबनी : पोषण माह को सफल बनाने को लेकर आईसीडीएस प्रतिदिन नई गतिविधियाँ द्वारा पोषण का संदेश लोगों के बीच पहुंचा रहा है। साथ ही पोषण माह की सफलता को लेकर प्रशासनिक स्तर से लगातार तरह-तरह के कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। ताकि पोषण का संदेश जन-जन तक पहुँच सकें और लोग जागरूक हो सकें। आईसीडीएस के जिला कार्यक्रम पदाधिकारी डीपीओ रश्मि वर्मा ने बताया राष्ट्रीय पोषण माह को सफल बनाने के लिए आम जागरूकता पर बल दिया जा रहा है।

इसी क्रम में ही आंगनबाड़ी सेविका द्वारा दीवार लेखन कर मां का दूध अमृत धारा-पीकर बच्चा पुष्ट हमारा, जन जन की यही पुकार- स्वस्थ रहे बिहार, सही पोषण-देश रोशन, पोषण में मुस्कान है-स्वास्थ्य की पहचान है, बच्चे में सफाई का रखें ध्यान-अच्छे मां-बाप का यही पहचान जैसे स्लोगन का दीवार लेखन कर लोगों को पोषण का संदेश दिया जा रहा है. साथ ही इस दौरान किशोरी एवं माताओं को पोषण पर जागरूक करने के लिए आंगनबाड़ी सेविका द्वारा घर-घर जाकर गर्भावस्था में बेहतर पोषण, 4 प्रसव पूर्व जांच, एनीमिया की रोकथाम के लिए किशोरी एवं गर्भवती महिलाओं के लिए आयरन की गोली जैसे विषयों पर जानकारी दी जा रही है। साथ ही कोविड 19 संक्रमण से बचाव की भी जानकारी दी जा रही है।

गाँव स्तर पर कार्यक्रम का आयोजन कर लोगों को किया जा रहा जागरूक:

जिला कार्यक्रम पदाधिकारी डीपीओ रश्मि वर्मा ने बताया लोगों को पोषण के महत्व की जानकारी देने के लिए गाँव स्तर पर भी तरह-तरह के कार्यक्रम का आयोजन कर लोगों को जागरूक किया जा रहा है और जन-जन तक पोषण संदेश पहुँचाया जा रहा है। ताकि हर लोगों को इसकी जानकारी मिल सकें और लोग जागरूक हो सकें। पोषण माह के तहत सामुदायिक स्तर पर आयोजित की जाने वाली विभिन्न गतिविधियों में हाथ धुलाई, अन्नप्राशन दिवस, गोद-भराई एवं प्रारम्भिक बाल्यावस्था देखभाल एवं शिक्षा दिवस के आयोजन मुख्य रूप से शामिल है।

पोषण के पाँच सूत्रों पर बल:

पोषण अभियान के जिला समन्वयक ने बताया पोषण अभियान का मुख्य उद्देश्य पोषण अभियान को जन-आंदोलन बनाना है, ताकि समाज का प्रत्येक वर्ग पोषण की जरूरत को समझ सके। पोषण अभियान के तहत ही सितम्बर माह को पोषण माह के रूप में मनाया जा रहा है। इस पोषण माह में आम लोगों को पोषण पर जागरूक करने के लिए सामुदायिक स्तर पर आयोजित होने वाली गतिविधियों पर ज़ोर दिया जा रहा है। महिला एवं बाल विकास मंत्रालय भारत सरकार द्वारा पोषण त्योहार से व्यवहार परिवर्तन के लिए पोषण के पाँच सूत्र दिये गए हैं। जिसमें पहले सुनहरे 1000 दिन, पौष्टिक आहार, अनीमिया प्रबंधन, डायरिया रोकथाम एवं स्वच्छता को शामिल किया गया है।

डीवीसीओ ने कालाजार उन्मूलन के लिए कोरोना प्रोटोकॉल के तहत छिड़काव का दिया निर्देश

