11 अगस्त : मधुबनी की मुख्य ख़बरें

0
swatva samachar

सड़क, नालों एवं जलजमाव की समस्या के निदान के लिए वार्ड पार्षद से की अपील

मधुबनी : नगर परिषद वार्ड नंबर-22 और 28 में जल जमाव, नाला निर्माण एवं सड़क निर्माण को लेकर पिछले कई वर्षों से जो गंभीर समस्याएं वार्ड के जनता उठा रही है, और जो सरकार और सिस्टम के भ्रष्टाचार के बलि चढ़ा हुआ है। अब इसको लेकर वार्ड नंबर-22 और 28 के युवा जागरूकता का सबूत देते हुए मधुबनी के युवा सामाजिक कार्यकर्ता और बिहार युवा सामाजिक संगठन के अध्यक्ष फहीम बकर मूसा के अध्यक्षता में दर्जनों युवा साथियो के साथ वार्ड नंबर-28 के वार्ड पार्षद खालिद अनवर और वार्ड नंबर-22 के वार्ड पार्षद खालिद अनवर की पत्नी शबनम आरा से जाकर मुलाकात किया, और दोनों वार्ड के गंभीर समस्याओं पर विस्तार से चर्चा किया चर्चाओं में सभी ने अपनी-अपनी बात रखी।

जिस तरीके से शहर के मनहर से लेकर स्टेडियम तक नाले की समस्या, नूरगंज में रोड का समस्या, और जल निकासी के लिए नाले जो गोदाम के रास्ते में जिस तरीके से चचरी या दूसरे चीजों के माध्यम से लोग घर तक पहुंचने के लिए मजबूर हैं, उसी मजबूरी को जल्द दूर करना। इसी तरीके से आये दिन वार्ड-22 के मंगल पोखर से लेकर गनी मस्जिद तक रोड में राहगीरों को बहुत कठिनाई का सामना करना परता है, उसी परेशानी को दूर करने के लिए कवर नाले के साथ पक्की सड़क जल्द से जल्द बनवाने को लेकर विस्तार से चर्चा किया गया।आखिर में वार्ड पार्षद ने एक सकारात्मक विचार करके आश्वासन दिया की बहुत जल्द इन सब समस्याओं का हल जनताओं के लिए और नाला निर्माण और सड़क निर्माण का कार्य शुरू किया जाएगा।

उन्होंने यह भी बताया कि हमने दोनों वार्ड के समस्याओं को इसी तरीके से थाना मोर से लेकर दुर्गा स्थान के रोड और नाले की समस्या को लेकर कई मर्तबा पूर्व के नगर परिषद चेयरमैन और एग्जीक्यूटिव एवं वर्तमान के चेयरमैन और एग्जीक्यूटिव से बातचीत की, लेकिन जब समस्या का हल नहीं निकला। तो हमने जिला के आला अधिकारियों से भी बातचीत की, लेकिन सब ने कोई ना कोई बहाना लगा कर इस कार्य को नहीं होने दिया। उन्होंने अफसोस करते हुए यह बताया कि हम बहुत दुखी है। इस चीज को लेकर के नगर में विकास का काम नहीं हो रहा है, क्यूंकि खालिद अनवर पूर्व चेयरमैन भी रह चुके हैं। तब उन्होंने कहा कि हम अपने चेयरमैन रहते हुए भी बहुत सारे काम को किया और बहुत सारा काम जो किसी वजह से नहीं हो सका, उसके लिए हम लगातार कोशिश में लगे रहे। खास करके थाना मोड़ से लेकर दुर्गा स्थान के सड़क और नाले की समस्या को लेकर हम हमेशा गंभीर रहे, लेकिन आला अधिकारियों की तरफ से यह कहा गया यह नगर परिषद के अंतर्गत नहीं आता है। इसलिए इस कार्य को विशेष तौर पर बिहार सरकार ही देख सकती है, यह तब ही बनेगा जब बड़े बजट का हिस्सा होगा।

इस बैठक में संगठन के अध्यक्ष फहीम बकर मूसा के साथ सदस्य जिसमें मो० कबीर, मो० नेहाल, मो० जिकरुल्लाह, मो० आसिम, अकील अहमद, नदीम अहमद, ताहिर अंसारी, मो० हुसैन, शौकीन आकिब अंसारी, आदिल अंसारी, राशिद खलील, शाहनवाज आलम, गोलू, इनायतुल्लाह, मो० आबिद, मो० गुलाब और भी वार्ड के बहुत सारे युवा उपस्थित थे।

