1 जून : मधुबनी की मुख्य ख़बरें

0
swatva samachar

अंधविश्वास : कोरोना से निज़ात के लिए भुतही बलान में सैकड़ों महिलाओं कर रही पूजा

मधुबनी : वैश्विक महामारी कोरोना से निपटने के लिए सरकार जहां लोगो से देह से दूरी के नियम को पालन करने का आग्रह कर रही है वहीं इन नियमों को ताख पर रख ग्रामीण क्षेत्र की महिलाए कई तरह की अंधविश्वास में पड़ी हुई है। कई गांव की महिलाएं एक जगह इकठ्ठा हो कर भुतही बलान नदी की पूजा अर्चना कर रही है। और प्रसाद में दही-चूड़ा व फल लड्डू भी चढ़ा रहे है, जिससे एनएच किनारे स्थित भुतही बलान माता के मंदिर में दिनभर भीड़ लगी रहती है।

मिली जानकारी के अनुसार फुलपरास अनुमंडल क्षेत्र से गुजरने वाले भुतही बलान नदी में एनएच-57 पर बलान पुल के उत्तर वाहनी तट पर आसपास के दर्जनों गांव के महिलाओं के द्वारा कोरोना महामारी से बचाव को लेकर नदी में जाकर पूजा अर्चना किया जा रहा है। यह सिलसिला करीब पिछले दो सप्ताह से जारी है, और भूतही बलान नदी में पूजा के लिए विभिन्न गांव से प्रत्येक दिन सैकड़ों की संख्या में महिलाएं जुट रही है। चूड़ा-दही लड्डू,पान, सुपारी,अछत एवं गेरूआ, धुप दीप जलाकर केला पत्ता पर बलान नदी में कोरोना देवी का भोग लगाकर पूजा अर्चना की जा रही है।

साथ ही भूतही बलान पुल के निकट स्थित बलान माता की मंदिर में भी महिलाओं के द्वारा जल फूल चढ़ाकर वैश्विक महामारी से बचने के लिए बलान माता की प्रार्थना कर रही है।, पूजा के लिए क्षेत्र के विभिन्न गांव के महिलाएं नदी के तट पर पहुंच रहे हैं। इस तरह महिलाओं का इकठ्ठा होना महामारी के फ़ैलाने की आशंका को और बढ़ा रही है।

फुलपरास,नरहिया हनुमान नगर,धबही, ननपट्टी, रामनगर धौसही,मुरली,सिसबा बरही,नवटोल सहित आसपास के दर्जनों गांव के सैकड़ों महिला बलान नदी में आकर कोरोना देवी की पूजा अर्चना कर रही है।बलान नदी के तट पर पूजा कर रहे महिलाओं से पूछने पर उक्त महिलाओं ने बताया कि अपने परिवार बच्चें को कोरोना महामारी से बचने व सुरक्षित रहने को लेकर बलान नदी में दही-चूड़ा के प्रसाद चढ़ाकर पूजा अर्चना की जा रही है। और महिलाओं ने बताया कि भूतही बलान नदी में कोरोना देवी की पूजा की नाम से क्षेत्र में चर्चा बनी हुई है। और प्रत्येक दिन सैकड़ों सैकड़ों की संख्या में क्षेत्र के विभिन्न गांव से महिलाओं ने भूतही बलान नदी में आकर पूजा अर्चना कर रही है। इस महिलाओं का कहना है कि नदी के तट पर कोरोना देवी की पूजा अर्चना की जा रही है।

एसएसबी ने कार्रवाई कर तस्कर को किया गिरफ़्तार

मधुबनी : जयनगर के अर्राहा एसएसबी कैम्प के जवानों ने नशीली दवाइयों के साथ बाइक समेत एक तस्कर को पकड़ पुलिस के हवाले किया। जयनगर एसएसबी के अर्राहा बीओपी प्रभारी गणेश चतुर्वेदी के नेतृत्व में जवानों ने नशे में प्रयुक्त होने वाली इंजेक्शन व कफ सिरफ के साथ एक कारोबारी को पकड़ा। बाइक पर कारोबारी हटलेटवा के निकट बॉर्डर पीलर संख्या 268/1 से नेपाल में जाने के क्रम में जवानों ने पकड़ा। जिसके पास से 40 बोतल कोडीन युक्त कफ सिरफ तथा 51 नशे के लिए उपयोग होने वाले इंजेक्शन जब्त किये गये।