मधुबनी : जिले में कालाजार उन्मूलन को लेकर सिंथेटिक पायराथाइड का छिड़काव मंगलवार से शुरू कर दिया है। इस क्रम में सभी 20 प्रखंडो में छिड़काव कार्य किया जा रहा है। डीबीडीसीओ डॉ० कुमार ने बताया कि 15 सितम्बर से पूरे नवम्बर माह तक चिन्हित करीब 237 गाँव मे छिड़काव के लिए आदेश दिया गया है। इसके तहत कर्मियों को रोज़ाना कम से कम 50 घरों में छिड़काव करने को कहा गया है। इसमे एक भी घर नहीं छूटे इसका ख्याल रखने को कहा गया है। इस काम में आशा, फैसिलिटेटर व प्रखंड स्तर के कर्मियों व अधिकारियों को शामिल किया गया है। इसके सही कार्यान्वयन को लेकर सबंधित कर्मियों को प्रशिक्षित किया गया है। खासकर कोरोना को लेकर विशेष सावधानी बरतने की सलाह दी गई है। इसके तहत कोरोना प्रोटोकॉल का अनुपालन करने की बात कर्मियों को बताई गई है।

उन्होंने बताया कि कालाजार की वाहक बालू मक्खी को खत्म करने तथा कालाजार के प्रसार को कम करने के लिए इंडोर रेसीडूअल स्प्रे (आईआरएस) किया जाता है। यह छिड़काव घर के अंदर दीवारों पर छह फीट की ऊंचाई तक होता है। कहा कि लोगों को प्रत्येक घरों में अवश्य छिड़काव करानी चाहिए, चाहे वह पूजा घर हो, बाथरूम हो या मवेशियों का स्थान। सभी जगहों पर छिड़काव कराने से कालाजार संक्रमण का खतरा कम हो जाता है। छिड़काव के दो घण्टा बाद घर मे प्रवेश करनी चाहिये। साथ ही छिड़काव के छह महीने तक घर मे पेंटिग नहीं करानी चाहिए। इसे लेकर लोगों को जागरूक करने की ज़रूरत है।

ऐसे फैलता है कालाजार :

डॉ० कुमार ने कहा कि कालाजार एक संक्रमण बीमारी है जो परजीवी लिस्मैनिया डोनोवानी के कारण होता है। यह एक वेक्टर जनित रोग भी है। इस बीमारी का असर शरीर पर धीरे-धीरे पड़ता है। कालाजार बीमारी परजीवी बालू मक्खी के जरिये फैलती है जो कम रोशनी वाली और नम जगहों जैसे कि मिट्टी की दीवारों की दरारों, चूहे के बिलों तथा नम मिट्टी में रहती है। बालू मक्खी यही संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलाती है। इस रोग से ग्रस्त मरीज खासकर गोरे व्यक्तियों के हाथ, पैर, पेट और चेहरे का रंग भूरा हो जाता है। इसी से इसका नाम कालाजार यानि काला बुखार पड़ा ।

कालाजार के लक्षण :

डॉ० कुमार ने कालाजार के लक्षण की जानकारी देते हुए कहा कि रुक-रुक कर बुखार आना, भूख कम लगना, शरीर में पीलापन और वजन घटना, तिल्ली और लिवर का आकार बढ़ना, त्वचा-सूखी, पतली और होना और बाल झड़ना कालाजार के मुख्य लक्षण हैं। इससे पीड़ित होने पर शरीर में तेजी से खून की कमी होने लगती है।

मास्क का प्रयोग करने की दी सलाह

जिला में छिड़काव काम में लगे कर्मियों को कोरोना संक्रमण के मद्देनजर विशेष सावधानी बरतने की सलाह डीबीडीसीओ डॉ० कुमार ने दी है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक घरों में छिड़काव के दौरान कर्मियों को मास्क पहनने की हिदायत दी गई है। इस दौरान संक्रमण से दूर रहने के लिए खास सावधानी बरतने की भी बात कही गई है। कर्मियों को संक्रमण से बचाव के लिए लगातार हाथ को सैनिटाइजर या साबुन साफ करने को कहा गया है। इनके लिए पर्याप्त मात्रा में मास्क व सेनिटाइजर कर्मियों को उपलब्ध करा दिए गए हैं, ताकि कोरोना संक्रमण का फैलाव ना हो सके।

प्रधान मंत्री के जन्मदिवस को सेवा सप्ताह के रूप में मना रहा नगर मंडल

मधुबनी : भाजपा नगर मंडल के द्वारा मधुबनी नगर अधक्ष सुबोध कुमार चौधरी की अध्यक्षता में सदर अस्पताल में मरीजों के बीच फल का वितरण किया गया।

