13 अक्टूबर : आरा की मुख्य खबरें

0
आरा की मुख्य ख़बरें

वोट नही देने पर युवक को पीटा

आरा : भोजपुर जिले के जगदीशपुर थानान्तर्गत कहथु गांव में पंचायत चुनाव के दौरान वोट नही देने पर युवक की जमकर पिटाई कर दी गई जिससे वह गंभीर रुप से जख्मी हो गया। उसे आरा सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जख्मी युवक कहथु गांव निवासी जगरनाथ सिंह का 35 वर्षीय पुत्र विनीत रावल है।

विनीत रावल ने बताया आज सुबह जब अपने घर पर बैठा था, तभी गांव के ही पूर्व मुखिया प्रतिनिधि के समर्थक उसे वोट नही देने पर अनाप-शनाप बोल रहे थे और जब उसने विरोध किया तो उनके बीच तू-तू मैं-मैं हुई। जिसके बाद उक्त लोगों ने घर में घुसकर उसकी जमकर पिटाई कर दी जिससे वह गंभीर रूप से जख्मी हो गया और उसका बायां हाथ फ्रैक्चर कर गया है।

जख्मी ने गांव निवासी भूतपूर्व मुखिया प्रतिनिधि एवं उनके सहयोगी के ऊपर मारपीट करने का आरोप लगाया है। जगदीशपुर थानाध्यक्ष संजीव कुमार ने बताया कि वोट को लेकर तो विवाद हुआ था, लेकिन दोनों पक्षों के बीच पूर्व से भी जमीन को लेकर विवाद चला रहा है। हालांकि पुलिस अपने स्तर से मामले की छानबीन कर रही है।

मां आरण्य देवी के दर्शन को उमड़ा जनसैलाब

आरा : शारदीय नवरात्र के आठवें दिन देवी दुर्गा के अष्टम स्वरूप महागौरी की पूजा के लिए पूजा पंडालों एवं मंदिरों में भक्तों की भारी भीड़ उमड़ी। आरा शहर की अधिष्ठात्री देवी मां आरण्य देवी के मंदिर में पूजन एवं दर्शन को लेकर बुधवार की अहले सुबह से ही महिला-पुरुष श्रद्धालु भक्तों का जनसैलाब उमड़ पडा। लोगों को देवी दर्शन के लिए घंटों कतार में खड़ा रहना पड़ा।

मां अरण्य देवी की मूर्ति एवं मंदिर परिसर को आकर्षक ढ़ंग से फूलों से सजाया गया है। दर्शन के लिए महिलाओं एवं पुरुषों के लिए अलग-अलग कतारे बनाई गई थी। महिलाओं की लाइन आरण्य देवी मोड़, शीश महल चौक से सब्जी गोला में प्रवेश कर गई। वहीं पुरुषों की लाइन मीरगंज पड़ाव तक जा पहुंची। पुलिस-प्रशासन की टीम एवं स्थानीय वोलिंटियर लोगों को कतारवद्व कराकर दर्शन करा रहे थे। मां के भक्ति गीतों से पूरा माहौल गुंजायमान हो गया।

बता दें कि आरा का आरण्य देवी मंदिर देश के 54 के शक्तिपीठों में से एक है। कहा जाता है कि द्वापर युग में यहां पांडवों ने देवी के दर्शन किये थे। उस समय आरा शहर आरण्य वन के नाम से मशहूर था। इस मंदिर में सालों भर श्रद्धालु भक्तों की भीड़ उमड़ी रहती है। चैत्र तथा शारदीय नवरात्र में यहां तिल रखने की जगह नहीं होती है। इस मंदिर की सबसे बड़ी खासियत है कि यहां पशु बलि नहीं दी जाती है बल्कि नारियल चढ़ाया जाता है। आरा देवों की नगरी कहा जाता है| यहां देवी देवताओं का वास हमेशा से ही रहा है| आरा को आदिशक्ति स्वरूपा मां आरण्य देवी के नाम से जाना जाता है और आरा नाम भी आज की तारीख में इसी आरण्य से पड़ा है|

