03 अगस्त : आरा की मुख्य खबरें

0
आरा की मुख्य ख़बरें

नदी में डूबा किशोर, शव की खोज ज़ारी

आरा : भोजपुर जिले के उदवंतनगर थानान्तर्गत महतवनिया गांव स्थित बनास नदी में सुबह भैंस चराने गया एक किशोर डूब गया। मृतक के परिजन व ग्रामीण घटनास्थल पर पहुंचे तथा इसकी सूचना स्थानीय थाना को दी। उदवंतनगर थाना इंचार्ज ज्योति कुमारी, सीईओ शैलेंद्र कुमार एवं गजराजगंज ओपी प्रभारी सुभाष तिवारी घटनास्थल पर पहुंचे और घटना की जानकारी ली।

सीओ शैलेंद्र कुमार ने इसकी जानकारी वरीय पदाधिकारी को दी और शव की खोजबीन एसडीआरएफ की टीम लगातार कर रही है। हालांकि अभी तक शव नही मिल सका है| मृतक महतवनिया गांव निवासी रमण सिंह का 13 वर्षीय पुत्र मनीष कुमार है। बताया जाता है कि वह आज सुबह भैंस चराने के लिए महतवनिया गांव स्थित बनास नदी की तरफ गया था।जहां वह अपनी भैंस को लेकर बनास नदी में चला गया और अधिक गहरा होने के कारण वह उसमें डूब गया।

बिजली करंट से अमित की मौत

आरा : -भोजपुर जिले के नवादा थानान्तर्गत स्टेशन रोड स्थित एक रेस्टोरेंट में देर रात करंट लगने से एक स्टाफ की मौत हो गई। बचाने के दौरान दूसरा स्टाफ भी जख्मी हो गया। उसका इलाज सदर अस्पताल में कराया गया। टाउन थानान्तर्गत प्रकाशपुरी शीतल टोला वार्ड नंबर 37 निवासी स्व.रामजी प्रसाद का 30 वर्षीय पुत्र अमित कुमार उर्फ छोटू है जबकि जख्मी युवक वैशाली जिला के भगवानपुर थानान्तर्गत प्रतापताड़ गांव निवासी जगदेव राम का 30 वर्षीय पुत्र अशोक कुमार है। दोनों स्टेशन रोड स्थित विला रेस्टोरेंट में काम करते थे।

मृतक के फुफेरे भाई मनीष कुमार ने बताया कि अमित कुमार देर रात लघुशंका के लिए बाथरूम जा रहा था जहां अर्थिग का तार लगा हुआ था। बाथरूम में प्रवेश करते ही वह करंट की चपेट में आ गया और छटपटाने लगा। जिसे देख दुकान का दूसरा स्टाफ अशोक कुमार उसे बचाने गया। तभी बचाने के दौरान वह भी करंट की चपेट में आ गया।

रेस्टोरेंट संचालक एवं स्टाफ उन्हें इलाज के लिए सदर अस्पताल ले जा रहे थे, तभी अमित ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। बावजूद इसके लोग उसे अस्पताल ले आयें। जहां चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया। परिजनों ने इसकी सूचना टाउन थाना पुलिस को दी।सूचना पाकर टाउन थाना पुलिस सदर अस्पताल पहुंची और शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम करवाया।

आरा कोर्ट में विधायक ने आरा CO के खिलाफ कराया केश दर्ज

आरा : भाकपा माले के अगिआव विधायक मनोज मंजिल ने आरा के अंचलाधिकारी प्रवीण कुमार पाण्डेय के खिलाफ आरा व्यवहार न्यायालय के मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी के कोर्ट में कंप्लेंट केस दर्ज किया. विधायक के अधिवक्ता सुरेंद्र राय ने बताया कि विधायक मनोज मंजिल ने आरा के अंचलाधिकारी प्रवीण कुमार पांडे के ऊपर धारा 341 323 504 506 भादवी तथा 3(आर)(एस)(बीए) अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के तहत केस दर्ज किया कराया है|

जेल के पास 38 मकानों से सुरक्षा का खतरा, मालिकों को नोटिस

आरा : आरा नगर निगम ने आरा जेल की सुरक्षा को लेकर उसके समीप स्थित 38 मकानों के मालिकों को नोटिस जारी करते हुए मकान मालिकों से जमीन से संबंधित कागजात और नगर निगम से स्वीकृत नक्शा की कॉपी देने के लिए कहा गया है। हाल ही में जेल प्रशासन ने जेल के पास स्थित मकानों से जेल की सुरक्षा को खतरा उत्पन्न होने को ले कार्रवाई के लिए निगम प्रशासन को पत्र लिखा था।

आरा मंडल कारा अधीक्षक ने पिछली 19 जुलाई को रिपोर्ट की कि मंडल कारा से सटे आठ मीटर की दूरी पर ही बहुमंजिले भवनों का निर्माण कराया गया है। इससे जेल की सुरक्षा पर खतरा उत्पन्न हो गया है। मकान मालिकों को निगम की ओर से दी गयी नोटिस में कहा गया है कि बिहार कारा हस्तक-2012 के नियम 712 और बिहार नगरपालिका अधिनियम के प्रावधानों का उल्लंघन कर भवन का निर्माण किया गया है। गृह विभाग के मुख्य सचिव की सख्ती के बाद मंडल कारा प्रशासन सक्रिय हुआ।

निगम की ओर से कार्रवाई होने की स्थिति में मंडल कारा के आस-पास बने भवनों के टूटने का खतरा मंडराने लगा है। जेल की चहारदीवारी और वाच टावर के आस-पास स्थित भवनों से जेल के अंदर आपत्तिजनक सामान फेंके जाने की आशंका बनी रहती है। जेल के नजदीक बने मकानों का सर्वे कर बिहार कारा हस्तक-2012 के नियम 712 तथा बिहार नगरपालिका अधिनियम के प्रावधानों का उल्लंघन कर बनाये गये भवनों के संबंध में कार्रवाई करने का आदेश गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव ने अप्रैल महीने में ही कारा प्रशासन को दिया था।