अज्ञात बीमारी से लगातार हो रहे मवेशियों की मौत

मधुबनी : लदनियां प्रखंड के कुमरखत पूर्वी पंचायत के दोनवारी, पथलगाढा गांव में अज्ञात बीमारी से लगभग दो दर्जन पशुओं की मौत हो चुकी है, जिस कारण से स्थानीय पशुपालकों में दहशत व्याप्त है। पशुपालक जानकीनगर गांव के संतोष कुमार कामत का बैल मूल्य लगभग ₹28000 आज रात काल के गांव में समा गया। इस से पूर्व भी पंचायत के तीन दर्जन से अधिक पशुओं का मौत हो चुका है।

पशुपालकों ने भी बताया कि गांव में अब तक अज्ञात बीमारी के कारण एक दर्जन से अधिक पशु जैसे गाय, बैल, बछडा, भैंस की मौत हो चुकी है। पहले पशुओं के शरीर में सूजन होती है, उसके बाद बुखार और तुरंत ही पशुओं के पैर फेकने लगता है, और पशु की मौत देखते ही देखते हो जाती है। हो रहे पशुओं की मौत की सूचना पर पशु चिकित्सक द्वारा आनन-फानन में मवेशी पालकों के बीच किटनाशक दवा का वितरण कर अपने जवाबदेही का निर्वाह कर लिया गया। पथलगाढा, दोनवारी, मोतनाजे एवं जानकीनगर गांव में विशेष कैंप का आयोजन किया गया।उक्त कैंप के माध्यम से पशुपालकों के बीच चिकित्सक डा० सुमन व कर्मी सुरेंद्र कुमार के द्वारा किटनाशक दवा का वितरण किया गया था। सरकारी स्तर पर पशुओं का कोई टीका उपलब्ध नहीं रहने के कारण टीकाकरण नहीं हुआ है।

इस बाबत स्थानीय पंचायत समिति सदस्य रामकुमार यादव के साथ पशुपालकों द्वारा गांव में टीम भेजकर पशुओं की जांच की मांग किया गया था, जिस सूचना के आधार पर जिला स्तर पर जांच टीम का गठन तो कर लिया गया, लेकिन आज तक चिकित्सकों का दल नहीं पहुंचने के कारण स्थानीय प्रभारी प्रखंड चिकित्सक द्वारा ही कैंप का आयोजन कर दवा वितरण किया गया था। भारी तादाद में हो रहे नुकसान के रोकथाम के दिशा में कदम नहीं उठाए जाने के कारण एक के बाद एक पशु काल के गाल में समा रहा है।

वहीं, पशुपालन विभाग खुद अपने ही भवन ओर कर्मियों की कमी से जूझ रहा है। जब हमारे संवाददाता उक्त भवन में गए तो एकमात्र कर्मी मिला, बांकी के सभी लोग नदारद मिले। भवन की इस्तिथि भीबक़ाफी जीर्ण-शीर्ण हुई है, जो कभी भी मलबे में तब्दील हो सकता है। वहीं कोई ठोस पहल ओर निराकरण नही मिल पाने की वजह से स्थानीय ग्रामीणों में भारी गुस्सा सरकार और अधिकारियों के प्रति व्याप्त है।

स्वतंत्रता दिवस को लेकर एसडीओ ने की बैठक,बच्चे नहीं लेंगे परेड में हिस्सा

मधुबनी : जयनगर के अनुमंडल कार्यालय में सोमवार को आगामी स्वतंत्रता दिवस आयोजन को लेकर अनुमंडल पदाधिकारी शंकर शरण ओमी की अध्यक्षता बैठक का आयोजन किया गया।

इस बैठक के दौरान एसडीओ शंकर शरण ओमी ने बताया कि वैश्विक महामारी कोरोना की वजह से सोशल डिस्टेंसिंग तथा मास्क के साथ स्वतंत्रता दिवस आयोजित करने के संबंध में मंत्रिमंडल सचिवालय बिहार सरकार तथा जिला पदाधिकारी मधुबनी के द्वारा दिशा निर्देश प्राप्त हुए हैं। इस वर्ष स्वतंत्रता दिवस समारोह में आम जनता को आमंत्रित नहीं किया जाएगा। स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से स्वतंत्रता सेनानियों एवं वरिष्ठ नागरिकों को भी आमंत्रित नहीं किया जाएगा। समारोह में किसी प्रकार की झांकी का प्रदर्शन भी नहीं किया जाएगा। समारोह में परेड में भाग लेने वाले जवानों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग रखते हुए परेड आयोजित किया जाएगा तथा एनसीसी एवं स्काउट एंड गाइड तथा स्कूल के बच्चों को परेड में शामिल नहीं किया जाएगा।

