पैसे पर पोसे हुए झूठे पत्रकार को बचाने में लगे हैं बक्सर विधायक संजय तिवारी- राणाप्रताप

0

बक्सर : भाजपा के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य राणा प्रताप सिंह ने कहा कि बहुत हास्यास्पद स्थिति है कि बक्सर विधायक संजय उर्फ मुन्ना तिवारी ने विगत 15 मई को प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री पर आरोप लगाया कि एक ही टाटा विंगर एम्बुलेंस जिसे एसजेवीएन ने दिया था, उसको उन्होंने 31 अगस्त 2019 फिर 13 अगस्त 2019 फिर 4 अप्रैल 2021 और फिर 16 मई 2021 को उद्घाटन किया, जबकि 31 अगस्त 2019 को देश के जाने माने कंपनी वकहार्ड फाउंडेशन मुम्बई द्वारा फोर्स ट्रेवलर गाड़ी पर एमएमयू का उद्घाटन सदर अस्पताल से हुआ था।

फिर 13 अगस्त 2019 जो गलती से लिख दिए विधायक जी, जबकि 12 अगस्त 2020 को चिकित्सा चिकित्सक आपके द्वार योजना का 2 पहिया मोटरसाईकल पर लैबोरेट्री का उद्घाटन हुआ था। विधायक ने 4 अप्रैल 2021 को कहा कि 3 अप्रैल 2021 को मंत्रीजी ने भारत सरकार का बड़ा गाड़ी अशोक लेलैंड बस जो टीबी उन्मूलन कार्यक्रम के लिए आया था, उसका उद्घाटन किया था।

15 मई 2021 को बिहार सरकार द्वारा अपने पीआईपी में डालकर केंद्र को भेजे गए एमएमयू योजना का शुभारंभ महर्षि विश्वामित्र चलंत आरोग्य वाहन के रूप में किया था। यानी चारों अलग-अलग वाहन पर अलग-अलग योजना का शुभारंभ हुआ था।

वहीं इसी विज्ञप्ति को सदर विधायक मुन्ना तिवारी द्वारा अपने गोद में बैठाए हुए ईटीवी भारत के पत्रकार उमेश पांडेय, जिन्होंने पत्रकारिता और चौथे स्तंभ को शर्मसार करते हुए विधायक के कहने पर झूठा खबर चलाया और एक ही एम्बुलेंस का मंत्री द्वारा 4 बार उद्घाटन की बात प्रकाशित किया और इसका सीरीज चलाया, जिसमें पहली बार सदर अस्पताल में 102 एम्बुलेंस के नाम से, दूसरी बार किला मैदान में चिकित्सा चिकित्सक आपके द्वार के नाम से, तीसरी बार कैमूर के रामगढ़ से और चौथी बार समाहरणालय से महर्षि विश्वामित्र चलंत आरोग्य वाहन के रूप में किया। ऐसा भ्रम फैलाया जो झूठा साबित हो गया। चूंकि सभी अलग अलग गाड़ियां थीं। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं द्वारा प्रेस वार्ता कर बताया गया कि विधायक जनता के आंखों में धूल डाल रहें हैं और जैसे ही उन्हें मालूम चला कि जिस टाटा विंगर गाड़ी को वे चार बार उद्घाटन की बात कर रहे हैं वो 4 अलग अलग वाहन से अलग अलग योजना का उद्घाटन हुआ था तो वे बैकफुट पर आकर भागे फिर ने लगे और अपने पैसे पर पोसे हुए झूठे पत्रकार को बचाने में लगे हैं।

उपरोक्त गलत तथ्यों को जनता के सामने लगातार अपने फेसबुक पर डालने एवं सोशल मीडिया पर दुष्प्रचारित करने के लिए विधायक मुन्ना तिवारी एवं झूठे पत्रकार उमेश पांडे को 48 घंटे में जनता से माफी मांगने को कहा गया था, जिसके उपरान्त इन लोगों ने जनता से माफी तो दूर उनहें विभिन्न माध्यमों से बरगलाना और भ्रमित करना जारी रखा।

