भागलपुर में कोरोना का विश्वस्तरीय ईलाज शीघ्र, टीम करेगी दौरा

0

भागलपुर/नयी दिल्ली : भागलपुर स्थित मायागंज एवं सदर अस्पतालों में शीघ्र ही कोरोना के इलाज के लिए विश्वस्तरीय सुविधाएं उपलब्ध करायी जाएंगी। इसके लिए इन अस्पतालों में देश के उत्कृष्ट निजी क्षेत्र के अस्पतालों के चिकित्सकों के द्वारा कोविड-19 के इलाज की व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी और एक टीम शीघ्र ही इन अस्पतालों का दौरा करेगी। भाजयुमो के राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य और केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी चौबे के पुत्र तथा प्रत्याशी भागलपुर विधानसभा क्षेत्र अर्जित शाश्वत चौबे ने उक्त जानकारी देतेू हुए बताया कि अब बिहार और भागलपुर के लोगों को कोरोना की विश्वस्तरीय ईलाज की सुविधा हासिल हो जाएगी।

इसके तहत उन्होंने आज केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के तकनीकी सलाहकार, सोसाइटी ऑफ इमेरजेंसी मेडिसिन आफ इंडिया-सेमी एवं एशियन सोसाइटी फार इमेरजेंसी मेडिसीन के पदाधिकारियों के साथ ऑनलाइन वर्चुअल बैठक की। इसमें देश विदेश में काम करने वाले विशेषज्ञ एवं सलाहकारों ने हिस्सा लिया। बैठक में भागलपुर की स्वास्थ्य व्यवस्था को सुदृढ करने के लिए चिकित्सकों का दल निःशुल्क सेवा देने को तैयार हुआ। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री ने सेमी के पदाधिकारियों के साथ बैठक कर भागलपुर के लिए संबंधित दिशा निर्देश दिए।

अर्जित ने बताया कि उनकी पहल पर सेमी ने इमेरजेंसी मेडिसिन एवं डिजास्टर मैनेजमेंट में विभिन्न स्थानों पर कार्य कर चुके चिकित्सक एवं संगठनों की बैठक करायी जिसमें इराक, अमेरिका आदि स्थानों पर आपदा के समय काम करने वाले चिकित्सकों ने भी हिस्सा लिया। अर्जित ने सेमी से आग्रह किया कि भागलपुर में मायागंज अस्पताल एवं आइसोलेशन सेंटर पर मरीजों की देखरेख में दिक्कत आ रही है। आईसीयू के मरीजों को भी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। अतः यहां कैसे समुचित व्यवस्था जाए, जिससे लोगों को फायदा हो।

सेमी ने योजना बनायी है कि मेडिकल कालेज, आईसोलेशन सेन्टर एवं सदर अस्पताल में निरीक्षण कर यहां स्वास्थ्य चिकित्सा संबंधित समुचित व्यवस्था बनाया जा सकता है। इसमे देश के बड़े निजी अस्पतालों के साथ तालमेल कर उनके दक्ष चिकित्सक, पारा मेडिकल स्टाफ, नर्सिंग स्टाफ एवं अटेंडेंट को 15-15 दिनों के रोस्टर पर निःशुल्क यहां लाकर सेवा लिया जाय। सेमी के अध्यक्ष डॉ तमोरिष कोले जो भारत सरकार स्वास्थ्य मंत्रालय के भी विभिन्न योजनाएं के परामर्श दाता हैं, ने कहा कि अफ्रीका के इबोला संक्रमण एवं अन्य आपदाओं एवं महामारी के समय चिकित्सा कार्य करने वाली डॉ पुनिधा एवं राष्ट्रीय स्तर पर आपदा में कोरोना के लिए विभिन्न अस्पतालों में व्यवस्था चलाने वाले डॉ रविकांत का उपयोग भागलपुर में किया जा सकता है। दोनों चिकित्सकों ने भी अपनी सहमति दे दी है और जल्द भागलपुर आकर निरीक्षण कर व्यापक योजना बनाने की बात कही

अर्जित ने बताया कि जल्द ही एक टीम निरीक्षण कर योजनाबद्ध तरीके से अस्पतालों की व्यवस्था और खासकर आईसीयू को सुदृढ कर देगा एवं 3 शिफ्ट में इनके चिकित्सक और स्वास्थ्यकर्मी अपनी निःशुल्क सेवा प्रदान करेंगे। अर्जित ने बताया कि इस कार्य के लिए अश्विनी चौबे ने नॉडल पदाधिकारी के रूप में अपने तकनीकी परामर्षकर्ता आशीष वर्मा को इस विशेष कार्य के लिए नियुक्त किया है। भागलपुर के सिविल सर्जन, मेडिकल कालेज के प्राचार्य एवं अस्पताल अधीक्षक से वार्तालाप चल रहा है और जल्द इस मॉडल को यहां लागु किया जाएगा ताकि स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाया जा सके।

वर्चुअल मीटिंग में अर्जित के अलावा सेमी के अध्यक्ष डॉ तमोरिष कोले, परामर्षकर्ता डॉ तारिक खान, डिजास्टर मैनेजमेंट सेवा से डॉ पुनिधा व डॉ रविकांत सिंह एवं स्वास्थ्य मंत्रालय से तकनीकी सलाहकार आशीष वर्मा ने भाग लिया।

swatva

Leave a Reply