नियम के अनुसार किसी भी केन्द्रीय कारा की परिधि वाली दीवार के 50 मीटर, किसी भी मंडल कारा के 30 मीटर की परिधि के भीतर और उप कारा की दीवार के 20 मीटर के भीतर कारा भवनों को छोड़कर और किसी मकान का निर्माण वर्जित है।

आरा नगर निगम को लिखे गये पत्र में कहा गया है कि मंडल कारा आरा की दक्षिण और उत्तर दिशा में परिधि से सटे करीब आठ मीटर की दूरी पर ही कई बहुमंजिले भवन बने हैं। इससे सुरक्षा पर गंभीर खतरा उत्पन्न हो गया है। दूसरी तरफ इन भवनों से कारा परिसर में प्रतिबंधित सामग्रियों के फेंके जाने और अन्य आपत्तिजनक गतिविधियां संचालित होने की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता है।

सात निश्चय योजना फेल, यहां 10 साल से नहीं बनी सड़क, लोगों ने चंदा इकट्ठा कर निर्माण किया शुरू

आरा : भोजपुर जिले में नीतीश सरकार की सात निश्चय योजना दम तोड़ रही है. इस महत्वाकांक्षी योजना के अंतर्गत पक्की सड़क और गली-नाली योजना कागज पर ही सिमट कर रह गई है. शहर के वार्ड 15 और 16 में दस सालों से सड़क नहीं होने की वजह से थक हार कर मोहल्लेवासी ने चंदा इकट्ठा कर श्रमदान से सड़क निर्माण कराना शुरू कर दिया हैं।

वार्ड-15 और 16 में करीब 10 साल से सड़क की मांग कर रहे लोग अधिकारियों से गुहार लगाकर थक गये. अब स्थानीय लोग खुद के पैसों से सड़क बनवा कर नगर निगम और प्रशासन के मुंह पर तमाचा मारने का मन बना लिया है। शहर के डिफेंस कॉलोनी और फ्रेंड्स कॉलनी के नाम से इन वार्डों को जाना जाता है. पिछले एक महीने से स्थनीय मोहल्ले के लोग चंदा इकठ्ठा कर करीब 1.5 किलोमीटर सड़क निर्माण करना शुरू कर दिए हैं।

मोहल्लेवासियों ने बताया कि पिछले एक महीने से हर रविवार को मोहल्ले के लोग घर-घर जा कर चंदा इकट्ठा करते हैं. बाकी पूरे सप्ताह सड़क निर्माण का कार्य धीरे-धीरे आगे बढ़ता रहता है. मोहल्ले के पैसों से निर्माण हो रहा है. जिस वजह से कार्य जिस गति से होनी चाहिए उस गति से नहीं हो पा रहा है.करीब 1 लाख 50 हजार रुपया चंदा कर सड़क निर्माण कार्यो में खर्च कर चुके है. इस पत्रकार से बातचीत में मोहल्लेवासी अभी भी उम्मीद में है कि नगर निगम या जिला प्रसाशन अभी से भी पहल करे तो काम चलाऊ की जगह एक अच्छी सड़क और साथ में नाला का निर्माण कराये. शहर के बीचो-बीच किसी मोहल्ले में 10 सालों से सड़क का निर्माण ना हो ये सरकार के विकास के दावे पर बड़ा सवाल है।

गोढना रोड के निर्माण की मांग को लेकर प्रदर्शन

आरा : गोढना रोड और इसके आस पास के स्थानीय लोगों ने अपने क्षेत्र की सड़कों के निर्माण के लिए आरा पटना मुख्य मार्ग पर बिहारी मिल के पास प्रदर्शन किया। उनक्स कहना था कि गोढना रोड की हालत इतनी खराब है कि इसे रोड नही कहा जा सकता| पूरी सड़क गड्ढों में तब्दील हो चुकी है| गाड़ियों की कौन कहे पैदल चलना भी खतरे से खाली नही है| सड़क तालाब बन चुकी है| ऐसे में वे नारकीय जीवन जीने को मजबूर हैं| परेशाहाल लोगों ने प्रदर्शन किया. प्रदर्शन मे मौजूद भाकपा माले नेता क्यामुद्दीन अंसारी ने गोढना की जनता को प्रदर्शन करने पर बधाई दी।

रोड बनाने की मांग कर रहे लोगों के साथ प्रशासन का रवैया ठीक नही था। आर के सिंह, अमरेन्द्र सिंह और नीतीश कुमार की पुलिस ने प्रदर्शनकारीयों पर बल प्रयोग किया लाठियां भांजी और पांच नौजवानों को गिरफ्तार कर थाना लेकर चली गयी भाकपा माले राज्य कमिटी सदस्य क्यामुद्दीन अंसारी ने आरा सांसद विधायक और नीतीश कुमार के पुलिस की इस कार्यवाई की कडे शब्दो मे निन्दा की है तथा सभी गिरफ्तार युवाओ को रिहा करने की मांग की है। क्यामुद्दीन अंसारी ने कहा कि हर हाल मे गोढना रोड सहित आरा शहर की सभी जर्जर सड़कों को बनाया जाय वरना आंदोलन होता रहेगा। क्यामुद्दीन अंसारी ने आरा शहर की जनता से आह्वान किया की सड़कों के निर्माण के लिए होने वाले संघर्ष में शामिल हों|

राजीव एन० अग्रवाल की रिपोर्ट

swatva

Leave a Reply