अनलाॅक वन में राजस्व संग्रह से लेकर वाहनों की बिक्री में आया उछाल- उपमुख्यमंत्री

0
file photo

पटना: उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि कोरोना संक्रमण की वजह से लागू लाॅकडाउन के बाद अनलाॅकडाउन के एक महीने में कर संग्रह से लेकर वाहनों की बिक्री तक में भारी उछाल आया है। लाॅकडाउन के दो महीने अप्रैल और मई में जहां राज्य का अपने स्रोतों से कुल राजस्व संग्रह मात्र 1,785.33 करोड़ था वहीं अनलाॅकडाउन-1 यानी जून महीने में यह बढ़ कर 2,387.09 करोड़ हो गया।

सुशील मोदी ने बताया कि अनलाॅकडाउन का असर वाहनों की बिक्री पर भी साफ दिखा। अप्रैल और मई में जहां 14,562 वाहनों की बिक्री हुई थी वहीं लाॅकडाउन हटने के बाद जून में यह बढ़ कर 96,302 हो गई।

अनलाॅकडाउन के दौरान निर्माण सहित अन्य कारोबार शुरू होने की वजह से सामानों की बिक्री में उल्लेखनीय वृद्धि हुई। अप्रैल और मई के दो महीने में जहां ई-वे बिल के जरिए बाहर से बिहार में बिकने के लिए 13,704 करोड़ का माल आया वहीं अकेले जून में यह बढ़ कर 13,662 करोड़ हो गया। इन सामानों में मुख्य रूप से सीमेंट, लोहा, दवा, वाहन, कपड़े व बिजली के उपकरण आदि शामिल हैं।

अनलाॅकडाउन के दौरान आर्थिक गतिविधियों में गति आने के कारण अप्रैल-मई में जहां वाणिज्य कर से मात्र 950.11 करोड़ तो केवल जून में 1,217.20 करोड़, निबंधन से अप्रैल-मई में 64.78 करोड़ तो जून में 334.48 करोड़, इसी प्रकार परिवहन से अप्रैल-मई के दो महीने में 91 करोड़ तो जून में 195 करोड़ तथा खनन से दो महीने में 113 करोड़ तो केवल जून में 89 करोड़ का संग्रह हुआ।

विगत 3 महीने में केन्द्र से बिहार को 22,227 करोड़ रु. केन्द्रीय करों में हिस्सा, अनुदान व क्षतिपूर्ति के मद में प्राप्त हुआ है। केन्द्रीय करों में हिस्सा के तौर पर 13,486 करोड, केन्द्र प्रयोजित योजनाओं के मद में 4,437.28 करोड़, 15 वें वित्त आयोग की अनुशंसा पर आपदा, शहरी व ग्रामीण निकायों के लिए 2,464.50 करोड़ व जीएसटी क्षतिपूर्ति के तौर पर 1,840.15 करोड़ मिला हैं।

swatva

Leave a Reply