1 अगस्त : बक्सर की मुख्य ख़बरें

0
11 अगस्त : बक्सर की मुख्य ख़बरें10 अगस्त : बक्सर की मुख्य ख़बरें8 अगस्त : बक्सर की मुख्य ख़बरें7 अगस्त : बक्सर की मुख्य ख़बरें6 अगस्त : बक्सर की मुख्य ख़बरें5 अगस्त : बक्सर की मुख्य ख़बरें3 अगस्त : बक्सर की मुख्य ख़बरें1 अगस्त : बक्सर की मुख्य ख़बरें31 जुलाई : बक्सर की मुख्य ख़बरें30 जुलाई : बक्सर की मुख्य ख़बरें28 जुलाई : बक्सर की मुख्य ख़बरें27 जुलाई : बक्सर की मुख्य ख़बरें26 जुलाई : बक्सर की मुख्य ख़बरें24 जुलाई : बक्सर की मुख्य ख़बरें23 जुलाई : बक्सर की मुख्य ख़बरें21 जुलाई : बक्सर की मुख्य ख़बरें20 जुलाई : बक्सर की मुख्य ख़बरें17 जुलाई : बक्सर की मुख्य ख़बरें16 जुलाई : बक्सर की मुख्य ख़बरें15 जुलाई : बक्सर की मुख्य ख़बरें2 जुलाई : बक्सर की मुख्य ख़बरें30 जून : बक्सर की मुख्य ख़बरें

सिद्धाश्रम से अयोध्या जाएगी तीर्थों की मिट्टी व गंगाजल

बक्सर : 5 अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर का भूमि पूजन किया जायेगा जिसके लिए पूरे देश से मिट्टी लाई जा रही है, इसी क्रम में जिले के प्रसिद्ध सिद्धाश्रम से भी मिट्टी व गंगजल भेजा जायेगा।

बक्सर में कोरोना पॉजिटिव से नेगिटिव हुए व्यक्ति की मौत से हड़कंप

इस संबंध में जानकारी देते हुए श्रीराम सर्किट के सदस्य जगदीश चन्द्र पांडेय उर्फ विद्यार्थी ने बताया कि श्रीराम मंदिर के शिलान्यास में बक्सर के लोग भी शामिल होंगे और अपने साथ यहां के सभी प्रमुख तिर्थस्थलों की पवित्र मिट्टी लेकर जाएंगे।

उन्होंने बताया रामायण सर्किट से जुड़े सभी प्रमुख स्थलों की मिट्टी (पंचकोशी क्षेत्र) के साथ वामनाश्रम, सोहनीपट्टी, रामरेखा घाट, ब्रह्मेश्वर धाम, सोमेश्वर स्थान आदि की मिट्टी छोटे पात्रों में एकत्र की गई है। इसके अलावा गंगाजल और पवित्र सरोवरों का जल एकत्र किया गया है। जिसे लेकर यहां से आज एक अगस्त को विद्यार्थी बाइक द्वारा आयोध्या प्रस्थान करेंगे। शहर के गोलंबर के पास इस कार्यक्रम के प्रायोजक श्रीराम फ्यूल के देवदत्त उपाध्याय, अजीत उपाध्याय व जय मां शक्ति समिति के अध्यक्ष अरविंद सिंह एक साथ एकत्र हुए। सभी ने बताया यहां से 21 हजार रुपये की सहायता राशि भेजी जा रही है। जो चेक के माध्यम से दी जा रही है। प्रभु श्रीराम का बक्सर से अभिन्न नाता है।

जिले में मिले कोरोना संक्रमण के 41 मिले मरीज़

बक्सर : जिले में कोरोना संक्रमण का सिलसिला जारी है, संक्रमितों की संख्या में भी लगातार वृद्धि हो रही है उछाल आया है। आज एक अगस्त को प्राप्त सूचना के अनुसार जिले में 41 नए केस सामने आए हैं। इनमें सर्वाधिक 11 केस केसठ के हैं। आठ केस के साथ बक्सर दूसरे नंबर पर है। डुमरांव में सिर्फ तीन नए रोगियों की पहचान हुई है।

इसके अलावा चौगाईं, सिमरी, राजपुर व इटाढ़ी में पॉजिटिव की पहचान हुई है। सिमरी के इंडियन बैंक में दो मामले सामने आए हैं। वैसे जिले का कुल आंकड़ा 1045 पहुंच गया है। अब तक ठीक होने वालों की ताजा जानकारी नहीं मिली है। लेकिन 31 जुलाई को जिले में कुल ठीक होने वालों की संख्या 558 एवं सक्रिय रोगियों की संख्या 446 थी।

प्रशासन ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर

जिले में कोविडि-19 का संक्रमणको देखते हुए प्रशासन ने एक हेल्पलाइन नंबर जारी किया है। जिससे लोगों को उचित परामर्श एवं जानकारी मिल सके। इसके कंट्रोल रुम स्थापित किया है। जिसके आवश्यक नंबर पहले भी हमने प्रकाशित किए हैं।साथ ही एक टॉलफ्री नंबर जारी किया गया है। जिस पर कोई भी संपर्क कर सकता है। जिले के लोगों के लिए 18003456602 नंबर जारी किया गया है।

जिले में कोरोना संक्रमण की जाँच की बढ़ी रफ्तार

  • रैपिड किट से की जा रही है जांच

‌‌‌बक्सर : कोरोना संक्रमण के साथ ही जिले में इसकी जाँच में भी तेजी आ गई है, पिछले चार महीनों में लगभग 12,000 हज़ार टेस्ट किए जा चुके है। 10 जून के बाद ट्रू नेट की जांच जिले में होने लगी। जून में लगभग तीन हजार लोगों की जांच हुई। माह की समाप्ति तक कुल जांच पांच हजार के लगभग पहुंची।जब जिले के कुल रोगियों की संख्या ढ़ाई सौ के लगभग थी। जुलाई में जांच की क्षमता का विस्तार हुआ। ट्रू नेट के अलावा रैपिड कीट से जांच शुरू हुई। परिणाम कुछ मिनट में सामने आने लगे। कीट से जांच करना और सुगम हो गया।

इस वजह से एक दिन में दो सौ से ढ़ाई सौ लोगों की जांच होने लगी। उसे जिला अस्पताल से प्रखंड और गांव तक भेजा गया। इसके साथ ही संक्रमित लोगों के आंकड़े में भारी उछाल आया। लगभग सात हजार लोगों की जांच जुलाई में हुई। साथ ही जिले में मरीजों का आंकड़ा भी 250 से बढ़कर 1000 को पार कर गया।ज्यादा जांच होने से भले ही रोगियों की संख्या में इजाफा दिख रहा है। लेकिन, मास लेबल पर संक्रमण को फैलने से रोकने का यही कारगर तरीका है। संक्रमित की पहचान हो और उन्हें क्वारंटाइन या आइसोलेट किया जाए। 31 जुलाई को जिले का कुल आंकड़ा कुछ इस प्रकार है। जांच हुई 12868, संक्रमित मिले 1004, ठीक हुए 558 लोग। अर्थात संख्या भले बढ़ी अपना रिकवरी रेट अच्छा रहा। इस लिए सजगता बचाव का सबसे कारगर हथियार है। हमेशा स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों का पालन करें।

चंद्रकेतु पांडेय

swatva

Leave a Reply