गिरफ्तार हुए व्यक्ति का नाम मो०ताहिर है। इस छापेमारी दल में एसएसबी के हेड कॉसेटबल सुभाष सिंह, गौरव कुमार, संजय कुमार, इंददेव कुमार शामिल थे। जब्त समान व आरोपी को जयनगर पुलिस के हवाले कर दिया गया। जयनगर थाना प्रभारी राजकिशोर राम ने इसकी पुष्टि की है। कोरोना को मात देकर पांच ओर लोग स्वस्थ होकर पहुंचे घर।

एक महिला समेत पांच लोग स्वस्थ होकर लौटे घर

मधुबनी : बेनीपट्टी अनुमंडल मुख्यालय में एएनएम सेंटर आइसोलेशन वार्ड में बनाए गए कोरोना केयर से एक महिला समेत पांच लोग स्वस्थ होकर घर लौटे। तालियों की गड़गड़ाहट के बीच फूल माला पहना कर सभी को विदा किया गया। इस तरह जिले में अब तक 77 कोरोना संक्रमित स्वस्थ होकर घर लौट गए हैं। इसमें से झंझारपुर से 35, जयनगर से 21, राजनगर से 13 व बेनीपट्टी से आठ संक्रमित स्वस्थ हुए हैं। इसमें से एक वह युवक भी शामिल है जो गाजियाबाद में जांच में कोरोना संक्रमित पाया गया था। वहां से आने के बाद उसे झंझारपुर के र्निसंग स्कूल में बने कोरोना केयर सेंटर में भर्ती कराया गया था।

पीएचसी के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. शम्भू नारायण झा तथा कोरोना केयर के नोडल पदाधिकारी डॉ. पीएन झा ने बताया कि रहिका प्रखंड के खाजीपुर मलंगिया गांव के दीपू कुमार सिंह, विनीता देवी, अंश कुमार, बेनीपट्टी प्रखंड के कटैया गांव के मो.राजा एवं चानपुरपट्टी गांव के जयजयराम यादव की रिपोर्ट निगेटिव पाई है। यहां कोरोना से जंग जितने के बाद स्वस्थ्य होकर अपने घर लौट गए हैं। 16 एवं 17 मई को जांच में संक्रमित होने के बाद पांच लोगों को बेनीपट्टी कोरोना आइसोलेशन वार्ड में आइसोलेट किया गया था। डॉ. श्री झा ने बताया कि संक्रमित मरीज को दिन में चार बार गर्म पानी व सर्दी खांसी व बुखार एंव दम फूलने व सिर दर्द की दवा दी जा रही थी।

जयनगर से अमृतसर के लिए विशेष ट्रैन चलेंगी

मधुबनी : लॉकडाउन 4.0 की समाप्ति के साथ ही ट्रेनों का परिचालन एक जून से प्रारंभ किया जा रहा है। जयनगर रेलवे स्टेशन से भी अमृतसर के लिए एक विशेष ट्रेन का परिचालन तीन जून को किया जाएगा। वहीं एक जून को अमृतसर से जयनगर के लिए विशेष ट्रेन प्रस्थान करेगी। यह दो जून की रात एक बजे जयनगर रेलवे स्टेशन पहुंचेगी। तीन जून को यही ट्रेन जयनगर रेलवे स्टेशन से सुबह 7.15 बजे अमृतसर के लिए रवाना होगी। यात्रियों की की जाएगी थर्मल स्क्रीनिग।

सहायक स्टेशन प्रबंधक मंगल यादव ने बताया कि जयनगर स्टेशन पर यात्रियों को थर्मल स्क्रीनिग के बाद ही स्टेशन परिसर में प्रवेश की अनुमति दी जाएगी। उन्होंने बताया कि अमृतसर से जयनगर आने वाले यात्रियों की भी थर्मल स्क्रीनिग की जाएगी। ट्रेन में आरक्षण टिकट लिए यात्रियों को ही यात्रा करने की अनुमति दी जाएगी। ट्रेन में चढ़ने के समय फिजिकल डिस्टेंसिग के अनुपालन के लिए आरपीएफ एवं जीआरपी को आवश्यक कदम उठाने का निर्देश दिया गया है। हालांकि, अब तक स्टेशन परिसर में इस बाबत बोगी के आगे गोला का निर्माण नहीं किया जा सका है। यात्रियों के लिए कुली की व्यवस्था के बाबत सहायक स्टेशन प्रबंधक ने बताया कि सोमवार तक निर्णय ले लिया जाएगा। स्टेशन परिसर की साफ सफाई एवं रंग रोगन का भी काम किया जा रहा है। सरयू यमुना व शहीद एक्सप्रेस का भी शुरू होगा परिचालन:

