एनजीटी की रोक के बावजूद अवैध बालू लदे ट्रक पुल ध्वस्त, आधा दर्जन पंचायतों का सम्पर्क भंग

0

(चम्पारण ब्यूरो)

सुगौली। बिहार में 1 जून से 30 सितम्बर तक बालू के खनन पर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने रोक लगा रखी है। बावजूद इसके बालू का अवैध खनन और आपूर्ति जारी है। इस अवैध कारोबार से राजस्व और पर्यावरण की क्षति के साथ ग्रामीण पुल धराशायी हो रहे हैं। इसी क्रम में अवैध बालू से ओवरलोड एक भारी-भरखम ट्रक का भार पुल सहन नहीं कर सका और टूटकर ट्रक सहित धंस गया। पुल के टूटने से 50 हजार की आबादी का आवागमन बाधित हो गया है।

swatva

घटना पूर्वीचम्पारण के रामगढ़वा थाना क्षेत्र के भेड़िहरवा गांव के नजदीक अहले सुबह तकरीबन 5 बजे घटित हुई। पुल पहले से ही जर्जर था और ट्रक बालू से ओवरलोड था। पुल पर जैसे हीं ट्रक चढ़ा, उसका पिछला चक्का पुल के साथ धंस गया। जिस कारण ट्रक का अगला भाग उठ गया और ट्रक का आधा हिस्सा पुल के नीचे चला गया। जिस कारण इस मार्ग पर आवागमन बाधित हो गया।

तकरीबन छह पंचायतों के लोगों का रामगढ़वा, सुगौली और बंजरिया प्रखंड मुख्यालय से सड़क सम्पर्क भंग हो गया है। हालांकि इस घटना में कोई हताहत नहीं हुआ है। ट्रक के ड्राइवर और खलासी सुरक्षित हैं लेकिन बालू लदा ओवरलोड ट्रक अभी भी पुल में फंसा हुआ है और स्थानीय अधिकारियों को इसकी जानकारी तक नहीं है। बगैर किसी हस्तक्षेप के ट्रक से अवैध बालू को खाली करने का घंटों कार्य चला।

सफी अहमद की रिपोर्ट

Leave a Reply