वही, भाजपा मधुबनी जिलाध्यक्ष शंकर झा ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्मदिवस को सेवा सप्ताह के रूप में मना रही है, जो 14 तारीख से लेकर के 20 तारीख तक प्रत्येक दिन कार्यक्रम किया जाएगा। जिसमें बच्चों के बीच पठन-पाठन का सामग्री वितरण, एवं अनेक अस्पताल में जाकर मरीजों का बीज फल का वितरण, एवं सफाई अभियान चलाया जाएगा। साथ ही 17 तारीख को उनके जन्मदिवस के अवसर पर उनके दीर्घायु के लिए कामना करते है।

वही मधुबनी विधान पार्षद सुमन कुमार महासेठ ने बताया कि सेवा सप्ताह कार्यक्रम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दीर्घायु के लिए किया जा रहा है, ताकि उनके लिए हर दिल से दुआ निकले और आशीर्वाद मिले और वह लंबे समय तक देश की सेवा करते रहे।

वही नगर अध्यक्ष सुबोध कुमार चौधरी ने कहा कि सेवा सप्ताह में पहले दिन 14 तारीख को पठन पाठन का सामग्री बच्चों के बीच वितरण किया गया। 15 तारीख को मरीजों को फल वितरण किया गया है। वही 16 तारीख को सफ़ाई अभियान चलाया जाएगा, और 17 तारीख को नरेंद्र मोदी का जन्मदिन मनाया जाएगा।

इस मौके पर मधुबनी जिला महामंत्री संजीब कुमार बादल, अरबिंद पूर्वे, श्रवन पूर्वे, अरुण कांत झा, मधुबनी नगर उपाध्यक्ष बद्री राय, सकसेना सिंह, नगर महा मंत्री पिटु रोनीयार, बिनोद कुमार साह, गगन कुमार, विकास आनंद, राधा देवी, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ की मीना कुमारी, अशोक राम एवं अन्य भी बहुत से भाजपा कार्यकर्ता उपस्थित थेl

प्लूरल्स पार्टी ने कार्यकर्ता एवं जन सम्मेलन का किया आयोजन

मधुबनी : जिला के बाबूबरही विधानसभा क्षेत्र के खाजेडीह हाई स्कूल पर आज प्लूरल्स पार्टी की तरफ से कार्यकर्ता सम्मेलन एवं जन सम्मेलन का आयोजन किया गया, जिसमें लदनिया ब्लॉक प्रभारी संदीप मिश्रा की अध्यक्षता में लोगों ने पार्टी के बारे में बहुत सारी जानकारियों से रूबरू हुए।

वही मधुबनी जिले के पलूरल्स पार्टी के मीडिया प्रभारी व्योमेश झा ने कहा कि अब तक सिर्फ वादों की बारात और हवा-हवाई पॉलिसी ही हमारे मात्थे मढ़ा गया है, लेकिन अब वक्त है, पॉलिसी मेकिंग के एक नए युग में एक साथ चलने का। नए दशक का नया बिहार हमारी प्रतीक्षा कर रहा है। बस संगठित होकर पलूरल्स की दूरगामी विचारधारा को आम जनमानस तक पहुंचाना हमारा दायित्व है।

इस मौके पर प्लूरल्स पार्टी के श्रवण कुमार आर्य, जिले के मीडिया प्रभारी व्योमेश चंद्र झा, पब्लिक इश्यूज डोमेन के पदाधिकारी रमन कुमार, मेंबरशिप डोमेन के पदाधिकारी बद्री जी समेत सैकड़ों कार्यकर्त्ता मौजूद थे।

राजद ने दी रघुवश बाबू को श्रद्धांजलि

मधुबनी : जिले के बाबूबरही विधानसभा के अंतगर्त खाजेडीह में युवा राजद के द्वारा स्व० रघुवंश प्रसाद सिंह को श्रद्धांजलि अर्पित किया गया, जिसमें उपस्तिथ राष्टीय जनता दल अतिपिछड़ा के जिला अध्यक्ष विजय राय, युवा राजद के प्रखंड अध्यक्ष रूदल सहनी, जिला उपाध्यक्ष दीपक यादव, पंचायती राज प्रकोष्ट के प्रखंड अध्यक्ष रमा आशीष यादव, खोजा पंचायत सरपंच राम उदगार पासवान, युवा राजद पंचयात अध्यक्ष सुधीर यादव, युवा राजद के कोषाध्यक्ष नितीश यादव, sc/st के प्रखंड अध्यक्ष प्रवीण साफी, लदनिया प्रखंड के सोशल मीडिया प्रभारी गणेश यादव और सैकड़ो राजद के कार्यकर्त्ता उपस्थित थे।