पुराणों में भी चर्चा है कि महाभारत काल में 14 वर्ष के वनवास के समय पांडव आरा आये थे और इसी आरण्य देवी मंदिर में पूजा की थी| उस समय चारों तरफ जंगल ही जंगल था। कुछ लोगों का कहना है कि मां आदिशक्ति इस जगह पर आदिकाल से है| तब से लेकर आज तक यहां विधिवत पूजा-अर्चना होती रही है| खासकर नवरात्र में यहां श्रद्धालुओं की अपार श्रद्धा एवं अटूट विश्वास मां के प्रति देखने को मिलता है।

आरा में मना अंबा डांडिया उत्सव

आरा : अंबा द्वारा आयोजित डांडिया नाइट 2021 आज होटल आरा ग्रांड में ग्रांड सेलिब्रेशन के साथ सम्पन्न हुआ. कार्यक्रम का उद्घाटन मां दुर्गा की पूजा अर्चना और आरती कर किया गया। पूजा अर्चना मां आरण्य देवी के महंत मनोज बाबा ने की। मुख्य अतिथि के रूप में राकेश ओझा, विशिष्ट अतिथियों में अंजनी तिवारी, मारकंडेय ओझा, पवन तिवारी, राजेश तिवारी, डॉ विजय गुप्ता, डॉ संगीता गुप्ता और संतोष तिवारी ने आरती कर कार्यक्रम की शुरुआत की।

हाथ में डांडिया,चेहरे पर अनगिनत खुशी के भाव, थिरकते पांव, कहीं युगल तो कहीं ग्रुप में एक साथ निकलते डांसिंग स्टेप्स…ये नजारा था अंबा द्वारा आयोजित डांडिया नाइट 2021 का। लगभग डेढ़ साल के बाद शहर में एक ऐसा आयोजन देखने को मिला जहां क्या बच्चे, क्या बूढ़े और क्या जवान… डांडिया के कई गानो के साथ फिल्मी गानों पर भी डांडिया हाथों में लिए टोलियां धमाल मचा रही थी। सभी की एनर्जी दुगुनी रफ्तार में दिख रही थी।

कोविड़ काल के बाद यह पहला मौका है जहां नवरात्रि में लोग उत्साह के साथ भाग ले रहे हैं। बताते चलें कि अंबा द्वारा आयोजित इस डांडिया उत्सव का पांचवा साल था जिसमें लोगों के लिए ऑफर भी रखे गए थे। अंबा ने पिछले साल यह आयोजन कोविड की वजह से सरकार द्वारा परमिशन नही मिलने के कारण स्थगित कर दिया था। आयोजक ओ पी पाण्डेय ने बताया कि लोगों द्वारा काफी कॉल आने के बाद अंबा ने इस आयोजन को इस साल करने का निर्णय लिया. आयोजन में शामिल लोगों का कहना था कि शहर में वैसे तो कई डांडिया का आयोजन होता है लेकिन अंबा द्वारा आयोजित डांडिया फेस्टिवल में एक पारिवारिक माहौल का जो तानाबाना रहता है वह हमेशा यही आने के लिए प्रेरित करता है।

पिछले पांच सालों से आयोजन को पारिवारिक माहौल बनाने वालों की आयोजन टीम में शामिल हैं सत्य प्रकाश सिंह, अभिषेक द्विवेदी, मनीष सिंह उर्फ दुलदुल सिंह, गोलू प्रताप सिंह, विवेक सिंह, मनोज श्रीवास्तव, अंजली सुरवार, नमस्ते,चिंताचरण पांडेय, गौरी तिवारी, समृद्धि सिंह, अपूर्वा, और ओ पी पांडेय जैसे कई युवा चेहरे।

राजीव एन० अग्रवाल की रिपोर्ट

swatva

Leave a Reply