जयनगर से वाया दिल्ली अमृतसर के लिए रविवार, मंगलवार एवं शुक्रवार को विशेष ट्रेन के रूप में सरयू यमुना एक्सप्रेस एवं सोमवार, बुधवार, गुरुवार एवं शनिवार को विशेष ट्रेन के रूप में शहीद एक्सप्रेस ट्रेन का परिचालन किया जाएगा। गाड़ी में आरक्षित सीट खाली रहने पर यात्री तत्काल आरक्षण टिकट काउंटर से टिकट लेकर यात्रा कर सकेंगे।

वज्रपात में दो लोगों की हुई मौत

मधुबनी : जिले के लौकही थाना क्षेत्र में आज दिन में लगभग 11 बजे आई तेज आँधी-तूफान व वर्षा आयी। जिसमे से पेड़ गिरने व ठनका गिरने से दो लोगों की घटनास्थल पर ही हुई मौत, जबकि 17 लोग गंभीर रुप से घायल हो गए। सभी घायलों को लौकही हॉस्पिटल में भर्ती किया गया, जिसमें से एक घायल की हालत गंभीर होने के कारण उसे डीएमसीएच,दरभंगा रेफर कर दिया गया।

इस घटना की सूचना मिलते ही पहुचीं लौकही अस्पताल पहुंची। वहां पुलिस ने शव को कब्जा में लेकर पोस्टमार्टम के लिए मघुबनी भेज दिया। जानकरी देते हुए पीएचसी के डॉक्टर ने बताया कि मृतकों में भगवानपुर गाँव निवासी राम आशीष मंडल है, जिसके घर पर आम का पेड़ गिरने से हुई मौत। वहीं, सोनवर्षा गाँव निवासी बिजय कुमार मुखिया के शरीर पर ठनका गिरने से हुई मौत। बांकी सभी घायलों का इलाज किया जा रहा है, जबकि एक कि इस्तिथि गंभीर होने के कारण डीएमसीएच रेफेर कर दिया गया है।

भू-दान की पर्चा वाले पर्चाधारी से हुई मारपीट के बाद हुई बैठक

मधुबनी : बेनीपट्टी में भू-दान की पर्चा वाली जमीन को लेकर अकौर में पर्चाधारी महादलितों एवं दबंगों के बीच हुए संघर्ष के बाद भाकपा(माले) अकौर लोकल कमिटी ने बैठक आयोजित किया।

इस बैठक में सैकड़ों की संख्या में जुटें भूमिहीन गरीबों ने 20 एकड़ बाली सरकारी जमीन पर अपने कब्जे को बरकरार रखने एवं हमलावर दबंगों को गिरफ्तारी की मांग किया। इस मौके पर सैकड़ों की संख्या में लोग मौजूद थे।

कभी कोरोना वारियर तो कभी बच्चों की सेवा कर रही ये बेटियां

मधुबनी : बेटियां समाज को एक उम्मीद दे रही है, कोरोना संक्रमण के काल में जहां सभी लोग अपने घरो में कैद है वहीं ये बेटियां कभी कोरोना वॉरियर्स के रूप में समाज की सेवा कर रही है तो कभी जरूरतमंद बच्चों के बीच अध्यन सामग्री का वितरण कर के।

जिले के हरलाखी प्रखंड के नहरनिया पंचायत के बच्चों के बीच हरलाखी मधुबनी की समाजसेवी गुड़िया साह के द्वारा जरूरतमंद बच्चों के बीच पठन पाठन सामग्री का किया गया वितरण।

अभी तक इनके द्वारा हरलाखी प्रखंड में 1500 लोगों तक राशन का समान व महिलाओं के लिए सैनेटरी पैड व साबुन मास्क एवं लोगों को जागरूक किया जा रहा है। ये कार्य इनके द्वारा निःस्वार्थ भावना से ओर बिना किसी बैनर के किया जा रहा है। इसमें होने वाले खर्च भी ये लोग स्वंय ही वहां करते हैं।