इस मौके पर सभी वक्ताओं ने संयुक्त रूप से रघुवंश बाबु के राजद में उनकी कर्मठता ओर कार्य को जमकर सराहा ओर कहा कि राजद ने एक चाणक्य खो दिया। वो पार्टी के लिए सदैव तत्पर रहते थे, एवं सजग प्रहरी भी थे।

राष्ट्रीय कृमि मुक्ति कार्यक्रम और सधन दस्त नियंत्रण पखवारा की जिले मे होगी शुरुआत

मधुबनी : जिले में राष्ट्रीय कृमि मुक्ति कार्यक्रम एवं सघन दस्त नियंत्रण पखवारा 16 से 29 सितंबर तक चलेगा। जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी ने बताया कि डायरिया से होने वाली शिशु मृत्यु एवं बाल मृत्यु दर में कमी लाने के उद्देश्य से पूरे जिले भर में सघन दस्त नियंत्रण पखवाड़ा मनाया जा रहा है। इसके अलावा यह भी बताया कि इस पखवाडे के दौरान जागरूकता के साथ-साथ डायरिया के केस का उपचार, ओआरएस वितरण, साथ ही ओआऱएस बनाने का तरीका और साफ- सफाई के संबंध मे जागरूकता लाना इस पखवाड़े अभिन्न अंग है। साथ ही बताया कि अभियान से जुड़ी सभी आवश्यक दवाइयां एवं सामग्री सभी स्वास्थ्य केंद्रों को उपलब्ध करवा दिया गया है।

आशा अपने क्षेत्र में घर-घर जाकर अभियान को सफल बनाएंगी तथा लोगों को जागरूक

जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी ने कहा कि इसके लिए आशा आपने क्षेत्रों के सभी पांच वर्ष के छोटे बच्चों के अभिभावकों को डारिया की रोकथाम की जानकारी घर घर जाकर देंगी. साथ ही अभियान के दौरान आशा के द्वारा अपने पोषक क्षेत्र में घर-घर जाक कृमि की भी दवा दी जाऐगी, जिसमें एल्बेंडाजोल की गोली 1 वर्ष से 19 वर्ष तक के बच्चों एवं किशोर- किशोरियों को खिलाएंगीं।

क्या होता है दस्त:

डॉ० कुमार बताते हैं कि लगातार पतले मल और उल्टी होना दस्त या डायरिया कहलाता है। डायरिया वायरल व बैक्टीरियल संक्रमण के कारण तो होता ही है परंतु सबसे सामान्य कारण है प्रदूषित पानी, खान-पान मेँ गड़बड़ी और आंत मे संक्रमण डायरिया से शरीर मे पानी की कमी हो जाती है जिसे डीहाईड्रेशन कहते हैं। इससे शरीर मेँ कमजोरी आ जाती है और अगर समय पर इलाज न मिले तो पीड़ित की मृत्यु भी हो सकती है।

डायरिया के ये लक्षण:

डॉ० कुमार बताते हैं कि अगर किसी बच्चे में ऐसा लक्षण दिखाई दे जैसा कि लगातार मल का होना, बार बार उल्टी होना, अत्यधिक प्यास का लगना, पानी न पी पाना, बुखार हो, मल में खून आ रहा हो साथ ही अगर किसी बच्चे में दिखाई दें तो उसे तत्काल स्वास्थ्य केंद्र पर ले जाना चाहिए ।

डॉ० कुमार ने बताया कि अभियान के दौरान आशा अपने पोषक क्षेत्र में घर-घर जाकर एल्बेंडाजोल की गोली 1 वर्ष से 19 वर्ष तक के बच्चों एवं किशोर-किशोरियों को खिलाएंगीं।

युवा राजद कार्यकर्ताओं ने रघुवंश बाबू को दी श्रद्धाजंलि

मधुबनी : जिले के जयनगर गौशाला में आज युवा राजद के कार्यालय में स्व० रघुवंश बाबू के याद में युवा राजद के द्वारा एक शोक सभा रखा गया, तथा उनके तैल चित्र पर माल्यार्पण पुष्प अर्पण किया गया।

इस कार्यक्रम में खजौली विधानसभा के नेता प्रदीप प्रभाकर, युवा राजद के प्रखंड अध्यक्ष अमित कुमार यादव, युवा राजद के जिला उपाध्यक्ष सचिन चौधरी, कांग्रेस के प्रदेश सचिव सुजीत यादव, धर्मेंद्र यादव, मोहम्मद मुर्तुजा, मोहम्मद नजाम, आशुतोष कुमार, आशू कुमार कर्ण, नीतीश कुमार यादव, जितेंद्र कुमार जीतू, चंदन कुमार सिंह, प्रभात यादव, सत्येंद्र यादव संजय पासवान, अनिल कुमार जगलर समेत सैकड़ों की संख्या में युवा राजद के साथी उपस्थित थे।