बक्सर के सदर थाना में पत्रकार उमेश पर मुख्य आरोपी एवं विधायक संजय उर्फ मुन्ना तिवारी को नामजद करते हुए उनके कुकृत्य के लिए दिनांक 23 मई को केस भी दर्ज कराया गया है, जिसमें वर्णित सभी तथ्यों का साक्ष्य भी संलग्न किया गया है, ताकि दूध का दूध पानी का पानी हो जाय। अब अपने आप को एवं अपने स्टाफ पत्रकार जो उनके प्रवक्ता ज्यादा और ईटीवी के पत्रकार कम हैं उनको बचाने के लिए पुनः जनता के सामने जेल भरने और आंदोलन करने का नाटक कर रहे हैं।

भाजपा नेता राणाप्रताप सिंह ने कहा कि हम पूछना चाहते हैं कि जब एक ही एम्बुलेंस का 4 बार उद्घाटन का खबर गलत साबित हो गया तो फिर ये नाटक किसको भ्रमित करने के लिए? कल प्रेस रिलीज देकर न्याय की बात करने वाले विधायक अब न्याय के लिए जेल भरने की बात कर रहे हैं, आप जेल जरूर जाएंगे विधायक लेकिन जनता के साथ जो धोखा किया है, अनैतिक कार्य किया है, कई संगीन अपराध किया है जिसमें दर्जनों आपराधिक केस आप पर दर्ज है, उसमें जेल जरूर जाएंगे। ज्ञात हो कि अपने को जनता का सेवक बोलने वाले मुन्ना तिवारी पर बक्सर सहित अन्य जगहों पर लोगों के साथ विभिन्न अपराध करना शामिल है।

भाजपा नेता ने विधायक पर लगे आरोप को बताते हुए कहा कि जिसमें अपने व्यक्तिगत गाड़ी से प्रतिबंधित शराब तस्करी करवाना, 2 आरोप चोरी करने का, एक आरोप हत्या की नीयत से अपहरण का, 5 आरोप सामाजिक सौहार्द बिगाड़ कर जानबूझकर लोगों को प्रताड़ित करना, 4 आरोप लोगों को चोट पहुंचाने का, 3 आरोप दंगा फैलाने का, 3 आरोप कॉमन ऑब्जेक्ट का, 2 आरोप सरकारी पदाधिकारी के साथ दुर्व्यवहार करने का, 2 आरोप आपराधिक षड्यंत्र रचने का, 2 आरोप घातक हतिहार द्वारा जबरन दंगा फैलाने का, 2 आरोप व्यक्तियों को जबरन डरा धमकाकर एवं घात पहुंचाकर फिरौती और पैसा वसूलने का, 1 आरोप गलत तथ्यों को प्रदर्शित करने का, 2 आरोप अनदेखी कर अनैतिकता द्वारा भयंकर जानलेवा बीमारी को फैलाने का, 1 आरोप क़वारनटाइन नियमों को तोड़ने का, 2 आरोप धोखाधड़ी का यह जानते हुए की उसके हित की रक्षा करनी थी, 1 आरोप सरकारी अधिकारी को प्रताड़ित करते हुए उसपर हमला करने की नीयत साथ ही सरकारी पदाधिकारी को शारीरिरिक मानसिक कष्ट देते हुए प्रताड़ित कर सरकारी कार्यों में बाधा डालना आदि शामिल हैं। कई ऐसे अपराध इन्होंने किये हैं जिसका अपने एफिडेविट में डिक्लेअर तक नही किया है जो स्वयं में संगीन जुर्म है।

राणाप्रताप ने कहा कि हम पूछना चाहते हैं कि ऐसा व्यक्ति जिसपर दर्जनों केस और कई संगीन आपराधिक केस हों वो जनता की सेवा का नाटक कर रहे हैं जो जनता बखूबी समझती है। बक्सर पुलिस अपना काम कर रही है और हज़ारों लाखों भोली जनता तक अनर्गल झूठी बातें प्रसारित करने एवं सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने के जुर्म में ऐसे व्यक्तियों को जल्द सजा भी मिल जाएगा। इसलिए अभी भी समय है जनता जनार्दन से हाथ जोड़कर अपने गलती की माफी मांगिये नही तो जनता तो आपको जेल भेजकर ही रहेगी।

swatva

Leave a Reply