26 जून : बक्सर की मुख्य ख़बरें

0

बाइक दुर्घटना में दम्पति घायल, पत्नी की मौत

बक्सर : जिले में प्रतापसागर के पास बाइक सवार एक दंपति की सड़क दुर्घटना में घायल हो गया और पत्नी की मौके पर ही मौत हो गई। दरसल भोजपुर जिले के सैहार गांव से एक दंपति मुंडन संस्कार में शामिल होने के लिए बाइक से बक्सर के लिए रवाना हुए। उन्हें शुक्रवार को मुंडन संस्कार में शामिल होना था। इस दौरान रास्ते में प्रतापसागर के पास यह अनहोनी हो गई।

जिसके बाद मौके पर ही सुधा कुमारी (25) पति गुड्डू दूबे की मौके पर मौत हो गई। सूत्रों के अनुसार बाइक रोड पर गिर गया और वहीं पीछे से तेज रफ्तार से आ रहा ट्रक उसके सर पर चढ़ गया। जिससे महिला की मौके पर ही मौत हो गई।

वहीं एक घायल युवक की उपचार के लिए डुमरांव अस्पताल ले जाया गया। जहां डाक्टरों ने प्राथमिक उपचार के बाद सदर अस्पताल रेफर कर दिया। जानकारी के अनुसार यह सैहार निवासी शशिकांत दूबे के पुत्र गुड्डू परिवार के ही सदस्यों के यहां जा रहे थे। वे लोग बक्सर में ही रहते हैं। सूचना मिलने के तुरंत बाद नया भोजपुर ओपी की पुलिस ने उनको मदद पहुंचाई।

युवक ने लगा ली फांसी,घर वाले आवाक

बक्सर : डुमरांव शहर के बंधनपटवा मुहल्ले में एक युवक ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।जिस युवक से घर वालों को उम्मीद थी। उसी ने आज गुरुवार की देर शाम फांसी लगा ली।
स्थानीय लोगों ने बताया कि मृतक चंदन गुप्ता पिता सुरेन्द्र गुप्ता को घर वाले बहुत स्नेह करते थे। लेकिन उसके फांसी लगाने की वजह क्या है यह अभी तक मालूम नहीं हो पाया है। वहीं सूचना मिलते ही डुमरांव थाने की पुलिस पहुंची गई और शव को फंदे से उतारा गया। पूछताछ के बाद उसे पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भेज दिया गया।

तालाब में डूबने से मजदूर की मौत

बक्सर : ब्रह्मपुर थाना के रघुनाथपुर तुलसी आश्रम तालाब में डूबने से एक युवक की मौत हो गई। ग्रामीणों के अनुसार रघुनाथपुर के वार्ड संख्या दो में नल-जल का काम चल रहा है। योजना में काम कर रहे लोग तालाब के पास ही रुके हुए थे। आज शुक्रवार की सुबह युवक का शव देखा गया।जिसकी पहचान विजय राम पुत्र कृष्णा राम ग्राम चितौरा, पिरो के रुप में हुई। शव को पानी से बाहर निकाला गया। ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है। रात के वक्त ही वह तालाब में डूब गया था। जिसकी भनक लोगों को आज सुबह लगी। कुछ लोगों ने पानी के उपर दो हाथ निकले हुए देखे। तो इसकी सूचना आस-पास के लोगों को दी। फिर वहां भीड़ जमा हो गई।

कांग्रेस की देन रहा आपातकाल, जो नेता बने उसी की गोद में खेल रहे : भाजपा

बक्सर : जिले में एक दिन पूर्व भाजपा जिला कमेटी की बैठक हुई। जिसकी अध्यक्षता कर रही जिलाध्यक्ष माधुरी कुंवर ने कहा इस तिथि को कभी नहीं भूला जा सकता। कांग्रेस ने राजनीति विरोध को कुचलने के लिए आपातकाल लगाया। लेकिन, उसे जेपी के आंदोलन ने ऐसा सबक सीखाया। जिसे हमेशा याद किया जाएगा।लेकिन, उस आंदोलन से उपजे नेता आज उसी कांग्रेस की गोद में बैठक खेल रहे हैं।