भूमि विवाद को ले दो पक्षों में जमकर हुआ मारपीट

  • जमीन कब्जा को लेकर दो पक्षों के बीच हिंसक झड़प

मधुबनी : बेनीपट्टी थाना क्षेत्र के अकौर-दिघिया गांव में जमीन पर कब्जा करने से रोकने पर दो पक्षों के बीच हिंसक झड़प हो गई। झड़प में एक पक्ष से लगभग एक दर्जन लोग जख्मी हो गये, जिसमें राजे यादव की स्थिति नाजुक है। दूसरे पक्ष से भी लोगों के जख्मी होने की बात कही जा रही है। सूचना है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मुशहरी टोला से काफी संख्या में महिला और हरवे हथियार से लैस होकर गांव के ही बधार में जमीन पर एक पार्टी का झंडा गाड़ते हुए कब्जा करना शुरु कर दिया। उसी बीच दूसरे पक्ष के लोग भी वहां पहुंच कर विरोध करने लगे। देखते ही देखते दोनों पक्षों के बीच हिंसक झड़प शुरू हो गई। तकरीबन तीन घंटे तक झड़प चलता रहा। जिसकी सूचना मिलते ही बेनीपट्टी व अड़ेर थाना पुलिस स्थल पर पहुंच कर मामला को शांत कराने के प्रयास में जुट गई। बावजूद लोग मानने को तैयार नहीं हुए। सूत्रों के मुताबिक इस हिंसक झड़प को एक साजिश के तहत भड़काया गया था। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।

श्रमिक स्पेशल ट्रेनों से आये प्रवासी, हुई स्क्रीनिंग

मधुबनी : रेलवे स्टेशन पर प्रवासियों को लेकर आनेवाली श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के आने का सिलसिला जारी है। मालूम हो कि देश के विभिन्न राज्यों में रह रहे बिहार के लोगों को लाने हेतु राज्य सरकार के प्रयास से भारतीय रेल द्वारा 14 मई से 31 मई के बीच देश के विभिन्न शहरों से श्रमिक स्पेशल ट्रेन का परिचालन शुरू किया गया था।

इसी क्रम में 31 मई को चेन्नई से मधुबनी श्रमिक स्पेशल ट्रेन रात्रि 10ः10 मिनट पर मधुबनी आयी, जिसमें 331 यात्री सवार थे। पुनः जालंधर से मधुबनी ट्रेन अहले सुबह 02ः30 बजे आयी, जिसमें 145 यात्री सवार थे। सभी प्रवासी यात्रियों को रेलवे स्टेशन पर स्क्रीनिंग टेस्ट के बाद मधुबनी जिले के प्रवासियों को संबंधित प्रखंड में बस द्वारा भेजने की कार्रवाई की गयी। जहां पंजीकरण के पश्चात रेड जोन से आये यात्रियों को प्रखंड क्वारंटाइन में तथा रेड जोन के अलावे अन्य क्षेत्रों से आनेवाले प्रवासियों को शपथ पत्र भरवाकर होम क्वारंटाईन में रहने हेतु भेजा गया। इसके साथ ही अन्य जिलों के प्रवासियों को पूर्व की भांति भेजने की कार्रवाई की गयी।

लाॅकडाउन : मनरेगा में मिला काम तो मजदूरों के चेहरे पर आई मुस्कान

मधुबनी : वैश्विक महामारी कोविड-19 के चलते लाॅकडाउन का सबसे ज्यादा असर देहाड़ी मजदूरों पर पड़ा है। उनका रोजगार पूरी तरह छिन चुका है। लेकिन मनरेगा ने मजदूरों के चेहरे पर एक बार फिर मुस्कान लौटाने का काम किया है। इससे प्रवासियों को भी मनरेगा के द्वारा काम दिया जा रहा है। झंझारपुर प्रखंड के सिमरा पंचायत में मनरेगा से कार्य शुरू कराया गया है। ताकि लोगों को लाॅकडाउन के समय रोजगार मिल सकें। पंचायत के मझौरा मोहना गांव में नहर उड़ाही का कार्य कराया जा रहा है।

वर्तमान में पंडौल प्रखंड के बथने पंचायत में भी पोखर उड़ाही का कार्य किया जा रहा है। जहां महिला, पुरूष के साथ प्रवासी मजदूर भी मनरेगा में पोखर उड़ाही का कार्य कर रहे है। वत्र्तमान में जिला में 54822 मजदूरों को मनरेगा द्वारा रोजगार मुहैया कराया जा रहा है। जिसके अंतर्गत अभी तक वर्ष 2020-21 में 861913 मानव दिवस का सृजन किया गया है।

सुमित राउत

swatva

Leave a Reply