सांस्कृतिक कार्यक्रम का नहीं होगा आयोजन :

इसी प्रकार स्वतंत्रता दिवस समारोह 2020 के अवसर पर किसी प्रकार का सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन भी नहीं किया जाएगा। थानाध्यक्ष, प्रखंड विकास पदाधिकारी तथा अंचल अधिकारी को यह सुनिश्चित करने का आदेश दिया गया कि किसी भी झंडोत्तोलन के स्थान पर भीड़ ना हो तथा सोशल डिस्टेंसिंग एवं मास्क के साथ ही नागरिक शामिल हों। झंडोत्तोलन में नागरिकों को कम से कम संख्या में भाग लेने हेतु प्रेरित किया जाएगा।

इस अवसर पर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी सुमित कुमार, अपर एसडीओ गोविंद कुमार, सीओ संतोष कुमार, बीडीओ श्रीमती चन्द्रकान्ता, नगर पंचायत अध्यक्ष कैलाश पासवान सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

लॉकडाउन में जनसहयोग से ‘माँ अन्नपूर्णा कम्युनिटी किचन’ चला खिला रहे 100 लोगों को रोज खाना

मधुबनी : कोविड-19 नोबल कोरोना वायरस के बिहार में बढ़ते संक्रमण के कारण पूरे सूबे में राज्यव्यापी लॉकडाउन पुनः कुछ दिनों के लिए 01-16 अगस्त तक किया गया है।

इस लॉक डाउन में गरीब, निर्धन, निःशक्त, निःसहाय, मजदुर वर्ग, भिखारी वर्ग, कामगार मजदूर लोगों के सामने विकट इस्तिथि उत्पन्न हो गयी हुई है, जिससे उनको खाने-पीने में भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

इसी के मद्देनजर मधुबनी जिले के जयनगर शहर के समाजसेवी अमित कुमार राउत एवं उनकी टीम लगातार पिछले 26 दिनों से जयनगर शहर के पटना गद्दी चौक, शहीद चौक, जयनगर रेलवे स्टेशन परिसर में रहने वाले लोगों को निजी स्तर से जनसहयोग से कम्यूनिटी किचन चला कर रोज लगभग 100 लोगों को खाना खिला कर पेट भर रहे हैं। इससे लोग प्रसन्न होकर उनको धन्यवाद देकर खाना खाते हैं।

इस नेक कार्य मे प्रवीर महासेठ, विजय नायक, मिथिलेश महतो, विशाल नायक एवं मुकेश राउत एवं अन्य लोग भी इसमें इनका सहयोग कर रहे हैं। इसके अलावा शहर के चैम्बर ऑफ कॉमर्स, मिथिलांचल चैम्बर ऑफ कॉमर्स, मॉर्निंग वॉक ग्रुप, सूड़ी युवा मंच एवं अन्य संस्थाओं ने भी भोजन वितरण के समय आकर इनका हौसला अफजाई भी किया है।

वैश्विक महामारी बन चुके कोविड-19 नोबल कोरोना वायरस के प्रति सचेत करने और स्वच्छता के लिए जागरूकता के उद्देश्य से समाजसेवी अमित कुमार राउत ने खाना देते वक्त लोगों के हाथ सेनेटाइज करवाकर एवं सोशल डिस्टेंसिनग का ख्याल रखते हुए उनको खाना देते हैं।

उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि जो दिशा-निर्देश हमें सरकार के तरफ से मिले हैं, उनका पालन हम सभी को शत-प्रतिशत करना है। सोशल डिस्टेंस बनाये रखना है, ओर अधिक जरूरत नही हो, तो घर से बाहर बिल्कुल नही निकलें।

इस मौके पर समाजसेवी श्री राउत ने लोगों से कहा कि बहुत जरूरत होने और ही घर से बाहर निकालें, ओर मास्क लगाएं एवं घर से बाहर जाने-आने के क्रम में हाथ को बढ़िया से धोएं ओर साफ-सफाई का विशेष ख्याल रखें।

उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि चूंकि बिहार में ये वायरस का प्रकोप कुछ ज्यादा ही बढ़ गया हुआ है, इसलिए पुनः लॉक डाउन लगाया गया है। आज के तारीख में ये कोरोना वायरस एक महामारी बन चुका है, इसलिए अपने यहां भी हम इसके प्रभाव से बचने के लिए इससे बच कर रहें।

सुमित राउत

swatva

Leave a Reply