अपनी विभिन्न मांगों को ले निकाला विरोध मार्च

मधुबनी : भाकपा-माले से संम्बद्ध अखिल भारतीय खेत व ग्रामीण मजदूर सभा (खेग्रामस) एवं अखिल भारतीय प्रगतीशिल महिला एसोसिएशन (ऐपवा) के बैनर तले दोनों जन संगठनों के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री के ख़िलाफ़ रेलवे स्टेशन परिसर से समाहरणालय तक मार्च निकाला। इस मार्च का नेतृत्व खेग्रामस के जिला अध्यक्ष उत्तीम पासवान, जिला सचिव बेचन राम एवं ऐपवा के जिला संयोजक पिंकी सिंह ने किया।

इस मार्च के जरिए निम्नलिखित प्रमुख मांग किया गया है :

1). स्वयं सहायता समूह-जिवीका समूहों से जुड़ी सभी महिलाओं का लोन माफ किया जाय।
2). ग्रूप लोन पर ब्याज दर आधा किया जाय।
3). ब्याज पर ब्याज वसूलना बंद किया जाय।
4). सभी प्रबासी और ग्रामीण मजदूरों को मनरेगा के तहत बर्ष में दो सौ दिन काम और पांच सौ रुपए दैनिक मजदूरी देने की गारंटी किया जाय।
5). दिल्ली में 48000 झोपड़ियां उजाड़ने से पहले ऊसे बैकल्पिक ब्यबस्था किया जाय।

मधुबनी जिला समाहरणालय के समक्ष उत्तीम पासवान की अध्यक्षता में आयोजित सभा को संबोधित करते हुए ऐपवा के जिला संयोजक एवं पूर्व जिला पार्षद पिंकी सिंह ने कहा कि मोदी नीतीश के राज में महिला सशक्तिकरण के नाम पर महिलाओं पर अत्यार ही बढ़ा है। कोरोनावायरस और लोकडाउन के कारण समूहों की महिलाओं को भारी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे हालात में इनके साथ लोन वसूली का मामला अन्यायपूर्ण है।

इस बाबत खेग्रामस के जिला सचिव बेचन राम ने कहा कि हम लगातार प्रवासी श्रमिकों और ग्रामीण मजदूरों के सबालों पर संघर्ष चला रहें है। परंतु नीतीश मोदी सरकार मज़दूरों इस बिपदा की घड़ी में भी मनरेगा के तहत रोजगार देने में बिफल है। यह पूंजीपतियों और अमीरों की तिजोरी भरने में लगी हुई है।

भाकपा-माले के मधुबनी जिला कमिटी सदस्य सह रहिका प्रखंड माले सचिव अनिल कुमार सिंह ने कहा कि नीतीश मोदी सरकार में गरीबों को पांच डिसमिल बास भूमि देने के बदले, पहले से बसे भूमिहीन गरीबों को उजाड़ने का काम कर रही है। माले गरीब बसाओ आंदोलन चलाकर इसका करारा जवाब दे रही है। आने वाले विधानसभा चुनाव में नीतीश सरकार को उखाड़ फेंकने का आह्वान किया।

इस मार्च में अखिल भारतीय किसान महासभा के जिला सचिव प्रेम कुमार झा, बेनीपट्टी प्रखंड माले सचिव श्याम पंडित, सोसल मीडिया प्रभारी शंकर पासवान, गणेश यादव, मनीष मिश्रा, संतोष साह, दीपक पासवान।खेग्रामस नेता राम बिनय पासवान, बीरबल दास, राम प्रसाद पासवान, बिबेकी सदाय, बिकास सदाय, शिवजी राम, राम अवतार मंडल, बिक्रम पासवान, नारायण राम, छोटे राम, योगेन्द्र दास, अनिल राम, तेतर पासवान, ऐपवा नेत्री ललीता देवी, किरण दास, शिला देवी, पारो देवी, लीला देवी, इंदुला देवी, रामकली देवी, प्रिया कुमारी, जुलेखा खातून सहित सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने भाग लिया।

सुमित राउत

swatva

Leave a Reply