उन्होंने लालू यादव का नाम लेते हुए कई राजनीतिक बातें कहीं। बैठक का संचालन महामंत्री नवीन निश्चल चतुर्वेदी ने किया। इस दौरान चुन्नू सिंह, टुनटुन वर्मा, राजाराम पांडेय, मदन दुबे, मनोज पांडेय, धनंजय राय, अजय वर्मा, सुधा देवी, धनजी पांडेय, देवेन्द्र ठाकुर आदि उपस्थित रहे। यह जानकारी पार्टी के मीडिया प्रभारी प्रमोद मिश्रा ने दी।

चार पुलिस वाले बर्खास्त, इलाज के दौरान निगरानी से भागा था बंदी

बक्सर : जिले में अभिरक्षा से बंदी के भागने की घटना के कारण हवलदार समेत चार पुलिस कर्मियों को सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है। पुलिस कप्तान उपेन्द्रनाथ वर्मा ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि यह वाकया चार वर्ष पुराना है।

मालूम हो कि ब्रह्मपुर थाना के योगियां गांव निवासी रविन्द्र मिश्रा जो मुकदमा संख्या 287/2014 में आरोपित है। उसे उपचार के लिए 10 अगस्त को पटना भेजा गया। उसकी सुरक्षा में चार लोग यहां से पटना गए।उनमें हलवदार अवधेश राम, खुर्शीद आलम सिपाही संख्या 115, सुरेन्द्र राय 211 एवं सुधीर कुमार 107 शामिल थे। उन्हें आरोपी को लेकर आई जी एम एस जाना था। लेकिन, पटना के राजाबाजार स्थित चन्द्रा गेस्ट हाउस चले गए। जहां से विचाराधीन बंदी कुबेर मिश्रा 11 अगस्त 2016 को फरार हो गया। हांलाकि अब कुबेर पुलिस की गिरफ्त में आ गया है। उसकी गिरफ्तारी के बाद उनके विरूद्ध अंतिम निर्णय लिया जाना था। उसकी के परिणाम स्वरुप इन सभी को सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है।

हर गांव और घर का हो सर्वेक्षण, स्वास्थ्य विभाग को डीएम ने चेताया

बक्सर : जिलाधिकारी अमन समीर ने शुक्रवार को स्वास्थ्य विभाग की मासिक समीक्षा बैठक बुलाई।इस बैठक में सिविल सर्जन के साथ सभी प्रखंड चिकित्सा प्रभारी और उनके हेल्थ मैनेजर पहुंचे। डीएम ने सभी से कहा कि सरकार और स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों का पालन होना चाहिए। आप सभी को पता है।संक्रमण के समय में वैसे रोगियों की पहचान बहुत जरुरी है। जो किसी भी तरह के लक्षण से प्रभावित हों। इसके लिए जरुरी है आशा कार्यकर्ता घर-घर जाएं। पांच वर्ष तक के बच्चों, गर्भवती महिलाएं और 60 वर्ष की आयु पूरी कर चुके लोगों का गहन सर्वेक्षण करें।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यह भी ध्यान रखा जाए कि किसी व्यक्ति में रक्तचाप, हृदय, मधुमेह, टीवी आदि की शिकायत हो उसे भी सूचीबद्ध करें।इसकी पूरी जिम्मेवारी स्वास्थ्य प्रबंधकों के उपर है। सर्वेक्षण गहन और मुक्कमल होना चाहिए। साथ ही गांव-गांव में लोगों को एंबुलेंस के टॉलफ्री नंबर, कोविड का हेल्प लाइन नंबर बताएं। जिसे आपात स्थिति में लोग सूचना देकर जरुरी मदद पा सकें। डीएम ने कहा ध्यान रहे। सर्वेक्षण के दौरान अगर किसी में कोई लक्षण दिखे तो तुरंत इसकी सूचना प्रखंड अस्पताल को दें।

ठीक हुए 49 मरीज, रिकवरी रेट 90 प्रतिशत

बक्सर : कोरोना मामले में बक्सर पूरे बिहार में नंबर वन हैं । क्योंकि यहां का रिकवरी रेट 90 प्रतिशत से ज्यादा है। आप शायद इस आंकड़े को देखकर हैरान होंगे। लेकिन, यह सच है।

