किउल-गया रेल लाइन का दोहरीकरण, अगस्त तक मानपुर से वजीरगंज तक कार्य

0
Doubling of K-G line

हाजीपुर : किउल एवं गया पूर्व मध्य रेल के दानापुर एवं मुगलसराय मंडल का प्रमुख स्टेशन है। इसकी महत्ता को देखते हुए किउल-गया रेलखंड का दोहरीकरण स्वीकृत किया गया था, जिसपर निर्माण कार्य तेजी से जारी है। वर्ष 2020 के अंत तक इस परियोजना को पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।

इस संदर्भ में पूर्व मध्य रेल के सीपीआरओ राजेश कुमार ने बताया कि इस परियोजना के तहत लगभग 125 किलोमीटर दोहरीकरण का कार्य किया जाना है। इस परियोजना के पूरा हो जाने के बाद किउल-गया रेलखंड में ट्रेनों की गति में वृद्धि होगी और क्षेत्र के औद्योगिक विकास में गति आएगी। इसके दोहरीकरण पर लगभग 1235 करोड़ रूपये की लागत आने का अनुमान है। निर्माण कार्य निर्धारित अवधि में पूरा हो सके इसके लिए वर्ष 2019-20 के बजट में 300 करोड़ रूपए का प्रावधान किया गया है।

चार चरणों में पूरी होने वाली इस परियोजना के प्रथम चरण में मानपुर से वजीरगंज (18.15 किमी) का दोहरीकरण अगस्त, 2019 तक पूरा कर लिए जाने का लक्ष्य रखा गया है। मानपुर से वजीरगंज के बीच कुल 39 छोटे एवं 03 बड़े रेल पुलों का निर्माण किया गया है। यात्रियों की सुविधा हेतु 03 स्टेशन भवन बनाए गए हैं। किउल-गया दोहरीकरण परियोजना के शेष कार्य को भी अपने निर्धारित अवधि में पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है ।
किउल-गया के दोहरीकरण से लखीसराय, शेखपुरा, नवादा एवं अन्य जिलों के विकास में और गति आएगी । इसका लाभ बिहारवासियों को तो मिलेगा ही साथ ही दिल्ली-हावड़ा मार्ग पर यात्रा करने वाले अन्य प्रदेष के यात्री भी लाभान्वित होंगे । यह रेल खंड वर्तमान में ग्रैंडकाॅर्ड एवं मेन लाइन के यातायात दबाव को भी कम करने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

लगभग 125 किलोमीटर लंबे किउल-गया दोहरीकरण परियोजना की स्वीकृति वर्ष 2015-16 में प्रदान की गई थी तथा 24 जून 2016 को रेलवे एवं इरकाॅन के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए । 125 किलोमीटर लंबे इस रेलखंड में 32 बड़े तथा 304 छोटे पुलों का निर्माण किया जाएगा। 304 छोटे पुलों में से 90 तथा 32 बड़े पुलों में से 4 रेल पुल का निर्माण कार्य पूरा कर लिया गया है । शेष पर कार्य प्रगति पर है।

वर्तमान में 125 किलोमीटर में से 70 किलोमीटर तक मिट्टी संबंधी तथा 55 किलोमीटर ब्लैंकेटिंग का कार्य पूरा कर लिया गया है । इस दोहरीकरण परियोजना को चार खंडों में बांटकरर कार्य किया जा रहा है । खंड-1 में मानपुर-पैमार- करजरा- वजीरगंज (18.15 किमी), खंड-2 में लखीसराय-करौटा पटनैर-सिरारी-षेखपुरा (25.62 किमी), खंड-3 में तिलैया-वजीरगंज (18.01 किमी) तथा खंड-4 में शेखपुरा-तिलैया (61.32 किमी) का निर्माण कार्य पूरा किया जा रहा है । इसके दोहरीकरण में कुछ नयेे यार्डों का भी निर्माण किया जाएगा जिनमें पैमार, नवादा, सिरारी, वजीरगंज, करजारा, करौटा पटनेर, काषीचक, शेखपुरा, वारसलिगंज एवं मानपुर प्रमुख हैं।

Leave a Reply