आज 26 जून को जिला प्रशासन ने जो रिपोर्ट जारी की है। उसके अनुसार आज 49 लोग स्वस्थ हुए हैं। अब रही बात प्रतिशत की।तो अब तक के कुल आंकड़े पर नजर डाल लें। जिले में रोगियों की कुल संख्या 213 है। इनमें से 26 जून तक कुल 194 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। अर्थात शेष रह गए सक्रिय रोगियों की संख्या महज 19 रह गई है। जबकि एक दिन पहले यह संख्या 68 थी। 231 में से 194 स्वस्थ हो जाएं। एक भी बीमार की मृत्यु अपने यहां नहीं हुई।अब तक यहाँ 4475 लोगों कोविड-19 का टेस्ट हो चुका है जिसमे 3522 का टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त हुआ है। जो यह बताता है बक्सर में कुछ खास है।

नशा मुक्ति दिवस पर पुलिस वालों ने ली शपथ

बक्सर : विश्व नशा मुक्ति दिवस के मौके पर आज 26 जून को पुलिस वालों ने शपथ ली। पुलिस कप्तान यू एन वर्मा ने इस मौके पर संकल्प के रुप में पौधा भी लगाया और सभी को शपथ दिलाई।शपथ लेते हुए उन्होंने कहा कि हम जहां भी पदस्थापित रहेंगे। समाज को नशा मुक्त बनाने में सहयोग करेंगे। लोगों को इसके प्रति जागरूक करेंगे।हम इसकी शपथ लेते हैं। पुलिस लाइन में संपन्न हुए समारोह के दौरान समाज के बेहतरी के लिए जो शपथ ली गई। इसमें सभी पुलिस पदाधिकारी शामिल रहे।

युवक ने चला दी अपने ही चाचा पर गोली

बक्सर : पन्द्रह-सोलह वर्ष के किशोर ने अपने चाचा के उपर ही गोली चला दी। लेकिन निशाना चूक जाने के कारण कोई हताहत नहीं हुई। जिसके बाद मौके पर ही चाचा मुन्ना सिंह ने उसे दौड़ाकर पकड़ लिया। फिर कारतूस और देसी कट्टे के साथ उसे पुलिस को सौंप दिया।
यह घटना धनसोई थाना के ककरियां गांव की है। सूचना के अनुसार गुरुवार की शाम दीपनारायण सिंह के किशोर पु़त्र ने यह जानलेवा हमला सिर्फ आक्रोश की वजह से कर दिया। थानाध्यक्ष रौशन कुमार के अनुसार वे शाम में गश्त पर जा रहे थे। तभी सामने से आ रहे व्यक्ति ने पुलिस को आवाज दी। बस स्टैंड के पास काकरिया निवासी मुन्ना सिंह अपने भतीजे रंजन (काल्पनिक नाम) को पकड़े खड़े थे।उन्होंने बताया मैं थाने की आ रहा था। इसने मेरे उपर गोली चलाई। मैं बाल-बाल बच गया। उसे पकड़ा और अब पुलिस के हवाले कर रहा हूं।

वहीं पूछताछ में नाबालिग आरोपी ने बताया कि शाम को दूध लेकर लौट रहा था तो रास्ते में चाचा ने उसकी पिटाई कर दी। जिससे नाराज होकर उसने यह कदम उठाया। पुलिस ने पीड़ित के बयान पर प्राथमिकी दर्ज कर ली है। किशोर का आरा स्थित सुधार गृह भेजा जाएगा। चाचा ने उसे क्यूं मारा। यह पूछने पर पता चला उसने अपनी चचेरी बहन को कुछ अपमानित किया था। जिसके कारण उसे मार पड़ी थी। लेकिन, किशोर के पास देसी कट्टा और 13 कारतूस कहां से आए। यह भी एक अहम सवाल होगा। भले ही पुलिस मामले को जिस ढंग से निपटाए।

चन्द्रकेतु पाण्डेय की रिपोर्ट

swatva

Leave a Reply